Submit your post

Follow Us

सैरा नरसिम्हा रेड्डी: मूवी रिव्यू

8.25 K
शेयर्स

‘सैरा नरसिम्हा रेड्डी’. एक पीरियड एपिक वॉर फिल्म. जो उयालवाड़ नरसिम्हा रेड्डी नाम के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी की रियल लाइफ पर बेस्ड है. ऑरिजनली तेलुगु में बनी है, लेकिन नॉर्थ के दर्शकों के बीच भी इसके हिंदी वाले वर्ज़न का कम क्रेज़ नहीं है. खासतौर पर तब जब ये चिरंजीवी और अमिताभ जैसे मेगास्टार्स की एकसाथ पहली फिल्म है.

कहानी सिंपल है. 19 वीं सदी का चौथा-पांचवा दशक है. अंग्रेज़ों ने हिंदुस्तानी किसानों की फसलों और उनकी जमीनों पर लगान लगाना शुरू कर दिया है. और बाद में उनकी ज़मीनों पर अपना अधिकार जमाकर उन्हें मजदूर बना दिया है.

इसके विरोध में नरसिम्हा रेड्डी नाम के तेलुगु पालेगार (जागीरदार) बाकी पालेगारों को इकट्ठा करते हैं. साथ ही आम लोगों को इस क्रान्ति में शरीक होने के लिए मोटिवेट करते हैं. इस दौरान खूब मार-काट मचती है, षड्यंत्र, दोस्ती और लव स्टोरीज़ के कई पैरलल प्लॉट्स चलते हैं और इस सब में प्रोड्यूसर्स के ढाई सौ करोड़ रुपए खर्च हो जाते हैं.

चिरंजीवी, अमिताभ की पहली फिल्म. बेशक अमिताभ इसमें स्पेशल एपेरेयंस में हैं.
चिरंजीवी, अमिताभ की पहली फिल्म. बेशक अमिताभ इसमें स्पेशल अपीयरेंस में हैं.

कहते हैं न कुछ चीज़ें सिर्फ नाम से बिक जाती हैं. उस हिसाब से-

# ‘चिरंजीवी’ जिन्हें क्रेडिट रोल में ‘मेगा स्टार चिरंजीवी’ बताया गया है

# अमिताभ बच्चन, जिनकी तस्वीर दिखाकर उन्हें थैंक्स कहा गया है

# अनुष्का शेट्टी, बाहुबली की देवसेना और

# तमन्ना भाटिया (केजीएफ और बाहुबली वाली)

जैसे नाम ‘नरसिम्हा रेड्डी’ मूवी को इनिशियल पुश देने के पर्याप्त हैं.

सिद्धम्मा और लक्ष्मी का किरदार बहुत ही 'दयनीय' है.
सिद्धम्मा और लक्ष्मी का किरदार बहुत ही ‘दयनीय’ है.

साथ में है वही लाउडनेस जिससे ‘केजीएफ’, ‘बाहुबली’ जैसी साउथ इंडियन फिल्म देख चुकने के बाद हम हिंदीभाषी दर्शक अब अंजान नहीं रहे. कई बार तो लगता है अभी नरसिम्हा रेड्डी, अपने डायलॉग पूरा करते-करते बाहुबली की तरह बोल उठेंगे- …काटते हैं उसका गला.

और हां ‘देशभक्ति’ और ‘बलिदान’ जैसे जांचे परखे मसाले तो हैं ही.

फिल्म को आप यदि हिस्टोरिकल रेफरेंस की तरह प्रयोग में लाना चाह रहे हैं तो जान लीजिए कि इसमें क्रिएटिव लिबर्टी के नाम पर 50% चीज़ें सच्चाई से अलग रखी गई हैं. और बाकी बचा 50% जो है, वो है स्पेशल इफ़ेक्ट.

लेकिन ज़्यादातर स्पेशल इफेक्ट्स, स्पेशल इफेक्ट्स ही लगते हैं, असल नहीं. फिर चाहे अमिताभ के आश्रम के पीछे बहती नदी हो या पत्थरों के ऊपर बैठकर नरसिम्हा रेड्डी का मेडिटेशन. बैल से लेकर चील तक आपको कुछ भी असली नहीं लगता. गोया फिल्म बनाने वाले अपने वीएफएक्स को जानबूझकर फ्लॉन्ट करना चाह रहे हों.

एक दो युद्ध तक तो सब सही लगता है लेकिन तीन घंटे के लगभग की मूवी में ये युद्ध और मार-काट इतनी बार रिपीट होती है कि अव्वल तो बोर करती है, साथ ही करैक्टर्स और उनके बीच के इमोशंस को डेवलप नहीं होने देती.

युद्ध, देशभक्ति और बलिदान
युद्ध, देशभक्ति और बलिदान

कई जगहें ऐसी हैं जहां पर निर्देशक सुरेंदर रेड्डी परफेक्ट इमोशन को पोट्रेट करते-करते इत्तु भर से चूक जाते हैं. जैसे जले हुए बच्चे की बंद मुट्ठी वाले सीन से अगर दर्शकों को और ज़्यादा इमोशनली कनेक्ट करवाया जा सकता तो ये मास्टरपीस सीन हो सकता था. ऐसे ही एक सीन में अंग्रेज़ों के अड्डे में सुसाइड करने से पहले तमन्ना का अपनी जली हुई चुन्नी को लहरा के डांस करना बड़ा कलात्मक लगता है, लेकिन इसमें भी वो इमोशन मिसिंग है. जिसे डालने का निर्देशक ने पूरा प्रयास किया है.

