Submit your post

Follow Us

ये दस मेट्रो ट्रिक्स करेंगे रोज का सिरदर्द दूर

3.91 K
शेयर्स

थक गए हैं. मेट्रो में गलती से लेडीज बोगी में घुसते-घुसते. बार-बार टोकन के लिए लाइन में लगते-लगते. बैग्स के ढेर में बैग ढूंढते हुए और लिफ्ट के लिए भागते हुए! तो न घबराएं, यहां आएं. हम बताते हैं आपको मेट्रो के 10 दांव-पेच जो आपकी जिंदगी बना देंगे आसान.

1. ताबीज धारण करें, कभी टॉप के फेर में न पड़ें

आपने जिंदगी में हमेशा टॉप किया. क्लास में पहली लाइन में बैठे. अव्वल आने की आपको लत लग चुकी है पर मेट्रो में ‘पहले’ के मोह से बचिए. अगर नए हैं और Sex में M के आगे टिक लगाते हैं तो याद रखिए. पहले डिब्बे में कभी भी न चढ़िए. “गति की दिशा में पहला डिब्बा महिलाओं के लिए आरक्षित है.” इस मंत्र का सुबह उठकर 11 बार जाप कीजिए और ताबीज बनवाकर गले में धारण कर लीजिए.

Source-giphy

2. टोकन को न कहिए

मेट्रो में अक्सर आना जाना होता हो तो एक कार्ड बनवा ही लीजिए. दुगनी मेहनत न करनी पड़ेगी. पहले तो टोकन की लाइन में नहीं लगना होगा,फिर एंट्री करने की लाइन में भी पीछे खड़े होने से बच जाएंगे.

टोकन लेने आती हुई भीड़ ( Source-giphy )

3. उम्मीदें मत पालिए

घर से ये सोचकर निकलिए कि मुझे तो सीट मिलेगी ही नहीं. हो सके तो और बुरा सोचिए ‘मुझे तो खड़े होने की जगह भी न मिलेगी’. ‘खड़े होने को क्या मेट्रो में घुसने को भी न मिलेगा’. मेट्रो आदमी को आस्तिक बनाती है, सीट मिल जाए तो भेरू बाबा की जय बोलिए न मिले तो खुद के अंदर समाए भविष्यवक्ता को शाबासी दीजिए.ऐसे में होता क्या है कि खड़े-खड़े धक्के खाते वक़्त बुरा कम लगता है.

और अगर सीट मिल जाए Source- Smallworlds

4. अपने आस-पड़ोस को जानिए

कार्ड पंच करने की लाइन में लगे-लगे देखिये बैगेज स्कैनिंग मशीन किस ओर लगी है. आमतौर पर मेट्रो स्टेशन पर बैगेज स्कैनिंंग मशीन एक और एंट्री लाइन दो लगती हैं.  स्कैनिंग मशीन से दूर वाली लाइन में लगने वालों को लाइन छोड़कर बैगेज स्कैन कराने होता है. आप पहले ही सुनिश्चित कर लें आप उस तरफ खड़े हो रहें हैं, जिधर से स्कैनिंग मशीन पास पड़ती हो. कई बार खाली हाथ वालों को पहले एंट्री मिल जाती है. अलर्ट रहें.

Source – tinypic

5. उल्टे काम कीजिए

बैगेज स्कैनिंंग मशीन में बैग उल्टा रखिए. उठाने में आसानी होगी. दूसरा फायदा ये होगा कि बैग्स की भीड़ में अपना बैग पहचानना आसान होगा. कोशिश कीजिए कि काला बैग न ले जाएं. गोरेपन के लिए बौराए हम भारतीय ‘जल्दी गंदा नहीं होगा!’ सोचकर काले बैग ही लेना पसंद करते हैं. नतीजा ये निकलता है कि बैगेज स्कैनिंग मशीन पर जल्दी में समझ नहीं आता अपना बैग उठाया है या पड़ोसी का.

Source-tinypic

6. दूसरों पर रहम कीजिए

डियोड्रेंट इस्तेमाल कीजिए. गैस-नो गैस के फेर में न पड़िए. कोई भी एक डियो उठाकर छिड़क लीजिए.पड़ोसी को आपके पसीने की मादक महक न मिल पाएगी.  हो सकता है लजाकर वो भी अगले दिन इत्र छिड़क आए और तीसरा कोई उसकी मानुषी गंध से बच जाए. यही तो भलाई की चेन है.

Source – hunt.in

7. लिफ्ट का मोह छोड़िए

मेट्रो से उतरते ही नीचे जाने को लिफ्ट की ओर न दौड़िए. यकीन मानिए ऐसा करने वाले आप अकेले न होंगे और न इतने भाग्यशाली ही होंगे कि आपके पहुंचते तक वो बंद या ओवरलोड न हो जाए. वैसे भी लिफ्ट सयानों और बीमारों के लिए होती है, उन्हें ही जाने दीजिए.

