Submit your post

Follow Us

टॉम क्रूज़ के वो स्टंट, जिन्हें देख लगता है वो हैं ही नहीं इस दुनिया के

और अभी चर्चा में हैं हॉलीवुड एक्टर टॉम क्रूज़. मतलब वो चर्चा में कब नहीं होते. उनके साथ करियर शुरू करने वाले कितने ही एक्टर्स रिटायर हो चुके हैं. लेकिन टॉम अभी तक उसी डेडिकेशन के साथ इम्पॉसिबल मिशन और स्टंट्स की तलाश में रहते हैं. ऐसे स्टंट्स जिन्हें लोग पॉज़ कर-करके देखते हैं. कि क्या ये वाकई किसी इंसान ने किए हैं. या हरे परदे वाला मामला है!

टॉम की ‘मिशन इम्पॉसिबल’ फिल्मों ने हॉलीवुड में एक्शन और थ्रिल के स्तर को कहीं और ही पहुंचा दिया. हर पार्ट आने से पहले ये उत्सुकता रहती है कि टॉम क्रूज़ अब क्या करने वाले हैं. मतलब ये ऐसे हैं कि जब जमीन पर स्टंट्स करते-करते ‘चेंज ऑफ मूड’ वाली फील आई तो स्पेस का रुख कर लिया. ये न्यूज़ नई नहीं कि टॉम नासा और एलन मस्क की ऐरोस्पेस कंपनी SpaceX के साथ मिलकर स्पेस में मूवी शूट करने वाले हैं. बताया जा रहा है कि ये दुनिया की पहली फिल्म होगी जिसे, अंतरिक्ष में फिल्माया जाएगा. फिल्म का बजट भी 200 मिलियन डॉलर्स है. मतलब पैसा है तो क्या कुछ नहीं हो सकता.

टॉम क्रूज़ स्पेस में क्या स्टंट करेंगे, ये समय आने पर पता चलेगा. लेकिन अभी बात धरती की. और धरती पर घटने वाले टॉम के नए स्टंट की. जिसे देखकर लोगों की चीखें निकल गईं. 1996 की ‘मिशन इम्पॉसिबल’ से शुरू हुई सीरीज़ का अब सातवां पार्ट आ रहा है. काफी डिले के बाद. ‘मिशन इम्पॉसिबल’ फिल्मों की पहचान ही टॉम के स्टंट्स से हैं. इसलिए फिल्म का फर्स्ट लुक आए या टीज़र, लोग उनके स्टंट को ही खोजते हैं. हाल ही में पैरामाउंट पिक्चर्स ने सिनेमाकॉन में ‘मिशन इम्पॉसिबल 7’ का स्टंट रिवील किया. वीडियो में टॉम एक लंबे रैंप पर अपनी मोटरबाइक दौड़ा रहे हैं. जिसे एक खाई के ऊपर से कूदा देते हैं. लेकिन ये ग्रैविटी से दुश्मनी वाला मामला नहीं. बाइक दूसरे छोर पर नहीं पहुंचती. हवा में रहती है. जिसे छोड़कर टॉम नीचे कूद जाते हैं. वो भी एक पैराशूट के सहारे.

Mission Impossible 7
‘मिशन इम्पॉसिबल 7’ से टॉम क्रूज़ का स्टंट. फोटो: metro.co.uk

