Submit your post

Follow Us

वो 10 हिंदी फिल्में, जो कोरियन फिल्मों की नकल करके बनाई गईं

‘पैरासाइट’ के डायरेक्टर बोंग जून हो ने जब बेस्ट फॉरेन फ़िल्म का गोल्डन ग्लोब अवार्ड रिसीव किया था, तब कहा था,

‘जब आप इस एक इंच लंबे सबटाइटल्स के बैरियर को पार कर लेंगे, तब आप कई और बेहतरीन फिल्मों से रूबरू होंगे.’

बोंग जून हो और 'पैरासाइट' की पूरी टीम.
बोंग जून हो और ‘पैरासाइट’ की पूरी टीम.

इस बयान ने सालों से चली आ रही बहस को फिर ज़िंदा कर दिया था. डबिंग या सब-टाइटल्स. एक वर्ग है जो कहता है कि दूसरी भाषा की फ़िल्म को बेहतर ढंग से समझने और एन्जॉय करने के लिए अपनी भाषा में डबिंग ज़रूरी है. वहीं दूसरा तबका कहता है कि फ़िल्म का असली मज़ा उसकी ओरिजनल भाषा में आता है. भले वो भाषा हमें समझ ना आए, तो भी सबटाइटल्स की मदद से फ़िल्म को समझा जा सकता है.

अपनी बात करें तो हमारा वोट भी सबटाइटल पार्टी को जाएगा. फ़िल्म के एक्टर्स का पूरा पोटाश उनकी असली आवाज़ सुन कर ही तय किया जा सकता है. एक्टिंग का एक भारी हिस्सा वॉइस मॉड्यूलेशन होता है, जो कि उस एक्टर की कलाकारी के स्तर को दर्शाता है. लेकिन जब किसी वॉइस एक्टर की आवाज़ उसके साथ सिंक की जाती है तो अक्सर एंड रिज़ल्ट खराब निकलता है. खास कर तब, जब आप उस एक्टर की असली आवाज़ से वाकिफ़ हों. जैसे बचपन में मैंने WWE  में ड्वेन ‘द रॉक’ जॉनसन को खूब देखा और सुना. ड्वेन रेसलिंग जगत में अपने माइक स्किल्स के लिए विख्यात हैं. फिर एक दिन यूटीवी एक्शन पर ‘द रनडाउन’ फ़िल्म में ड्वेन की डब्ड आवाज़ सुनी और उसी दिन से डबिंग कल्चर से भरोसा उठ सा गया. दूसरा हमारे इंडिया में तो पूरी स्क्रिप्ट ही बदल जाती है डबिंग स्टूडियो में. इसलिए फिल्में ओरिजनल भाषा में देखें सबटाइटल्स के साथ, शुरुआत में थोड़ा अटपटा लग सकता है लेकिन जल्द ही आप फ़िल्म के फलो में रम जाएंगे. बाकी तो योर लाइफ, योर रूल्स.

#पैरासाइट सिनेमा

हमारे यहां फिल्मों में एंड में सब ठीक हो जाता है. हैप्पी एंडिंग. विलेन मर जाता है. भूत मिट जाता है. बिछड़े प्रेमी मिल जाते हैं. लेकिन साउथ कोरियन फिल्म मेकर्स इस कांसेप्ट में ज़्यादा यकीन नहीं रखते हैं. बेहतरीन एक्शन, हॉरर, थ्रिलर, सस्पेंस फिल्मों के शौकीन लोगों के लिए साउथ कोरियन सिनेमा कारुन का खज़ाना है. यहां कई फिल्ममेकर्स दो जॉनर्स को मिक्स करके फ़िल्म बनाते हैं. कई साउथ कोरियन फिल्में ऐसी हैं, जो आपके दिमाग को चकरघिन्नी बना देंगी. आपको एक पल लगेगा दिलवाले दुल्हनिया टाइप सीन चल रहा है, अगले पल फ़िल्म साइंस फिक्शन लगेगी और उससे अगले पल कॉमेडी. ‘पैरासाइट’ के अलावा भी कई बेहतरीन फिल्में इस इंडस्ट्री में बनाई गई हैं, जिनकी इंडियन फिल्ममेकर्स ने खूब कॉपी भी की है. आज आपको ऐसी ही कुछ साउथ कोरियन फिल्मों की इंडियन कॉपी के बारे में बताते हैं.

