Submit your post

Follow Us

योगी आदित्यनाथ के 'हमारा काम गाय बचाना है, लड़की नहीं' कहने की सच्चाई क्या है?

हमारा काम गाय बचाना है, लड़की नहीं. जैसे स्टेट पुलिस का काम बॉर्डर पर जाकर लड़ना नहीं होता है, ट्रैफिक पुलिस का काम थाने में रिपोर्ट लिखना नहीं होता है, वैसे ही एंटी रोमियो का काम रेपिस्ट विधायकों को पकड़ना नहीं होता. उनका काम बस पार्क में बैठे लड़के लड़कियों को पीटना है.

कुछ ऐसे मजमून के साथ फेसबुक पर अखबार की कतरन, कुछ टुच्ची वेबसाइट्स पर खबर और यूट्यूब पर वीडियो है, जिसमें ये जताया जा रहा है कि ये बातें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कही हैं.

ये है अखबार की वो कतरन, जो फेसबुक-व्हाट्सऐप पर घूम रही है.
ये है अखबार की वो कतरन, जो फेसबुक-व्हाट्सऐप पर घूम रही है.

इसके मुताबिक, उन्नाव गैंगरेप के आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर पर उनसे एक सवाल पूछा गया था. इसके जवाब में CM ने ये बात कही. इन खबरों में लिखा है कि योगी आदित्यनाथ ने कहा:

सरकार में आने से पहले हमने उत्तर प्रदेश की जनता से गाय की रक्षा करने का संकल्प लिया था. हम आज भी उस पर कायम हैं. कोई नजर उठाकर किसी गाय की तरफ देखे, तो हम उसकी आंखें निकाल लेंगे. लेकिन हमने लड़की रक्षा का कोई संकल्प नहीं लिया था. अब जो संकल्प हमने लिया ही नहीं, तो उस पर हमसे सवाल क्यों पूछ रहे हो सब लोग?

खबर इतने पर खत्म नहीं होती. और भी कई बातें हैं इसमें. मसलन, बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ केंद्र सरकार की योजना है. उत्तर प्रदेश के कार्यक्षेत्र में ये नहीं आता. हमारा काम तो बस गाय बचाना है. ये भी कि ऐंटी रोमियो स्क्वायड का काम रेपिस्ट विधायकों को पकड़ना नहीं होता. उनका काम बस पार्क में बैठे लड़के-लड़कियों को पीटना होता है.

इसको पढ़ने के बाद आपका मुंह हैरानी से खुला रह जाएगा. लगेगा, कोई मुख्यमंत्री ऐसा कैसे कह सकता है? उसकी ऐसा कहने की हिम्मत कैसे हुई? आप कुछ भी सोचें, इससे पहले ये जानना जरूरी है कि क्या सच में योगी आदित्यनाथ ने ये बातें कही हैं?

इस खबर का सच क्या है?
एक वेबसाइट है. रह्यूमर टाइम्स. 10 अप्रैल को यहां एक खबर लगी. हेडिंग थी- योगी आदित्यनाथ की सफाई. कहा, हमारा काम गाय बचाना है. लड़की नहीं.

प्प्प्प
उन्नाव रेप केस पर हंगामा होने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार पर आरोपी बीजेपी विधायक को बचाने का आरोप लग रहा था. शायद इसी प्रसंग में वेबसाइट ने ये व्यंग्य लिखा होगा.

सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही खबर में जो-जो बातें कही गई हैं, वो ज्यों की त्यों यहां लिखी हैं. असल में ये एक फनी साइट है. रह्यूमर टाइम्स ने तो व्यंग्य में योगी आदित्यनाथ के उच्चारण की वजह से रक्षा को ‘रक्सा’ लिखा है. वेबसाइट के ‘अबाउट अस’ सेक्शन में लिखा है:

रह्यूमर टाइम्स एक व्यंग्यात्मक वेबसाइट है. जो वास्तविक मुद्दों पर काल्पनिक खबर बनाकर व्यंग्य और हास्य के रूप में पेश करती है. इसका उद्देश्य किसी की धार्मिक, राजनैतिक या व्यक्तिगत भावना को ठेस पहुंचाना नहीं है. रह्यूमर टाइम्स पर पोस्ट की गई कोई भी खबर वास्तविक नहीं होती है. कृपया इसे सच न माने.

