Submit your post

Follow Us

मेरा करियर खराब करो, मेरी इमेज खराब करो, मुझे फर्क नहीं पड़ता: विजय देवरकोंडा

‘अर्जुन रेड्डी’ फेम विजय देवरकोंडा इन दिनों काफी भड़के हुए नज़र आ रहे हैं. और उनकी नाराज़गी है मीडिया और उसके हाथों फैलाए जा रहे फेक न्यूज़ से. कुछ दिन पहले ही विजय ने अनाउंस किया था कि वो देवरकोंडा फाउंडेशन की मदद से लोगों की मदद कर रहे हैं. इन चीज़ों के बारे में बाकायदा उन्होंने एक वीडियो बनाकर बात की थी. उन्होंने बताया था कि 1.30 करोड़ रुपए का डोनेशन कर रहे हैं, जिसके तहत वो 2000 परिवारों के राशन का खर्च उठाएंगे. साथ ही अपने जीवन में 1 लाख नौजवानों को नौकरी देने का भी संकल्प लिया था. इस बारे में विस्तार से जानने चाहते हैं, तो यहां क्लिक करें.

विजय देवरकोंडा के इस गुस्से की वजह है एक तेलुगू गॉसिप वेबसाइट. बकौल विजय वो वेबसाइट हमेशा उन्हें डिस्क्रेडिट करने की कोशिश करती है. वो उनकी फिल्मों को तो बुरा बताते ही थे, अब उन्होंने उनकी लोगों की मदद करने की मंशा पर भी सवालिया निशान लगा दिया है. हुआ ये कि विजय ने लोगों को राशन मुहैया कराने के लिए 25 लाख रुपए दिए थे. साथ ही उन्होंने लोगों से उनके फाउंडेशन में पैसे डोनेट करने की भी अपील की थी. ताकि इस मुश्किल वक्त में ज़्यादा से ज़्यादा से लोगों की मदद की जा सके. लोगों ने उनकी बात मानी और मामला 25 लाख से बढ़कर 70 लाख तक पहुंच गया.

फिल्म 'महर्षि' के सेट पर सुपरस्टार महेश बाबू के साथ विजय देवरकोंडा.
फिल्म ‘महर्षि’ के सेट पर सुपरस्टार महेश बाबू के साथ विजय देवरकोंडा.

इस रकम से विजय का फाउंडेशन अब तक 7500 परिवारों की मदद कर चुका है. लेकिन उस वेबसाइट ने अपनी खबर में ये लिखा कि विजय ने सिर्फ 7500 लोगों की मदद की है. साथ ही उनका ये भी कहना भी था कि विजय जब इतने लोगों की मदद नहीं कर सकते, तो लोगों की मदद करने वाले मसले पर इतना ढोल-नगाड़ा पीटने की क्या ज़रूरत थी. विजय गरीब और ज़रूरतमंद लोगों का मज़ाक बना रहे हैं. इस बात से नाराज विजय अपने वीडियो में कहते हैं-

”आप मेरे डोनेशन पर सवाल उठाने वाले कौन होते हैं? ये मेरी मेहनत की कमाई है. और मैं इसे अपनी इच्छा के मुताबिक डोनेट करूंगा. आपकी वेबसाइट हमारे ऐड और फिल्म इंडस्ट्री की बदौलत चलती है. मैंने कुछ दिन पहले आपकी वेबसाइट को इंटरव्यू देने से मना कर दिया, तो आप लोग मेरे खिलाफ नेगेटिव आर्टिकल्स छापने लगे.”

उस खबर की एक-एक लाइन को कोट करते हुए विजय ने उनका जवाब दिया. उन्होंने अपने इस वीडियो के डिस्क्रिप्शन में लिखा-

”जिसे सच का संरक्षक माना जाता हो, जब वही लोग जानबूझकर आपसे झूठ कहें और आपका भरोसा तोड़ दें, तो समझिए समाज खतरे में है. ये वीडियो मेरे लोगों के प्रति मेरी ज़िम्मेदारी है. हालांकि इस बीच आप मेरे करियर को बर्बाद करने का, मेरी इमेज खराब करने का और मेरे बारे में कुछ बकवास लिखने का काम जारी रख सकते हैं. क्योंकि मुझे इससे घं* फर्क नहीं पड़ता. ओवर एंड आउट.”

