Submit your post

Follow Us

एक था बुश!

यूं तो इस देश में लाखों लोग फुटपाथ पर रहते हैं. पर हम आपको मुम्बई की भूलाभाई सड़क के किनारे रहने वाले एक कुत्ते की कहानी सुना रहे हैं. जिसका नाम था जॉर्ज डब्लू बुश. बुश सड़कों पर घूमने वाला आवारा कुत्ता था. कद में बाकी कुत्तों से छोटा एक सिंपल सड़कछाप कुत्ता. पर भारत का अमेरिका से बदला.

बुश के नाम के पीछे बड़ी रोचक कहानी है. दरअसल 2001 में अमेरिका के 43वें राष्ट्रपति जॉर्ज डब्लू बुश ने अपनी बिल्ली का नाम ‘इंडिया’ रखा था. जिसका भारत में इसका पुरजोर विरोध हुआ. इसके बाद भारत में ‘कांस्युलेट जनरल ऑफ़ द यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ़ अमेरिका’ माने अमेरिकी एंबेसी के मुंबई ऑफिस के बाहर रहने वाले कुत्ते का नाम एंबेसी की सुरक्षा में तैनात एक पुलिस अधिकारी ने जॉर्ज डब्लू बुश रख दिया.

बुश उस इलाके का सबसे चहेता कुत्ता था. उस वक्त जब बीएमसी की गाड़ियां आवारा कुत्तों को पकड़ने आया करती थीं. तो एंबेसी की सिक्योरिटी में तैनात पुलिस वाले बुश को अपने सैंडबैग वाले बंकर में छिपा लेते थे. कारण था कि उस वक्त बीएमसी वाले कुत्तों को लोहे के मोटे-मोटे डंडों से मार के पकड़ा करता थे और उन्ही डंडों के मदद से उनकी गर्दन झटका मारकर तोड़ देते थे. यही उन्हें मारने का तरीका था. कभी-कभी कुत्तों को बिजली के झटके देकर भी मारा जाता था.

अभी कुछ हफ्तों पहले बुश की मौत हो गई. मौत के वक्त बुश 18 साल का था. बुश के साथ वो सिक्योरिटी वाले अपना खाना भी साझा करते थे. लोगों का इसके बाद से आवारा कुत्तों के प्रति नजरिया बदला है. कई लोग ऐसे कुत्तों को अपने घर भी ले गए. जिनके घर में कुत्तों को रखने की जगह नहीं है वो भी मदद करते हैं. कोई उन्हें कम्बल दे जाता है कि उन्हें ठण्ड न लगे. कोई पानी भरकर रख जाता है.

2015 में  सुप्रीम कोर्ट का एक फैसला भी आया जिसमे कहा गया है कि उन कुत्तों को छोड़कर जो कि बहुत बुरी तरह से बीमार हैं या जो बुरी तरह से चोटिल हैं उन्हें छोड़कर किसी भी कुत्ते को मारा नहीं जा सकेगा. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि इससे जानवरों के प्रति हिंसा में बढ़ावा होता है.

जिंदगी के आखिरी दिनों में बुश की सेवा करने वाले एक ‘एनजीओ वेलफेयर ऑफ स्ट्रे डॉग्स’ ने बुश की मौत के बाद उसकी तस्वीर को अपने फेसबुक पेज पर लगाया जिसे लोगों ने बहुत पसंद किया और जिसपर बड़ी संख्या में लोगों ने अपनी यादें ताजा कीं. कई लोगों ने बुश की मौत पर उससे जुड़ी हुई यादें फेसबुक पर साझा कीं.

रोचक ये है कि कलकत्ता की उस बिल्ली की मौत भी 18 साल में ही हुई थी जिसका नाम बुश की बिल्ली का नाम ‘इंडिया’ रखने के बाद बुश रखा गया था. लोगों का इसके बाद से आवारा कुत्तों के प्रति नजरिया बदला है. जिनके घर में कुत्तों को रखने की जगह नहीं है वो भी इसमें सहयोग देते हैं.