दुनिया को भले ही टॉम को ऐसा स्टंट करते देखना डरावना लगे. लेकिन टॉम के लिए ये ड्रीम कम ट्रू टाइप मोमेंट था. वो बताते हैं कि ये स्टंट करना उनके बचपन का सपना था. इसलिए इसकी तैयारी में कोई कसर नहीं छोड़ी. नॉर्वे में जिस विशालकाय रैम्प से उन्होंने छलांग लगाई, उसे बनाने में कई महीनों का वक्त लगा. टॉम ने अपने स्टंट के लिए 500 घंटों की स्काइडाइविंग ट्रेनिंग ली. सिर्फ इतना ही नहीं. उन्होंने बाइक को भगाकर कूदाने वाले पार्ट की करीब 13,000 बार प्रैक्टिस की. यहां कोई ज़ीरो गलती से कम ज़्यादा नहीं हुआ. टॉम ने मोटर बाइक जम्प के 13,000 सेशंस लिए. ये भी एक वजह है कि वो इसे अपनी लाइफ का सबसे खतरनाक स्टंट मानते हैं. टॉम क्रूज़ का ये स्टंट हमें बड़े परदे पर अगले साल देखने को मिलेगा. लेकिन उससे पहले बताएंगे ‘मिशन इम्पॉसिबल’ सीरीज़ से उनके उन स्टंट्स के बारे में, जिन्हें देख लगता है कि टॉम इस दुनिया के तो प्राणी नहीं. वो स्टंट्स जिन्होंने जनता के साथ-साथ डायरेक्टर का भी धुआं निकाल दिया. जिनके लिए कंपनी ने इन्श्योरेन्स देने तक से मना कर दिया. बात करेंगे ‘मिशन इम्पॉसिबल’ सीरीज़ के सबसे जानलेवा स्टंट्स की.

Spotlight (1)


#1. मिशन: इम्पॉसिबल टू

वो फिल्म जिसे ‘मिशन इम्पॉसिबल’ सीरीज़ की सबसे कमजोर फिल्म माना जाता है. इस फिल्म से उनका सबसे यादगार स्टंट प्लॉट डिवेलपमेंट में कोई मदद नहीं करता. उसे बस टॉम के किरदार के इन्ट्रो सीन की तरह रखा गया है. सीन था कि टॉम एक ऊंची पहाड़ी चढ़ रहे हैं. टॉम एक बड़े स्टार थे और ये स्टंट कहानी के लिहाज़ से रेलवेंट भी नहीं था. इसलिए डायरेक्टर जॉन वू चाहते थे कि टॉम किसी छोटी पहाड़ी पर ये सीन शूट कर लें. वो भी सेफ्टी नेट के साथ. टॉम ने दोनों बातें मानने से इनकार कर दिया. वो इसे रियल लोकेशन पर ही शूट करना चाहते थे. डायरेक्टर को उनकी ज़िद के आगे झुकना ही पड़ा. सीन को आखिरकार अमेरिका के यूटा में स्थित डेड हॉर्स पॉइंट स्टेट पार्क में फिल्माया गया. जहां टॉम ने शूट करते वक्त सेफ्टी नेट यूज़ करने से मना कर दिया. हालांकि, उन्होंने सेफ्टी केबल्स यूज़ की थी. जॉन के दिल में इस सीन को लेकर धक-धक हो रही थी. पसीने छूट रहे थे. वो बताते हैं कि शूटिंग के वक्त वो इतना डरे हुए थे कि मॉनिटर चेक करने की हिम्मत भी नहीं जुटा पा रहे थे.

अगली फिल्म और उसके स्टंट्स पर आगे बढ़ने से पहले इस फिल्म के एक और सीन के बारे में बताते हैं. फिल्म के क्लाइमैक्स में टॉम का किरदार इथन हंट अपने दुश्मन एम्ब्रोस से लड़ रहा है. लड़ते वक्त एम्ब्रोस चाकू निकालकर इथन की आंख में घुसाने की कोशिश करता है. चाकू घोंपने ही वाला होता है कि इथन उसे रोक लेता है. उस पॉइंट पर इथन की आंख और चाकू की नोक के बीच एक इंच का फासला था. और यहां बता दें कि वो असली चाकू था. टिंचू-टिंचू वाला नहीं. हालांकि, चाकू के दूसरे एंड पर स्टील केबल अटैच की गई थी. ताकि चाकू को आंख से एक इंच दूरी पर लाकर रोका जा सके. सावधानी रखी गई थी लेकिन बारीक सी चूक भी बड़े हादसे में तब्दील हो सकती थी.


