Submit your post

Follow Us

मूवी रिव्यू: त्रिभंग

आज हम बात करेंगे नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ हुई फिल्म ‘त्रिभंग’ की. भले ही भारतीय सिनेमा कितनी ही तरक्की कर गया हो लेकिन आज भी ऐसी विमेन सेंट्रिक फ़िल्में दुर्लभ ही हैं, जहां कोई मर्द हीरो बनकर महिलाओं का तारणहार न रहा हो. ऐसे में जब एक ऐसी फिल्म आती है, जिसकी न सिर्फ तमाम लीडिंग स्टारकास्ट बल्कि डायरेक्टर भी एक महिला हो, तो उससे थोड़ी तो उम्मीदें बंध ही जाती हैं. क्या ‘त्रिभंग’ इन उम्मीदों पर खरी उतरती है? आइए जानते हैं.

# Tribhang की कहानी क्या है?

‘त्रिभंग’ एक ओडिसी नृत्य का पोज़ है. जिसमें डांसर का शरीर तीन अलग-अलग दिशाओं में बेंड हुआ होता है. फिल्म भी ऐसी ही कुछ बात कहती है. तीन महिला किरदारों की एक-दूसरे से विपरीत सोच और उससे उपजे अलग-अलग नज़रिए की. ये तीन जनरेशन्स की कहानी है. बगावती तेवर वाली लेखिका नयनतारा आपटे. उसकी फिल्मस्टार और ओडिसी डांसर बेटी अनुराधा. और अनुराधा की हैप्पी गो लकी नेचर की बेटी माशा. नयनतारा अपनी बायोग्राफी लिखवा रही है. क्लिष्ट हिंदी बोलनेवाले लेखक मिलन उपाध्याय से.

ऐसे ही एक सेशन में नयनतारा को स्ट्रोक आता है और वो कोमा में पहुंच जाती है. हॉस्पिटल में अपनी मां के सिरहाने मजबूरन लैंड हुई अनुराधा अच्छी-कड़वी यादों के बीच खुद को फंसा पाती है. यहां से कहानी फ्लैशबैक के सहारे खुलती जाती है. कि क्यों अनुराधा को अपनी मां से इतनी नफरत रही है. क्या इस नफरत का कोई अच्छा-बुरा असर उसकी खुद की बेटी पर हुआ? या सिर्फ किरदार बदले और कहानी वही रही? ये सब जानने के लिए फिल्म देखिए, निराश नहीं होंगे.

Tanvi Azmi3
तन्वी आज़मी ने नयनतारा आपटे को बेहद संजीदगी से पोट्रे किया है. (फोटो-ट्रेलर)

# अपने-अपने संघर्ष

‘त्रिभंग’ अपने आप में एक साहसिक कोशिश है. ये महिलाओं की चॉइस पर बात तो करती है, पर ज्ञान देने की टोन में नहीं. महिलाओं के हिस्से आने वाले अलग-अलग संघर्ष दिखाते वक्त ये बेचारगी का रास्ता नहीं चुनती. न तो नयनतारा, न अनु और ना ही माशा बेचारी हैं. इन सबकी अपनी-अपनी चॉइस रही है और अपने हिस्से आने वाली हर परेशानी को इन्होंने अपने हिसाब से हैंडल किया है. किसी के हिस्से पैट्रियार्की का ज़हर आया, किसी के हिस्से अब्यूज़, तो किसी के हिस्से दकियानूसी सोशल सिस्टम का दंश.

नयन ने अस्सी के दशक वाले भारत में एक महिला की वैचारिक स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी. और इस प्रोसेस में अपनी संतान से दूर हो गई. अनु ने अपनी मां के लेखन के प्रति जुनून को बच्चों के प्रति लापरवाही समझा. उससे उपजी नफरत का नतीजा ये निकला कि खुद अपनी औलाद को लेकर ओवर प्रोटेक्टिव हो गई. और इसी क्रम में कमोबेश वहीँ आकर खड़ी हुई, जहां उसकी अपनी मां थी. माशा ने, जिसे परिवार के नाम पर कुछ न हासिल हुआ, जॉइंट फैमिली के कुचक्र में फंसना चुना. कुल मिलाकर ‘त्रिभंग’ कामयाब मांओं को उनकी औलादों के नज़रिए से देखने की कोशिश करती है. और इस कोशिश में तमाम ज़रूरी मुद्दे छू आती है.