हिंदी में अपने डायलॉग की डबिंग अमिताभ बच्चन (गुरु गोसाईं) ने खुद की है, और वो आवाज़ प्रभावी लगती है. स्टंट सीन की कोरियोग्राफी बेहतरीन है लेकिन फिर भी चिरंजीवी अपने थुलथुले वजन के चलते फाईट सीन में कन्विंसिंग नहीं लगते. और जहां कहीं भी कन्विंसिंग लगते हैं अपने स्टारडम के दम पर. फीमेल ऐक्ट्रेसेज़ का रोल बहुत छोटा है, जैसा ऐसी मूवीज़ का ट्रेंड ही है. लेकिन खलता है इन औरतों का पूरी तरह सबमिसिव होना. फिर चाहे वो तमन्ना का किरदार लक्ष्मी हो या नयनतारा का किरदार सिद्धम्मा. जिन्हें आत्महत्या से रोकने के लिए या शादी करने के लिए या किसी विशेष उद्देश्य के लिए प्रेरित करने के लिए नरसिम्हा को एक लाइन से ज़्यादा का डायलॉग बोलने की ज़रूरत नहीं पड़ती. रवि किशन के रोल को देखकर आप भी कहेंगे कि क्या मजबूरी थी जो उन्होंने इस रोल को एक्स्पेट किया.

केजीएफ और बाहुबली के बाद हमको अच्छे से पता है साउथ इंडियन मूवीज़ में क्या मिलेगा.
केजीएफ और बाहुबली के बाद हमको अच्छे से पता है साउथ इंडियन मूवीज़ में क्या मिलेगा.

फिल्म के पॉज़िटिव में है इसका म्यूज़िक जो अमित त्रिवेदी ने दिया है. टाइटल सॉन्ग ओरिजिनल वाला, यानी तेलुगु में ज़्यादा अच्छा लगता है. हिंदी में ‘जागो नरसिंम्हा जागो रे’ में उदित की आवाज़ सुनकर अच्छा लगता है. डायलॉग्स अच्छे हैं और कई विश्व साहित्य से अनुवादित हैं. फाईट, डांस और खेतों के विहंगम दृश्य बड़े कलात्मक हैं. रंग, फ्रेम और टेक्स्टचर जैसी टेक्निकल चीज़ें भी फिल्म को खूबसूरत बनाती हैं. कुल मिलाकर अगर फिल्म 3 के बदले एक डेढ़ घंटे की होती तो कहीं एंटरटेनिंग होती.


वीडियो देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो 15 गाने, जिनके बिना छठ पूजा अधूरी है

पुराने गानों के बिना व्रत ही पूरा नहीं होता.

राग दरबारी : वो किताब जिसने सिखाया कि व्यंग्य कितनी खतरनाक चीज़ है

पढ़िए इस किताब से कुछ हाहाकारी वन लाइनर्स.

वो 8 कंटेस्टेंट जो 'बिग बॉस' में आए और सलमान खान से दुश्मनी मोल ले ली

लड़ाईयां जो शुरू घर से हुईं लेकिन चलीं बाहर तक.

जॉन अब्राहम की फिल्म का ट्रेलर देखकर भूतों को भी डर लगने लगेगा

'पागलपंती' ट्रेलर की शुरुआत में जो बात कही गई है, उस पर सभी को अमल करना चाहिए.

मुंबई में भी वोट पड़े, हीरो-हिरोइन की इंक वाली फोटो को देखना तो बनता है बॉस!

देखिए, कितने लाइक्स बटोर चुकी हैं ये फ़ोटोज.

जब फिल्मों में रोल पाने के लिए नाग-नागिन तो क्या चिड़िया, बाघ और मक्खी तक बन गए ये सुपरस्टार्स

अर्जुन कपूर अगली फिल्म में मगरमच्छ के रोल में दिख सकते हैं.

जब शाहरुख की इस फिल्म की रिलीज़ से पहले डॉन ने फोन कर करण जौहर को जान से मारने की धमकी दी

शाहरुख करण को कमरे से खींचकर लाए और कहा- '' मैं भी पठान हूं, देखता हूं तुम्हें कौन गोली मारता है!''

इस अजीबोगरीब साइ-फाई फिल्म को देखकर पता चलेगा कि लोग मरने के बाद कहां जाते हैं

एक स्पेसशिप है, जो मर चुके लोगों को रोज सुबह लेने आता है. लेकिन लेकर कहां जाता है?

वो इंडियन डायरेक्टर जिसने अपनी फिल्म बनाने के लिए हैरी पॉटर सीरीज़ की फिल्म ठुकरा दी

आज अपना 62 वां बड्डे मना रही हैं मीरा नायर.

अगर रावण आज के टाइम में होता, तो सबसे बड़ी दिक्कत उसे ये होती

नम्बर सात पढ़ कर तो आप भी बोलेंगे, बात तो सही है बॉस.