Submit your post

Follow Us

क्या आपको पता है हेमा को 'ड्रीम गर्ल' कहना भी एक स्ट्रैटजी थी?

2.24 K
शेयर्स

मैंने अभी-अभी हेमा मालिनी की अधिकृत बायोग्राफी Beyond The Dream Girl खत्म की है. इसे लिखा हैं राम कमल मुखर्जी ने. छापा है Harper Collins ने. किताबें वगैरह नहीं पढ़ी जाती हमसे लेकिन क्या करते, सिनेमा था तो पढ़ गए. ऊपर से सरपंच ने जीना दूभर कर दिया था सो अलग. बढ़ते वक्त के साथ तंज का तीखापन बढ़ता जा रहा था. अब खत्म हो गई है. खत्म होने के साथ ही मुझे दे गई है कुछ मज़ेदार किस्से. आपके लिए भी लाए हैं. 

हेमा मालिनी के बुक लॉन्च के मौके पर दीपिका पादुकोण भी मौजूद थीं.
हेमा मालिनी के 69वें (16 अक्टूबर 2017) जन्मदिन पर उनकी अधिकृत बायोग्राफी लॉन्च की गई.

#1. हेमा मालिनी को अपनी पहली ही फिल्म के लिए बदलना पड़ा था नाम

पहला किस्सा हेमा मालिनी के फिल्मों में आने का है. वो कभी फिल्मों में नहीं आना चाहती थीं. उन्हें डांस से बहुत प्यार था और वो उसमें प्रशिक्षित भी थीं. वही करना चाहती थीं. साउथ के एक बड़े प्रोड्यूसर थे सीवी श्रीधर. उन्होंने एक बार हेमा को परफॉर्म करते देखा. फिर अपनी फिल्म में साइन करने का मन बना लिया लेकिन उसके लिए उनकी एक शर्त थी कि उन्हें अपना नाम बदलकर ‘सुजाता’ रखना पड़ेगा. उस घटना के सात साल पहले रिलीज़ हुई थी बिमल रॉय की ‘सुजाता’ जो श्रीधर की फेवरेट फिल्म थी. उनका कहना था कि हेमा मालिनी नाम ठीक नहीं है और काफी पुराने स्टाइल का है.

श्रीधर ने अपनी फेवरेट फिल्म 'सुजाता'की मुख्य किरदार के नाम पर हेमा का नाम रखना चाहते थे.
फिल्म ‘सुजाता’ (1959) के एक सीन में सुनील दत्त और नूतन.

सब कुछ तय हो गया लेकिन हेमा को फिल्मों में काम करने में कोई दिलचस्पी नहीं थी. वो अपने डांस पर ही फोकस करना चाहती थीं. पापा भी फिल्मों में काम करने के सख्त खिलाफ थे लेकिन मां का कहना था कि एक बार कर के देखने में कोई हर्ज़ नहीं है.उनकी की मां जया चक्रवर्ती की बचपन से ही हेमा पर मजबूत पकड़ थी और उनके तकरीबन सभी फैसले वही लेती थीं. इस बार भी वही हुआ और हेमा ने फिल्म के लिए हामी भर दी.

हेमा कभी फिल्मों में नहीं आना चाहती थीं लेकिन अपनी मां कि इच्छी पूरी करने के लिए एक फिल्म करना चाहती थीं.
अपनी मां की इच्छी पूरी करने के लिए हेमा ने फिल्म के लिए हामी भरी.