Kajol7
काजोल का डिजिटल डेब्यू आपको बिलकुल भी निराश नहीं करेगा. (फोटो-ट्रेलर)

# दी काजोल शो

‘त्रिभंग’ का सबसे सशक्त पक्ष इसकी कास्टिंग है. अनुराधा के रोल में काजोल यहां पूरे जलाल पर हैं. जीवन को लेकर बेहद स्पष्ट नज़रिया रखने वाली अनुराधा. कोमा में पड़ी मां के सिरहाने खड़े होकर जोक मारने वाली अनुराधा. मुंह भरके गालियां देने वाली अनुराधा. काजोल हर फ्रेम में चमकती हैं. मिलन का रोल करते कुणाल रॉय कपूर के साथ उनके एनकाउंटर्स तो पैसा वसूल हैं. बेसिकली ये ‘कभी ख़ुशी कभी ग़म’ वाली मुंहफट अंजलि का प्रो वर्जन है. गालियों से अपडेटेड. जहां एक तरफ वो अपने संवादों और हावभाव में बेबाकी पूरी तरह घोलकर रखती हैं, वहीँ इमोशनल दृश्यों में उनकी आंखें भी अभिनय करती हैं. कमाल की परफॉरमेंस.

यही बात कमोबेश तन्वी आज़मी के लिए भी कही जा सकती है. नयनतारा के किरदार को उन्होंने बहुत बारीकी से पकड़ा है. महज़ कुछ सीन्स में, रूढ़ियों को कुचलने को आतुर जुनूनी लेखिका उन्होंने बेहतरीन ढंग से निभाई. मिथिला पालकर ने भी अपना काम सफाई से किया. अपनी मां के डॉमिनेटिंग और केयरिंग साए में पली लड़की, जो वक्त आने पर अपनी बात स्पष्टता से रखने की हिम्मत रखती है. ‘कारवां’ के बाद मिथिला का एक और अच्छा रोल. तीन-तीन सशक्त अभिनेत्रियों के होते हुए भी कुणाल रॉय कपूर अपनी उपस्थिति कामयाबी से दर्ज करा जाते हैं. काजोल से गाली खाने वाले कुछ दृश्य बहुत फनी हैं. इसके अलावा काजोल के भाई के रोल में वैभव तत्ववादी भी पॉजिटिव वाइब्स देते हैं.

Mithila Palkar1
मिथिला पालकर तेज़ी से एक बैंकेबल आर्टिस्ट के रूप में उभर रही हैं. (फोटो-ट्रेलर)

इन सबसे ज़्यादा तारीफ़ होनी चाहिए रेणुका शहाणे की. जिन्होंने न सिर्फ फिल्म लिखी है बल्कि डायरेक्शन का ज़िम्मा भी संभाला. ये दोनों ही ज़िम्मेदारियां उन्होंने कुशलता से निभाई हैं. उनके किरदार अनअपोलोजेटिक हैं, बगावत से भरे हैं, पर किताबी नहीं हैं. रियलस्टिक हैं. फिल्म के संवाद तीन भाषाओं का मिश्रण लिए हुए हैं. मराठी, हिंदी, इंग्लिश. जहां जो सूट करे. ये बात फिल्म को और भी मज़बूती देती है.

कामयाब मां की निजी ज़िंदगी को उसके बच्चों की नज़र से देखने की कोशिश में पिछले साल आई ‘शकुंतला देवी’ चूक गई थी. रेणुका की ‘त्रिभंग’ ये काम कामयाबी से कर जाती है. इस वीकेंड ज़रूर देखी जा सकती है ये छोटी सी लेकिन सशक्त फिल्म.


