Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

'बैंडिट क्वीन' के 24 साल बाद फिर से डकैत मानसिंह का रोल करेंगे मनोज बाजपेयी

820
शेयर्स

सनी देओल  (‘डकैत’ 1987), सीमा विश्वास (‘बैंडिट क्वीन’ 1994) और इरफान खान की (‘पान सिंह तोमर’ 2012) के बाद अब सुशांत सिंह राजपूत भी चंबल के डाकुओं पर बनी एक फिल्म में नज़र आने वाले हैं. फिल्म का नाम है ‘सोन चिड़िया’. कमाल की बात ये कि जिस दिन सुशांत की फिल्म ‘केदारनाथ’ रिलीज़ हुई है, उसी दिन उनकी अगली फिल्म का पहला टीज़र रिलीज़ किया गया है. आइए जानते हैं किस बारे में बात करेगी ये फिल्म. सुशांत के साथ कौन होगा इसमें? किसने बनाई है? डायरेक्टर के नाम का कंफ्यूज़न और बहुत सारी चीज़ें. स्क्रीन सरकाइए, सारी जानकारी पाइए.

1) इस साल 30 जनवरी को सुशांत सिंह राजपूत ने एक फोटो अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर पोस्ट की थी (जिसे वो अपने अकाउंट सफाई अभियान में डिलीट कर चुके हैं). इस तस्वीर में सुशांत खाकी कलर की पैंट-शर्ट, शर्ट के ऊपर बंधी हुई बेल्ट, घनी मूंछ-दाढ़ी और माथे पर टीका लगाए नज़र आ रहे हैं. कुर्सी पर बैठे सुशांत के बगल से राइफल की नाल भी नज़र आ रही है. सीधी भाषा में कहें तो ‘डकैतों वाली वेशभूषा’ में नज़र आ रहे हैं. इसी पोस्ट के साथ उन्होंने अपनी फिल्म ‘सोन चिड़िया’ अनाउंस की थी.

सुशांत ने इसी फोटो के साथ इस फिल्म की अनाउंसमेंट की थी.
सुशांत ने इसी फोटो के साथ इस फिल्म की अनाउंसमेंट की थी.

2) अब उसी फिल्म का टीज़र आ गया है. इसमे सुशांत संभवत: बागियों के बागी का रोल करने जा रहे हैं. मतलब बीहड़ में जो बागी होते हैं, सुशांत के किरदार ने उनके खिलाफ बगावत छेड़ दी है, टीज़र देखकर ऐसा लग रहा है. ‘सोन चिड़िया’ के टीज़र की शुरुआत बड़े ही भयानक दृश्य के साथ होती है. एक जानवर है, जिसके सिर का ऊपरी हिस्सा बुरी तरह घायल है और शायद वो मर भी चुका. उसके घाव पर मक्खियां भिनभिना रही हैं. इसके बाद शुरू होती है, फिल्म की बात, जिसमें एक बागी दल टोलों-मोहल्लों में घूम-घूमकर ऐलान कर रहा है कि जो उनके खिलाफ आवाज़ उठाएगा, गोली खाएगा. यहां लड़ाई अपनी सत्ता बचाने की भी है. मनोज बाजपेयी इस गैंग के मुखिया ‘मान सिंह’ का रोल कर रहे हैं. 1994 में आई फिल्म ‘बैंडिट क्वीन’ में भी मनोज ने इसी नाम के डकैत का रोल किया था. ये वही डकैत है या कोई दूसरा किरदार ये अभी पता नहीं चल पाया है. तो मान सिंह नहीं चाहता कि कोई भी उसके सामने खड़ा होकर उसे चुनौती दे. इसके बाद एक बागी पर गोली चलती है और सामने आता है सुशांत का किरदार. इसी सीन से ये आइडिया मिल रहा है कि सुशांत संभवत: बागियों में बागी का रोल करने जा रहे हैं. इस दौरान बोली जा रही भाषा ऑब्वियसली बुंदेलखंडी और चंबल वाली है.

फिल्म में मनोज बाजपेयी बागियों के लीडर का रोल कर रहे हैं.
फिल्म में मनोज बाजपेयी बागियों के लीडर का रोल कर रहे हैं. इससे पहले वो फिल्म ‘गली गुलियां’ में नज़र आए थे.

3) टीज़र के बिलकुल एंड में आशुतोष राणा का किरदार दिखलाई पड़ता है, जो सोन चिरैया का जिक्र करता है. इसे सुनकर कुछ ऐसा लगता है, जैसे सोन चिरैया कोई चीज़ हो, जिसे सभी बागी हासिल करना चाहते हैं लेकिन वो हाथ किसी के नहीं आ रही है. वैसा आम भाषा में सोन चिड़िया का मतलब होता है सोने की चिड़िया. अपने इंडिया को भी पहले इसी नाम से बुलाया जाता था. लेकिन फिल्म में इसका इस्तेमाल किस संदर्भ में किया जा रहा है, ये जानने के लिए हमें फिल्म की रिलीज़ का इंतज़ार करना पड़ेगा.

