Submit your post

Follow Us

अगर पीएम मोदी आपसे नाराज हैं, तो बीजेपी में आपका करियर सुरक्षित है

# चैप्टर 1 (साध्वी प्रज्ञा)

नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं, और रहेंगे. ऐसा बोलने… उनको आतंकवादी कहने वाले लोग… स्वयं के गिरेबान में झांककर देखें. अबकी चुनाव में ऐसे लोगों को जवाब दे दिया जाएगा.

– साध्वी प्रज्ञा ने ये बयान एक पत्रकार द्वारा पूछे गए किसी सवाल के जवाब में दिया था. तब चुनावों का दौर था और और भोपाल लोकसभा सीट से बीजेपी कैंडिडेट थीं साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर. हालांकि बयान पर विवाद होने के बाद उन्होंने माफी मांग ली थी. लेकिन फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें लेकर बड़ा बयान दिया. पीएम मोदी ने कहा है कि वह मन से प्रज्ञा को कभी माफ नहीं कर पाएंगे. पीएम मोदी ने कहा-

गांधीजी या गोडसे के संदर्भ में जो भी बातें कही गई हैं. या इस प्रकार के जो भी बयान दिए गए हैं, ये भयंकर खराब है. हर प्रकार से घृणा के लायक है. आलोचना के लायक है. सभ्य समाज के अंदर इस तरह की भाषा नहीं चलती. इस प्रकार की सोच नहीं चल सकती है. इसलिए ऐसा कहने वालों को 100 बार आगे सोचना पड़ेगा. दूसरा उन्होंने माफी मांग ली ये अलग बात है. लेकिन मैं अपने मन से माफ नहीं कर पाऊंगा. मन से माफ नहीं कर पाऊंगा.

भोपाल में अपना नामांकन दाखिल करने प्रज्ञा ठाकुर व्हील चेयर पर पहुंचीं. फाइल फोटो.
भोपाल में अपना नामांकन दाखिल करने प्रज्ञा ठाकुर व्हील चेयर पर पहुंचीं. फाइल फोटो.

पीएम मोदी ने न्यूज 24 के अमित कुमार के साथ इंटरव्यू में ये बात कही. पीएम मोदी से पूछा गया था कि आपने गांधी जी की बात की. हर समय आप गांधी की विचारधारा को लेकर आगे बढ़ते हैं. लेकिन जिस तरह से साध्वी प्रज्ञा ने बयान दिया, हालांकि बाद में माफी मांग ली. उन पर पार्टी की ओर से कार्रवाई की बात चल रही है. लेकिन इस तरह के उम्मीदवार खड़े करना और उनका इस तरह से बात करना गलत था?
उधर अमित शाह ने भी तब कहा था कि डिसिप्लिनरी कमिटी प्रज्ञा से सफाई मांगेगी और 10 दिनों के भीतर पार्टी को रिपोर्ट सौंपेगी.

प्रेजेंट स्टेटस- साध्वी प्रज्ञा, दिग्विजय सिंह को हरा कर सांसद बन चुकी हैं. 10 दिनों वाली बात किसी याद सी भुला दी गई है.


# चैप्टर 2 (आकाश विजयवर्गीय)

इंदौर नगर निगम की एक टीम गंजी कंपाउंड में एक जर्जर मकान गिराने पहुंची. इस बात की जानकारी आकाश विजयवर्गीय को दी गई. आकाश इसी इलाके से विधायक हैं और कैलाश विजयवर्गीय के बेटे भी. मकान गिराने की बात पर आकाश की निगम अधिकारी भिड़ंत हो गई. उन्होंने अधिकारी को बल्ले से पीट दिया. ये पुरानी और वायरल हो चुकी घटना है, जिसके बारे में आपको पहले से ही पता होगा, लेकिन हम रिविज़न भर कर रहे हैं.