Source -cloudfront

8. सीढ़ियों का प्रयोग करें

एस्केलेटर पर जाइएगा? जनता भूखे-टूटों जैसे उस पर चढ़ी होगी. एस्केलेटर जब तक ऊपर ले जाएगा तब तक में आप मेट्रो को अपनी आंखो के सामने दरवाजे बंद करते पाएंगे. बेहतर है सीढ़ियों पर भागिए. सीढ़ियों पर भीड़ कम होगी. वर्जिश भी हो जाएगी. मेट्रो के दरवाजे बंद होने के ठीक साढ़े सात सेकेंड पहले दौड़ते-भागते-हांफते जब आप अपना बायां कंधा घुसाते हुए हीरो माफ़िक़ ट्रेन में धंसेंगे. षोडशियों की इश्श्श् निकल जाएगी. माताएं आप जैसा पुत्र पाने की कामना करेंगी. 45 की उम्र में वरिष्ठ नागरिकों की सीट पर टिके मर्द आपकी बलिष्ठ देह को जल-भुन कर देखेंगे. इस मौके पर आप बिना इनकी ओर देखे बाहर झांकिएगा. एस्केलेटर से आ रहे सुकुमार हाथ मलते, ओह शिट करते दिखेंगे.

Source-smallworlds

9. चालें चलिए

हर मर्द की जिन्दगी में एक ऐसा वक़्त आता है जब वो उम्मीद करता है उसकी नजर के सामने अब एक भी लड़की न पड़े. ये वो वक़्त होता है जब वो मेट्रो में महिलाओं के लिए रिजर्व सीट पर बैठा होता है.ऐसे मौके पर चालें चलिए अगल-बगल नजर दौड़ाइए.हो सकता है. आपसे दो सीट आगे कोई महिला अनारक्षित सीट पर बैठी हो, उन्हें महिलाओं के लिए आरक्षित सीट पर बैठा दीजिये आप उनकी सीट पर जा जमिए. मजाल है कोई आकर उठा जाए.

Source- Imgur

10. उम्र से मत खेलिए

बाल पकने लगे हों तो बालों में हेयर डाई लगाना बंद कर दीजिये. सफेद बाल नजर आने दीजिए. मेट्रो में घुसने से पहले शर्ट को पतलून और बेल्ट के बंधन से मुक्त कर दीजिए. बिलकुल थके-हरे नजर आइए. और फिर जाकर वरिष्ठ नागरिकों वाली सीट पर हक़ जमाइए.

Source- wagerminds

 

ये सब पढ़ने के बाद उम्मीद है अगली बार आप इन ट्रिक्स का इस्तेमाल मेट्रो यात्रा के वक़्त करेंगे. लेकिन ध्यान रखें अगर दिल्ली मेट्रो में हैं. राजीव चौक पर चढ़ना-उतरना है तो तमाम ट्रिक्स भूल जाएं. वहां आपकी मदद ऊपरवाला भी नहीं कर सकता. आपकी यात्रा शुभ हो.
आपको कोई ट्रिक आती है तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

अपने डबल स्टैंडर्ड पर एक बार फिर ट्रोल हो गई हैं प्रियंका चोपड़ा

लोग उन्हें उनकी पुरानी बातें याद दिला रहे हैं.

उजड़ा चमन : मूवी रिव्यू

रिव्यू पढ़कर जानिए ‘मास्टरपीस’ और ‘औसत’ के बीच का क्या अंतर होता है.

फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर - डार्क फेट

नया कुछ नहीं लेकिन एक्शन से पैसे वसूल हो जाएंगे.

इस एक्टर ने फिल्म देखने गई फैमिली को सिनेमाघर में हैरस किया, वो भी गलत वजह से

इतनी बद्तमीजी करने के बावजूद ये लोग थिएटर में 'भारत माता की जय' का जयकारा लगा रहे थे.

हाउसफुल 4 : मूवी रिव्यू

दिवाली की छुट्टियां. एक हिट हो चुकी फ़्रेन्चाइज़ की चौथी क़िस्त. अक्षय कुमार जैसा सुपर स्टार और कॉमेडी नाम की विधा.

फिल्म रिव्यू: मेड इन चाइना

तीन घंटे से कुछ छोटी फिल्म सेक्स और समाज से जुड़ी हर बड़ी और ज़रूरी बात आप तक पहुंचा देना चाहती है. लेकिन चाहने और होने में फर्क होता है.

सांड की आंख: मूवी रिव्यू

मूवी को देखकर लगता है कि मेकअप वाली गड़बड़ी जानबूझकर की गई है.

कबीर सिंह के तमिल रीमेक का ट्रेलर देखकर सीख लीजिए कि कॉपी कैसे की जाती है

तेलुगू से हिंदी, हिंदी से तमिल एक ही डिश बिना एक्स्ट्रा तड़के के परोसी जा रही.

हर्षित: मूवी रिव्यू

शेक्सपीयर के नाटक हेमलेट पर आधारित है.

लाल कप्तान: मूवी रिव्यू

‘तुम्हारा शिकार, तुम्हारा मालिक है. वो जिधर जाता है, तुम उधर जाते हो.’