#2. मिशन: इम्पॉसिबल – फॉलआउट

‘मिशन इम्पॉसिबल’ के हर पार्ट के साथ स्टंट्स का लेवल ऊपर ही गया है. ऐसे में सीरीज़ का छठा पार्ट भी कोई अपवाद नहीं था. फिल्म में एक बवाल किस्म का हेलिकॉप्टर चेज़ सीक्वेन्स था. आमतौर पर ऐसे सीन्स को स्टूडियो में ही निपटा दिया जाता है. अगर लाइव लोकेशन पर शूट करने की बात भी हो तो स्टंट डबल इस्तेमाल किए जाते हैं. लेकिन टॉम ने सबको होल्ड माइ बियर बोलकर खुद ये सीन शूट करने का फैसला लिया. इसके लिए उन्होंने हेलिकॉप्टर उड़ाना सीखा. क्रू के साथ मिलकर करीब एक साल से ज्यादा का वक्त दिया, इस सीन की प्रैक्टिस के लिए. कुछ महीनों में हेलिकॉप्टर चलाना सीखकर उसे पहाड़ों के बीच से उड़ाना ही इस सीक्वेन्स की खास बात नहीं थी. सीक्वेन्स में टॉम के हेलिकॉप्टर से एक ऑब्जेक्ट लटक रहा होता है. टॉम चलते हुए हेलिकॉप्टर से बाहर निकलकर उस झूलते हुए ऑब्जेक्ट तक पहुंचते हैं. इस सीक्वेन्स को आसानी से रिसेंट सिनेमा हिस्ट्री के सबसे एक्साइटिंग सीक्वेन्सेस में से एक कहा जा सकता है.

फिल्म से उनका अगला तगड़ा स्टंट था एक हेलो जम्प. HALO यानी High Altitude Low Opening. हेलो जम्प नॉर्मल स्काइडाइविंग से काफी अलग होती है. नॉर्मल स्काइडाइविंग में करीब 10 से 14 हज़ार फीट की ऊंचाई से एयरप्लेन से छलांग लगाई जाती है. जबकि हेलो जम्प में ये डिस्टेंस बढ़कर हो जाता है करीब 30,000 फीट. हेलो को एक खतरनाक जम्प माना जाता है. जिसे ज्यादातर मिलिट्री से जुड़े लोग करते हैं. यहां कूदने वाले को इतने एल्टिट्यूड पर सांस लेने के लिए एक स्पेशल सूट की ज़रूरत पड़ती है. ऐसा नहीं है कि फिल्मों में पहले कभी हेलो जम्प्स नहीं दिखाए गए. लेकिन वे सभी ग्रीन स्क्रीन के आगे शूट हुए थे. टॉम क्रूज़ कहां ग्रीन स्क्रीन या स्टंट डबल से मानने वाले थे. उन्होंने फैसला लिया कि वो पहले एक्टर बनेंगे जिन्हें किसी फिल्म के लिए हेलो जम्प करते हुए फिल्माया जाएगा. टॉम करीब 25,000 फीट की ऊंचाई से कूदे. सिर्फ इतना ही नहीं, फिल्म की परफेक्ट जम्प के लिए उनकी 109 जम्प्स को शूट किया गया.

‘मिशन: इम्पॉसिबल – फॉलआउट’ ही वो फिल्म थी जहां बिल्डिंग्स की छतों पर कूदते हुए टॉम क्रूज़ के पैर पर चोट आ गई थी. जिस वजह से उनका ऐंकल टूट गया था. टॉम ने कुछ हफ्तों का रेस्ट लिया. वापस आए और अपना सीन पूरा किया.