श्रीधर ने भी बज़ क्रिएट करने के लिए हर जगह ये कहना शुरू कर दिया कि वो अपनी आने वाली फिल्म में साउथ की स्टार जयललिता के साथ एक नई लड़की को लॉन्च करने वाले हैं. फिल्म की शूटिंग बस शुरू होने ही वाली थी कि हेमा को फिल्म से निकाल दिया गया है. ये खबर हेमा के लिए एक झटके की तरह थी लेकिन उन्हें महसूस नहीं हुई. उलटा वो खुश हो गईं. उनकी मम्मी हालांकि इस खबर से बहुत दुखी थीं. यहां तक सब ठीक चल रहा था. मामला तब बहुत बिगड़ गया जब श्रीधर ने मीडिया में अपने फिल्म की अनाउंसमेंट की. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में श्रीधर ने कहा कि उन्होंने फिल्म से हेमा को निकालकर जयललिता के साथ किसी और लड़की को साइन कर लिया है. जब फिल्म से उन्हें निकालने की वजह पूछी गई तो उन्होंने कहा कि हेमा में स्टार बनने की काबिलियत और क्षमता नहीं है. इस बार ये बात हेमा को लग गई.

#2. राज कपूर ने पहले ही हेमा के सुपरस्टार बनने की भविष्यवाणी कर दी थी

हेमा अब किसी भी हाल में एक फिल्म करना चाहती थीं. ठीक उसी समय राज कपूर को अपनी नई फिल्म के लिए एक साउथ इंडियन लड़की की तलाश थी. राज कपूर मशहूर डायरेक्टर के. सुब्रमण्यम के घर पहुंचे और अपनी ख्वाहिश बताई. सुब्रमण्यम और राज कपूर के पापा पृथ्वीराज कपूर एक दूसरे को लंबे समय से जानते थे. राज कपूर, सुब्रमण्यम की बेटी और क्लासिकल डांसर पद्मा सुब्रमण्यम को अपनी फिल्म में लेना चाहते थे. पद्मा फिल्मों में नहीं आना चाहती थीं और पहले ही एमजीआर और सत्यजीत रे जैसे डायरेक्टर्स को मना कर चुकी थीं. पद्मा के पिता ने राज कपूर को हेमा का नाम सुझाया. जिस परफॉर्मेंस के बाद सीवी श्रीधर ने हेमा को फिल्म के लिए चुना था, वो शो डायरेक्टर के. सुब्रमण्यम ने ही हेमा के लिए ऑर्गनाइज़ करवाया था. इसलिए वो उन्हें जानते थे और उनकी कला पर भरोसा करते थे.

राज कपूर पहले के सुब्रमण्यम की बेटी को अपनी फिल्म में साइन करना चाहते थे लेकिन उनके कहने पर हेमा को साइन कर लिया.
राज कपूर पहले अपनी फिल्म में के सुब्रमण्यम की बेटी और क्लासिकल डांसर पद्मा को लेना चाहते थे . 

राज कपूर हेमा का नाम सुनकर और पद्मा को और सोचने का वक्त देकर वापस लौट आए. इसके बाद उन्होंने हेमा पर रिसर्च शुरू की. रिसर्च में हेमा को एक फिल्म से निकाल देने वाली बात सामने आई. खबर डायरेक्टर के. सुब्रमण्यम तक पहुंची. उस वक्त उनका नाम ही डायरेक्टर के. सुब्रमण्यम हुआ करता था. उन्होंने राज कपूर से कहा कि अगर ‘इस लड़की ने अपने काम से सुर्खियां नहीं बटोरीं तो मैं अपने नाम में डायरेक्टर लगाना छोड़ दूंगा’. इसके बाद राज कपूर ने अपनी फिल्म ‘सपनों का सौदागर’ के लिए हेमा मालिनी नाम की एक नई लड़की को साइन कर लिया.

सपनों का सौदागर के पोस्टर में हेेमा मालिनी.
‘सपनों का सौदागर’ (1968) के पोस्टर में हेेमा मालिनी.

