Submit your post

Follow Us

बधाई हो! सोना कांसा तो था ही, दीपा चांदी ले आईं पैरालंपिक से

1.94 K
शेयर्स

दीपा कर्मकार से दीपा और साक्षी मलिक से मलिक निकालोगे तो क्या बनेगा? बताओ-बताओ! अरे रिकॉर्ड होल्डर के नाम से नाम मिलाओगे तो रिकॉर्ड ही बनेगा न. मैथ्स नहीं पढ़े हो का?  नीचे पढ़ो सब समझ आ जाएगा.

ओलंपिक को निपटाने के बाद रियो अब पैरालंपिक करा रहा है. जिसमें हम सोना और कांसा तो जीत चुके हैं. कमी थी तो बस चांदी की. वो भी कल दीपा मलिक ले आईं. शॉटपुट में शानदार खेला और 4.61 मीटर के साथ दूसरे नंबर पर रहीं. पहले नंबर पर बहरीन की फातिमा निधाम रहीं. और ब्रॉन्ज पर कब्जा ग्रीस की दिमित्रा कोरोकिदा का रहा. दीपा इस जीत के साथ पैरालंपिक में मेडल जीतने वाली देश की पहली महिला बन गई हैं. उनके बारे में कुछ बातें जान लो.

1.

दीपा का जन्म हरियाणा के सोनीपत में हुआ था. आज से 45 साल पहले 30 सितंबर को. पापा आर्मी में थे.

2.

6 साल की थीं दीपा, जब पहली बार ट्यूमर की चपेट में आईं. ट्यूमर ने दीपा की रीढ़ की हड्डी को निशाना बनाया था. बीमारी थी तो इलाज हुआ. पूरे तीन साल लगे दीपा को उससे छुटकारा पाने में.

3.

साल 1999 में ट्यूमर ने दीपा के स्पाइनल कॉर्ड को फिर से निशाना बनाया. इस दफा सर्जरी हुई. ट्यूमर तो चला गया, पर जीवन भर का गम दीपा को दे गया. इसके बाद वो कभी अपने पैरों पर खड़ी नहीं हो पाईं. ट्यूमर दीपा को व्हीलचेयर पकड़ा गया था.

Deepa Malik

4.

हम साल 2016 में हैं. दीपा भी हैं. पर उनके शरीर का छाती से नीचे का हिस्सा बिल्कुल सुन्न है. उन्हें कुछ महसूस नहीं होता. कंधों के बीच लगभग 200 टांकें हैं.

5.

शादी से पहले हसबेंड ने दीपा से बाइक के बारे में पूछा था कि उन्हें कुछ मालूम है. दीपा का जवाब धांसू था. बोलीं, एक बार चाभी दे कर तो देखो, मैं दिखाती हूं क्या जानती हूं. इम्प्रेस हो गए और शादी कर ली. वो आर्मी में थे. कारगिल वॉर के टाइम पर हसबेंड लड़ रहे थे. और इधर दीपा की सर्जरी चल रही थी. जिसके बाद वो 25 दिनों तक कोमा में थीं.

6.

हसबेंड की डेथ के बाद दीपा ने केटरिंग का काम शुरू किया था. आर्मी कैंटीन में लगभग 250 लोगों को खाना खिलाती थीं. और ये किसी जवान की पत्नी की तरफ से सबसे अनोखी पहल थी.

7.

स्पोर्ट्स में एंट्री बड़े रोचक ढंग से लिया है दीपा ने. साल 2006 की बात है. रोज की तरह वो स्वीमिंग प्रैक्टिस कर रही थीं. स्पोर्ट्स अथॉरिटी के ऑफिसर वहीं थे, तो उन्होंने दीपा को देखा था. बाद में महाराष्ट्र सरकार ने दीपा को न्योता भेजा था. क्वालालम्पुर में चल रहे FESPIC (Far East and South Pacific Games for the Disabled) में देश को रिप्रजेंट करने के लिए. दीपा ने न्योता स्वीकारा और गईं क्वालालम्पुर. स्वीमिंग में हिस्सा लिया. और बैक स्ट्रोक स्वीमिंग में देश को सिल्वर मेडल दिलाया.

Deepa Swimming

8.

साल 2008 में यमुना नदी में तैराकी की. एक किलोमीटर वो भी अप-स्ट्रीम. 36 साल में स्पोर्ट्स करियर की शुरुआत करने वाली दीपा के नाम चार लिम्का एडवेंचर रिकॉर्ड हैं.

9.

फेडरेशन मोटर स्पोर्ट्स क्लब ऑफ इंडिया से ऑफिशियली रैली की लाइसेंस पाने वाली इकलौती औरत हैं दीपा. साल 2009 में Raid de Himalaya और साल 2010 में Desert Storm. ये दो सबसे खतरनाक कार रैली हैं, जिसमें दीपा ने पार्ट लिया है.

10.

स्वीमिंग, शॉट पुट, जैवलिन थ्रो और मोटर स्पोर्ट्स के अलावा दीपा ने राजस्थान वूमन्स क्रिकेट टीम को भी रिप्रजेंट कर चुकी हैं. कुल 67 गोल्ड मेडल जीते हैं दीपा ने. 54 नेशनल लेवल पर और 13 इंटरनेशनल लेवल पर.

Deepa malik3

11.

बाइक की शौकीन दीपा 20 साल की उम्र में शादी के लिए तैयार हो गई थीं. वो भी 100 सीसी की कावासाकी बाइक के लिए. MTV Roadies के नौवें सीजन का हिस्सा रही हैं दीपा. दीपा के अलावा विजेंद्र सिंह भी इसका हिस्सा थे. कंटेस्टेंट के मोराल को बूस्ट करने के लिए. क्योंकि दीपा मोटिवेशनल स्पीकर भी हैैं.

12.

वैसे तो दीपा के नाम कई अवॉर्ड्स हैं. पर मेन वाले ये हैं.

स्वावलंबन पुरस्कार – 2006

हरियाणा करमभूमि अवार्ड – 2008

महाराष्ट्र छत्रपति अवार्ड (स्पोर्ट) – 2009-10

अर्जुना अवार्ड – 2012

प्रेसिडेंट रोल मॉडल अवार्ड – 2014

deepa malik1


ये भी पढ़ो:

4 विकलांग दौड़े और ओलंपिक के विजेताओं को पछाड़ दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Things you should know about paralympic silver medalist athlete Deepa Malik

पोस्टमॉर्टम हाउस

क्या हुआ जब दो चोर, एक भले आदमी की सायकल लेकर फरार हो गए

सायकल भी ऐसी जिसे इलाके में सब पहचानते थे.

मूवी रिव्यू: गेम ओवर

थ्रिल, सस्पेंस, ड्रामा, मिस्ट्री, हॉरर का ज़बरदस्त कॉकटेल है ये फिल्म.

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E6- नौ साल लंबे सफर की मंज़िल कितना सेटिस्फाई करती है?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के चाहने वालों के लिए आगे ताउम्र की तन्हाई है!

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

जानिए ये बात आखिर शुरू कहां से हुई.