Submit your post

Follow Us

किस बस पर चढ़ना चाहोगे दद्दा?

5
शेयर्स

देश में पहली बस 15 जुलाई 1926 को दौड़ी. वो ट्रक की चेसिस पर बनी थी. 1934 में बस जैसी बस चलनी शुरू हुई. तब से अब तक सिर्फ किराए में नहीं, बसों की क्वालिटी में भी विकास हुआ है. लेकिन इस डेवेलपमेंट की आंधी में भी नहीं उड़े हमारी बसों के कुछ फैक्ट्स. अपने इंडिया में मिलती हैं ये बसें. इनमें से किसी न किसी बस की सवारी सबने की होगी.

1. जलकुकड़ी बस

हम सड़क पर खड़े बस का इंतजार कर रहे हैं. उधर को जाती एक भी बस नहीं दिखेगी जिधर अपने को जाना है. दूसरी साइड जाने के लिए बसें एक के ऊपर एक चढ़ी बैठी रहती है.

2. बिना सीट वाली बस

बस में चढ़ते ही बड़ी शिद्दत से अपन सीट खोजते हैं. देखते हैं कि हमाए सिवा सबको सीट मिल चुकी है. अपन अकेले खड़े हैं. इंसानियत से भरोसा उठ जाता है कसम से. बस भर की सवारियां अपनी दुश्मन नजर आने लगती है.

3. फुल टू फटाक बस

पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर की बस में फर्क क्षमता का हैये नहीं. फर्क है कंडक्टर की नैतिकता और बड़प्पन का. इस मामले में प्राइवेट सेक्टर की बस भारी पड़ेगी लिख के रख लो. 60 सीट की क्षमता का राग अलापो कहीं और जाकर. इसमें 240 से नीचे एक सवारी न चढ़ेगी.

4. बेपरदा बस

बसों में दरवाजे किसलिए होते हैं? गुड कोच्चन. बसों के दरवाजे बंद करने के लिए नहीं होते बालक. बल्कि पकड़ के खड़े होने के लिए और ‘दरवाजे पर न खड़े हों’ लिखने के लिए होते हैं.

5. सोती सुंदरी बस

जिस दिन कहीं पहुंचने की बहुत जल्दी हो. बस की सांसे उखड़ जाती हैं. रेंगती है जैसे कछुआ. अइसा लगता है कि बस में बैठे बैठे बाल पक जाएंगे. स्किन लटक जाएगी. बुढ़ापा आ जाएगा.

6. यमराज बस

दुनिया की बसें लोगों को मंजिल तक पहुंचाती हैं. दिल्ली में एक होती थीं ब्लू लाइन बसें. भाईसाब आतंक था उनका. आदमी को अंजाम तक पहुंचाती थीं. मने आखिरी मंजिल तक. उसको यमराज का भैंसा भी कह सकते हो. यमराज बुरा नहीं मानेंगे.

7. ड्रीम बस

बसें लोगों को मंजिल या आखिरी मंजिल तक पहुंचाती हैं. फिल्मी बसें सपनों की दुनिया दिखाती हैं. बॉम्बे टू गोवा और गोविंदा की चल चला चल याद है. अच्छा सेट मैक्स और सूर्यवंशम का होल स्क्वायर? जिसमें बसों के सहारे हीरा ठाकुर करोड़पति बन जाता है. हॉलीवुड वालों ने तो कियानू रीव्स को बस में डाल कर पूरी ‘स्पीड’ फिल्म बना ली.

8. म्यूजिकले आजम बस

और बसों पर गाने. गोविंदा की फिल्म ‘हद कर दी आपने’ में हद कर दी थी. बस को टारगेट करते हुए गाया ‘बस कर बस में बेबस बस जाएं, न बस नैनों में नैना. बात शुरू हुई बस से और खतम हुई टाटा नैनो पर.

9. हमाए देहात का बस

लम्बी दूरी पर जा रहे हो? बस में? उत्तर प्रदेश के हाइवे पर. ईंटा लेकर अपनी पीठ ठोंक लो एक बार. भैया अब टाइगर बचे कित्ते हैं. उनमें से एक आप हैं.

10. एहसान फरामोश बस

लास्ट में सबसे खतरनाक वाली बस. जिस बस से अभी आदमी उतरा है. वही बस उसे कुचल कर आगे बढ़ जाए.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: मर्दानी 2

ये फिल्म आपके दिमाग में बहुत कुछ सोचने-समझने के लिए छोड़ती है और अपने हालातों पर रोती हुई खत्म हो जाती है.

क्या किया उस बच्ची ने, जिसकी मां की जान मछली में थी और बच्ची को उसे बचाना ही था?

अगर मछली मर जाती, तो मां भी नहीं बचती. #चला_चित्रपट_बघूया.

इनसाइड एज 2 रिव्यू: नेताओं की सत्ता, एक्टर्स की साख पे बट्टा और क्रिकेट का सट्टा

खेल की पॉलिटिक्स और पॉलिटिक्स का खेल. जानिए क्या होता है जब पार्टनर्स, राइवल्स हो जाते हैं?

अमिताभ के रहस्यमय लुक वाली फिल्म, जिसे रिलीज़ करने के लिए वो न जाने किस-किस से हाथ जोड़ रहे हैं

'पिंक', 'विकी डोनर' और 'पीकू' जैसी फिल्मों को बनाने वाले शूजीत सरकार की बतौर डायरेक्टर ये दूसरी फिल्म थी.

फिल्म रिव्यू- पानीपत

सवाल ये है कि आशुतोष गोवारिकर की मैग्नम ओपस 'पानीपत' अपना पानी बचा पाती है या इनकी भैंस भी पानी में चली जाती है?

पति पत्नी और वो: मूवी रिव्यू

ट्रेलर देखकर कितनों को लग रहा था कि ये एक बेहद फूहड़ मूवी है? उस सबके लिए एक सरप्राइज़ है.

फिल्म रिव्यू: कमांडो 3

इस फिल्म में विद्युत का एक्शन देखकर आप टाइगर श्रॉफ पर 'किड्स' वाला जोक मारने के लिए मजबूर हो जाएंगे.

होटल मुंबई: मूवी रिव्यू

‘होटल मुंबई’ एक बेहतरीन मूवी है. लेकिन इसे 'बेहतरीन' कहते हुए आप गिल्ट तले दब जाते हो.

रामगोपाल वर्मा की मूवी में पीएम मोदी, अमित शाह और चंद्रबाबू नायडू ही नहीं, और भी कई राजनेता हैं

पिक्चर तो रामू ने बना दी. अब रिलीज़ कैसे करेंगे?

पागलपंती: मूवी रिव्यू

फिल्म के ट्रेलर में ही अनिल कपूर कह देते है,'और हां तुम लोग दिमाग मत लगाना'.