कुछ दिनों बाद हेमा को आर के स्टूडियोज़ बुलाया गया जहां राज कपूर खुद उनका स्क्रीन टेस्ट लेने वाले थे. यहां राज कपूर के अलावा मशहूर डायरेक्टर के.आसिफ और म्यूज़िक डायरेक्टर शंकर (शंकर-जयकिशन वाले) भी मौजूद थे. हेमा नर्वस हो गईं लेकिन राज कपूर ने उन्हें रिलैक्स किया और कैमरे के सामने ले गए. हेमा ने जैसे-तैसे वो सीन पूरा किया और राज साहब के रिएक्शन का इंतज़ार करने लगीं. राज पहले कुछ देर तो कैमरे में ही देखते रहे फिर आसिफ की ओर मुड़कर कहा कि ये लड़की इंडियन सिनेमा की अगली सुपरस्टार बनेगी.

#3. हेमा को ‘ड्रीम गर्ल’ का तमगा देने वाले ने ही उनके साथ सबसे बड़ा धोखा किया

हेमा की पहली फिल्म थी ‘सपनों का सौदागर’ (1968) जिसमें उनके हीरो थे सुपरस्टार राज कपूर. फिल्म को प्रोड्यूस कर रहे थे बी अनंतस्वामी. अपनी फिल्म को सेंसेशन्लाइज़ करने के लिए मेकर्स कुछ वन लाइनर्स टाइप ढूंढ रहे थे. वो कुछ ऐसा चाहते थे जिससे लोगों का उनकी फिल्म में इंट्रेस्ट बढ़े. ऐसे में अनंतस्वामी को एक आइडिया आया. फिल्म के पोस्टर्स पर हेमा के फ़ोटो के नीचे ‘राज कपूर्स ड्रीम गर्ल’ लिख दिया गया. लेकिन ये उन्हें कुछ अधूरा सा लग रहा था. इसे पूरा करने के लिए एक टैगलाइन क्रिएट की गई ’45 year old Raj Kapoor with 20 year old Hema Malini’. ये एक पब्लिसिटी स्टंट जैसा था. हालांकि ये स्टंट भी कुछ काम नहीं आया और फिल्म ने औसत बिज़नेस किया. फिल्म की रिलीज़ के बाद मीडिया और फैंस हेमा को ‘ड्रीम गर्ल’ ही बुलाने लगे. ये हेमा के लिए काफी फायदेमंद रहा.

फिल्म को प्रोमोट करने के लिए उसके पोस्टर्स पर ड्रीम गर्ल लिखवाया गया था.
फिल्म को प्रमोट करने के लिए उसके पोस्टर्स पर ड्रीम गर्ल लिखवाया गया था.

‘सपनों का सौदागर’ के आखिरी स्टेज में हेमा और उनकी मां जया को ढेरों कॉन्ट्रैक्ट साइन करने पड़े. ऊपर से नई फिल्मों के कॉन्ट्रैक्ट्स भी थे. जबकि हेमा इस फील्ड में नई थीं और उन्हें इन चीज़ों की ज़्यादा जानकारी नहीं थी. ऐसे में पेपरवर्क का काम उन्हें लॉन्च करने वाले अनंतस्वामी को दे दिया गया. सारा काम हो जाने के बाद हेमा और उनकी मां को बस पेपर पर सिग्नेचर करने होते थे. एक बार कोई पेपर साइन करते वक्त जया का ध्यान एक क्लॉज़ पर गया लेकिन उन्हें समझ नहीं आया. उन्होंने हेमा से पूछा लेकिन उन्हें भी इसकी कोई जानकारी नहीं थी. क्लॉज़ समझने के लिए अनंतस्वामी बुलवाए गए. वो क्लॉज़ था कि हेमा अब कौन सी फिल्म करेंगी और कौन नहीं इसका अंतिम फैसला अनंतस्वामी लेंगे, साथ ही फिल्म की मेकिंग के हर स्तर पर मेकर्स को उनकी बात माननी पड़ेगी.

बहुत ढूंढ़ने के बाद भी हमें अनंतस्वामी की कोई फोटो नहीं मिली.
बहुत ढूंढने के बाद भी हमें अनंतस्वामी की कोई फोटो नहीं मिली.

