Submit your post

Follow Us

फिल्म रिव्यू- वकील साब

2016 में एक फिल्म आई थी ‘पिंक’. उस फिल्म को तमिल में ‘नरकोंडा पारवाई’ नाम से रीमेक किया गया. अब ‘पिंक’ का तेलुगू वर्ज़न आया है, जिसका नाम है- ‘वकील साब’. कोरोना रिटर्न्स वाले दौर में भी ये फिल्म थिएटर्स में रिलीज़ हुई है. इसे देखने के बाद हमें क्या लगा, आगे हम उसी बारे में विस्तार से बात करेंगे.

फिल्म की बेसिक कहानी से

हैदराबाद में तीन लड़कियां एक साथ रहती हैं. पल्लवी, दिव्या और ज़रीना वहीं जॉब करती हैं. एक रात ये तीनों लड़कियां ऑफिस की पार्टी से वापस आ रही होती हैं. रास्ते में एक सुनसान जगह पर इनकी कैब खराब हो जाती है. दूसरी कैब भी नहीं मिल रही. देर रात सुनसान सड़क पर ये लड़कियां डरी हुई खड़ी हैं. संयोग से उसी रास्ते से एक गाड़ी निकलती है, जो इन्हें लिफ्ट देने को तैयार हो जाती है. उस गाड़ी में से पल्लवी का एक स्कूलमेट निकलता है. गाड़ी में कुल तीन लड़के हैं, जो शहर से बाहर एक रिज़ॉर्ट में खाना खाने जा रहे हैं. इन तीनों में एक लड़का लोकल MP का बेटा है. लड़कियों को लगता है कि सुनसान सड़क पर खड़े रहने से अच्छा है कि किसी पुराने जानकार के साथ जाकर खाना खा लेते हैं. मगर थोड़ी देर बाद रिज़ॉर्ट में एक एक्सीडेंट होता है और ये लड़कियां वहां से भागकर अपने घर आ जाती हैं. दूसरी तरफ एक शराबी आदमी है सत्य देव, जिसके शराबी बनने की बड़ी फिल्मी बैकस्टोरी है. काम की बात ये कि वो शहर का चर्चित लॉयर रह चुका है. मगर अग्रेसिव रवैए की वजह से उसके केस लड़ने पर बैन लगा दिया गया था. लड़कियों के साथ हुए एक्सीडेंट का मामला जब कोर्ट में पहुंचता है, तब तमाम पावरफुल लोगों से दुश्मनी मोल लेकर सत्यदेव ही इन लड़कियों का केस लड़ता है. सत्य देव इन लड़कियों को केस जिता पाता है या नहीं, इससे ज़रूरी वो बातें हैं, जो वो अपनी दलीलों में कहता है. ये फिल्म की कहानी का एक बेसिक आउटलाइन है.

एक्सीडेंट के बाद रिज़ॉर्ट से वापस जाती पल्लवी, ज़रीना और दिव्या.
एक्सीडेंट के बाद रिज़ॉर्ट से वापस जाती पल्लवी, ज़रीना और दिव्या.

स्टारपावर और परफॉरमेंसेज़

‘वकील साब’ में शराबी वकील का रोल किया है सुपरस्टार पवन कल्याण ने. पवन कल्याण मास हीरो हैं. एक्शन-डायलॉगबाज़ी और स्वैग झाड़ना उनका फोर्टे है. कैरेक्टर यहां भी लार्जर दैन लाइफ है. मगर इस फिल्म में उन्हें थोड़ा अंडप्ले करते हुए पाया जा सकता है, जो कि आकर्षक लगता है. पल्लवी का रोल किया है निवेदिता थॉमस ने. ज़रीना के किरदार में हैं अंजली. और दिव्या का कैरेक्टर प्ले किया है अनन्या नागल्ला ने. तीनों ही लड़कियों का काम फिल्म में अप टु द मार्क है. यानी उन किरदारों को जितनी विश्वसनीय बनाया जा सकता था, बनाया गया है. इमोशनल सीन्स में हालांकि निवेदिता इंप्रेस करती हैं. प्रकाश राज सत्य देव के विरोधी वकील नंदा के रोल में हैं. प्रकाश राज से आप जो उम्मीद करते हैं, वो आपको यहां मिलता है. मगर दिक्कत ये है कि हम उनसे उम्मीद से ज़्यादा करने की उम्मीद करते हैं. इसे शिकायत नहीं कॉम्प्लीमेंट की तरह लिया जाना चाहिए.