ये कुत्ते भी रहे हैं फेमस-

इसी तरह एक कुत्ता था जंजीर.

जंजीर आवारा नहीं था. वो पुलिसिया कुत्ता था. धांसू जॉब प्रोफाइल थी उसकी. 8 साल की उम्र में उसकी मौत हो गई. 1993 के दौरान जंजीर ने मुंबई के मुम्बारा और थाणे इलाकों में धमाके रोकने में बड़ा रोल निभाया था. उसने पहले एक स्कूटर बम को पहचाना जिसमें आरडीएक्स और जिलेटिन की छड़ें थीं. फिर उसने सिद्धिविनायक मंदिर के बाहर एक सूटकेस में 200 ग्रेनेड, पांच 9 एमएम की पिस्टल और 3 ऐके 56 राइफल पकड़वाकर सैकड़ों लोगों की जान बचाई.

पिछले महीने ऐसे ही एक कुत्ते मैक्स ने सुर्खियाँ बटोरीं थीं-

26/11 मुंबई हमलों के दौरान ताज होटल के बाहर 8 किलो आरडीएक्स मैक्स के कारण ही पकड़ी गई थी. 2011 के झावेरी बाजार विस्फोट के दौरान भी इसने बड़ी मात्रा में मैक्स ने एक्स्प्लोसिव पकड़ने में सहायता की थी.

इन कुत्तों की मौत के बाद उन्हें मुंबई के अखबारों की पहले पेज की सुर्ख़ियों में जगह मिली.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

'बुलबुल' ट्रेलर: देखकर लग रहा है ये बिल्कुल वैसी फिल्म है, जैसी एक हॉरर फिल्म होनी चाहिए

डर भी, रहस्य भी, रोमांच भी और सेंस भी. ऐसा लग रहा है कि फिल्म 'परी' से भी ज्यादा डरावनी होगी.

इस आदमी पर से भरोसा उसी दिन उठ गया था, जब इसने सनी देओल का जीजा बनकर उन्हें धोखा दिया था

परदे पर अब तक 182 बार मर चुका है ये एक्टर.

'गो कोरोना गो' वाले रामदास आठवले की कही आठ बातें, जिन्हें सुनकर दिमाग चकरा जाए

अब आठवले ने चायनीज फूड के बहिष्कार की बात कही है.

विदेशी मीडिया को क्यों लगता है कि भारत-चीन सीमा पर हालात बेकाबू हो सकते हैं?

सब जगह लद्दाख झड़प की चर्चा है.

वो 7 इंडियन एक्टर्स/सेलेब्रिटीज़, जिन्होंने आत्महत्या कर ली थी

इस लिस्ट में लीजेंड्स से लेकर स्टार्स सब शामिल हैं.

सुशांत सिंह राजपूत के 50 ख्वाब, जो उन्होंने पर्चियों में लिख रखे थे

उनके ख्वाबों की लिस्ट में उनके व्यक्तित्व का सार छुपा हुआ है.

डेथ से पहले इन 5 प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे थे सुशांत सिंह राजपूत

इनमें से एक फिल्म अगले कुछ दिनों में रिलीज़ होने वाली है, जो सुशांत के करियर की आखिरी फिल्म होगी.

इंडियन आर्मी ऑफिसर्स पर बन रही 7 फिल्में, जिन्हें देखकर छाती चौड़ी हो जाएगी

इन फिल्मों में इंडिया के सबसे बड़े सुपरस्टार्स काम कर रहे हैं.

ये FICCI, ASSOCHAM, CII वगैरह सुनाई तो खूब देते है, पर होते क्या हैं?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 जून को इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स (ICC) के सेशन को संबोधित किया.

बड़े बजट और सुपरस्टार्स वाली वो 5 फिल्में, जो किसी भी हाल में ऑनलाइन रिलीज़ नहीं होंगी

ये 2020 की सबसे बड़ी और बहुप्रतीक्षित फिल्में हैं.