Submit your post

Follow Us

'कामयाब' देखकर दुनिया का सबसे कामयाब राइटर भी शाहरुख को थैंक यू बोल रहा

दुनिया के सबसे मशहूर राइटर्स में गिने जाने वाले पाउलो कोएलो ने शाहरुख खान को थैंक यू कहा है. वो भी अपने देश यानी ब्राज़ील की फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ा एक दर्दनाक किस्सा बताते हुए. मशहूर राइटर से बात नहीं समझे, तो मजबूरन हमें ‘द एल्केमिस्ट’ का नाम लेना पड़ेगा. खैर, शाहरुख को थैंक यू इसलिए क्योंकि वो संजय मिश्रा की फिल्म ‘कामयाब’ से जुड़े हुए थे. पाउलो ने वो फिल्म देखी और उस पर अपने विचार सोशल मीडिया पर लिख डाले. चलिए अब मेन कहानी पर आते हैं.

हार्दिक मेहता डायरेक्टेड फिल्म ‘कामयाब’ 3 मई को नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ हुई है. इसके ठीक तीन दिन बाद यानी 6 मई को पाउलो ने ‘कामयाब’ का पोस्टर ट्वीट करते हुए लिखा-

”शाहरुख, प्रोड्यूसर्स आपको फिल्म के पहले फ्रेम में थैंक यू कहते हैं. इसलिए मैं भी वही कर रहा हूं. दो दिन पहले महान ब्राज़ीलियन एक्टर फ्लैवियो मिग्लेशियो ने आत्महत्या कर ली. वो एक नोट छोड़कर गए, जिसमें उन्होंने बताया था कि (फिल्म) इंडस्ट्री अपने कलाकारों के साथ कैसा बर्ताव करती है. इस मूवी (कामयाब) को कॉमेडी बताया जा रहा है, दरअसल ये कला की त्रासदी है.”

पाउलो कोएलो के इस ट्वीट के जवाब में शाहरुख लिखते हैं-

”जब ये फिल्म फेस्टिवल्स में घूम रही थी, तब मैंने ये फिल्म देखी थी. इसने रेड चिलीज़ की पूरी टीम के दिल को छू लिया था. आपने इसकी तारीफ की, अच्छा लगा. ये एक दुखद सत्य है कि कैरेक्टर एक्टर्स को भुला दिया जाता है. अपना ध्यान रखिए दोस्त. सुरक्षित और स्वस्थ रहिए.”

‘कामयाब’ एक सुधीर नाम के साइड एक्टर की कहानी दिखाती है, जो 499 फिल्मों में काम कर चुका है. फिल्मों से, एक्टिंग से लगाव की वजह से उसका परिवार बिखर सा गया. एक स्कैंडल के बाद वो एक्टिंग से दूर हो जाता है. लेकिन वो एक आखिरी फिल्म करना चाहता है, जो उसके करियर का बेस्ट किरदार हो. जिसकी वजह से लोग उसे याद रखें. सारी जद्दोजहद इसीलिए है कि लोग उसे भूलें नहीं. फिल्म में सुधीर का रोल किया था संजय मिश्रा ने. डायरेक्ट किया था ‘अमदाबाद मा फेमस’ नाम की गुजराती फिल्म के लिए नेशनल अवॉर्ड जीत चुके फिल्ममेकर हार्दिक मेहता ने. प्रोड्यूसर थे दृश्यम फिल्म्स वाले मनीष मूंदड़ा. पिछले काफी समय से बनकर तैयार होने के बावजूद फिल्म रिलीज़ नहीं हो पा रही थी. फिर शाहरुख ने ये फिल्म देखी और इसके साथ उनकी प्रोडक्शन कंपनी रेड चिलीज़ प्रेज़ेंटर के तौर पर जुड़ गई. फाइनली 6 मार्च को बमबम रिव्यूज़ के साथ ये फिल्म इंडियन थिएटर्स में रिलीज़ हुई. आपने नहीं देखी, तो नेटफ्लिक्स पर जाकर देख सकते हैं.


वीडियो देखें: कामयाब मूवी रिव्यू: एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

शराब पर बस ये पढ़ लीजिए, बिना लाइन में लगे झूम उठेंगे!

लिखने वालों ने भी क्या ख़ूब लिखा है.

वो चार वॉर मूवीज़ जो बताती हैं कि फौजी जैसे होते हैं, वैसे क्यूं होते हैं

फौजियों पर बनी ज़्यादातर फिल्मों में नायक फौजी होते ही नहीं. उनमें नायक युद्ध होता है. फौजियों को देखना है तो ये फिल्में देखिए.

गहने बेच नरगिस ने चुकाया था राज कपूर का कर्ज

जानिए कैसे शुरू और खत्म हुआ नरगिस और राज कपूर का प्यार का रिश्ता..

सत्यजीत राय के 32 किस्से: इनकी फ़िल्में नहीं देखी मतलब चांद और सूरज नहीं देखे

ये 50 साल पहले ऑस्कर जीत लाते, पर हमने इनकी फिल्में ही नहीं भेजीं. अंत में ऑस्कर वाले घर आकर देकर गए.

ऋषि कपूर की इन 3 हीरोइन्स ने उनके बारे में क्या कहा?

इनमें से एक अदाकारा को ऋषि ने आग से बचाया था.

ईश्वर भी मजदूर है? लेखक लोग तो ऐसा ही कह रहे हैं!

पहली मई को दुनियाभर में मजदूरों के हक़ की बात कही जाती है.

बलराज साहनी की 4 फेवरेट फिल्में : खुद उन्हीं के शब्दों में

शाहरुख, आमिर, अमिताभ बच्चन जैसे सुपरस्टार्स के फेवरेट एक्टर रहे बलराज साहनी.

जब भीमसेन जोशी के सामने गाने से डर गए थे मन्ना डे

मन्ना डे के जन्मदिन पर पढ़िए, उनसे जुड़ा ये किस्सा.

ऋषि कपूर के ये 13 गीत सुनकर समझ आता है, ये लवर बॉय पर्दे पर कैसे मेच्योर हुआ

'हमको तो तुमसे है, प्यार.'

इरफ़ान की 15 विदेशी फ़िल्में और सीरीज़ जो टाइम निकालकर देखनी चाहिए

जितने वो इंडिया में पॉपुलर थे, उतने ही इंटरनेशनल दर्शकों के बीच भी.