जब ये क्लॉज़ हेमा और उनकी मां जया को समझाया गया तो वो शॉक हो गईं. उन्हें अनंतस्वामी पर बहुत भरोसा था कि वो उनके साथ गलत नहीं करेंगे लेकिन सबसे बड़ा धोखा उन्होंने ही किया. इसके बाद काफी गहमा-गहमी शुरू हो गई और जया ने वो कॉन्ट्रैक्ट फाड़कर फेंक दिया. हेमा और अनंतस्वामी के बीच संबंध खराब हो गए लेकिन हेमा आज भी उन्हें याद करते हुए कहती हैं कि वो अनंतस्वामी की वजह से ही फिल्मों में आईं और आज भी उनकी उतनी ही इज़्जत करती हैं. हालांकि बी अनंतस्वामी अब इस दुनिया में नहीं हैं.

#4. जब एक बड़ी फिल्म की हीरोइन अपनी ही फिल्म के प्रीमियर पर हेमा से ऑटोग्राफ लेने आई

80 के दशक में हेमा ने फिल्म इंडस्ट्री में अपना मकाम बनाना शुरू कर दिया था. लोगों ने उन्हें बतौर स्टार, फिल्म लॉन्च और प्रीमियर पर बुलाना शुरू कर दिया था. एक बार राज कपूर ने उन्हें अपने प्रोडक्शन की फिल्म ‘बॉबी’ के म्यूज़िक लॉन्च पर बुलाया था. जब हेमा वहां पहुंचीं तो उनका ऑटोग्राफ लेने के लिए लोगों की भीड़ लग गई. उसी भीड़ में एक लड़की भी थी, जिसे बाद में राज कपूर की पत्नी कृष्णा ने हेमा से मिलवाया. वो फिल्म ‘बॉबी’ की लीड हिरोइन डिम्पल कपाड़िया थीं.

अपनी पहली फिल्म 'बॉबी' के गाने 'हम तुम एक कमरे में बंद हो' के एक सीन में डिम्पल कपाड़िया.
अपनी पहली फिल्म ‘बॉबी’ के गाने ‘हम तुम एक कमरे में बंद हो’ के एक सीन में डिम्पल कपाड़िया.

बाद के दिनों में हेमा और डिम्पल की बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी. जब भी राजेश खन्ना और हेमा कोई फिल्म साथ में करते थे तो हेमा और डिम्पल को एक साथ काफी टाइम स्पेंड करने का मौका मिलता. इससे इनकी दोस्ती और गहरी हो गई. हेमा अपनी किताब में एक किस्सा बताती हैं जिससे पता चलता है कि उन दोनों का कॉम्बिनेशन कितना लीथल था. एक बार हेमा, राजेश खन्ना के साथ शिमला में किसी फिल्म की शूटिंग कर रही थीं. डिम्पल भी वहीं थीं.

दोनों की दोस्ती इतनी गहरी थी कि हेमा ने अपने डायरेक्टोरियल डेब्यू 'दिल आशना है' में भी डिंपल को लिया था.
दोनों की दोस्ती इतनी गहरी थी कि हेमा ने अपनी डायरेक्टोरियल डेब्यू फिल्म ‘दिल आशना है’ में भी डिंपल को अहम किरदार में लिया था.

पैक अप के बाद सब लोग अपने-अपने ग्रुप के साथ बैठकर देर रात तक बातचीत करते थे. ऐसे ही बात करते हुए किसी ने होशियारपुर के भृगु जी ज्योतिषी की बात छेड़ दी. अब ये डिसाइड हुआ कि रातों-रात ही भृगु जी से मिलना है. दस-साढ़े दस का समय हुआ होगा हेमा और डिम्पल अपनी गाड़ी और ड्राइवर के साथ निकल पड़े. ज्योतिषी जी अच्छे-खासे दूर रहते थे. आधे रास्ते पहुंचने तक ड्राइवर ने हाथ खड़े कर दिए. बताया कि आगे का रास्ता खतरनाक है इसलिए वो नहीं जाएगा. उसके बाद दोनों लड़कियों को वापस लौटना पड़ा.

