Submit your post

Follow Us

पीएम मोदी की अमेरिका यात्रा वाली फोटो की वो चीजें, जो खुद उन्हें भी पता नहीं होंगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका के लिए रवाना हुए. ये शिकायतों के ख़त्म होने का समय था. मित्र बराक के बाद मित्र डोनाल्ड, (हां यही नाम था उनका, डोनाल्ड ट्रंप.) उनसे नजदीकियों की शिकायत अगर जो बाइडन (बिडेन/बाईडेन/ बाइडेन, हां ऐसा ही कुछ नाम है उनका) को रही हो तो इस यात्रा में पीएम मोदी के गले मिलते ही वो भी जाती रहेगी.

लेकिन ये इकलौती शिकायत नहीं थी, जो दूर होने पर आमादा थी. विमान यात्रा की इस तस्वीर में कुछ लोगों को कागज़ों के नीचे जलती लाइट से समस्या हो गई. पहले लोगों को सरकारों से शिकायत रहती थी कि लाइट सब तक पहुंचती नहीं. कागज़ों में फंसकर रह जाती है. अब इतनी लाइट है कि कागज़ों के नीचे से भी निकलकर आ रही है. विकास कागज़ों के बीच रास्ता खोज लेता है, कितना सिम्बॉलिक दृश्य है ये.

लोगों ने घुमा-फिराकर जो बात कही, उसका मर्म ये था कि फ़ोटो अच्छी आए. इसके लिए प्रधानमंत्री ने ऐसी लाइट जला रखी थी. सोशल मीडिया पर कुछ तो बताते मिले कि मोबाइल की लाइट जला रखी थी. अगर उन्होंने ऐसा किया भी हो तो आप उन्हें दोष नहीं दे सकते. इंदिरा गांधी के डॉक्टर रहे डॉ. के.पी. माथुर अपनी किताब ‘द अनसीन इंदिरा गांधी थ्रू हर फ़िज़ीशियंस आइज़’ में बताते हैं कि कैसे वो दौरों पर जातीं तो ड्राइवर के बगल वाली सीट पर बैठतीं और गोद में टॉर्च जलाकर रखतीं, ताकि नीचे से रोशनी मुंह पर पड़े और लोग उन्हें आसानी से देख सकें.

फोटो का मर्म बताने वाले कुछ भी कह सकते हैं. कह सकते हैं कि पीएम मोदी ने इंदिरा गांधी के आइडिया का मुंतशिरीकरण किया. खोट खोजने वालों का कुछ नहीं किया जा सकता. वो तो ये भी कह सकते हैं कि पीएम भी विंडो सीट के चाहने वालों में से हैं. शिकायत तो यहां तक जा सकती है कि बताओ विंडो सीट मिल गई, तब भी इंस्टा के लिए टाइमलैप्स वाला वीडियो नहीं बनाया.

तस्वीर को ध्यान से देखने वाले विपक्षियों ने बताया कि कागज़ बाईं और है. नज़र दाईं ओर पेन पर है, मोबाइल जल रहा है.

कुछ लोगों ने ये भी कहा कि बगल में रखे बैग में ताला रखा हुआ है. इस ताले की ज़रूरत क्या थी? कौन उनका सामान चुराए ले जा रहा है?

अब प्रधानमंत्री तो इन ज्वलंत सवालों का जवाब देने के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस करने से रहे. हम ही अपनी समझ से इन सवालों के जवाब दिए दे रहे हैं. जहाँ तक बात रही लाइट की तो मोबाइल जलाने वाली बात बचकानी है. ये तो इतनी बचकानी बात है कि देश में कोरोना का संकट हो और कोई प्रवक्ता ध्यान बंटाने के लिए टूलकिट की बात करने लग जाए. लाइट सीट में लगी होगी नीचे रखकर पढ़ने के लिए, लेकिन तल्लीनता में आदमी पेपर उठाकर पढ़ने लगा तो कोई अपराध थोड़े न कर दिया.