#रॉक ऑन – द हैप्पी लाइफ़

#रॉक ऑन - द हैप्पी लाइफ़
#रॉक ऑन – द हैप्पी लाइफ़

2008 में रिलीज़ हुई इस फ़िल्म का म्यूज़िक और थीम उस वक़्त के हिसाब से अलग था. फ़िल्म में फरहान अख्तर मेन लीड थे. और वो ‘कसम से’ सीरियल वाली एक्ट्रेस प्राची देसाई अपना बॉलीवुड डेब्यू कर रहीं थीं. इस म्यूज़िक बैंड की कहानी को क्रिटिक्स ने खूब सराहा. फरहान ,पूरब कोहली और अर्जुन रामपाल की परफॉरमेंस के साथ-साथ फ़िल्म के डायरेक्टर अभिषेक कपूर ने भी खूब तारीफें बटोरी. इस फ़िल्म का कांसेप्ट 2007 में रिलीज़ हुई कोरियन फ़िल्म ‘द हैपी लाइफ’ से बहुत मिलता है. इस फ़िल्म के डायरेक्टर थे ली जून इक जो कोरियन सिनेमा में बड़ा नाम है. ये भी एक बैंड की कहानी है, जो टूटता है और फिर जुड़ता है. हालांकि ‘रॉक ऑन’ हूबहू कॉपी नहीं थी. अभिषेक कपूर ने कई एलिमेंट नए डाले थे. लेकिन अगर आप ‘द हैप्पी लाइफ़’ देखेंगे तो आपको अंदाज़ा होगा कि ‘रॉक ऑन’ का आइडिया कहां से आया होगा.

#बर्फी – लवर्स कॉन्सर्ट

#बर्फी - लवर्स कॉन्सर्ट
#बर्फी – लवर्स कॉन्सर्ट

2012 में रिलीज़ हुई फ़िल्म ‘बर्फी’ में रणबीर कपूर और प्रियंका चोपड़ा की खूब वाहवाही हुई. कश्यप के बाद कोई ये दूसरा अनुराग नाम का व्यक्ति था, जिसके डायरेक्शन की खूब तारीफ़ हो रही थी. प्रमोशन्स के दौरान अनुराग बासु ने बताया था कि फ़िल्म के कुछ सीन्स चार्ली चैपलीन की साइलेंट फिल्मों से प्रेरित थे. लेकिन अनुराग ने ये नहीं बताया कि फ़िल्म के कई सीन्स अलग-अलग हॉलीवुड और कोरियन फिल्मों से भी बहुत ज़्यादा प्रेरित थे. जिसमें कोरियन फ़िल्म ‘लवर्स कॉन्सर्ट’, हॉलीवुड फिल्म ‘द एडवेंचरर’, ‘बैनी एंड जून’ जैसी कई फिल्में शामिल हैं.

#मर्डर 2 – चेज़र

#मर्डर 2 - चेज़र
#मर्डर 2 – चेज़र

साल 2011. फ़िल्म ‘मर्डर 2’. टिपिकल भट्ट कैम्प फ़िल्म से कुछ अलग फ़िल्म. प्रशांत नारायण, इमरान हाशमी की दमदार परफॉरमेंस और स्टोरी के दम पर फ़िल्म खूब सफल हुई. क्रिटिक्स और जनता ने फ़िल्म को खूब सराहा. लेकिन मोहित सूरी की सराहना का आधा क्रेडिट 2008 में रिलीज़ हुई फ़िल्म ‘द चेज़र’ को जाता है. जिसकी स्टोरीलाइन को मोहित सूरी ने अंटा लिया. ‘द चेज़र’ ने साउथ कोरियन सिनेमा इंडस्ट्री में थ्रिलर जॉनर को नए मायने दिए थे. फ़िल्म के डायरेक्टर नान होंग जिन की ये पहली फ़िल्म थी. ‘मर्डर 2’ देख जब लोगों ने महेश भट्ट से इस बारे में सवाल पूछा था, तो तब उन्होंने इस बात को सिरे से नकार दिया और फ़िल्म के आइडिया के पीछे निठारी हत्याकांड घटना को बताया. लेकिन भट्ट साहब ये पब्लिक है, ये सब जानती है.