र्र्र्र्
रूमर अंग्रेजी का शब्द होता है. ह्यूमर भी अंग्रेजी शब्द है. रूमर का मतलब है अफवाह. ह्यूमर का मतलब होता है व्यंग्य. इन दोनों शब्दों की स्पेलिंग बहुत मिलती है. Rumor और Humor. इन्हीं दोनों को मिलाकर वेबसाइट का नाम है रह्यूमर.

कुछ लोगों ने बिना ये समझे कि ऊपर लिखी बातें व्यंग्य में लिखी गई हैं, इसे सच मान लिया. और फिर इसे शेयर करने लगे. हमने रह्यूमर टाइम्स की फेसबुक टाइमलाइन देखी. वैसे उनकी पोस्ट्स को बहुत ज्यादा शेयर नहीं मिलते. लेकिन इस वाली खबर को डेढ़ हजार से ज्यादा लोगों ने शेयर किया है. जाहिर है, लोग व्यंग्य समझ नहीं पाए. कई लोगों ने तो इनकी फेसबुक पोस्ट पर भी नाराजगी में कमेंट किया है. कुछ लोग योगी की आलोचना भी कर रहे हैं. कुछ मुख्यमंत्री का बचाव कर रहे हैं.

करेे
एमएन न्यूज के अबाउट अस सेक्शन के मुताबिक, ये बहुजन समाज के हितों से जुड़ी खबरों को तरजीह देता है. इनका कहना है ‘ब्राह्मणों और बनियों’ वाले अखबार दलित मुद्दों को दबाते और गुमराह करते हैं. इसीलिए दलित मुद्दों को समाज के बीच उठाने के लिए ये वेबसाइट शुरू की गई है.

रह्यूमर टाइम्स से लेकर कई लोगों ने इसे अपने-अपने यहां लगा दिया. जैसे एक MN न्यूज है. उसने भी इसे ज्यों का त्यों लगाया. ऊपर हेडिंग दी- योगी आदित्यनाथ का फिर गैर-जिम्मेदाराना बयान. नीचे सब हेडिंग लिखी- कहा हमारा काम गाय बचाना है, लड़की नहीं. इसे सिर्फ पागलपन का दौरा ही कहा जा सकता है.

एक NM समाचार है. उसने इस खबर पर वीडियो करके यूट्यूब पर डाल दिया. वैसे इसके व्यू बहुत कम हैं. बस 485 लोगों ने इसे देखा है. मजेदार बात ये है कि इस वीडियो में सॉफ्टवेयर के जरिए टेक्स्ट को वॉइस में कनवर्ट किया गया है और इस वीडियो में पूरा का पूरा रह्यूमर टाइम्स का व्यंग्य उठा लिया गया है. कुछ लोगों ने इस पर कॉमेंट किया है. मिले-जुले रिएक्शन हैं. कुछ को खबर पर यकीन हुआ. कुछ ने सवाल किया कि कब कहा, बताओ.

एक पेपर ने भी छाप दिया
हद तो तब हुई जब हमें एक न्यूज पेपर की कटिंग दिखी. हिंदी पेपर की कटिंग. उसमें भी ये खबर हू-ब-हू छपी थी. कौन सा अखबार है, ये मालूम नहीं चल पाया. इसकी हेडिंग है,

योगी आदित्यनाथ का फिर गैर-जिम्मेदाराना बयान. कहा, हमारा काम गाय बचाना है. लड़की नहीं.

आमतौर पर कोई अखबार जब ऐसा व्यंग्य छापता है, तो वहां कुछ ऐसी तस्वीर, कैरिकेचर, इमोजी या फिर कॉलम का नाम होता है जिससे पता चलता है कि वो व्यंग्य है, लेकिन अखबार की धुंधली तस्वीर में भी ऐसा कुछ नजर नहीं आता.

इतने संवेदनशील मुद्दे पर इतनी लापरवाही?
अखबार वगैरह भी ऐसी गलती करेंगे? खबर लिखते समय टाइपो हो जाना या मात्राओं की गलती, तो फिर भी समझ आती है. लेकिन एक व्यंग्य को तथ्य समझने की भूल को क्या कहा जाए? फिर उसकी जांच किए बिना, उसे परखे बिना छाप देना, ये तो ब्लंडर है. जर्नलिज्म की बुनियादी सीख के खिलाफ है. और कुछ नहीं, तो जरा सा गूगल सर्च ही कर लेते. अगर योगी आदित्यनाथ ने ऐसा कहा होता, तो टीवी कम से कम अपना पूरा एक दिन इस पर खर्च कर चुका होता. सोचिए. इतने संवेदनशील मुद्दे पर कैसी लापरवाही बरती जा रही है!


