Submit your post

Follow Us

गुजरात चुनाव की डेट आने में असली पेच ये है!

मौसम बदल रहा है. विंटर इज कमिंग ब्रो. लेकिन चुनावों की वजह से हिमाचल और गुजरात में गर्मी बढ़ रही है. हिमाचल का तो प्रि इलेक्शन खेला शुरू हो गया है. वहां बांटने के लिए दारू वारू का इंतजाम हो रहा होगा. लेकिन गुजरात में अइसा लग रहा है कि चुनाव आयोग की भैंस प्रेगनेंट हो गई है. डेट तक निकल के नहीं आ रही. आज यानी 23 अक्टूबर को चुनाव आयोग ने फिर बताया कि हिमाचल का रिजल्ट आने से पहले गुजरात में चुनाव हो जाएगा. ये कौन सी बात हुई? चुनाव जरूर कराएंगे लेकिन तारीख नहीं बताएंगे.

खैर गुजरात में चुनाव की डेट में लेट होने की निम्नलिखित सामाजिक, राजनैतिक, आर्थिक, पारिवारिक, तार्रिक, धार्मिक कारण हो सकते हैं.

1. लटकी हुई जन कल्याणकारी योजनाएं

Feeling alone
Feeling alone

चुनाव आने के ऐन पहले प्रधानमंत्री जी को याद आया कि “ओह शिट, गुजरात में कितने काम पेंडिंग पड़े हैं जिनको देखने का पांच साल में मौका ही नहीं मिला.” फिर वो डेढ़ महीने में पांचवी बार इस वक्त गुजरात में हैं. चुनाव आयोग को लगता है कि डेट लटकाने से अगर पब्लिक का कुछ फायदा होता है तो बुरा सौदा नहीं है.

2. स्याही की बोतल

हम जितनी छोड़ दिया करते थे पैमाने में, उतनी भी नहीं बची पूरे मैखाने में
हम जितनी छोड़ दिया करते थे पैमाने में, उतनी भी नहीं बची पूरे मैखाने में

वोट डालने के बाद जो स्याही मध्यमा में लगाई जाती है उसकी बोतलें खाली हैं. जब तक प्रॉपर स्याही मिल नहीं जाती तब तक चुनाव कराना खतरे से खाली नहीं होगा.

3. केजरीवाल की सहमति

kejriwal-1
तो करो न भई!

चुनाव आयोग केजरीवाल जी के सब्र का इम्तेहान ले रहा है. उसकी इच्छा है कि अरविंद केजरीवाल खुद अपनी तरफ से साफ साफ कह दें “हम नहीं उठाएंगे ईवीएम पर सवाल, अब तो प्लीज चुनाव करा लो सरकार.”

4. बिकाऊ-दलबदलू नेता

बाप बड़ा न भैया
बाप बड़ा न भैया

भाजपा-कांग्रेस में रिशफल आंदोलन चल रहा है. कहीं कोई भाजपा से कांग्रेस में जा रहा है तो कहीं कोई कांग्रेस से भाजपा में. कुछ नेताओं की बोली लग गई है. कुछ ने कम रेट देने की शिकायत की है. चुनाव आयोग कह रहा है कि ये सब पहले आराम से निपट लें. हमारी वजह से किसी का नुकसान क्यों हो?

5. 8 नवंबर का इंतजार

याद तो होगा ही
याद तो होगा ही

2016 का 8 नवंबर याद है. सबसे बड़ा ऐलान रात 8 बजे हुआ था. मोदी जी ने कहा था “भाइयों और बहनों.” फिर सब बदल गया था. चुनाव आयोग भी उसी 8 नवंबर का इंतजार कर रहा है. बिग बैंग होगा.

अब एक वीडियो देख लो लगे हाथ.


ये भी पढ़े:

राजस्थान सरकार वो बिल ले आई है जिसके बाद जवाबदेही बचेगी नहीं

गुजरात चुनाव में वो गंध मचनी शुरू हो गई है, जिसका किसी को अंदाजा नहीं था

पीएम मोदी के ‘जापानी ट्वीट’ में छिपा है सीक्रेट संदेश!

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी.

गिल्टी: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

#MeToo पर करण जौहर की इस डेयरिंग की तारीफ़ करनी पड़ेगी.

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.

देवी: शॉर्ट मूवी रिव्यू (यू ट्यूब)

एक ऐसा सस्पेंस जो जब खुलता है तो न सिर्फ आपके रोंगटे खड़े कर देता है, बल्कि आपको परेशान भी छोड़ जाता है.

ये बैले: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

'ये धार्मिक दंगे भाड़ में जाएं. सब जगह ऐसा ही है. इज़राइल में भी. एक मात्र एस्केप है- डांस.'

फिल्म रिव्यू- थप्पड़

'थप्पड़' का मकसद आपको थप्पड़ मारना नहीं, इस कॉन्सेप्ट में भरोसा दिलाना, याद करवाना है कि 'इट्स जस्ट अ स्लैप. पर नहीं मार सकता है'.

फिल्म रिव्यू: शुभ मंगल ज़्यादा सावधान

ये एक गे लव स्टोरी है, जो बनाई इस मक़सद से गई है कि इसे सिर्फ लव स्टोरी कहा जाए.

फिल्म रिव्यू- भूत: द हॉन्टेड शिप

डराने की कोशिश करने वाली औसत कॉमेडी फिल्म.

फिल्म रिव्यू: लव आज कल

ये वाली 'लव आज कल' भी आज और बीते हुए कल में हुए लव की बात करती है.