Submit your post

Follow Us

'उड़ी' बनाने वाले अब कंगना को लेकर धांसू वॉर मूवी 'तेजस' बना रहे हैं

टीम कंगना रनौत नाम के एक वेरीफाईड इन्स्टाग्राम पेज पर एक तस्वीर शेयर की गई है. इसमें आप कंगना की आने वाली मूवी ‘तेजस’ में उनका ‘लुक’ देख सकते हैं. और यूं ये तस्वीर ‘तेजस’ मूवी का और ‘तेजस’ में कंगना का फर्स्ट लुक पोस्टर कही जा सकती है.

# 1) क्या है फर्स्ट लुक पोस्टर में-

जो तस्वीर शेयर की गई है उसमें कंगना एयर फ़ोर्स की यूनिफ़ॉर्म पहने हुए हैं. उनके बैकग्राउंड में तेजस भी देखा जा सकता है.

तस्वीर के कैप्शन में लिखा है-

यूनिफ़ॉर्म वालीं बहादुर दिल और मजबूत दिमाग महिलाओं के लिए. जो हमारे देश के लिए आए दिन बलिदान देती हैं. कंगना अपनी आने वाली मूवी में एक एयरफोर्स पायलट की भूमिका निभाएंगी. मूवी का नाम है- तेजस (#TEJAS).

# 2) किस बारे में है ‘तेजस’-

तेजस भारत में ही निर्मित पहला सुपरसॉनिक लड़ाकू विमान है, जिसे हिन्दुस्तान एरोनाटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने बनाया है. इसके निर्माण से लेकर आज तक भारत ने किसी देश से कोई युद्ध नहीं लड़ा है और इस विमान की तैनाती किसी भी युद्ध क्षेत्र से काफी दूर साउथ इंडिया में है. इसलिए मूवी के नाम से ये तो साफ़ है कि या तो ‘तेजस’ एक काल्पनिक युद्ध की कहानी होगी, या फिर इसमें कोई युद्ध न दिखाकर किसी महिला के एयर फ़ोर्स में भर्ती होने के स्ट्रगल को दिखाया गया होगा.

दूसरी बात ज़्यादा सही इसलिए लगती है क्यूंकि 2016 से पहले महिलाएं इंडियन एयर फ़ोर्स में शामिल तो हो सकतीं थीं लेकिन सीधे युद्ध (कॉम्बैट) में हिस्सा नहीं ले सकती थीं. भावना काठ, अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह पहली तीन महिलाएं थीं जो भारतीय वायुसेना के ‘लड़ाकू स्क्वाड्रन’ में शामिल हुईं.

अब सवाल ये है कि क्या मूवी इन तीनों या इन तीनों में से किसी एक के बारे में है? या ये ‘दी टेस्ट केस’ नाम की वेब सीरीज़ की तरह पूरी तरह काल्पनिक है? वैसे, कंगना ने मूवी को लेकर जो कहा है उससे काफी कयास भी लगाए जा सकते हैं और कई सवालों के उत्तर भी मिल सकते हैं-

ऐसी बहुत बार हुआ है कि देश का इस ओर ध्यान ही नहीं जाता कि हमारी बहादुर वर्दीधारी महिलाओं ने कितना बलिदान दिया है. ‘तेजस’ में मुझे वायु सेना की एक ऐसी पायलट की भूमिका निभाने का सम्मान मिला है, जो खुद से पहले देश को रखती है. मुझे उम्मीद है कि हम इस फिल्म से आज के युवाओं में देशभक्ति और गर्व की भावना पैदा कर पाएंगे.

दी टेस्ट केस का पोस्टर. इसमें दिखाया गया था कि किसी महिला का फ़ोर्स में एंटर करना ही एक युद्ध लड़ने सरीखा होता है.
दी टेस्ट केस का पोस्टर. इसमें दिखाया गया था कि किसी महिला का फ़ोर्स में एंटर करना ही एक युद्ध लड़ने सरीखा होता है.

# 3) ‘तेजस’ प्रोजेक्ट को लेकर और क्या-क्या इन्फोर्मेशन है?

कुछ दिनों पहले कंगना ने बताया था कि वो अपनी एक आने वाली मूवी में इंडियन एयर फ़ोर्स की पायलट का रोल करने वाली हैं. अब ‘तेजस’ में कंगना का फर्स्ट लुक आ गया है. अगर सब कुछ शेड्यूल के हिसाब से पूरा होता गया तो अप्रैल 2021 तक ये मूवी रिलीज़ हो जाएगी.

लेकिन अभी तो ‘तेजस’ की शूटिंग शुरू होने में ही काफी समय है. बताया जा रहा है कि इसकी शूटिंग जून से शुरू होगी और उससे पहले कंगना अपने कैरेक्टर के लिए आवश्यक ट्रेनिंग वगैरह ले रही हैं. कंगना अपनी हर मूवी के लिए एक्टिंग से इतर भी मेहनत करती हैं. अपनी पिछली मूवी ‘पंगा’ में भी उन्होंने 3 महीने तक कबड्डी की तगड़ी ट्रेनिंग ली थी. कंगना आजकल तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रह चुकीं पूर्व एक्ट्रेस जयललिता की बायोपिक ‘थलाइवी’ की शूटिंग में व्यस्त हैं.