वीडियो: फिल्म रिव्यू-मास्टर 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

विकिपीडिया के 20वें बड्डे पर जानिए इससे जुड़े इंट्रेस्टिंग फैक्ट्स

विकिपीडिया के 20वें बड्डे पर जानिए इससे जुड़े इंट्रेस्टिंग फैक्ट्स

आज ही के दिन 2001 में जिमी वेल्स और लैरी सैंगर ने विकिपीडिया को शुरू किया था.

अगर पॉलिटिकल थ्रिलर देखना पसंद है, तो ये 17 जाबड़ शो आपके लिए खज़ाना साबित होंगे

अगर पॉलिटिकल थ्रिलर देखना पसंद है, तो ये 17 जाबड़ शो आपके लिए खज़ाना साबित होंगे

दुनियाभर से चुने बेस्ट पॉलिटिकल शोज़. बस नोट करते जाइए और पहली फुर्सत में देख डालिए.

टॉपमटॉप कलमकारी की मिसाल महाश्वेता देवी की जिंदगी के पहलू दिखातीं 10 खास बातें

टॉपमटॉप कलमकारी की मिसाल महाश्वेता देवी की जिंदगी के पहलू दिखातीं 10 खास बातें

एक कलम, जिसका काम पन्नों पर लिखना नहीं, बल्कि हाथों को जमीनी संघर्ष के लिए तैयार करना भी था.

भारत और इंडिया में फ़र्क बताने वाली फिल्म 'आधार' का ट्रेलर आया है

भारत और इंडिया में फ़र्क बताने वाली फिल्म 'आधार' का ट्रेलर आया है

2019 में टीज़र आया था, उसके बाद अब रिलीज़ हो रही है.

इस टेक शो पर ट्रांसपैरेंट TV से लेकर रोल होने वाले फ़ोन तक ये अनोखी चीजें लॉन्च हुई हैं

इस टेक शो पर ट्रांसपैरेंट TV से लेकर रोल होने वाले फ़ोन तक ये अनोखी चीजें लॉन्च हुई हैं

LG ने रोल होने वाली, आर-पार देखने वाली, बेन्ड होने वाली स्क्रीन दिखाई हैं!

अमरीश पुरी: जिनके बारे में स्टीवन स्पीलबर्ग ने कहा था, 'अमरीश जैसा कोई नहीं, न होगा'

अमरीश पुरी: जिनके बारे में स्टीवन स्पीलबर्ग ने कहा था, 'अमरीश जैसा कोई नहीं, न होगा'

उस महान एक्टर के 18 किस्से, जिसे हमने बेस्ट एक्टर का एक अवॉर्ड तक न दिया.

अर्रे भाई भाई भाई! इरफान पठान की फिल्म 'कोबरा' का टीज़र तो बड़ा धांसू लग रहा है

अर्रे भाई भाई भाई! इरफान पठान की फिल्म 'कोबरा' का टीज़र तो बड़ा धांसू लग रहा है

तमिल सुपरस्टार विक्रम लीड रोल में नज़र आएंगे.

ऋतिक रोशन की वो फिल्म, जो सत्यजीत रे की चोरी हुई स्क्रिप्ट पर बनी थी

ऋतिक रोशन की वो फिल्म, जो सत्यजीत रे की चोरी हुई स्क्रिप्ट पर बनी थी

आज एक्टर का हैप्पी बर्थडे है.

साल 2020 की वो फिल्में, जिन्हें मजबूरन OTT पर रिलीज़ होना पड़ा

साल 2020 की वो फिल्में, जिन्हें मजबूरन OTT पर रिलीज़ होना पड़ा

लॉकडाउन और कोरोना ने बड़े परदे पर ग़दर मचाने का प्लाट चौपट कर डाला.

जब शाहरुख की इस फिल्म की रिलीज़ से पहले डॉन ने फोन कर करण जौहर को जान से मारने की धमकी दी

जब शाहरुख की इस फिल्म की रिलीज़ से पहले डॉन ने फोन कर करण जौहर को जान से मारने की धमकी दी

शाहरुख करण को कमरे से खींचकर लाए और कहा- '' मैं भी पठान हूं, देखता हूं तुम्हें कौन गोली मारता है!''