Submit your post

Follow Us

जब तक ये 11 गाने रहेंगे, शशि कपूर याद आते रहेंगे

441
शेयर्स

शशि कपूर. 4 दिसंबर 2017 को उनका चले जाना हर एक को व्यथित कर गया. क्या टेलीविजन, क्या प्रिंट, क्या वेब और क्या सोशल, तमाम तरह के मीडिया में उन्हीं की बातें हो रही हैं. लोग तरह-तरह से उन्हें याद कर रहे हैं. उनके किस्से सुना रहे हैं. उनके लिए अपनी पसंदीदगी की वजूहात गिना रहे हैं. उनकी फिल्मों के चर्चे हैं. तमाम सेलेब्रिटीज़ उनसे जुड़े संस्मरण शेयर कर रहे हैं. ऐसे में हम उनके गानों के ज़रिए से उनको यादों में संजो रहे हैं.

79 साल की उम्र में दुनिया छोड़ गए शशि कपूर.
79 साल की उम्र में दुनिया छोड़ गए शशि कपूर.

यूं तो उनके दर्जनों गाने ऐसे हैं, जो प्लेलिस्ट में होने ही चाहिए. उनमें से कुछेक छांटना बड़ा मुश्किल काम था. क्या रखें और क्या छोड़े वाला धर्मसंकट तमाम समय बना रहा. उससे उलझकर ये लिस्ट बनी है. ये तमाम गाने सबने कभी न कभी सुने ज़रूर होंगे. अब बस इतना कीजिए, यहां इकट्ठे सुन लीजिए.


1. ‘मुहब्बत बड़े काम की चीज़ है’ (त्रिशूल, 1978)

शशि साहब की अमिताभ को दी गई सबसे शानदार सलाह. इश्क़ के एहसास से कोरे अमिताभ को प्यार की अहमियत जताने की कोशिश में लगी शशि कपूर और हेमा मालिनी की जोड़ी बहुत क्यूट लगी है इस गाने में. जब शशि एक जगह गाते हैं, ‘मुहब्बत से इतना खफ़ा होने वाले, चल आ आज तुझको मुहब्बत सिखा दें’, तो उनके चेहरे पर झलकता बेफिक्री का भाव पॉज करके देखने लायक है. ये गाना सिर्फ सुनने की नहीं, देखने की भी चीज़ है. किशोर, लता और येसुदास की जुगलबंदी.


2. ‘कह दूं तुम्हें या चुप रहूं’ (दीवार, 1975)

‘दीवार’ और शशि कपूर के कॉम्बिनेशन का ज़िक्र आते ही एक ही चीज़ याद आती है. ‘मेरे पास मां है’ वाला कालजयी डायलॉग. ये गाना उतना नहीं, तो उससे कम भी मशहूर नहीं. किशोर कुमार की मस्ती भरी आवाज़ में ये गाना इतना उम्दा बन बड़ा है कि रीमिक्स युग आने बाद इसके कई-कई वर्जन सामने आए.


3. ‘लिखे जो ख़त तुझे’ (कन्यादान, 1968)

इस बार जादू किशोर का नहीं रफ़ी साहब का है. और हिंदी साहित्य के नगीने गोपालदास नीरज का. मोबाइल फोन्स और रियल टाइम चैट के आविष्कार से पहले प्रेम-पत्र ही प्रेमीजनों का सहारा हुआ करते थे. और ये गीत उनका एंथम. लव-लेटर्स का चलन भले ही ख़त्म हो गया हो लेकिन गाने की मधुरता अब भी कायम है. हमेशा रहेगी.


4. ‘तुम बिन जाऊं कहां’ (प्यार का मौसम, 1969)

एक बार फिर रफ़ी साहब और शशि साहब का कॉम्बिनेशन. सामने आशा पारेख. मजरूह सुलतानपुरी के मानिखेज़ बोलों के साथ पूरा न्याय करते शशि कपूर. जब वो कहते हैं, ‘देखो मुझे सर से कदम तक, सिर्फ प्यार हूं मैं’, तो देखने वाला फ़ौरन इस बात पर यकीन कर लेता है.


5. ‘एक रास्ता है ज़िंदगी’ (काला पत्थर, 1979)

बैक टू किशोर. फलसफाई गीत. साहिर ने फिल्मों के लिए लिखते वक़्त भी क्वालिटी से समझौता नहीं किया इसका एक और उदाहरण है ये गाना. राजेश रोशन की ट्यून भी शानदार है. बाइक पर बेफिक्री में सड़क नापते शशि साहब को देखना बड़ा उम्दा अनुभव है.


6. ‘एक था गुल और एक थी बुलबुल’ (जब जब फूल खिले, 1965)

यूं तो इस फिल्म का ‘परदेसियों से न अखियां मिलाना’ भी बेहद हिट रहा है लेकिन इसको चुनने के पीछे इसमें शामिल अद्भुत किस्सागोई सबसे बड़ी वजह है. नंदा को सैर कराते-कराते शशि उनको एक पूरा किस्सा सुना डालते हैं. गुल और मुहब्बत की दास्तान. जितना उम्दा आनंद बख्शी ने लिखा है, उतनी ही सुंदर कल्याणजी-आनंदजी ने धुन बनाई है.

‘तुम भी किसी से प्यार करो तो प्यार गुल-ओ-बुलबुल सा करना..’