फिर क्या हुआ? 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद पहली बार बीजेपी की संसदीय दल यानी पार्लियामेंट्री बोर्ड की बैठक हुई. इस बैठक में पीएम मोदी ने इंदौर वाली घटना पर सख्त नाराजगी जताई. उन्होंने कैलाश विजयवर्गीय और उनके बेटे का नाम लिए बिना बैठक में कहा-

ऐसी घटना से मुझे बहुत नाराजगी हुई. ये नहीं होना चाहिए. चाहे किसी का भी बेटा हो, मंत्री या सांसद किसी का भी. उनको पार्टी से बाहर निकाल देना चाहिए.

क्रिकेट के बल्ले से पुराना अनुराग रहा है आकाश का.
क्रिकेट के बल्ले से पुराना अनुराग रहा है आकाश का.

प्रेज़ेंट स्टेटस- किसी का बाल नहीं बांका हुआ, आकाश जब जेल से बाहर निकले तो बोले- मुझे इस घटना पर कोई अफसोस नहीं है. उस वक्त की जो परिस्थिति थी उसको देखते हुए मुझे जो करना था वो मैंने सोच समझकर ज़िम्मेदारी के साथ किया. 


# चैप्टर 3 (प्रणव सिंह चैम्पियन)

एक वायरल वीडियो. जिसमें पहलवान टाइप का आदमी. रूआबदार मूंछें. दोनों हाथों में बंदूकें. बाएं हाथ में तीन पिस्टल, दाएं हाथ में मॉडिफाइड राइफल. पीछे से म्यूज़िक सिस्टम चीख़ रहा है-

राणा जी माफ़ करना, ग़लती म्हारे से हो गई.

घुटने पर शराब का ग्लास रखा है. दो तीन पुछल्ले भी हैं जो सरकार के डांस से कोरस मिला रहे हैं. पहलवान बीच-बीच में किसी की मां-बहन के जिस्म का एक ख़ास हिस्सा याद किए जा रहा है. अगर उत्तराखंड की कोई मां हो तो उसे भी पहलवान कार्य-विशेष के लिए याद कर रहा है.

इन पहलवान का नाम- प्रणव सिंह चैम्पियन. उत्तराखंड के खानपुर से बीजेपी विधायक. बहरहाल इससे पहले कि बात आगे बढ़े, पहले ये वीडियो देख लीजिए-

प्रेजेंट स्टेटस- लेटेस्ट खबर ये है कि इन विधायक को बीजेपी से निकाल दिया गया है. छः साल के लिए. इससे पहले उन्हें कारण बताओ नोटिस ज़ारी किया गया था.


# चैप्टर 4 (फ़ास्ट एंड फ्यूरियस)

वैसे तो आप समझ ही गए होंगे कि तीनों स्टोरीज़ को एक साथ क्यूं पढ़वाया गया. लेकिन चलिए फिर भी थोड़ी स्पेसिफिक हो लेते हैं. लेकिन उससे पहले एक फिल्म की बात. फिल्म शायद फ़ास्ट एंड फ्यूरियस का टोक्यो ड्रिफ्ट वाली सिक्वल रही थी. अब इस फिल्म में एक सीन में क्या होता है कि-

एक गाड़ी चलाने वाले के बगल में बैठा हुआ बंदा पूछता है कि तुम इतनी तेज़ स्पीड से गाड़ी चला रहे हो क्या कोई पुलिस वाला तुम्हारा चालान नहीं काटता? ड्राइविंग सीट में बैठा हुआ बंदा उत्तर देता है कि अगर ‘तेज़ गति’ से ड्राइव कर रहे हो तो पुलिस वाले पीछा करके भी रोक लेते हैं. लेकिन अगर ‘बहुत तेज़ गति’ से ड्राइव करो तो पुलिस रत्ती भर भी आपको पकड़ने के लिए एफर्ट नहीं लगाती.

कुछ समझे? नहीं न? चलिए ऍनलॉजी बताते हैं. पहले दो चैप्टर्स के नायक नायिकाओं को लेकर पीएम ने बयान दिए, तीसरे पर नहीं दिए. लेकिन जहां पहले दो (साध्वी प्रज्ञा और आकाश विजयवर्गी) लोग अब भी बीजेपी में बने हुए हैं और उनकी सांसदी और विधायकी भी क्रमशः बची हुई है वहीं तीसरे निष्काषित हो चुके हैं.