ताला इसलिए होगा क्योंकि जग जानता है कि मोदी जी स्टेशन पर चाय बेचते थे. वहीं से स्ट्रीटस्मार्ट हुए. रेलवे स्टेशन पर बार-बार बोला जाता है कि यात्रीगण अपने सामान की सुरक्षा का ध्यान खुद रखें. पीएम का बचपन का अभ्यास अब भी उनका साथ दे रहा है.

उंगलियों के बीच पेन क्यों है, इसका जवाब भी तल्लीनता वाला है. तल्लीनता में आदमी पेन कान से लेकर मुंह तक में डाल लेता है. आप तो स्कूल में पेन मुंह में रखकर उल्टा सुड़क तक लेते थे. एक तरफ के होंठ कैनवास जैसे करिया जाते रहे होंगे. मोदी जी ने तो फिर भी उंगलियों के बीच ही पेन पकड़ा है.

अब आता है स्टोरी का सेलिंग पॉइंट कि लाइट, ताला और पेन देखने वालों ने ये बात न देखी. वो है मोदी जी का असमिया गमछा. आरोप लगते रहे हैं कि वो चुनाव के हिसाब से गमछा पहनते हैं. अमेरिका में उन्हें कौन सा असम के लोगों के बीच चुनाव लड़ना है?

और मानिए कि आप विघ्नसंतोषी हैं, आपको तस्वीर में कोई असंगत बात खोजनी ही है तो देखिए कि पहिये वाली ट्रॉली सीट पर रखी है. यहां आदमी को विमान की सीट पर रुमाल रखकर सीट छेंकने की सुविधा तक नहीं मिलती, वहां सीट पर ट्रॉली रखी जा रही है. यही फ़कीरों और नॉन-फ़कीरों में अंतर है. ट्रॉली के जिक्र के बीच हम फ़कीर के झोले की बात तो कर ही नहीं रहे हैं.


सोशल लिस्ट: पीएम मोदी की अमेरिका यात्रा पर सोशल मीडिया ने मज़े ले लिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

आलिया भट्ट के नए 'कन्यादान' ऐड पर कंगना रनौत ने भड़क कर क्या कहा?

कंगना ने लंबा-चौड़ा पोस्ट किया है.

राज कुंद्रा के जेल से छूटने के बाद शिल्पा शेट्टी ने क्या कहा?

पोर्नोग्राफी केस में दो महीने से जेल में बंद थे राज कुंद्रा.

'एमी अवॉर्ड्स' पर बवाल: 49 ब्लैक एक्टर नॉमिनेट हुए, एक को भी अवॉर्ड नहीं मिला

लोग भड़ककर #EmmySoWhite हैशटैग चला रहे हैं.

टोस्ट पैक करने से पहले उसे चाटने और थूकने वाले शख्स पर रवीना टंडन बरस पड़ीं

बेकरी का ये वीडियो वायरल हो रहा है.

टॉम क्रूज़ के वो स्टंट, जिन्हें देख लगता है वो हैं ही नहीं इस दुनिया के

बुर्ज खलीफा पर चढ़ने वाले टॉम 'मिशन इम्पॉसिबल 7' में क्या करने वाले हैं?

फ़िल्म रिव्यू: अनकही कहानियां

कैसी है नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ हुई तीन धाकड़ डायरेक्टर्स की ये फ़िल्म.

प्रभास के बढ़ते वज़न ने 'आदिपुरुष' के डायरेक्टर को टेंशन क्यों दे दिया?

प्रभास की एक फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी.

गुजरात: CM भूपेंद्र पटेल की टीम में 24 नए मंत्री, गृह मंत्रालय किसे मिला?

10 मंत्रियों की प्रोफाइल जानने लायक है.

शाहरुख खान को इंटरनेट पर लोगों ने फर्जी में क्यों ट्रोल कर दिया?

शाहरुख की पुरानी फोटोज़, वीडियोज़, इंटरव्यू सब खोज लाए ट्रोल्स.

चर्चित कंपनियों के टॉप अधिकारी रहे ये लोग इस्तीफे के बाद अब क्या कर रहे हैं?

जोमैटो के को-फाउंडर गौरव गुप्ता ने हाल ही में इस्तीफा दिया है.