Submit your post

Follow Us

कंगना के लिए उर्मिला ने जो 7 बातें कही हैं, उन्हें सुनकर आप भी सोचने पर मजबूर हो जाएंगे

कंगना रनौत ने पहले सुशांत सिंह राजपूत के लिए न्याय मांगा. मूवी-माफिया, नेपोटिज़्म और ड्रग्स से बॉलीवुड लैस है, ये आरोप लगाया. उसके बाद महाराष्ट्र सरकार को तालिबान और मुंबई को PoK जैसा बता दिया. शिवसेना और उद्धव ठाकरे से भिड़ गईं. संसद में जया बच्चन की कही बात पर तीखे कमेंट कर दिए. हद तो तब हुई, जब बॉलीवुड के फेवर में बोल रहीं एक्ट्रेस उर्मिला मातोंडकर को उन्होंने ‘सॉफ्ट पॉर्न स्टार’ बता दिया.

कंगना एक इंटरव्यू में उर्मिला की कही बातों से नाराज थीं. ‘आजतक’ से उर्मिला ने कुछ ऐसी बातें कही हैं, जिसे सुनकर आप थोड़ा सोचने के लिए मजबूर ज़रूर हो जाएंगे. आइए बताते हैं इंटरव्यू की ऐसी ही 7 बातें-

1. इंडस्ट्री को गटर बताए जाने पर

फिल्म इंडस्ट्री को लोग गंदा नाला कह रहे थे, जिसे सुनकर जया बच्चन भड़क गई थीं.

राज्यसभा में जया के बयान पर उर्मिला मातोंडकर ने कहा, 

‘आजादी के बाद सारे फिल्ममेकर्स ने यही देखा है कि देश की एकता, अखंडता और खूबसूरती ज़्यादा से ज़्यादा बाहर आए. बॉलीवुड ऐसा प्लेटफॉर्म है, जहां पर हर मज़हब, जाति, प्रदेश और भाषा के लोग इकट्ठा आकर अपने टैलेंट के बेस पर आगे आते हैं. इसलिए फिल्म इंडस्ट्री के बारे में ऐसी बातें कहा जाना गलत लगता है.’

2. जया पर कंगना ने किया कमेंट तो क्या बोलीं ‘रंगीली गर्ल’ कंगना ने जया बच्चन के बयान ‘जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं’, पर कमेंट किया था. जया बच्चन से पूछा था कि वो किस थाली की बात कर रही हैं? साथ ही, रोल पाने के लिए एक्टर के साथ सोने जैसी बातें भी कहीं थीं.

इस पर उर्मिला मातोंडकर ने इंटरव्यू में कहा,

ये बहुत दुख की बात है कि जया बच्चन के बारे में ऐसे लहज़े से उन्होंने (कंगना) बात की है. मैं बताना चाहूंगी कि जब कंगना का जन्म भी नहीं हुआ था, तब जया जी ने ‘मिली’, ‘गुड्डी’ और ‘अभिमान’ जैसी फिल्में की थीं. जिसमें से आधे से ज़्यादा फिल्मों की सेंटर वो रह चुकी हैं. बेहतरीन और रिस्पेक्टफुल अदाकारा हैं. वो एक सीनियर लेडी हैं इंडस्ट्री की.’

उर्मिला ने आगे कहा,

‘मुझे ऐसा लगता है कि जिस इंडस्ट्री में आप काम करते हैं, उसके किसी सीनियर के बारे में इस लहज़े से बात करना भारतीय संस्कृति के साथ नहीं जाता. आपके बहुत कड़े कुछ विचार या विरोध हो सकते है. मैंने भी खुद लोकसभा इलेक्शन लड़ा है. मुझे पता है, कैसी टिप्पणियां की जाती हैं. मेरे ऊपर भी हुई हैं, लेकिन मैंने कभी अपना आपा खोकर किसी के ऊपर व्यक्तिगत रूप से लांछन लगाने वाली बात नहीं कही. किसी के बच्चों को लेकर बात नहीं कही.’

जया बच्चन के बच्चों के बारे में कंगना ने क्या कहा था, पढ़ लीजिए- 

 

3. बॉलीवुड में ड्रग्स माफियाओं या ड्रग्स लेने पर 

उर्मिला मातोंडकर और कंगना रनौत फोटो- इंस्टाग्राम
उर्मिला मातोंडकर और कंगना रनौत फोटो- इंस्टाग्राम

उर्मिला से जब पूछ गया कि अगर बॉलीवुड में ड्रग्स लेने वालों पर कार्रवाई या एक्शन होता है तो इसमें गलत क्या है? इस पर उन्होंने कंगना की ओर इशारा करके जवाब दिया,

‘जब कोई इंसान बार-बार ये चीज़ें बोलता रहता है, माफिया-माफिया करता है लेकिन उन लोगों के नाम नहीं बताता तो एक सामान्य आदमी सोचेगा कि ये लोग हैं कौन? अगर आपकी किसी से दुश्मनी है और उसे इस तरह लोगों के बीच रखती हैं तो इस तरह से पूरी इंडस्ट्री को बदनाम करना सही नहीं है. बेहतर यही है कि जिन लोगों के नाम वो (कंगना) देना चाहती हैं, उनका नाम दें ताकि उन पर कार्रवाई हो. इस पर थंप्सअप देने वाली, उन्हें शाबाशी देने वाली मैं पहली होऊंगी.’