# 4) वीमेन एयर फ़ोर्स पायलट पर एक और मूवी बन रही है-

अभी हाल ही में जाह्नवी कपूर ने राजीव मसंद को दिए एक इंटरव्यू में कहा था-

मैं नहीं जानती कि मैं ये बात कह सकती हूं कि नहीं, लेकिन मुझे ‘गुंजन सक्सेना’ के लिए चॉपर चलाने का मौका मिला.

ये उन्होंने कहा था 13 मार्च, 2020 को रिलीज़ होने वाली एक बायोपिक ‘गुंजन सक्सेना: दी कारगिल गर्ल’ को लेकर. गुंजन सक्सेना और श्रीविद्या राजन के बारे में.

अब आप पूछेंगे कि भारतीय वायुसेना के ‘लड़ाकू स्क्वाड्रन’ में तो पहली बार 2016 में महिलाएं शामिल हुईं. तो विद्या और गुंजन का कारगिल वॉर से क्या रिश्ता?

गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल फिल्म का एक पोस्टर
गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल फिल्म का एक पोस्टर

दरअसल कारगिल वॉर के दौरान गुंजन और उनकी साथी पायलट श्रीविद्या राजन दुश्मन की पोज़िशन का पता लगाने का काम करती थीं. दोनों लड़कियां वॉर ज़ोन से घायल सैनिकों को लेकर आने का काम भी करती थीं. इस दौरान दोनों लड़कियों के काफी बहादुरी का परिचय दिया था. उसी पर बेस्ड है जाह्नवी कपूर की ‘गुंजन सक्सेना: दी कारगिल गर्ल’.

# 5) कौन-कौन शामिल हैं ‘तेजस’ प्रोजेक्ट में?

‘तेजस’ RSVP नाम के बैनर तले बन रही है. ये रोनी स्क्रूवाला का बैनर है. यानी टेक्निकली वो ही इस मूवी के निर्माता हुए. RSVP ने इससे पहले इंडियन आर्मी के ऊपर जो मूवी बनाई थी, वो सुपरहिट रही थी. ‘उड़ी: दी सर्जिकल स्ट्राइक’. मुंबई मिरर से बात करते हुए रोनी स्क्रूवाला ने बताया-

हमने आर्मी के बैकड्रॉप पर ‘उड़ी: दी सर्जिकल स्ट्राइक’ बनाई थी. ‘तेजस’ भारतीय वायु सेना के उन बहादुर लड़ाकू पायलटों को समर्पित है, जिन्होंने देश को सर्वोपरि रखा. हम दर्शकों के साथ इस वीर गाथा को शेयर करते हुए उत्साहित और सम्मानित महसूस कर रहे हैं. और हमें आशा है कि ये मूवी कई और महिलाओं को इंडियन एयर फ़ोर्स जॉइन करने के लिए प्रेरित करेगी.

‘तेजस’ को सर्वेश मेवाड़ा डायरेक्ट करने वाले हैं. इंजीनियर रह चुके सर्वेश के खाते में डायरेक्टर के तौर पर सिर्फ एक शॉर्ट मूवी है, ’दी गर्ल एंड दी ऑटोरिक्शा’. आज से 8 साल पहले आई ये 7 मिनट के लगभग की मूवी तब समीक्षकों को काफी पसंद आई थी. सर्वेश मेवाड़ा इस बात से बहुत खुश हैं कि उनका डेब्यू ही उस प्रोजेक्ट से होगा जिसमें रोनी स्क्रूवाला जैसे प्रड्यूसर और कंगना रनौत जैसी एक्ट्रेस शामिल हैं.


वीडियो देखें:

रियलिटी शो बिग बॉस को फिक्स बताकर चैनल की एम्प्लाई ने इस्तीफा दे दिया-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.

देवी: शॉर्ट मूवी रिव्यू (यू ट्यूब)

एक ऐसा सस्पेंस जो जब खुलता है तो न सिर्फ आपके रोंगटे खड़े कर देता है, बल्कि आपको परेशान भी छोड़ जाता है.

ये बैले: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

'ये धार्मिक दंगे भाड़ में जाएं. सब जगह ऐसा ही है. इज़राइल में भी. एक मात्र एस्केप है- डांस.'

फिल्म रिव्यू- थप्पड़

'थप्पड़' का मकसद आपको थप्पड़ मारना नहीं, इस कॉन्सेप्ट में भरोसा दिलाना, याद करवाना है कि 'इट्स जस्ट अ स्लैप. पर नहीं मार सकता है'.

फिल्म रिव्यू: शुभ मंगल ज़्यादा सावधान

ये एक गे लव स्टोरी है, जो बनाई इस मक़सद से गई है कि इसे सिर्फ लव स्टोरी कहा जाए.

फिल्म रिव्यू- भूत: द हॉन्टेड शिप

डराने की कोशिश करने वाली औसत कॉमेडी फिल्म.

फिल्म रिव्यू: लव आज कल

ये वाली 'लव आज कल' भी आज और बीते हुए कल में हुए लव की बात करती है.

शिकारा: मूवी रिव्यू

एक साहसी मूवी, जो कभी-कभी टिकट खिड़की से डरने लगती है.

फिल्म रिव्यू: मलंग

तमाम बातों के बीच में ये चीज़ भी स्वीकार करनी होगी कि बहुत अच्छी फिल्म बनने के चक्कर में 'मलंग' पूरी तरह खराब भी नहीं हुई है.