फिल्म में तीन लड़के भी हैं. ‘पिंक’ में जो रोल विजय वर्मा ने किया था, वो आपका ध्यान खींचता है. मगर यहां इन लड़कों को वैसे कोई खास सीन या मौके नहीं दिए गए हैं, जहां वो परफॉर्म कर सकें. ‘वकील साब’ में मुकेश ऋषि और श्रुति हासन गेस्ट अपीयरेंस में नज़र आते हैं. श्रुति वाला किरदार फिल्म की कहानी में जोड़-घटाव करता है. फिल्म के मूड को थोड़ा रिफ्रेश भी करता है. मगर मुकेश ऋषि सिर्फ दो-तीन सीन्स में देखने को मिलते हैं.

तमाम पावरफुल लोगो के खिलाफ जाकर उन लड़कियों का केस लड़ते सत्य देव उर्फ वकील साब.
तमाम पावरफुल लोगो के खिलाफ जाकर उन लड़कियों का केस लड़ते सत्य देव उर्फ वकील साब.

फिल्म की अच्छी बातें

# ‘वकील साब’ सबसे अच्छी चीज़ ये करती है कि वो फिल्म के कोर्टरूम वाले हिस्सों को ओरिजिनल फिल्म से ज़्यादा अलग करने की कोशिश नहीं करती. डायलॉग्स में भी भाषा के अलावा कुछ खास बदलाव नज़र नहीं आता. जो कि फिल्म और उसे देखने वाली जनता दोनों के लिए फायदेमंद चीज़ है. जो बात ‘पिंक’ कहती है, उसे इंडिया के हर व्यक्ति को उसकी समझ आने वाली भाषा में सुनना चाहिए. क्योंकि वो बहुत प्रासंगिक और ज़रूरी बात है.

# स्टार वर्शिपिंग वाली साउथ इंडियन इंडस्ट्री में पवन कल्याण के लेवल का स्टार भी मीनिंगफुल फिल्में और किरदार कर रहा है. इस फिल्म में पवन कल्याण ब्रांड ऑफ फिल्मों की तरह एक्शन और स्वैग भी है और मजबूत मैसेज भी.

# फिल्म की लंबाई और पेस दोनों में थोड़ी बेहतरी की गुंजाइश थी. मगर इसका कॉम्पनसेशन हमें सत्यदेव की बैकस्टोरी के तौर पर मिल जाता है. सो नो कंप्लेंट्स.

# दिलचस्प बात ये है कि बॉलीवुड स्टार्स किसी भी तरह का पॉलिटिकल या सोशल इशू अपनी फिल्म में उठाने से बचते हैं. मगर साउथ इंडियन फिल्मों में ना-ना करते हुए भी काफी कुछ कह दिया जाता है. जैसे इस फिल्म में भी लोगों की जमीन खाली कराकर सड़क बनाने की बात होती है. उसका विरोध होता है. निचले आर्थिक वर्ग के लोगों के लिए आवाज़ उठाई जाती है. इसलिए ये फिल्म रीमेक होते हुए भी ओरिजिनल फिल्म की लीक पर नहीं चलती. नई लगती है.

रिज़ॉर्ट में एक्सीडेंट का शिकार हुए तीनों लड़के.
रिज़ॉर्ट में एक्सीडेंट का शिकार हुए तीनों लड़के.

फिल्म की बुरी बातें

# फिल्म ‘वकील साब’ की बुरी बात ये है कि ये ये दो हिस्सो में बंटी हुई है. पहले हिस्से में हमें वकील साहब के बारे में तकरीबन सबकुछ बता दिया जाता है. दूसरे हिस्से में फिल्म मेन पॉइंट पर पहुंचती है. मगर इससे फिल्म बोरिंग या अझेल नहीं होती है.

# पिछले दिनों सलमान खान की फिल्म ‘भारत’ रिलीज़ हुई थी. उस फिल्म को एक एवरेज फिल्म मानकर छोड़ा गया. मगर फिल्म में 70 साल के आदमी को गुंडों को पीटते हुए देखना आज भी उतना एंबैरेसिंग लगता है. वैसा ही कुछ माहौल आपको ‘वकील साब’ में देखने को मिलता है. मगर ‘वकील साब’ के पास भरपूर क्वॉलिटी कॉन्टेंट है, इसलिए इस चीज़ को बड़े आराम से इग्नोर किया जा सकता है.

सत्य देव के विरोधी वकील नंदा के रोल में प्रकाश राज.
सत्य देव के विरोधी वकील नंदा के रोल में प्रकाश राज.