यहां देखिए विजय का वो वीडियो-

विजय के इस स्टेटमेंट के बाद सोशल मीडिया पर कई स्टार्स उनके समर्थन में उतर आए. इसमें महेश बाबू से लेकर राणा दग्गूबाती, रवि तेजा और राशि खन्ना जैसे एक्टर्स शामिल हैं. महेश ने विजय की बात का समर्थन करते हुए सोशल मीडिया पर लिखा-

”भाई मैं तुम्हारे साथ हूं. लोगों का प्यार और सम्मान पाने के लिए हमें कितनी मेहनत, त्याग और जुनून के साथ सालों काम करना पड़ता है. हम एक अच्छे पति, पिता और सुपरस्टार बनने के लिए काम करते हैं. फिर कोई बिना कोई चेहरे वाला आता है, जो चंद रुपयों के लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाता है. वो आपकी बेइज्ज़ती करता है. पाठकों से झूठ बोलता है. गलत खबरें फैलाता है. मैं अपनी खूबसूरत तेलुगू इंडस्ट्री, अपने फैंस और बच्चों को ऐसी दुनिया से बचाना चाहता हूं, जहां इसे नॉर्मल बात माना जाता है. मैं इंडस्ट्री से उन फर्जी वेबसाइट्स के खिलाफ एकजुट होकर एक्शन लेने की मांग करता हूं, जो हमारी वजह से चल रहे हैं और हमारे बारे में झूठ फैलाते हैं.”

विजय और महेश दोनों ने बोला है हम लोगों की वजह से घर चल रहे हैं मीडिया वालों के. स्टार्स हमेशा से इस गलतफहमी में रहे हैं कि उनकी वजह से एंटरटेनमेंट मीडिया का घर चलता है. जबकि ये रिश्ता म्यूचुअल होता है. अनुपम खेर ने कुछ लोगों के साथ मिलकर बैन किया था एंटरटेनमेंट मीडिया को 90s में कभी. ये सोचकर कि इनका घर नहीं चलेगा. बाद में जिस मैगजीन के खिलाफ थे अनुपम उसी के मालिक से दोबारा दोस्ती की. किसी मैगजीन ने कुछ गलत छापा है, तो विजय का पूरा हक है नाराज होने का. बात रखने का. लेकिन अहंकार में सारे एंटरटेनमेंट मीडिया का अपमान करने का हक उनको भी किसी ने नहीं दिया है. तार लिखा है चिट्ठी समझना!


वीडियो देखें: कोरोना वायरस के लिए विजय देवरकोंडा ने कितने पैसे डोनेट किए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो चार वॉर मूवीज़ जो बताती हैं कि फौजी जैसे होते हैं, वैसे क्यूं होते हैं

फौजियों पर बनी ज़्यादातर फिल्मों में नायक फौजी होते ही नहीं. उनमें नायक युद्ध होता है. फौजियों को देखना है तो ये फिल्में देखिए.

गहने बेच नरगिस ने चुकाया था राज कपूर का कर्ज

जानिए कैसे शुरू और खत्म हुआ नरगिस और राज कपूर का प्यार का रिश्ता..

सत्यजीत राय के 32 किस्से: इनकी फ़िल्में नहीं देखी मतलब चांद और सूरज नहीं देखे

ये 50 साल पहले ऑस्कर जीत लाते, पर हमने इनकी फिल्में ही नहीं भेजीं. अंत में ऑस्कर वाले घर आकर देकर गए.

ऋषि कपूर की इन 3 हीरोइन्स ने उनके बारे में क्या कहा?

इनमें से एक अदाकारा को ऋषि ने आग से बचाया था.

ईश्वर भी मजदूर है? लेखक लोग तो ऐसा ही कह रहे हैं!

पहली मई को दुनियाभर में मजदूरों के हक़ की बात कही जाती है.

बलराज साहनी की 4 फेवरेट फिल्में : खुद उन्हीं के शब्दों में

शाहरुख, आमिर, अमिताभ बच्चन जैसे सुपरस्टार्स के फेवरेट एक्टर रहे बलराज साहनी.

जब भीमसेन जोशी के सामने गाने से डर गए थे मन्ना डे

मन्ना डे के जन्मदिन पर पढ़िए, उनसे जुड़ा ये किस्सा.

ऋषि कपूर के ये 13 गीत सुनकर समझ आता है, ये लवर बॉय पर्दे पर कैसे मेच्योर हुआ

'हमको तो तुमसे है, प्यार.'

इरफ़ान की 15 विदेशी फ़िल्में और सीरीज़ जो टाइम निकालकर देखनी चाहिए

जितने वो इंडिया में पॉपुलर थे, उतने ही इंटरनेशनल दर्शकों के बीच भी.

इरफ़ान के वो 10 धांसू सीरियल जो आपको ज़रूर देखने चाहिए

आपने उनको 'चंद्रकांता' में देखा है, लेकिन क्या 'किरदार' सीरीज़ में देखा है?