Submit your post

Follow Us

24 साल बाद जिस फिल्म में डकैत बन रहे मनोज बाजपेयी, उसकी 9 जरूरी बातें

13.77 K
शेयर्स

सनी देओल  (‘डकैत’ 1987), सीमा विश्वास (‘बैंडिट क्वीन’ 1994) और इरफान खान की (‘पान सिंह तोमर’ 2012) के बाद अब सुशांत सिंह राजपूत भी चंबल के डाकुओं पर बनी एक फिल्म में नज़र आने वाले हैं. फिल्म का नाम है ‘सोन चिड़िया’. सुशांत की फिल्म ‘केदारनाथ’ की रिलीज़ के दिन फिल्म का टीज़र रिलीज़ करने के बाद, अब उसी फिल्म का ट्रेलर जनता के सामने लाया गया है. आइए जानते हैं क्या दिख रहा है इस ट्रेलर में? सुशांत के साथ कौन होगा इसमें? किसने बनाई है? डायरेक्टर के नाम का कंफ्यूज़न और बहुत सारी चीज़ें. स्क्रीन सरकाइए, सारी जानकारी पाइए.

1) इस साल 30 जनवरी को सुशांत सिंह राजपूत ने एक फोटो अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर पोस्ट की थी (जिसे वो अपने अकाउंट सफाई अभियान में डिलीट कर चुके हैं). इस तस्वीर में सुशांत खाकी कलर की पैंट-शर्ट, शर्ट के ऊपर बंधी हुई बेल्ट, घनी मूंछ-दाढ़ी और माथे पर टीका लगाए नज़र आ रहे हैं. कुर्सी पर बैठे सुशांत के बगल से राइफल की नाल भी नज़र आ रही है. सीधी भाषा में कहें तो ‘डकैतों वाली वेशभूषा’ में नज़र आ रहे हैं. इसी पोस्ट के साथ उन्होंने अपनी फिल्म ‘सोन चिड़िया’ अनाउंस की थी.

सुशांत ने इसी फोटो के साथ इस फिल्म की अनाउंसमेंट की थी.
सुशांत ने इसी फोटो के साथ इस फिल्म की अनाउंसमेंट की थी.

2) फिल्म के ट्रेलर में जो कहानी दिखाई दे रही है, वो कतई इंट्रेस्टिंग लग रही है. कहानी है इमरजेंसी के दौरान यानी 1975 की. चंबल के इलाके से डकैतों की सफाई करने का काम पुलिस को दिया गया है. जहां अपनी जान बचाने की मुश्किल है, वहां बागियों में आपस में ही दरार पड़ जाती है. इसमे सुशांत बागियों के बागी का रोल करने जा रहे हैं. मतलब बीहड़ में जो बागी होते हैं, सुशांत के किरदार ने उनके खिलाफ बगावत छेड़ दी है. चंबल के ठाकुरों के परिवार की एक लड़की को न्याय दिलाने के लिए. अब गैंग जो है, वो एक तरफ अपनी जान बचाने की कोशिश में है, तो दूसरी ओर बगावत करने वाले की जान लेने के पीछे भी. अब इस सब भागमभाग में क्या कैसे घटता है? यही फिल्म में हमें देखने को मिलने वाला है. मनोज बाजपेयी इस गैंग के मुखिया ‘मान सिंह’ का रोल कर रहे हैं. 1994 में आई फिल्म ‘बैंडिट क्वीन’ में भी मनोज ने इसी नाम के डकैत का रोल किया था. ये वही डकैत है या कोई दूसरा किरदार ये अभी पता नहीं चल पाया है.

फिल्म में मनोज बाजपेयी बागियों के लीडर का रोल कर रहे हैं.
फिल्म में मनोज बाजपेयी बागियों के लीडर का रोल कर रहे हैं. इससे पहले वो फिल्म ‘गली गुलियां’ में नज़र आए थे.

3) ‘सोनचिड़िया’ का ट्रेलर बहुत इंट्रेस्टिंग और एंगेजिंग लग रहा है. पहले तो एक से बढ़कर एक कलाकार, उनके लुक्स, फिल्म का बैकड्रॉप,  से लेकर कहानी तक सब कुछ मजेदार लग रहा है. सबसे इंप्रेसिव चीज़ है एक्स्टर्स का वो बीहड़ वाला लहजा पकड़ना. ट्रेलर देखते समय आप इतने जोन में होते हैं कि सब कुछ नोटिस में आता-जाता रहता है. लेकिन एक चीज़ जो अटकती है, वो हैं आशुतोष राणा.  फिल्म में वो एक खतरनाक पुलिसवाले के रोल में हैं. टीज़र-ट्रेलर कुल मिलाकर ‘सोनचिड़िया’ के बारे में ये कहा जा सकता है कि इसे सिनेमाघर में बैठकर देखने का मजा तो आएगा. हालांकि फिल्म में गालियों के इस्तेमाल को लेकर मेकर्स और सेंसर बोर्ड में खींचतान होने जैसा माहौल एक बार को फिर से बनता नज़र आ रहा है.