7. ‘बेखुदी में सनम, उठ गए जो कदम’ (हसीना मान जाएगी, 1968)

अख्तर नोमानी का लिखा बेइंतहा रोमांटिक गीत. रूमानियत इस गीत के तीनों स्तंभों से टप-टप टपकती है. अल्फाज़, आवाज़ और अभिनय से. ये मुमकिन ही नहीं कि प्यार में मुब्तिला कोई बंदा इसे सुने बगैर आगे बढ़ जाए.


8. ‘खिलते हैं गुल यहां’ (शर्मीली, 1971)

एक और फलसफाई गीत.  जीवन की क्षणभंगुरता को रेखांकित करते बोल और उन बोलों के बेहद सहजता से दर्शकों तक पहुंचाते शशि साहब. गीतकार नीरज और संगीतकार सचिन देव बर्मन की जुगलबंदी.


9. ‘ले जाएंगे, ले जाएंगे, दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे’ (चोर मचाए शोर, 1974)

हिंदी सिनेमा के इतिहास में कई रिकॉर्ड्स बनाने वाली और शाहरुख़ ख़ान को ग्लोबल पहचान दिलाने वाली ‘DDLJ’ का टाइटल इसी गाने से आया है. महबूबा के घर में घुसकर उसे उठा ले जाने का धड़ल्ले से ऐलान करते शशि कपूर लगने तो दबंग चाहिए थे, लेकिन लगते हैं क्यूट ही.


10. ‘ऐ यार सुन यारी तेरी’ (सुहाग, 1979)

अमिताभ बच्चन दोस्ती वाले एक कालजयी गाने में पहले से मौजूद हैं. ‘शोले’ का ‘ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे’. उसके बाद वो दोस्ती और बाइक के कॉम्बिनेशन वाले जिस गाने में पसंद किए गए, वो शशि कपूर के साथ था. लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल की धुन में आनंद बख्शी के बोल बेहद मनभावन हैं. आज भी दोस्त के बड्डे पर यार लोग ये गाना व्हाट्सएप करते पाए जाते हैं.


11. यहां मैं अजनबी हूं (जब जब फूल खिले, 1965)

ये बोनस ट्रैक है इस लिस्ट का. और शायद इस दौर में सबसे ज़रूरी भी. हमेशा स्क्रीन पर चुलबुले से नज़र आने वाले शशि साहब का संजीदा अंदाज़. प्रेम में तिरस्कृत प्रेमियों से लेकर तेज़रफ़्तार दौर में अकेले पड़ते और डिप्रेशन की गोद में जाते युवाओं तक तमाम लोग अक्सर यही फील करते हैं. ‘यहां मैं अजनबी हूं’. जितना शानदार आनंद बख्शी ने लिखा, जितनी कमाल कल्याणजी-आनंदजी ने कम्पोजिशन बनाई, उतना ही बेमिसाल इसे शशि साहब ने निभाया है. प्ले-लिस्ट में होना ही होना चाहिए ऐसा गीत.


शशि कपूर पर ये पढ़े बगैर लौट गए तो नुकसान होगा:

शशि कपूर की वो पांच फ़िल्में जो आपको बेहतर इंसान बना देंगी

शशि कपूर का वो इंटरव्यू जो सबको ज़रूर देखना चाहिए

शशि कपूर के निधन पर उनके समधी अमिताभ बच्चन ने ये लिखा है

वीडियो: सोमनाथ मंदिर देखिए और यहां के सारे विवाद जानिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: कमांडो 3

इस फिल्म में विद्युत का एक्शन देखकर आप टाइगर श्रॉफ पर 'किड्स' वाला जोक मारने के लिए मजबूर हो जाएंगे.

होटल मुंबई: मूवी रिव्यू

‘होटल मुंबई’ एक बेहतरीन मूवी है. लेकिन इसे 'बेहतरीन' कहते हुए आप गिल्ट तले दब जाते हो.

रामगोपाल वर्मा की मूवी में पीएम मोदी, अमित शाह और चंद्रबाबू नायडू ही नहीं, और भी कई राजनेता हैं

पिक्चर तो रामू ने बना दी. अब रिलीज़ कैसे करेंगे?

पागलपंती: मूवी रिव्यू

फिल्म के ट्रेलर में ही अनिल कपूर कह देते है,'और हां तुम लोग दिमाग मत लगाना'.

फ्रोज़न 2: मूवी रिव्यू

...जब मेरे बचपन के दिन थे चांद में परियां रहती थीं.

तानाजी ट्रेलर के दो डायलॉग जिन्हें सुनकर मन बहुत खराब हो गया है!

अजय देवगन स्टारर इस हिस्टोरिकल ड्रामा की ये गलती इसका पीछा नहीं छोड़ेगी.

हाउस अरेस्ट: मूवी रिव्यू

पूरी दुनिया के लिए उम्दा कॉन्टेंट बनाने वाला नेटफ्लिक्स हम भारतीयों के साथ सौतेला व्यवहार क्यूं कर रहा है, समझ से बाहर है.

मरजावां: मूवी रिव्यू

‘परिंदा’, ‘ग़ुलाम’, ’देवदास’, ‘अग्निपथ’, ‘कयामत से कयामत तक’, ‘गजनी’, ‘काबिल’, ‘लावारिस’ और ‘केजीएफ’ जैसी ढेरों मूवीज़ की याद दिलाती है मरजावां.

फिल्म रिव्यू: मोतीचूर चकनाचूर

आप पैसे खर्च करके सिर्फ हंसने नहीं जा सकते, साथ में कुछ चाहिए होता है, जो ये फिल्म नहीं देती.

बाला: मूवी रिव्यू

'आज खुशी का दिन है आया बिल्कुल लल्लनटॉप. सोडा, पानी, नींबू के साथ क्या पिएंगे आप?'