इस फिल्म को देखने का ओवरऑल एक्सपीरियंस क्या रहा?

‘वकील साब’ एक मजबूत कोर्ट रूम ड्रामा है, जिसमें किसी मसाला फिल्म जितना मज़ा है. आपको भाषण नहीं दिया जाता. बातचीत और समझ आने वाली भाषा में एक गंभीर बात कही जाती है. फिल्म खत्म होने के बाद आप एक पॉज़िटिव फील के साथ बाहर निकलते हैं. एंटरटेन करने के साथ ‘वकील साब’ एज्यूकेट भी करती है. एक फिल्म से आपको इससे ज़्यादा क्या चाहिए. अगर इससे ज़्यादा कुछ ढूंढ रहे हैं, तो साहब ‘वकील साब’ आपके लिए नहीं है.


 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

अप्रैल-मई में ये 16 धुआंधार फिल्में और वेब सीरीज़ ऑनलाइन आ रही हैं

अप्रैल-मई में ये 16 धुआंधार फिल्में और वेब सीरीज़ ऑनलाइन आ रही हैं

बस कैलेंडर मार्क कर लीजिए.

10 साल बीते, अब कहां हैं अन्ना आंदोलन और इंडिया अगेंस्ट करप्शन की नींव रखने वाले चेहरे

10 साल बीते, अब कहां हैं अन्ना आंदोलन और इंडिया अगेंस्ट करप्शन की नींव रखने वाले चेहरे

कोई CM बन गया, कोई सब कुछ छोड़कर कॉर्पोरेट जॉब कर रहा.

मुख्तार अंसारी तो बांदा जेल पहुंच रहे हैं, लेकिन यूपी के बाकी चर्चित कैदी कहां हैं?

मुख्तार अंसारी तो बांदा जेल पहुंच रहे हैं, लेकिन यूपी के बाकी चर्चित कैदी कहां हैं?

आजम खान से लेकर अतीक अहमद तक, सबके बारे में जानिए.

मार्च में जो धुरंधर स्मार्टफ़ोन लॉन्च हुए, उनमें ये खूबियां और ये कमियां हैं

मार्च में जो धुरंधर स्मार्टफ़ोन लॉन्च हुए, उनमें ये खूबियां और ये कमियां हैं

कीमत, फीचर यहीं कंपेयर करके तय कर लीजिए ये फोन लेकर घाटे में तो नहीं रहेंगे.

अप्रैल में कौन-कौन से स्मार्टफ़ोन देश में लॉन्च होने वाले हैं?

अप्रैल में कौन-कौन से स्मार्टफ़ोन देश में लॉन्च होने वाले हैं?

सैमसंग से लेकर नोकिया, रियलमी से लेकर शाओमी भी लाइन में हैं.

IPL में कप्तान बदलने और ना बदलने वाली टीमों का कितना फायदा-नुकसान हुआ?

IPL में कप्तान बदलने और ना बदलने वाली टीमों का कितना फायदा-नुकसान हुआ?

कप्तान बदलकर जीतने का क्या चांस होता है, जान लो.

Gmail के ये 5 फीचर जान लेंगे तो आप ईमेल के खेल में अलग ऊंचाई पर पहुंच जाएंगे!

Gmail के ये 5 फीचर जान लेंगे तो आप ईमेल के खेल में अलग ऊंचाई पर पहुंच जाएंगे!

जीमेल के ये फीचर कम इस्तेमाल किए जाते हैं, मगर हैं बड़े काम के

रॉकेट्री ट्रेलर: उस साइंटिस्ट की कहानी, जिसे उसकी देशभक्ति की सज़ा मिली

रॉकेट्री ट्रेलर: उस साइंटिस्ट की कहानी, जिसे उसकी देशभक्ति की सज़ा मिली

हिंदी सिनेमा के 'मैडी' यानी आर माधवन की लिखी और डायरेक्ट की हुई पहली फिल्म का ट्रेलर कैसा है?

इस अप्रैल फ़ूल पर फूल बनाने के चार धांसू तरीके सीख लीजिए

इस अप्रैल फ़ूल पर फूल बनाने के चार धांसू तरीके सीख लीजिए

कसम से, फूल ही बनाना सिखा रहे हैं. This is not a drill.

'April Fool' के अलावा 1 अप्रैल को इन वजहों के लिए भी याद रखना

'April Fool' के अलावा 1 अप्रैल को इन वजहों के लिए भी याद रखना

इस दिन दुनिया को और भी बहुत कुछ मिला है.