इससे पहले आशुतोष राणा फिल्म 'धड़क' में दिखाई दिए थे और आने वाले दिनों में वो रोहित शेट्टी फिल्म 'सिंबा' में नज़र आने वाले हैं.
इससे पहले आशुतोष राणा फिल्म ‘धड़क’ में दिखाई दिए थे और आने वाले दिनों में वो रोहित शेट्टी की फिल्म ‘सिंबा’ में नज़र आने वाले हैं.

4) फिल्म में सिर्फ सुशांत सिंह राजपूत नहीं काबिल एक्टर्स की एक पूरी जमात है. ‘सोन चिड़िया’ में मनोज बाजपेयी और सुशांत के अलावा रणवीर शौरी, संजय मिश्रा और आशुतोष राणा जैसे जाबड़ कलाकार भी नज़र आने वाले हैं. फिल्म की हीरोइन होंगी आखिरी बार ‘लस्ट स्टोरीज़’ में दिखीं भूमि पेडनेकर. फिल्म की जो चीज़ सबसे ज़्यादा उत्सुकता जगा रही है, वो है ऐक्टर्स का लुक. मनोज बाजपेयी भयानक तरीके से बढ़ी हुई दाढ़ी और बाल में दिखाई देंगे. वहीं भूमि का कैरेक्टर भी बिलकुल डीग्लैम लुक में दिखाई देगा. टीज़र देखकर ऐसा लग रहा है कि कोई ढंग की कहानी देखने को मिलने वाली है.

भूमी ने अपनी पिछली फिल्म 'लस्ट स्टोरीज़' में काम करने वाली एक बाई का रोल किया था.
भूमि ने अपनी पिछली फिल्म ‘लस्ट स्टोरीज़’ में काम करने वाली बाई का रोल किया था.

5) फिल्म के नाम को लेकर लगातार एक कंफ्यूज़न चल रहा है. इसे लिखा जा रहा है ‘सोन चिड़िया’ और बुलाया जा रहा है ‘सोन चिरैया’. जहां ये फिल्म बसी है वहां इसे ‘सोन चिरैया’ बुलाया जाता होगा. लेकिन फिल्म देखने सिर्फ उसी जगह की जनता नहीं जाएगी. फिल्म पूरे देश में रिलीज़ की जाएगी इसलिए इसे ‘सोन चिड़िया’ जैसे कॉमन नाम से बुलाया जा रहा है.

फिल्म के पोस्टर पर भी 'सोन चिड़िया' ही लिखा जा रहा है लेकिन बुलाया सोन चिरैया जा रहा है.
फिल्म के पोस्टर पर भी ‘सोन चिड़िया’ ही लिखा जा रहा है लेकिन बुलाया सोन चिरैया जा रहा है.

6) ‘सोन चिड़िया’ की शूटिंग जनवरी, 2018 से चंबल के इलाकों में शुरू हो चुकी है. कहा जा रहा है कि सुशांत अपने रोल की तैयारी के लिए बाकी टीम और शूटिंग शेड्यूल से कुछ हफ्ते पहले ही चंबल पहुंच गए थे. एक्सेंट और डायलेक्ट पर काम करने के लिए सुशांत चंबल के लोगों से लगातार बातचीत कर रहे थे. इस दौरान वो कुछ डाकुओं से भी मिले थे. उनका थॉट प्रोसेस वगैरह समझने के लिए. सुशांत का ये मानना था कि डाकुओं की मानसिकता समझकर उन्हें अपने किरदार को बेहतर तरीके से निभाने में मदद मिलेगी.

इस फिल्म की तैयारी के लिए सुशांत बाकी टीम से पहले ही चंबल पहुंच गए थे.
इस फिल्म में अपने रोल की तैयारी के लिए सुशांत बाकी टीम से पहले ही चंबल पहुंच गए थे.

7) हम कई बार चंबल और वहां के डाकुओं के बारे में सुनते हैं. आज हम चंबल की लोकेशन और उससे जुड़ी कुछ खास बातें जानेंगे. चंबल, मध्य प्रदेश और राजस्थान के बॉर्डर पर बसा एक इलाका है. मिट्टी के ढूह (मिट्टी के मजबूत टीले से बनी उबड़-खाबड़ जमीन) और घने जंगलों (बीहड़) की वजह से यहां छुपने में मदद मिलती है. इसी कारण से ये जगह डकैतों के लिए शरणगाह है. किसी वक्त समाज के सताए हुए कुछ लोग बंदूक उठाकर यहां आ जाते और ‘बागी’ हो जाते.