हमसे हमारे एक पाठक श्रीश अवस्थी ने इस अखबार की कटिंग का सच पता करने को कहा था. अगर आपको भी किसी वायरल हो रही तस्वीर, वीडियो या खबर पर शक हो, तो उसकी बाबत lallantopmail@gmail.com पर मेल करके पूछ सकते हैं.


ये भी पढ़ें: 

यूपी के उस BJP विधायक की पूरी कहानी, जिसपर एक महिला ने गैंगरेप का आरोप लगाया है

यूपी में BJP विधायक पर रेप का आरोप लगाने वाली महिला के पिता की जेल में मौत

उन्नाव गैंगरेप: आरोप लगाने वाली लड़की के पिता और विधायक का वो रिश्ता, जो कम ही लोगों को पता है

उन्नाव गैंग रेप केस में CBI ने जो किया है, यूपी पुलिस वो कभी नहीं कर पाती

BJP विधायक पर रेप का आरोप लगाने वाली महिला के पिता की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आ गई है

कठुआ और उन्नाव के बीच PM मोदी ने क्या कहा

उत्तर प्रदेश में गैंगरेप का आरोपी विधायक खुलेआम गुंडई करते कैसे घूम रहा है?


फसल काटने से इनकार करने पर दलित युवक की पिटाई वाले वीडियो की सच्चाई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

कभी IIT खड़गपुर से पढ़ने वाले आज क्या-क्या कमाल कर रहे हैं!

IIT खड़गपुर की शुरुआत उस भवन से हुई थी, जहां कई शहीदों का खून बहा था.

वो 10 बॉलीवुड सेलेब्रिटीज़, जिन्हें हमने बीते पांच महीनों में खो दिया

इस लिस्ट को बनाने से ज़्यादा डिप्रेसिंग कुछ नहीं हो सकता.

'बिग बॉस 14' में होस्ट सलमान खान के अलावा नज़र आएंगे ये 10 सेलेब्रिटीज़

'बिग बॉस 14' का प्रोमो आ चुका है, इस मौके पर जानिए शो के इस सीज़न से जुड़े हर सवाल का जवाब.

विदेश में रहने वाले भारतीयों को लल्लनटॉप का न्योता

देश के लिए कुछ करने का मौका.

सलमान खान अगले कुछ समय में इन 5 धांसू एक्शन फिल्मों में नज़र आने वाले हैं

लॉकडाउन के दौरान सलमान ने अपनी पूरी प्लानिंग बदलकर रख दी है.

बॉलीवुड का वो धाकड़ विलेन जिसका शरीर दो दिन तक सड़ता रहा!

जानिए महेश आनंद की लाइफ और उनकी फिल्मों से जुड़े कुछ दिलचस्प किस्से.

कोविड-19 महामारी के बाद बॉलीवुड बनाने जा रहा ये 10 जबरदस्त फिल्में

इस लिस्ट में बड़े बजट पर मेगा-स्टार्स के साथ बनने वाली फिल्में भी हैं नया कॉन्टेंट ड्रिवन सिनेमा भी.

'चक दे! इंडिया' की 12 मज़ेदार बातें: कैसे सलमान हॉकी कोच बनते-बनते रह गए

शाहरुख खान की इस यादगार फिल्म की रिलीज को 13 साल पूरे हो गए हैं.

देखिए सुषमा स्वराज की 25 दुर्लभ तस्वीरें, हर तस्वीर एक दास्तां है

सुषमा की ज़िंदगी एक खूबसूरत जर्नी थी, और ये तस्वीरें माइलस्टोंस.

नौशाद ने शकील बदायूंनी को कमरे में बंद कर लिया, तब जाकर 'टाइमलेस' गीत जन्मा

नन्हा मुन्ना राही हूं, मन तड़पत हरि दर्शन को, जैसे कई गीत रचने वाले बदायूंनी का आज जन्मदिन है.