Submit your post

Follow Us

कंप्यूटर पर चलने वाले ये 5 एंटी वायरस सॉफ्टवेयर बढ़िया भी हैं और फ़्री भी!

माइक्रोसॉफ्ट का विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम दुनिया में सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है. आपको कुछ ऐसे लोग भी मिल जाएंगे, जिन्होंने विंडोज़ के अलावा दूसरे कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में कभी सुना भी नहीं होगा. इसी पॉपुलैरिटी की वजह से विंडोज़ सिस्टम ही हैकर लोगों का टारगेट बनते हैं. हर तरह के वायरस इसी सिस्टम के लिए डिजाइन किए जाते हैं, ताकि कम मेहनत करके ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचा जा सके.

एक कंप्यूटर वायरस असली दुनिया वाले वायरस की ही तरह काम करता है. ये एक प्रोग्राम को इफेक्ट करता है और फिर अपनी कॉपी बनाकर दूसरे प्रोग्राम तक पहुंच जाता है. एक वायरस कंप्यूटर के काम करने के तरीके को बदल देता है, मतलब कि गड़बड़ी ही गड़बड़ी.

विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम को सेफ रखने के लिए आपको अपने कंप्यूटर में एंटी-वायरस रखना चाहिए. ये पेनड्राइव या मेमोरी कार्ड में मौजूद वायरस से तो कंप्यूटर को बचाते ही हैं, साथ में इंटरनेट पर होने वाले हमलों से भी सुरक्षा करते हैं. हम आपको यहां पर 5 ऐसे एंटी वायरस के बारे में बता रहे हैं, जो बढ़िया भी हैं और फ़्री भी.

AVG Antivirus Free

Avg 2
AVG एंटी वायरस ऐसा दिखता है.

एंटी वायरस की दुनिया में AVG का नाम बड़ा पुराना है. आप इसे AVG की वेबसाइट से इंस्टॉल करके इसके फ़्री वाले फीचर इस्तेमाल कर सकते हैं. फ्री वर्ज़न में ये आपके कंप्यूटर को वायरस वग़ैरह से बचाता है, फ़िर चाहे वो किसी दूसरे डिवाइस से आया हो या फिर इंटरनेट से आया हो.

Avast Free Antivirus

Avast 2
Avast एंटी वायरस ऐसा दिखता है.

एवास्ट काफ़ी अच्छे एंटी वायरस में गिना जाता है. ये आपके कंप्यूटर की सिक्योरिटी सेटिंग को भी चेक करता है, ताकि वायरस और हैकर के खिलाफ किसी तरह की कोई ढिलाई न हो. आप चाहें तो इसका फ्री वर्ज़न चला सकते हैं, वरना फिर पैसे देकर ज़्यादा फीचर वाला पेड वर्ज़न ले सकते हैं.

Kaspersky Security Cloud – Free

Kaspersky
Kaspersky एंटी वायरस ऐसा दिखता है.

कैस्परस्काइ फीचर से भरपूर एंटी-वायरस है. कंपनी का कहना है कि इसका फ्री वर्ज़न पहचानता है कि आप अपने कंप्यूटर पर क्या कर रहे हैं. ये इसी जानकारी के हिसाब से आपको अलर्ट देता है और सामने से आने वाले हमलों को रोकता है. इसके फ्री वर्ज़न में काफ़ी कम फीचर हैं, मगर फिर भी आप रियल-टाइम प्रोटेक्शन वग़ैरह का इस्तेमाल कर सकते हैं.

Sophos Home Free

Sophos 2
Sophos एंटीवायरस ऐसा दिखता है.

सोफोस का फ्री और पेड दोनों वर्ज़न मौजूद हैं. बाकी फ्री एंटीवायरस के मुकाबले सोफोस का फ्री वर्ज़न कई सारे फीचर यूजर को देता है. रियल-टाइम प्रोटेक्शन के साथ-साथ ये खतरे को भांपने के लिए आर्टफिशल इन्टेलिजन्स का इस्तेमाल करता है. इसके अलावा ये वायरस के घराने के बहुत सारे मेम्बर को पहचानकर उन्हें पकड़ लेता है.

Bitdefender Antivirus Free Edition

Bitdefender 2
Bitdefender  मैक पर ऐसा दिखता है.

सोफोस के अलावा फ्री वर्ज़न में सबसे अच्छे फीचर बिटडिफेंडर देता है. ये बड़ा हल्का फुल्का सा है, बैकग्राउंड में चलने में खास पता नहीं चलता और काम पूरा करता है. आप इसे इसकी वेबसाइट से इंस्टॉल कर सकते हैं. ये विंडोज़ 10 के साथ आराम से काम करता है.


वीडियो: Realme C21 रिव्यू: कंपनी के नए बजट में कस्टमर को क्या मिल रहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: कोबाल्ट ब्लू

फिल्म रिव्यू: कोबाल्ट ब्लू

मूलत: ये फिल्म प्रेम और उससे उपजे दुख की बात करती है.

विजय की फिल्म 'बीस्ट' के ट्रेलर में पबजी फैन्स ने क्या ग़लती निकाल दीं?

विजय की फिल्म 'बीस्ट' के ट्रेलर में पबजी फैन्स ने क्या ग़लती निकाल दीं?

डिफेंस वालों को भी शिकायत हो सकती है.

फिल्म रिव्यू- मॉर्बियस

फिल्म रिव्यू- मॉर्बियस

अगर आपने मार्वल की कोई फिल्म नहीं देखी, तब भी 'मॉर्बियस' को देख सकते हैं. क्योंकि इसका मार्वल की पिछली फिल्मो से कोई लेना-देना नहीं है.

मूवी रिव्यू: कौन प्रवीण तांबे

मूवी रिव्यू: कौन प्रवीण तांबे

ये एक आम इंसान के हीरो बनने की कहानी है. उसके खुद को लगातार रीक्रिएट करने की कहानी है.

मूवी रिव्यू: अटैक

मूवी रिव्यू: अटैक

फिल्म ठीक उस बच्चे की तरह है जो परीक्षा से एक रात पहले पूरा सिलेबस कवर करना चाहता है. नहीं समझे? तो रिव्यू पढिए.

मूवी रिव्यू: शर्माजी नमकीन

मूवी रिव्यू: शर्माजी नमकीन

कैसी है ऋषि कपूर की आखिरी फिल्म?

फिल्म रिव्यू- RRR

फिल्म रिव्यू- RRR

ये फिल्म देखकर समझ आता है कि जब किसी फिल्ममेकर का विज़न क्लीयर हो और उसे अपना क्राफ्टबोध हो, तो एक साधारण कहानी पर भी अद्भुत फिल्म बनाई जा सकती है.

फिल्म रिव्यू- बच्चन पांडे

फिल्म रिव्यू- बच्चन पांडे

हमारे यहां के फिल्ममेकर्स को ये समझना है कि किसी फिल्म को लोकल ऑडियंस की सेंसिब्लिटीज़ के हिसाब से ढालने का मतलब उन्हें डंब समझना नहीं है.

मूवी रिव्यू: जलसा

मूवी रिव्यू: जलसा

विज़िबल और इनविज़िबल रूप से कन्फ्लिक्ट या कहें तो डिवाइड पूरी फिल्म में दिखता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: ब्लडी ब्रदर्स

वेब सीरीज़ रिव्यू: ब्लडी ब्रदर्स

शो की कास्ट में काबिल एक्टर्स के नाम होने के बावजूद ये शो राइटिंग के टर्म्स में पिछड़ जाता है.