8) इस फिल्म को डायरेक्ट कर रहे हैं अभिषेक चौबे. अभिषेक इससे पहले ‘इश्किया’ (2010), ‘डेढ़ इश्किया’ (2014) और ‘उड़ता पंजाब’ (2016) जैसी फिल्में डायरेक्ट कर चुके हैं. इसके अलावा उन्होंने विशाल भारद्वाज के साथ मिलकर ‘ओमकारा’ और ‘कमीने’ जैसी फिल्मों की स्क्रिप्ट भी लिखी है. आप कंफ्यूज़ ना हो जाएं इसलिए बता देते हैं कि सुशांत की लेटेस्ट रिलीज़ हुई फिल्म ‘केदारनाथ’ के डायरेक्टर का नाम भी अभिषेक ही है. लेकिन उनके सरनेम अलग हैं. ‘सोन चिड़िया’ को अभिषेक चौबे ने डायरेक्ट किया जबकि ‘केदारनाथ’ के डायरेक्टर अभिषेक कपूर हैं. अभिषेक कपूर ने इससे पहले ‘रॉक ऑन’ (2008), ‘काई पो छे’ (2013) और ‘फितूर’ (2016) जैसी फिल्में डायरेक्ट की हैं.

लाल टी-शर्ट और हैट लगाए 'सोन चिड़िया' के डायरेक्टर अभिषेक चौबे हैं और काली टी-शर्ट वाले 'केदारनाथ' के डायरेक्टर अभिषेक कपूर हैं. क्लीयर हुआ?
लाल टी-शर्ट और हैट लगाए ‘सोन चिड़िया’ के डायरेक्टर अभिषेक चौबे हैं और काली टी-शर्ट वाले ‘केदारनाथ’ के डायरेक्टर अभिषेक कपूर हैं. क्लीयर हुआ?

9) सुशांत फिलहाल फिल्मों के ढेर पर बैठे हैं. वो ‘सोन चिड़िया’ के बाद तरुण मनसुखानी की फिल्म ‘ड्राइव’ में दिखने वाले हैं. इसके अलावा वो हॉलीवुड फिल्म ‘फॉल्ट इन अवर स्टार्स’ के हिंदी रीमेक ‘किज़ी और मैनी’ में भी काम कर रहे हैं, जिसे कास्टिंग डायरेक्टर से डायरेक्टर बने मुकेश छाबड़ा डायरेक्ट कर रहे हैं.

फिल्म के बारे में इतना कुछ जान लेने के बाद टीज़र देखने को लेकर आपकी भी एक्साइटमेंट बढ़ गई होगी, तो और समय जाया न करते हुए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करिए और टीज़र देखिए:


वीडियो देखें: सुनिए मनोज बाजपेयी के उस 24 साल पुराने किरदार के बारे में, जो एक बार फिर करने जा रहे हैं

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Sonchiriya: Upcoming film starring Manoj Bajpayee, Sushant Singh Rajput and Bhumi Pednekar directed by Abhishek Chaubey

पोस्टमॉर्टम हाउस

मूवी रिव्यू: केदारनाथ

सारा अली खान इस साल की सबसे प्रॉमिसिंग डेब्यू एक्ट्रेस लगती हैं.

नरेंद्र मोदी को दी गई टी-शर्ट में लिखे 'मोदी 420' का क्या किस्सा है?

और हां! हम भारतवासियों के लिए एक बहुत बड़ी खुशखबरी भी है, बेशक उसके लिए 4 साल का इंतज़ार करना पड़ेगा.

श्वास, नैशनल अवॉर्ड विजेता वो फिल्म जिसने मराठी सिनेमा को ऑस्कर एंट्री तक पहुंचाया

क्या गुज़रती है जब पता चलता है आपके किसी अज़ीज़ के आंखों की रोशनी हमेशा के लिए जाने वाली है!

फिल्म रिव्यू: 2.0

चिट्टी के रोल में रजनीकांत इंट्रेस्टिंग लगते हैं, वहीं अक्षय कुमार जितना तूफान मचा सकते थे उन्होंने मचाया है.

फिल्म रिव्यू: भैयाजी सुपरहिट

फिल्म में जितनी मेहनत डायलॉग में की गई है, उसका आधा भी अगर कहानी में किया गया होता, तो 'भैयाजी सुपरहिट' एक कायदे की फिल्म बन सकती थी, जो ये बनते-बनते रह गई.

फ़िल्म रिव्यू: टाइगर्स

बहुत सताए लगते हो बेटा, तभी मुर्गी के गू में भी उम्मीद तलाश रहे हो!

फिल्म रिव्यू: 'नाळ'

क्या हुआ जब एक बच्चे को पता चला उसकी मां सौतेली है?

फिल्म रिव्यू: पीहू

अगर आप इस फिल्म को देखने के बाद किसी निष्कर्ष पर पहुंचना चाहते हैं, तो आप किसी गलत ऑडिटोरियम में घुस गए हैं.

फिल्म रिव्यू: ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान

आप कभी बाज़ार में घूमते हुए मुंह के स्वाद के लिए कुछ खा लेते हैं. लेकिन वो खाना आप रोज नहीं खा सकते क्योंकि उससे हाजमा खराब होने का डर बना रहता है. 'ठग्स...' वही है.

इस नए वायरल वीडियो में मोदी एक विकलांग बुजुर्ग का अपमान करते क्यूं लगते हैं?

जिनका अपमान होने की बात कही जा रही है, वो बुजुर्ग गुजरात में मुख्यमंत्री से ज़्यादा बड़ी हैसियत रखते हैं!