Submit your post

Follow Us

इन 6 ज़बरदस्त फिल्मों में कोरोना जैसी महामारी दिखाई गई है

कोरोना वायरस की वजह से लोगों ने खुद को घर में आइसोलेट कर लिया है. घर बैठे हैं, तो कोई फिल्म ही देख लीजिए. आज बात करेंगे ऐसी 6 फिल्मों के बारे में, जिन्होंने वायरस से फैलने वाली महामारी को दिखाया है

1. वायरस‘ (2019) –   मलयाली भाषा की इस इंडियन फिल्म को डायरेक्ट किया है आशिक अबू ने.

2018 में केरल में नीपा वायरस फैल गया था. कोझिकोड और मलप्पुरम डिस्ट्रिक्ट में. 17 लोगों की जान गई थी. इस सच्ची घटना से आईडिया लेकर वायरसफिल्म बनाई गई. एक युवक को अस्पताल में भर्ती किया जाता है. बुखार, सरदर्द और वोमिटिंग के लिए. कुछ समय बाद ही उसका ख्याल रखने वाली नर्स को सांस आना मुश्किल हो जाती है. पता चलता है कि यह कोई जानलेवा वायरस है. क्या यह चमगादड़ से फैला है? आतंकवादियों का हथियार है? या दवाई की कंपनियों के माफिया का हथकंडा? पूरे शहर में मरीज़ बढ़ने लगते हैं. अफरातफरी के बीच कुछ वैज्ञानिक और डॉक्टर इस महामारी से टक्कर लेते हैं.

कहां देखेंः आप इस फिल्म को अमेज़न प्राइम वीडियो पर देख सकते हैं. फिल्म का ट्रेलर – 

2. 28 डेज़ लेटर (2002) – इसे डायरेक्ट किया है डैनी बॉयल ने. जिन्होंने स्लमडॉग मिलियनेयर भी बनाई थी.

जिम कोमा में है. 28 दिन बाद कोमा से बाहर आता है. देखता है कि दुनिया तहसनहस हो चुकी है. चिंपांज़ी से एक खतरनाक वायरस फैला, और फैलता ही गया. जिस व्यक्ति में वायरस आ जाए, वो बन जाता है ज़ॉम्बी. मतलब एक खून की प्यासी ज़िंदा लाश. पूरे शहर में ऐसे ज़ॉम्बी घूम रहे हैं. बचे हुए चार इंसान कब तक खुद को ज़ॉम्बी की दुनिया से बचा पाएंगे?

कहां देखेंः यह फिल्म यूट्यूब रेंटल, हुलु और प्राइम वीडियो पर देख सकते हैं.

28 Days Later
फिल्म ’28 डेज़ लेटर’ का पोस्टर

3. आउटब्रेक (1995) – डायरेक्टर हैं वोल्फगैंग पीटरसन

अफ्रीका के जंगल में मिला है मोटाबा वायरस. वहां से एक बंदर को स्मगलिंग के ज़रिए अमेरिका में लाया जाता है. एनिमल टेस्टिंग लेबोरेटरी का एक कर्मचारी बंदर को चुरा लेता है. ब्लैक मार्किट में उसे बेच देता है. सब जगह वायरस फैल जाता है, तो पूरे शहर को आइसोलेट कर दिया जाता है. किसी का प्लान है उस शहर पर बम डालकर वायरस आउटब्रेक को रोकना. तो कोई वायरस से बायोलॉजिकल वैपन बनाने की फ़िराक में है. इन सब साजिशों के बीच महामारी से लड़ रहे आर्मी अफसर लोगों को बचाने के लिए किस हद तक जाएंगे?

कहां देखेंः अमेज़न रेंटल पर आप यह फिल्म देख सकते हैं.

Outbreak Photo 8 272930448
‘आउटब्रेक’ फिल्म का एक सीन

4. कंटेजियन (2011) – इसे डायरेक्ट किया स्टीवन सोडरबर्ग ने.

चमगादड़ और सूअर से वायरस फैल गया है. दुनिया के अलगअलग हिस्सों में लोग मर रहे हैं. अमेरिका के सेंटर फॉर डिज़ीज़ एंड कंट्रोल में डॉक्टर एली इसे रोकने के लिए वैक्सीन बना रही है. वह उसे अपने पिता पर टैस्ट करती है. इस वैक्सीन के लिए भीड़ लग जाती है, तो उसे लॉटरी से बांटा जाता है. कॉन्सपिरेसी थ्योरिस्ट एलेन कहता है कि उसने अपना इलाज फोरसाइथिया नाम के होमियोपेथिक दवाई से किया है. इस दवाई के लिए फार्मेसी पर लाइन लग जाती है. हॉन्गकॉन्ग में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डबल्यू.एच..) के डॉक्टर को किडनेप कर लिया गया है. क्या इस पैनिक के बीच वायरस को रोका जा सकेगा, और दुनिया में फिर से शांति आएगी?