इससे पहले आशुतोष राणा फिल्म 'धड़क' में दिखाई दिए थे और आने वाले दिनों में वो रोहित शेट्टी फिल्म 'सिंबा' में नज़र आने वाले हैं.
इससे पहले आशुतोष राणा फिल्म ‘धड़क’ और रोहित शेट्टी की ‘सिंबा’ में दिखाई दिए थे. 

4) फिल्म में सिर्फ सुशांत सिंह राजपूत नहीं काबिल एक्टर्स की एक पूरी जमात है. ‘सोन चिड़िया’ में मनोज बाजपेयी और सुशांत के अलावा रणवीर शौरी, संजय मिश्रा और आशुतोष राणा जैसे जाबड़ कलाकार भी नज़र आने वाले हैं. फिल्म की हीरोइन होंगी आखिरी बार ‘लस्ट स्टोरीज़’ में दिखीं भूमि पेडनेकर. और सरप्राइज़ पैकेज होंगे ‘सैक्रेड गेम्स’ फेम ‘बंटी’ यानी जतिन सरना.

भूमी ने अपनी पिछली फिल्म 'लस्ट स्टोरीज़' में काम करने वाली एक बाई का रोल किया था.
भूमि ने अपनी पिछली फिल्म ‘लस्ट स्टोरीज़’ में काम करने वाली बाई का रोल किया था.

5) फिल्म के नाम को लेकर लगातार एक कंफ्यूज़न चल रहा है. इसे लिखा जा रहा है ‘सोन चिड़िया’ और बुलाया जा रहा है ‘सोन चिरैया’. जहां ये फिल्म बसी है वहां इसे ‘सोन चिरैया’ बुलाया जाता होगा. लेकिन फिल्म देखने सिर्फ उसी जगह की जनता नहीं जाएगी. फिल्म पूरे देश में रिलीज़ की जाएगी इसलिए इसे ‘सोन चिड़िया’ जैसे कॉमन नाम से बुलाया जा रहा है.

फिल्म के पोस्टर पर भी 'सोन चिड़िया' ही लिखा जा रहा है लेकिन बुलाया सोन चिरैया जा रहा है.
फिल्म के पोस्टर पर भी ‘सोन चिड़िया’ ही लिखा जा रहा है लेकिन बुलाया सोन चिरैया जा रहा है.

6) ‘सोन चिड़िया’ की शूटिंग जनवरी, 2018 से चंबल के इलाकों में शुरू हो चुकी है. कहा जा रहा है कि सुशांत अपने रोल की तैयारी के लिए बाकी टीम और शूटिंग शेड्यूल से कुछ हफ्ते पहले ही चंबल पहुंच गए थे. एक्सेंट और डायलेक्ट पर काम करने के लिए सुशांत चंबल के लोगों से लगातार बातचीत कर रहे थे. इस दौरान वो कुछ डाकुओं से भी मिले थे. उनका थॉट प्रोसेस वगैरह समझने के लिए. सुशांत का ये मानना था कि डाकुओं की मानसिकता समझकर उन्हें अपने किरदार को बेहतर तरीके से निभाने में मदद मिलेगी.

इस फिल्म की तैयारी के लिए सुशांत बाकी टीम से पहले ही चंबल पहुंच गए थे.
इस फिल्म में अपने रोल की तैयारी के लिए सुशांत बाकी टीम से पहले ही चंबल पहुंच गए थे.

7) हम कई बार चंबल और वहां के डाकुओं के बारे में सुनते हैं. आज हम चंबल की लोकेशन और उससे जुड़ी कुछ खास बातें जानेंगे. चंबल, मध्य प्रदेश और राजस्थान के बॉर्डर पर बसा एक इलाका है. मिट्टी के ढूह (मिट्टी के मजबूत टीले से बनी उबड़-खाबड़ जमीन) और घने जंगलों (बीहड़) की वजह से यहां छुपने में मदद मिलती है. इसी कारण से ये जगह डकैतों के लिए शरणगाह है. किसी वक्त समाज के सताए हुए कुछ लोग बंदूक उठाकर यहां आ जाते और ‘बागी’ हो जाते.