#3. मिशन: इम्पॉसिबल – रोग नेशन

‘रोग नेशन’ की शुरुआत इथन के एक मिशन से होती है. जहां उसे एक कार्गो प्लेन को रोकना है. उसके साथियों की प्लेन को हैक करने की तमाम कोशिशें नाकाम हो जाती है. उधर प्लेन टेक ऑफ कर लेता है. ऐसे में इथन को एक ही रास्ता सूझता है. भागकर प्लेन के दरवाज़े पर से लटक जाने का. टॉम का ये स्टंट फिल्म का हाइलाइट पॉइंट था. जिसे फिल्म के प्रोमोशन्ल फुटेज से लेकर मेन पोस्टर तक जगह मिली. प्लेन उड़ रहा है और टॉम उसकी साइड से लटके हुए हैं. प्लेन 5000 फीट की ऊंचाई तक जाता है. और ऐसा एक नहीं, आठ बार हुआ. टॉम ने अपने इस सीन के आठ टेक दिए. टॉम ने ग्रीन स्क्रीन या सीजीआई का इस्तेमाल नहीं किया. उनकी बॉडी को केबल्स के ज़रिए प्लेन से बांध दिया गया था. अगर आप 260 माइल्स पर आवर की रफ्तार से उड़ते हुए प्लेन से लटके हुए हैं तो हर सेफ्टी स्टेप कम ही लगता है. 260 माइल्स पर आवर यानी करीब 418 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार. ऐसे में भी टॉम ने मिनिमम सेफ्टी के साथ ये सीन शूट किया. तेज़ हवा के दबाव से बचने के लिए उन्हें स्पेशल कॉन्टैक्ट लेंस भी लगाने पड़े थे.

कहते हैं कि एक एवरेज इंसान 30 से 40 सेकंड्स तक पानी के अंदर अपनी सांस रोक सकता है. लेकिन टॉम भाईसाहब यहां भी दो नहीं बल्कि पांच कदम आगे निकले. फिल्म में टॉम का एक अंडरवॉटर सीन था. जिसके लिए उन्होंने डाइविंग की ट्रेनिंग ली. और छह मिनट तक पानी के अंदर सांस रोकी. उन्हें पानी में सिर्फ एक जगह नहीं रुकना था. बल्कि हरकत भी करनी थी. नतीजतन, इस सीन ने टॉम को बुरी तरह थकाकर रख दिया. उनके खून में नाइट्रोजन की मात्रा बढ़ गई थी. वो शारीरिक और मानसिक स्तर पर इतना थक गए थे कि उन्हें अपनी लाइंस याद करने में भी दिक्कत हो रही थी.


#4. मिशन: इम्पॉसिबल – घोस्ट प्रोटोकॉल

अगर आप सोचते हैं कि दुनिया की सबसे ऊंची बिल्डिंग ‘बुर्ज खलीफ़ा’ का फिल्मों में सबसे बेस्ट यूज़ ‘जी करदा दिला दूं तैनू बुर्ज खलीफ़ा’ में हुआ है, तो इसका एक ही मतलब है. कि आपने ‘मिशन: इम्पॉसिबल – घोस्ट प्रोटोकॉल’ नहीं देखी. वो फिल्म जहां चेंबूर के किंग अनिल कपूर ने कैमियो किया था. वो फिल्म जहां टॉम क्रूज़ ने बुर्ज खलीफ़ा पर स्टंट किया. टॉम ने पूरी सावधानी के साथ अपना स्टंट किया. फिर भी ज़मीन से 2,722 फीट की ऊंचाई पर लटकना कोई जोक नहीं. अपने स्टंट को याद करते हुए टॉम ने बताया कि हाइट के डर से उनके क्रू के कुछ लोग ऊपर वाले फ्लोर तक आए ही नहीं. सीन में टॉम बिल्डिंग से झूल रहे थे. उन्होंने बताया कि वो एक पॉइंट पर सिंगल रोप से लटके हुए थे. उसी दौरान उन्हें क्रॉसविंड्स का सामना भी करना पड़ा. क्रॉसविंड उस हवा को कहा जाता है जो लाइन ऑफ ट्रैवल के परपेंडिकुलर यानी 90 डिग्रीज़ पर रहती है. उन्हें इससे भी जूझना पड़ा. क्रॉसविंड की वजह से ही सीन के एक हिस्से में ऐसा लगता है कि टॉम उड़ रहे हैं. उन्होंने बताया कि हवा की वजह से वो सच में उड़ ही रहे थे.