कहां देखेंः फिल्म के रिव्यू अच्छे थे. दर्शकों ने भी इसे खूब पसंद किया था. आप इस फिल्म को अमेज़न रेंटल पर देख सकते हैं.

Contagion
‘कंटेजियन’ फिल्म का एक सीन

5. ब्लाइंडनेस (2008) – इसके डायरेक्टर हैं फर्नेंडो मरिल्स, जिन्होंने सिटी ऑफ़ गॉड्सऔर टू पोप्सबनाई हैं.

यह थ्रिलर फिल्म नोबेल प्राइज़ विजेता होस सैरामेगो की नॉवल ब्लाइंडनेसपर आधारित है. जापान में एक लड़के को कार चलाते हुए दिखना बंद हो जाता है. जिस डॉक्टर के पास वह जाता है, वह डॉक्टर भी अंधा हो जाता है. महामारी फैल रही है. सब अंधे हो गए लोगों को एक क्वारंटीन में डाल दिया जाता है. डॉक्टर की पत्नी उसके साथ जाने के लिए अंधे होने का नाटक करती है. कैंप के अंदर पहले खाने की कमी के कारण लड़ाई शुरू होती है. फिर इंसानियत मरने लगती है. कैंप के बाहर शहर में भी स्थिति गड़बड़ हो चुकी है. लोगों को केवल वायरस से नहीं, बल्कि एक दूसरे की शैतानियत से भी बचना है.

कहां देखेंः इस फिल्म को आप अमेज़न रेंटल पर देख सकते हैं. फिल्म का ट्रेलर यहां देख सकते हैं – 

6. द हॉट ज़ोन (2019) – यह छह एपिसोड की टेलीविज़न मिनीसीरीज़ माइकल उपेन्डाहल और निक मर्फी ने डायरेक्ट की है.

यह फिल्म रिचर्ड प्रेस्टन की इसी नाम की किताब पर बनी है. वॉशिंगटन की एक लैब में बंदरों में इबोला वायरस देखा जाता है. डॉक्टर नैंसी को चिंता है कि यह अमेरिका में फैल सकता है. उन्हें और उनके रिसर्च पार्टनर पीटर को समझ आता है कि वायरस को फैलने से रोकने के लिए मामले को अपने हाथों में लेना होगा. वे एक लैब कर्मचारी से चुपचाप एक इंफेक्टेड बंदर का सैंपल लेती हैं. लेकिन वायरस फैल ही जाता है. डॉक्टर नैंसी को इसका इलाज ढूंढना है. साथ ही अपने परिवार को संभालने की चुनौती भी है.

कहां देखेंः आप इसे वुडूआई.ट्यून्स या यूट्यूब टीवी पर देख सकते हैं.

The Hot Zone 840x480
‘द नेशनल जियोग्राफिक’ की टीवी सीरीज़ ‘द हॉट जोन’ से एक सीन

Video – कोरोना वायरस और खांसी के डॉक्टर ने जो बताया, मरीज ताली ही बजाने लगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

शी- नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

किसी महिला को संबोधित करने के लिए जिस सर्वनाम का इस्तेमाल किया जाता है, उसी के ऊपर इस सीरीज़ का नाम रखा गया है 'शी'.

असुर: वेब सीरीज़ रिव्यू

वो गुमनाम-सी वेब सीरीज़, जो अब इंडिया की सबसे बेहतरीन वेब सीरीज़ कही जा रही है.

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी.

गिल्टी: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

#MeToo पर करण जौहर की इस डेयरिंग की तारीफ़ करनी पड़ेगी.

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.

देवी: शॉर्ट मूवी रिव्यू (यू ट्यूब)

एक ऐसा सस्पेंस जो जब खुलता है तो न सिर्फ आपके रोंगटे खड़े कर देता है, बल्कि आपको परेशान भी छोड़ जाता है.

ये बैले: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

'ये धार्मिक दंगे भाड़ में जाएं. सब जगह ऐसा ही है. इज़राइल में भी. एक मात्र एस्केप है- डांस.'

फिल्म रिव्यू- थप्पड़

'थप्पड़' का मकसद आपको थप्पड़ मारना नहीं, इस कॉन्सेप्ट में भरोसा दिलाना, याद करवाना है कि 'इट्स जस्ट अ स्लैप. पर नहीं मार सकता है'.

फिल्म रिव्यू: शुभ मंगल ज़्यादा सावधान

ये एक गे लव स्टोरी है, जो बनाई इस मक़सद से गई है कि इसे सिर्फ लव स्टोरी कहा जाए.