4. बॉलीवुड को फेमिनिज़्म सिखाने के कंगना के दावे पर कंगना ने अपने एक ट्वीट में कहा था कि बॉलीवुड में काम कर रहे लोगों को उन्होंने फेमिनिज़्म सिखाया है. इस पर भी उर्मिला ने अपनी बात रखी. उन्होंने कहा,

‘आपको लगता है कि नारी शक्ति के लिए आवाज़ उठाने वाला कोई शख्स किसी इतनी सीनियर महिला (जया बच्चन) के लिए ऐसे शब्दों का प्रयोग कर सकता है. सिर्फ जया ही नहीं दीपिका के लिए भी उन्होंने ऐसा कहा. कंगना की मैं फैन रही हूं. वो बेहतरीन अदाकारा हैं. इसमें कोई दो राय नहीं. ‘क्वीन’ फिल्म के बाद मैं उनको एक फैशन शो में मिली थी, जहां उनकी तारीफों के पुल बांध दिए थे मैंने.’

उर्मिला ने बोला,

‘लेकिन एक शहर के बारे में जब आप बात कर रहे हों तो याद रखो, ये वही है जिसने आपको आपका नाम और पहचान दी. इस शहर में दुनिया भर से लोग आते हैं अपना नाम बनाने और रोज़ी-रोटी ढूंढने. महाराष्ट्र अपने कल्चर और देश की इकॉनमी में हाथ बंटाने में हर तरीके से आगे रहा है. आपके किसी व्यक्तिगत विचारों की वजह से आप ऐसे शहर के बारे में बोलती हैं तो वहां के लोगों को ठेस पहुंचती हैं.’

5. कंगना के ऑफिस गिराने पर

बीएमसी ने कंगना के ऑफिस का कुछ हिस्सा अवैध बताकर तोड़ दिया था. उसके बाद एक्ट्रेस हाई कोर्ट पहुंची, जहां से बीएमसी से जवाब मांगा गया. इसी पर उर्मिला ने कहा,

‘कंगना के ऑफिस पर जो हुआ, वो गलत था. टाइमिंग बहुत गलत थी और वो सही तरीका नहीं था. मगर आप सेलिब्रिटी हो. लोग आपको पसंद करते हैं, आपको इन्सपिरेशन मानते हैं. अगर आपकी कोई टिप्पणी है या कोई विरोध है तो उसे एक सलीके से सामने रखें.’

6. “ये कंगना का दोगलापन है”

उर्मिला ने कंगना को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा,

‘कभी-कभी लगता है कि यह डर का माहौल पैदा करके सबको अपने अंडर रखने की साजिश तो नहीं है. देश के पास कितने बड़े मुद्दे हैं- जैसे जीडीपी, बेरोज़गारी, अप्रवासी मजदूरों की समस्या और सबसे बड़ा कोविड. इनसे ध्यान हटाने के लिए ये सारी चीज़ें हो रही हैं? अगर आज आपको मुंबई सेफ नहीं लगती तो आपको दुनिया भर में कोई जगह सेफ नहीं लग सकती. ये आपका दोगलापन है कि जब आप इतने साल मुंबई में रहीं, यहां नाम कमाया, यहां शोहरत कमाई, तब आपको ये शहर इन्सिक्योर नहीं लगा. अभी एक महीने में ऐसा क्या हो गया कि आपको यहां असुरक्षित लगने लगा.’

7. महिला विक्टिम खेलती हैं कंगना

शिवसेना के नेता संजय राउत ने कंगना रनौत को ‘हरामखोर’ बोला था. बाद में सफाई भी दी थी कि उनके कहने का ये मतलब था कि कंगना बहुत ‘नॉटी’ हैं, जो किसी की बात नहीं सुनतीं. इस पर भी उर्मिला मातोंडकर ने अपनी बात रखी,

‘संजय राउत ने जो कंगना के लिए कहा, वो गलता था लेकिन जिस तरह की भाषा कंगना यूज करती हैं, उस भाषा के बारे में तो वो बात ना ही करें तो बेहतर है. कौन से अच्छे घर की लड़की कहती है कि किसी के बाप में दम हो तो मेरा कुछ उखाड़ के दिखाए. फिर भी विक्टिम बनती हैं और महिला विक्टिम कार्ड हर बार उठाकर पटकती हैं.’


वीडियो:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- कार्गो

फिल्म रिव्यू- कार्गो

कभी भी कुछ भी हमेशा के लिए नहीं खत्म होता है. कहीं न कहीं, कुछ न कुछ तो बच ही जाता है, हमेशा.

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

बढ़िया परफॉरमेंसेज़ से लैस मजबूत साइबर थ्रिलर,

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

जानिए कैसी है संजय दत्त, आलिया भट्ट स्टारर महेश भट्ट की कमबैक फिल्म.

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

एक बार इस सीरीज़ को देखना शुरू करने के बाद मजबूत क्लिफ हैंगर्स की वजह से इसे एक-दो एपिसोड के बाद बंद कर पाना मुश्किल हो जाता है.

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

एक खतरनाक मगर एंटरटेनिंग कॉप फिल्म.

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.

फिल्म रिव्यू: शकुंतला देवी

फिल्म रिव्यू: शकुंतला देवी

'शकुंतला देवी' को बहुत फिल्मी बता सकते हैं लेकिन ये नहीं कह सकते इसे देखकर एंटरटेन नहीं हुए.