Submit your post

Follow Us

कभी पब्लिश न हो पाई किताब पर शाहरुख़ खान की फिल्म बॉबी देओल के करियर को उठा सकेगी!

160
शेयर्स

जब से ओवर द टॉप (OTT) प्लैटफॉर्म आए हैं. माने ‘नेटफ्लिक्स’, ‘अमेज़न प्राइम’ , ‘ज़ी 5’, ‘ऑल्ट बालाजी’ वगैराह. तब से फिल्म इंडस्ट्री के बहुत से एक्टर्स ने खुद को रीइन्वेंट करने के लिए वेब सीरीज़ में अपना हाथ आज़माया है. इन एक्टर्स की लिस्ट में कई नाम शामिल हैं जैसे सैफ अली ख़ान, नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी, अभिषेक बच्चन और इमरान हाशमी. अब इस लिस्ट में एक नया नाम जुड़ गया है, बॉबी देओल का. बॉबी, शाहरुख़ ख़ान की प्रोडक्शन कंपनी के अंडर बन रही वेब फ़िल्म ‘ क्लास ऑफ़ 83’ से वेब की दुनिया में अपने करियर की शुरुआत करने जा रहे हैं. इस फ़िल्म की शूटिंग शुरू हो चुकी है और इसके सेट्स से एक फोटो भी आ गई है. ये फोटो बॉबी देओल ने अपने ट्विटरऔर इंस्टाग्राम हैंडल से शेयर की है. साथ ही कैप्शन में लिखा है-

“मैं वेब वर्ल्ड में नेटफ्लिक्स ओरिजनल फिल्म ‘क्लास ऑफ़ 83’ से शुरुआत करने को लेकर उत्साहित हूं. फिल्म के डायरेक्टर अतुल सभरवाल और प्रोड्यूसर शाहरुख़ खान व गौरव वर्मा हैं.”

फिल्म की कहानी क्या है?

‘क्लास ऑफ़ 83’ की कहानी 1980 में सेट होगी. जब मुंबई पुलिस के ऑफिसर ने एक प्रोग्राम शुरू किया था. जिसमें उन्होंने अंडरवर्ल्ड की गैंग्स से लड़ने के लिए एनकाउंटर विशेषज्ञों और शूटर्स की स्पेशल टीम बनाई थी. कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये कहानी राइटर एस. हुसैन ज़ैदी की अप्रकाशित नॉवल से ली गई है.

कौन है एस. हुसैन ज़ैदी?

ज़ैदी पूर्व जर्नलिस्ट और क्राइम-फिक्शन पर किताबें लिखने के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने मुंबई माफिया पर कई किताबें लिखी हैं. और बेहद विस्तार से समझाते हुए लिखी हैं. उनकी कुछ किताबों जैसे ‘ब्लैक फ्राइडे’, ‘माय नेम इस अबू सालेम’, ‘डोंगरी टू दुबई’ काफी फेमस हैं. उन्हें इंडिया का मारियो पुज़ो कहा जा सकता है. वही पुज़ो जिन्होंने अमेरिकन-इटैलियन माफिया पर नॉवेल्स लिखी हैं. वर्ल्ड फेमस ‘गॉड फादर’ जिसे कल्ट का दर्जा हासिल है, उन्होंने ने ही लिखी है.

एस.हुसैन ज़ैदी
एस.हुसैन ज़ैदी

शाहरुख खान का क्या सीन है?

फिल्म ‘ज़ीरो’ के बॉक्स ऑफिस पर औंधे मुंह गिरने के बाद शाहरुख़ फिलहाल एक्टिंग से ब्रेक लिए बैठे हैं. मगर प्रोड्यूसर की कुर्सी संभाल रखी है. मतलब एक के बाद एक फिल्में प्रोड्यूस करने में लगे हुए हैं. इस लेटेस्ट वेब फिल्म ‘क्लास ऑफ़ 83’ से पहले शाहरुख़ ने हाल ही में आई अमिताभ बच्चन और तापसी पन्नू स्टारर ‘बदला’ प्रोड्यूस की थी. जो ठीक-ठाक हिट रही थी.

SRK के वेब प्रोजेक्ट्स के बाकी बारे में बात करें तो वो नेटफ्लिक्स के लिए एक और वेब सीरीज़ भी बना रहे हैं- ‘बार्ड ऑफ़ ब्लड’. इस सीरीज़ में इमरान हाशमी लीड रोल में है. वो भी इस फिल्म से वेब में अपना डेब्यू करने जा रहे हैं.

बहरहाल, चलते-चलते बॉबी देओल की थोड़ी जानकारी ले लीजिए. पहली ये कि 2018 में बॉबी, सलमान खान की ‘रेस 3’ में बड़े सालों बाद दिखाई दिए थे. दूसरी, आने वाले दिनों में वो अक्षय कुमार के साथ ‘हाउसफुल 4’ में भी नज़र आने वाले हैं. तीसरी, बॉबी के सभी आने वाले प्रोजेक्ट्स के लिए उनके पापा धर्मेंद्र ने आशीर्वाद भी दे दिया है. ये देखिए,


Video:  किताबवाला: कहानी खालिद पहलवान की, जिसे दाउद इब्राहिम का गुरु कहा जाता है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Shah Rukh Khan to produce Class Of 83 a Netflix Original Film Starring Bobby Deol directed by Atul Sabharwal

पोस्टमॉर्टम हाउस

मेड इन हैवन: रईसों की शादियों के कौन से घिनौने सच दिखा रही है ये सीरीज़?

क्यों ये वेब सीरीज़ सबसे बेस्ट मानी जाने वाली सीरीज़ 'सेक्रेड गेम्स' से भी बेस्ट है.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 4 - रिव्यू

सब कुछ तो पिछले एपिसोड में हो चुका, अब बचा क्या?

मूवी रिव्यू: सेटर्स

नकल माफिया कितना हाईटेक हो सकता है, ये बताने वाली थ्रिलर फिल्म.

फिल्म रिव्यू: ब्लैंक

आइडिया के लेवल पर ये फिल्म बहुत इंट्रेस्टिंग लगती है. कागज़ से परदे तक के सफर में कितनी दिलचस्प बन बाती है 'ब्लैंक'.

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

जानिए क्यों राय अपनी वो हॉलीवुड फिल्म न बना पाए, जिसकी कॉपी सुपरहिट रही थी, और जिसे फिर बॉलीवुड ने कॉपी किया.

ढिंचाक पूजा का नया गाना, वो मोदी विरोधी हो गईं हैं

फैंस के मन में सवाल है, क्या ढिंचाक पूजा समाजवादी हो गई हैं?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 3 - रिव्यू

एक लंबी रात, जो अंत में आपको संतुष्ट कर जाती है.

कन्हैया के समर्थन में गईं शेहला राशिद के साथ बहुत ग़लीज़ हरकत की गई है

पॉलिटिक्स अपनी जगह है लेकिन ऐसा घटिया काम नहीं होना था.

एवेंजर्स एंडगेम रिव्यू: 11 साल, 22 फिल्मों का ग्रैंड फिनाले, सुपरहीरोज़ का महाकुंभ और एक थैनोस

याचना नहीं, अब रण होगा!

क्या शीला दीक्षित ने कहा कि सरकारी स्कूल में बूथ न बनें, वरना लोग स्कूल देख AAP को वोट दे देंगे?

ज़ी रिबप्लिक के बाकी ट्वीट पढ़ेंगे तो पूरा मामला क्लियर हो जाएगा.