#रॉकी हैंडसम- द मैन फ्रॉम नोवेयर

#रॉकी हैंडसम- द मैन फ्रॉम नो वेयर
#रॉकी हैंडसम- द मैन फ्रॉम नो वेयर

जॉन अब्राहम स्टारर ‘रॉकी हैंडसम’. फ़िल्म के डायरेक्टर थे लेट निशिकांत कामत. जॉन अब्राहम की फ़िल्म में एक्टिंग वैसी ही थी, जैसी हर फिल्म में होती है. लेकिन तारीफ़ बनती है फ़िल्म के फाइट सीन्स की. मतलब भाईसाहब जो फाइट सीन्स की कोरियोग्राफी है, कमाल है. ये फ़िल्म ‘ऑफिशियल’ एडाप्टेशन है 2010 में रिलीज़ हुई कोरियन फ़िल्म ‘द मैन फ्रॉम नोवेयर’ की. ये फ़िल्म उस साल कोरिया की सबसे बड़ी फिल्म थी.

#आवारापन – अ बिटर स्वीट लाइफ

#आवारापन - आ बिटर स्वीट लाइफ
#आवारापन – आ बिटर स्वीट लाइफ

2007 में रिलीज़ हुई ‘आवारापन’ के गानों का जो क्रेज़ था, वो शब्दों में बताया नहीं जा सकता. मेरी ट्यूशन में लड़के पढ़ाई के नोट्स कम एक दूसरे से ब्लूटूथ से ‘तो फिर आओ’ और ‘माहिया’ गाने ज़्यादा मांगते थे. इस फ़िल्म ने इमरान हाशमी और मोहित सूरी के करियर को मज़बूत करने में अहम रोल निभाया. लेकिन मोहित सूरी ने ये पूरी फिल्म ही कोरियन फ़िल्म से टाप रखी थी. ‘आवारापन’ 2005 में रिलीज़ हुई कोरियन फ़िल्म ‘अ बिटर स्वीट लाइफ’ की कॉपी थी. लेकिन मोहित सूरी इस फैक्ट से साफ़ इनकार करते रहते हैं. अगर आप दोनों फिल्में देखेंगे तो मिल्क-वॉटर साफ़ हो जाएगा.

#एक विलन – आय सॉ द डेविल

#एक विलन - आय सॉ द डेविल
#एक विलन – आय सॉ द डेविल

2014 में रिलीज़ हुई ‘एक विलन’ ने ट्रेलर से ही माहौल बना दिया था. फ़िल्म का बेस्ट पार्ट थे रितेश देशमुख, जिन्होंने पहली बार नेगेटिव रोल निभाया और बखूबी निभाया. सिद्धार्थ-श्रद्धा की लव स्टोरी और रितेश की परफॉरमेंस ने खूब वाह-वाही बटोरी. मुझे याद है उस वक़्त महेश भट्ट ने ट्वीट किया था कि ‘मोहित अब बड़ा हो गया है’. वैसे मोहित बड़े तो हो गए हैं लेकिन बड़े होने के साथ उनकी कोरियन फिल्मों को टापने की आदत नहीं छूटी है. क्योंकि ‘एक विलन’  भी 2010 में रिलीज़ हुई कोरियन फ़िल्म ‘आय सॉ द डेविल’ की कॉपी है. इस फ़िल्म के डायरेक्टर थे किम जी वून. फ़िल्म में कुछ सीन इतने हिंसक थे कि कोरियन सेंसर बोर्ड ने 7 सीन कट कर इस फ़िल्म को रिलीज़ किया था.

#प्रेम रतन धन पायो – मास्क्रेड

#प्रेम रत्न धन पायो - मैस्क्रेड
#प्रेम रत्न धन पायो – मैस्क्रेड

अपनी फिल्मों में संस्कारों के थोक सप्लायर सूरज बडजात्या ने भी कोरियन फिल्मों से आइडिया टापने में संकोच नहीं किया. 2015 में रिलीज़ हुई फ़िल्म ‘प्रेम रतन धन पायो’ का प्लॉट सूरज जी ने 2012 में रिलीज़ हुई कोरियन फ़िल्म ‘मास्क्रेड’ से उठाया था. बस इस कोरियन फ़िल्म में ओवर एक्टिंग की थोड़ी कमी थी, जो ‘प्रेम रतन धन पायो’ में सलमान भाई ने पूरी की थी.

