Submit your post

Follow Us

लव लेटर लिखने के इल्ज़ाम में बच्चों को जानवरों की तरह बांध दिया

सोशल मीडिया पर दो तस्वीरें इस वक्त तेज़ी से वायरल हो रही हैं. इन तस्वीरों में दो छोटे बच्चे हैं. जिनके हाथ-पैर स्कूल की बेंच से बंधे हुए हैं. जो भी इन फोटोज़ को देख रहा है, बच्चों के साथ ऐसा बर्ताव करने वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहा है.

आंध्र प्रदेश में अनंतपुर ज़िला है. तस्वीरें यहां के कादिरी कस्बे के एक स्कूल की हैं. यहां सज़ा के तौर पर बच्चों के हाथ-पैर बेंच से बांध दिए गए हैं. एक बच्चा तीसरी कक्षा में पढ़ता है, दूसरा पांचवीं में. एनडीटीवी की रिपोर्टर उमा सुधीर ने ये तस्वीरें ट्वीट की हैं.

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, स्कूल की हेडमास्टर ने दोनों बच्चों क्लास में ध्यान नहीं देने और हेडमास्टर को परेशान करने के इल्ज़ाम में ये सज़ा दी. इसके साथ ही एक स्टूडेंट पर लव लेटर लिखने का और दूसरे स्टूडेंट पर दूसरे बच्चों का सामान चोरी करने का आरोप लगाया गया है.

School Punishment To Students 1
ट्विटर पर ऐसे ट्वीट किए जा रहे हैं.

TOI की रिपोर्ट के मुताबिक, बच्चों की फोटोज़ सामने आने के बाद मामला आंध्र प्रदेश स्टेट कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स (APSPCR) की नजर में आया, जिसके बाद कमीशन के चेयरमैन जी. हमावथी ने जिला कलेक्टर और म्युनिसिपल कमिश्नर को जांच के आदेश दिए. हमावथी का कहना है,

‘हम इस घटना की निंदा करते हैं. हमने जिला कलेक्टर को नोटिस जारी करके इस मामले में जरूरी कार्रवाई करने के आदेश दे दिए हैं.’

NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक, स्कूल की हेडमास्टर ने सज़ा देने की बात से इनकार किया है. उनका कहना है कि उन्होंने बच्चों को नहीं बांधा था, बल्कि बच्चों की मां ने उन्हें बांधा था. हालांकि उन्होंने ये साफ नहीं किया कि स्कूल के अंदर इस तरह की सज़ा कोई मां कैसे दे सकती है.

लोकल मीडिया की मानें तो स्कूल के बच्चों का कहना है कि इस तरह की सज़ा उनके लिए कोई नई बात नहीं है. सोशल मीडिया पर सज़ा के इस तरीके का कड़ा विरोध हो रहा है. ये तस्वीरें किसने क्लिक की हैं, ये साफ नहीं हो पाया है.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो देश, जहां मिलिट्री सर्विस अनिवार्य है

क्या भारत में ऐसा होने जा रहा है?

'हासिल' के ये 10 डायलॉग आपको इरफ़ान का वो ज़माना याद दिला देंगे

17 साल पहले रिलीज़ हुई इस फ़िल्म ने ज़लज़ला ला दिया था

4 फील गुड फ़िल्में जो ऑनलाइन देखने के बाद दूसरों को भी दिखाते फिरेंगे

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशंस हमारी साथी स्वाति ने दी हैं.

आर. के. नारायण, जिनका लिखा 'मालगुडी डेज़' हम सबका नॉस्टैल्जिया बन गया

स्वामी और उसके दोस्तों को देखते ही बचपन याद आता है

वो 22 एक्टर्स जिनको यशराज फिल्म्स ने बॉलीवुड में लॉन्च किया

यश और आदि चोपड़ा के इस प्रोडक्शन हाउस ने इस साल 50 बरस पूरे कर लिए हैं.

इन 8 बॉलीवुड सेलेब्स के मदर्स डे वाले वीडियोज़ और फोटो आप मिस नहीं करना चाहेंगे

बच्चन ने मां को गाकर याद किया है, वहीं अनन्या पांडे ने बचपन के दो बेहद क्यूट वीडियोज़ पोस्ट किए हैं.

मंटो, जिन्हें लिखने के फ़ितूर ने पहले अदालत फिर पागलखाने पहुंचाया, उनकी ये 15 बातें याद रहेंगी

धर्म से लेकर इंसानियत तक, सबपर सब कुछ कहा है मंटो ने.

सआदत हसन मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

जानिए मंटो को कैसे जाना जाए.

महाराणा प्रताप के 7 किस्से: जब वफादार मुसलमान ने बचाई उनकी जान

9 मई, 1540 को पैदा होने वाले महाराणा प्रताप की मौत 29 जनवरी, 1597 को हुई.

दुनिया के 10 सबसे कमज़ोर पासवर्ड कौन से हैं?

रिस्की पासवर्ड का पता कैसे चलता है?