यूं, अगर पीएम मोदी आपसे बहुत ज़्यादा नाराज़ हैं, इतने कि आपसे घृणा करने लगें, तो सोचिए कि बीजेपी में आपका करियर सुरक्षित है. आपका चालान नहीं कटेगा.

लेकिन कहीं अगर पीएम की नाराजगी का स्तर ‘साध्वी प्रज्ञा’ से घटकर ‘प्रणव सिंह चैम्पियन’ तक पहुंचा तो आपके वर्तमान स्टेट्स को खतरा है. यानी यदि बुरा कृत्य इतना बुरा है कि पीएम मोदी न केवल उसका संज्ञान ले लेवें बल्कि उनका दिल आपसे घृणा करने लग जाएं, तो आपकी विधायकी-सांसदी में कोई आंच नहीं आने वाली. लेकिन कहीं अगर आपने बुरा कृत्य किया, और वो इतना बुरा न हुआ कि पीएम इग्नोर कर ले गए तो आप गए. इसलिए ही तो-

अगर पीएम मोदी आपसे नाराज हैं, तो बीजेपी में आपका करियर सुरक्षित है.


वीडियो देखें:

अमिताभ बच्चन ने हर वर्ल्ड कप फाइनल देखने वाले के मन की बात कही है-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

भारत-चीन तनाव: PM मोदी के बयान पर भड़के पूर्व फौजी, कहा- वे मारते मारते कहां मरे?

पीएम ने कहा था न कोई हमारी सीमा में घुसा है न ही हमारी कोई पोस्ट किसी दूसरे के कब्जे में है.

'बुलबुल' ट्रेलर: देखकर लग रहा है ये बिल्कुल वैसी फिल्म है, जैसी एक हॉरर फिल्म होनी चाहिए

डर भी, रहस्य भी, रोमांच भी और सेंस भी. ऐसा लग रहा है कि फिल्म 'परी' से भी ज्यादा डरावनी होगी.

इस आदमी पर से भरोसा उसी दिन उठ गया था, जब इसने सनी देओल का जीजा बनकर उन्हें धोखा दिया था

परदे पर अब तक 182 बार मर चुका है ये एक्टर.

'गो कोरोना गो' वाले रामदास आठवले की कही आठ बातें, जिन्हें सुनकर दिमाग चकरा जाए

अब आठवले ने चायनीज फूड के बहिष्कार की बात कही है.

विदेशी मीडिया को क्यों लगता है कि भारत-चीन सीमा पर हालात बेकाबू हो सकते हैं?

सब जगह लद्दाख झड़प की चर्चा है.

वो 7 इंडियन एक्टर्स/सेलेब्रिटीज़, जिन्होंने आत्महत्या कर ली थी

इस लिस्ट में लीजेंड्स से लेकर स्टार्स सब शामिल हैं.

सुशांत सिंह राजपूत के 50 ख्वाब, जो उन्होंने पर्चियों में लिख रखे थे

उनके ख्वाबों की लिस्ट में उनके व्यक्तित्व का सार छुपा हुआ है.

डेथ से पहले इन 5 प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे थे सुशांत सिंह राजपूत

इनमें से एक फिल्म अगले कुछ दिनों में रिलीज़ होने वाली है, जो सुशांत के करियर की आखिरी फिल्म होगी.

इंडियन आर्मी ऑफिसर्स पर बन रही 7 फिल्में, जिन्हें देखकर छाती चौड़ी हो जाएगी

इन फिल्मों में इंडिया के सबसे बड़े सुपरस्टार्स काम कर रहे हैं.

ये FICCI, ASSOCHAM, CII वगैरह सुनाई तो खूब देते है, पर होते क्या हैं?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 जून को इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स (ICC) के सेशन को संबोधित किया.