#5. जब हवा में लटकी हेमा को देव आनंद ने अपने ह्यूमर से रिलैक्स किया

बिहार के राजगीर में फिल्म ‘जॉनी मेरा नाम’ की शूटिंग चल रही थी. राजगीर के एक मंदिर में गाना ‘ओ मेरे राजा’ शूट होने वाला था. इसके लिए फिल्म के लीड पेयर हेमा और देव साहब को केबल कार यानि हवा में लटकी रस्सी वाली गाड़ी से पहाड़ के दूसरी तरफ बने मंदिर में जाना था. शूटिंग शुरू हई. दोनों एक्टर्स तमाम सुरक्षा व्यवस्था के साथ केबल कार में सवार हुए. देव आनंद और उनकी गोद में हेमा मालिनी. जैसे ही गाड़ी बीच में पहुंची अचानक से रुक गई. एक ओर डायरेक्टर परेशान थे तो दूसरी ओर हेमा की सांस अटकी पड़ी थी. हेमा बहुत डर गईं. मौके की नजाकत को भांपते हुए देव साहब ने हंसी-मजाक करना शुरू कर दिया तब कहीं जाकर हेमा की सांस में सांस आई. इस सब के बाद जब शूट खत्म हुआ तब पता चला कि ये नीचे खड़े किसी फैन की शरारत थी. जो अपने पसंदीदा सितारों की एक झलक पाना चाहता था.

केबल कार वाले सीन को शूट करने में हेमा के पसीने छूट गए थे.
केबल कार वाले सीन को शूट करने में हेमा के पसीने छूट गए थे.

#6. जब अपनी सौतेली मां से पहली बार मिले सनी देओल

हेमा और धर्मेंद्र की शादी के बाद उनकी पहली पत्नी और बच्चों में दिक्कत होना लाजिमी था. मगर धर्मेंद्र और उनकी दोनों फैमिलीज़ ने इन चीज़ों को बहुत ही ग्रेसफुली हैंडल किया. उनसे जुड़ा किसी भी तरह का कोई विवाद पब्लिक में नहीं आया. अंदरुनी समस्या तो बेशक रही ही होगी. सिर्फ एक ही चीज़ जिसका पब्लिक अंदाजी लगा पाई थी, वो ये कि सनी और बॉबी हेमा से बात नहीं करते हैं. फिर एक समय पर सनी ने लोगों की ये गफ़लत भी दूर कर दी.

अपनी पहली पत्नी और बच्चों के साथ धर्मेंद्र.
अपनी पहली पत्नी और बच्चों के साथ धर्मेंद्र.

हेमा एक्टिंग छोड़ डायरेक्शन में हाथ आजमा रही थीं. साल था 1992 का था. फिल्म ‘दिल आशना है’ बन रही थी. टीवी में काम करने वाले एक नए लड़के को साइन किया गया था. कुछ शाहरुख खान नाम था. साथ में दिव्या भारती, सोनू वालिया, डिम्पल कपाड़िया, अमृता सिंह, जीतेंद्र और मिथुन भी थे. हेमा फिल्म में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहती थीं. हर चीज़ ग्रैंड लेवल पर हो रही थी. एक गाने के लिए एरोप्लेन और पैराग्लाइडिंग वाला सीक्वेंस भी रखा गया था. ये गाना फिल्म में दिव्या की मां का किरदार निभा रही डिम्पल और मिथुन पर फिल्माया जाने वाला था. फिल्म में मिथुन का गेस्ट अपीयरेंस था.

फिल्म के हवा में शूट होने सीन्स को लेकर डिम्पल बहुत डरी हुई थीं.
फिल्म के हवा में शूट होने वाले सीन्स को लेकर डिम्पल बहुत डरी हुई थीं.