#भारत – ओड टू माय फादर

#भारत - ओड टू माय फादर
#भारत – ओड टू माय फादर

2019 में रिलीज़ हुई ‘भारत’. अली अब्बास ज़फ़र और सलमान खान की डायरेक्टर-एक्टर जोड़ी की एक और फ़िल्म. लेकिन भाई की ये फ़िल्म भी 2014 में रिलीज़ हुई साउथ कोरियन फ़िल्म ‘ओड टू माय फादर’ पर बेस्ड थी. इस फ़िल्म की तरह ‘भारत’ में सलमान भाई के कैरेक्टर की 8 साल से 70 साल तक की जर्नी है. जिसमें हमारे सल्लू भाई की बॉडी लैंग्वेज 70 साल में भी 40 साल वाली थी. मतलब भाई कुछ टिप्स साथ मे एक्टिंग कर रहे सुनील ग्रोवर से ही ले लेते तो अच्छा होता.

#ज़िंदा – ओल्ड बॉय

#ज़िंदा - ओल्ड बॉय
#ज़िंदा – ओल्ड बॉय

‘ज़िंदा’ में लीड रोल में थे जॉन अब्राहम और संजय दत्त. डायरेक्टर थे संजय गुप्ता. फ़िल्म बॉक्स-ऑफिस पर भी ठीक-ठाक चल गई और क्रिटिक्स ने भी संजय दत्त और जॉन की तारीफें की. लेकिन कई क्रिटिक्स ने फ़िल्म के सीन्स को कोरियन फ़िल्म ‘ओल्ड बॉय’ की कॉपी बताया. 2005 में ‘ओल्ड बॉय’  की प्रोडक्शन कंपनी शो ईस्ट ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर के भी ये बताया था कि उन्हें शक है कि ‘ज़िंदा’ फ़िल्म के कई सीन ‘ओल्ड बॉय’ की कॉपी हैं. ‘ओल्ड बॉय’ 2003 में रिलीज़ हुई कमाल की थ्रिलर फिल्म है, जो कि जापानी नॉवल ‘ओल्ड बॉय’ पर बेस्ड थी. ये फ़िल्म तीन कोरियन फिल्मों की सीरीज़ ‘द वेंजेन्स ट्राइलॉजी’ का दूसरा पार्ट थी. इसका पहला पार्ट ‘सिम्पैथी फ़ॉर मिस्टर वेंजेन्स’ 2002 में और अंतिम पार्ट ‘लेडी वेंजेन्स’ 2005 में रिलीज़ हुआ. हालांकि तीनो फिल्मों की स्टोरीलाइन काफ़ी अलग थी लेकिन देश-विदेश के समीक्षकों ने तीनों फिल्मों का थीम एक जैसा पाया था.

#जज़्बा – सेवन डेज़

#जज़्बा - सेविन डेज़
#जज़्बा – सेविन डेज़

2015 में रिलीज़ हुई ऐश्वर्या राय की कमबैक फ़िल्म ‘जज़्बा’. ऐश्वर्या के साथ थे इरफ़ान. फ़िल्म को डायरेक्ट किया था संजय गुप्ता ने. लेकिन ‘ज़िंदा’ की कॉन्ट्रोवर्सी से सीख लेते हुए इस बार संजय ने कोरियन फ़िल्म को कॉपी करने की बजाय राइट्स खरीद रीमेक किया था. ‘जज़्बा’ बेस्ड थी 2007 में रिलीज़ हुई साउथ कोरियन फ़िल्म ‘सेवन डेज़’ पर. जो कि उस साल कोरिया की सबसे बड़ी फिल्मों में एक थी.

#कोरियन प्राइड

प्रस्तुत लिस्ट में कुछ फिल्ममेकर्स ने राइट्स खरीद कर इंडियन ऑडियंस के लिए रीमेक बनाया. लेकिन कुछ ने सीधे-सीधे कोरियन सिनेमा आर्टिस्ट्स की क्रिएटिविटी को अपने नाम से बेच दिया. ऐसी कलाकारी हमारी इंडस्ट्री में कोई नयी बात नहीं है. फ़िल्म के सीन हों, म्यूज़िक की धुन हो, यहां तक कि फ़िल्म के पोस्टर तक भी हमारे यहां के मेकर्स बिना किसी क्रेडिट के थोड़ा सा एडिट कर अपने नाम से बेच करोड़ों कमा लेते हैं. खैर, कोरियन सिनेमा मेकर्स के लिए ये गर्व का विषय होना चाहिए. विश्व की इतनी बड़ी इंडियन सिनेमा इंडस्ट्री उनके प्रोडक्ट और क्राफ्ट की मुरीद है. विश्व भर में उनके सिनेमा का बोलबाला है. ऐसे में हमारे फ़िल्म मेकर्स के लिए अनुराग कश्यप की फिल्म का एक डायलॉग प्रस्तुत है,