8) इस फिल्म को डायरेक्ट कर रहे हैं अभिषेक चौबे. अभिषेक इससे पहले ‘इश्किया’ (2010), ‘डेढ़ इश्किया’ (2014) और ‘उड़ता पंजाब’ (2016) जैसी फिल्में डायरेक्ट कर चुके हैं. इसके अलावा उन्होंने विशाल भारद्वाज के साथ मिलकर ‘ओमकारा’ और ‘कमीने’ जैसी फिल्मों की स्क्रिप्ट भी लिखी है. आप कंफ्यूज़ ना हो जाएं इसलिए बता देते हैं कि सुशांत की लेटेस्ट रिलीज़ हुई फिल्म ‘केदारनाथ’ के डायरेक्टर का नाम भी अभिषेक ही है. लेकिन उनके सरनेम अलग हैं. ‘सोन चिड़िया’ को अभिषेक चौबे ने डायरेक्ट किया जबकि ‘केदारनाथ’ के डायरेक्टर अभिषेक कपूर हैं. अभिषेक कपूर ने इससे पहले ‘रॉक ऑन’ (2008), ‘काई पो छे’ (2013) और ‘फितूर’ (2016) जैसी फिल्में डायरेक्ट की हैं.

लाल टी-शर्ट और हैट लगाए 'सोन चिड़िया' के डायरेक्टर अभिषेक चौबे हैं और काली टी-शर्ट वाले 'केदारनाथ' के डायरेक्टर अभिषेक कपूर हैं. क्लीयर हुआ?
लाल टी-शर्ट और हैट लगाए ‘सोन चिड़िया’ के डायरेक्टर अभिषेक चौबे हैं और काली टी-शर्ट वाले ‘केदारनाथ’ के डायरेक्टर अभिषेक कपूर हैं. क्लीयर हुआ?

9) सुशांत फिलहाल फिल्मों के ढेर पर बैठे हैं. वो ‘सोन चिड़िया’ के बाद तरुण मनसुखानी की फिल्म ‘ड्राइव’ में दिखने वाले हैं. इसके अलावा वो हॉलीवुड फिल्म ‘फॉल्ट इन अवर स्टार्स’ के हिंदी रीमेक ‘किज़ी और मैनी’ में भी काम कर रहे हैं, जिसे कास्टिंग डायरेक्टर से डायरेक्टर बने मुकेश छाबड़ा डायरेक्ट कर रहे हैं.

जाते-जाते फिल्म का ट्रेलर देखते जाइए:


वीडियो देखें: सुनिए मनोज बाजपेयी के उस 24 साल पुराने किरदार के बारे में, जो एक बार फिर करने जा रहे हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

सेक्रेड गेम्स 2: रिव्यू

त्रिवेदी के बाद अब 'साल का सवाल', क्या अगला सीज़न भी आएगा?

फिल्म रिव्यू: बाटला हाउस

असल घटना से प्रेरित होते हुए भी असलियत के बहुत करीब नहीं है. लेकिन बहुत फर्जी होने की शिकायत भी इस फिल्म से नहीं की जा सकती.

फिल्म रिव्यू: मिशन मंगल

फील गुड कराने वाली फिल्म.

दीपक डोबरियाल की एक शब्दशः स्पीचलेस कर देने वाली फिल्म: 'बाबा'

दीपक ने इस फिल्म में अपनी एक्टिंग का एवरेस्ट छू लिया है.

फिल्म रिव्यू: जबरिया जोड़ी

ये फिल्म कंफ्यूज़ावस्था में रहती है कि इसे सोशल मैसेज देना है कि लव स्टोरी दिखानी है.

क्या जापान का ये आर्क ऐटम बम और सुनामी झेलने के बाद भी जस का तस खड़ा है?

क्या ये आर्क परमाणु बम, भूकंप और विशाल समुद्री लहरें झेल गया है?

फिल्म रिव्यू: ख़ानदानी शफ़ाखाना

'खानदानी शफाखाना' की सबसे दिलचस्प बात उसका नाम और कॉन्सेप्ट ही है.

ऐसी बवाल गैंग्स्टर फिल्म आ रही है कि आप दोस्तों से Netflix का पासवर्ड मांगते फिरेंगे

जिसने बनाया है, अनुराग कश्यप ने उसके पैर पकड़ लिए थे

जानिए कैसे खरीदते हैं यूट्यूब पर वीडियो के व्यूज़

इतने बड़े अचीवमेंट के बावजूद बादशाह को गूगल-यूट्यूब ने वो नहीं दिया, जो दुनियाभर के मशहूर सेलेब्रिटीज़ को दिया.

मंदाकिनी के झरने में नहाने वाले सीन को आलोचकों ने अश्लील नग्नता कहा तो राज कपूर ने ये जवाब दिया

वो तीन बातें जो मंदाकिनी के बारे में सब जानना चाहते हैं.