लेकिन एक दिक्कत थी. हाल में ही हुए प्लेन एक्सीडेंट में एक पायलट की मौत के बाद हेमा की खास दोस्त मानी जाने वाली डिम्पल वो सीन करने से कतरा रही थीं. हेमा की बतौर डायरेक्टर ये पहली फिल्म थी. इसलिए डिम्पल उनसे उस सीन के बारे में बात करने में हिचक रही थीं. ऐसे में डिम्पल ने अपने खास दोस्त और कई फिल्मों में को-स्टार रहे सनी देओल से बात की और उन्हें हेमा से उस सीन के बारे में डिस्कस करने को कहा. सनी इंडस्ट्री में अपनी जेंटलमेन स्पिरिट के लिए जाने जाते थे. तैयार हो गए. सनी हेमा से मिलने फिल्म के सेट पर पहुंचे, जहां हेमा ने उन्हें डिम्पल की सेफ्टी के बारे में आश्वस्त किया. इसके बाद ये सीन शूट हुआ. ये पहली बार था जब हेमा और सनी मिले थे. इसके बाद से दोनों में कामचलाऊ ही सही मगर बातचीत शुरू हो गई.


वीडियो देखें:


ये भी पढ़ें:

वो हकलाता था तो उसके प्यार से ‘डर’ लगता था

‘साथ काम करने वाली लड़की’ ने किया शाहरुख की प्राइवेट लाइफ का खुलासा!

ओह शाहरुख़, तुमने दिल तोड़ दिया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो 15 गाने, जिनके बिना छठ पूजा अधूरी है

पुराने गानों के बिना व्रत ही पूरा नहीं होता.

राग दरबारी : वो किताब जिसने सिखाया कि व्यंग्य कितनी खतरनाक चीज़ है

पढ़िए इस किताब से कुछ हाहाकारी वन लाइनर्स.

वो 8 कंटेस्टेंट जो 'बिग बॉस' में आए और सलमान खान से दुश्मनी मोल ले ली

लड़ाईयां जो शुरू घर से हुईं लेकिन चलीं बाहर तक.

जॉन अब्राहम की फिल्म का ट्रेलर देखकर भूतों को भी डर लगने लगेगा

'पागलपंती' ट्रेलर की शुरुआत में जो बात कही गई है, उस पर सभी को अमल करना चाहिए.

मुंबई में भी वोट पड़े, हीरो-हिरोइन की इंक वाली फोटो को देखना तो बनता है बॉस!

देखिए, कितने लाइक्स बटोर चुकी हैं ये फ़ोटोज.

जब फिल्मों में रोल पाने के लिए नाग-नागिन तो क्या चिड़िया, बाघ और मक्खी तक बन गए ये सुपरस्टार्स

अर्जुन कपूर अगली फिल्म में मगरमच्छ के रोल में दिख सकते हैं.

जब शाहरुख की इस फिल्म की रिलीज़ से पहले डॉन ने फोन कर करण जौहर को जान से मारने की धमकी दी

शाहरुख करण को कमरे से खींचकर लाए और कहा- '' मैं भी पठान हूं, देखता हूं तुम्हें कौन गोली मारता है!''

इस अजीबोगरीब साइ-फाई फिल्म को देखकर पता चलेगा कि लोग मरने के बाद कहां जाते हैं

एक स्पेसशिप है, जो मर चुके लोगों को रोज सुबह लेने आता है. लेकिन लेकर कहां जाता है?

वो इंडियन डायरेक्टर जिसने अपनी फिल्म बनाने के लिए हैरी पॉटर सीरीज़ की फिल्म ठुकरा दी

आज अपना 62 वां बड्डे मना रही हैं मीरा नायर.

अगर रावण आज के टाइम में होता, तो सबसे बड़ी दिक्कत उसे ये होती

नम्बर सात पढ़ कर तो आप भी बोलेंगे, बात तो सही है बॉस.