वीडियो: टॉम क्रूज़ इस बार ‘मिशन इंपॉसिबल 7’ में क्या करने वाले हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

'ब्लैक लाइव्स मैटर' पर घुटना टिकाती टीम इंडिया क्या शमी को गद्दार कहे जाने पर भी स्टैंड लेगी?

'ब्लैक लाइव्स मैटर' पर घुटना टिकाती टीम इंडिया क्या शमी को गद्दार कहे जाने पर भी स्टैंड लेगी?

इंस्टाग्राम पर शमी को कुछ लोगों ने भद्दी गालियां दी, टीम इंडिया चुप है.

फिल्म रिव्यू- भवाई

फिल्म रिव्यू- भवाई

इस पूरी फिल्म का मक़सद ही ये है कि हम परदे पर दिखने वाले एक्टर, इंसान और भगवान में फर्क कर सकें. मगर वो हो नहीं पाता!

फिल्म रिव्यू- सरदार उधम

फिल्म रिव्यू- सरदार उधम

सरदार उधम सिंह ने कहा था- 'टेल पीपल आई वॉज़ अ रिवॉल्यूशनरी'. शूजीत ने उस बात को बिना किसी लाग-लपेट के लोगों को तक पहुंचा दिया है.

फ़िल्म रिव्यू: सनक

फ़िल्म रिव्यू: सनक

ये फिल्म है या वीडियो गेम?

मूवी रिव्यू: रश्मि रॉकेट

मूवी रिव्यू: रश्मि रॉकेट

ये रॉकेट फुस्स हुआ या ऊंचा उड़ा?

वेब सीरीज़ रिव्यू: स्क्विड गेम, ऐसा क्या है इस शो में जो दुनिया इसकी दीवानी हुई जा रही है?

वेब सीरीज़ रिव्यू: स्क्विड गेम, ऐसा क्या है इस शो में जो दुनिया इसकी दीवानी हुई जा रही है?

लंबे अरसे के बाद एक शानदार सर्वाइवल ड्रामा आया है दोस्तो...

फिल्म रिव्यू- शिद्दत

फिल्म रिव्यू- शिद्दत

'शिद्दत' एक ऐसी फिल्म है, जो कहती कुछ है और करती कुछ.

फिल्म रिव्यू- नो टाइम टु डाय

फिल्म रिव्यू- नो टाइम टु डाय

ये फिल्म इसलिए खास है क्योंकि डेनियल क्रेग इसमें आखिरी बार जेम्स बॉन्ड के तौर पर नज़र आएंगे.

ट्रेलर रिव्यू: हौसला रख, शहनाज़ गिल का पहला लीड रोल कितना दमदार है?

ट्रेलर रिव्यू: हौसला रख, शहनाज़ गिल का पहला लीड रोल कितना दमदार है?

दिलजीत दोसांझ और शहनाज़ गिल की फ़िल्म का ट्रेलर कैसा लग रहा है?

नेटफ्लिक्स पर आ रही हैं ये आठ धांसू फ़िल्में और सीरीज़, अपना कैलेंडर मार्क कर लीजिए

नेटफ्लिक्स पर आ रही हैं ये आठ धांसू फ़िल्में और सीरीज़, अपना कैलेंडर मार्क कर लीजिए

सस्पेंस, थ्रिल, एक्शन, लव सब मिलेगा इनमें.