‘तेरा खून कब खौलेगा रे फैज़ल’.


ये स्टोरी दी लल्लनटॉप में इंटर्नशिप कर रहे शुभम ने लिखी है


विडियो:बिग बॉस-14 में जीत से एक क़दम दूर रह गए राहुल वैद्य के साथ 16 साल पहले भी यही हुआ था!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

सत्यजीत रे की कहानियों पर आधारित सीरीज़ 'रे', जिसमें इंडस्ट्री के कमाल एक्टर्स की ज़बरदस्त भीड़ है

सत्यजीत रे की कहानियों पर आधारित सीरीज़ 'रे', जिसमें इंडस्ट्री के कमाल एक्टर्स की ज़बरदस्त भीड़ है

मनोज बाजपेयी, के के मेनन, गजराज राव, अली फ़ज़ल, क्या-क्या नाम गिनाएं!

वेब सीरीज़ रिव्यू: द फैमिली मैन सीज़न 2

वेब सीरीज़ रिव्यू: द फैमिली मैन सीज़न 2

काफी डिले के बाद आया शो का सीज़न 2 आखिर है कैसा?

विद्या बालन की 'शेरनी' के ट्रेलर की ये ख़ास बातें नोट की क्या?

विद्या बालन की 'शेरनी' के ट्रेलर की ये ख़ास बातें नोट की क्या?

'न्यूटन' वाले डायरेक्टर फ़िल्म में ज़बरदस्त कास्ट लेकर आए हैं.

रिव्यू: Friends: The Reunion

रिव्यू: Friends: The Reunion

क्या-क्या मज़ेदार हुआ, जब छह पुराने दोस्त 17 साल बाद फिर मिले?

क्या कोरोना वैक्सीन लगवाने के दो साल के अंदर मौत हो जाएगी? सच जानिए

क्या कोरोना वैक्सीन लगवाने के दो साल के अंदर मौत हो जाएगी? सच जानिए

लुच मोंतानिए के दावे में कितना दम है.

'एवेंजर्स एंडगेम' के तूफ़ान के बाद मार्वल्स की नई फिल्म 'एटर्नल्स' की कास्ट देखकर कहेंगे, वाह!

'एवेंजर्स एंडगेम' के तूफ़ान के बाद मार्वल्स की नई फिल्म 'एटर्नल्स' की कास्ट देखकर कहेंगे, वाह!

ट्रेलर आ गया है. कहानी से लेकर स्टारकास्ट तक सब धांसू लग रहा है.

द फैमिली मैन सीज़न 2 का ट्रेलर देख बोल पड़ेंगे- बवाल चीज़ है, सारा सिस्टम हिल गया!

द फैमिली मैन सीज़न 2 का ट्रेलर देख बोल पड़ेंगे- बवाल चीज़ है, सारा सिस्टम हिल गया!

श्रीकांत तिवारी अब कौन से नए मिशन पर निकल पड़े हैं?

मूवी रिव्यू: राधे - योर मोस्ट वांटेड भाई

मूवी रिव्यू: राधे - योर मोस्ट वांटेड भाई

ईद के मौके पर आई सलमान खान की ये फिल्म क्या आपको देखनी चाहिए?

Realme 8 5G रिव्यू: कंपनी ने 5G तो दिया लेकिन कटौती कहां कर दी?

Realme 8 5G रिव्यू: कंपनी ने 5G तो दिया लेकिन कटौती कहां कर दी?

मित्रो! ये फ़ोन लेना चैये कि नई लेना चैये?

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

जानिए क्यों राय अपनी वो हॉलीवुड फिल्म न बना पाए, जिसकी कॉपी सुपरहिट रही थी, और जिसे फिर बॉलीवुड ने कॉपी किया.