Submit your post

Follow Us

व्यंग्य की परिभाषा बताने वाले अमिताभ बच्चन को एक व्यंग्यकार का खुला खत

हेडलाइन में खुद के व्यंग्यकार होने की बात मजाक में लिख दी है. सीरियसली न लेना. कल रात सोने से पहले एक नजर पर ट्विटर पर मारी. वहां बच्चन साब का एक ट्वीट दिखा. उसके बाद नींद बहुत कम आई. नींद में भी बुरे सपने आए. अपने शहर (इलाहाबाद) का नाम बदले जाने का बदला कोई व्यंग्य की परिभाषा बदलकर भी ले सकता है. पहले आप वो ट्वीट देखिए.

ये ट्वीट देखने के बाद मैंने देखा कि वहां स्वर्ग में बाकी के समकालीन साहित्यकार श्री हरिवंश राय बच्चन पर हंस रहे हैं. सब बोल रहे हैं ‘ई का बवासीर बना दिए हो?’ बाबूजी खुद को बेल्टे बेल्ट मार रहे हैं. वो ठहरे कवि हृदय आदमी, इसलिए अपने बच्चन को आई मीन बच्चे को कुछ कह नहीं सकते. कहीं उनकी जगह ठाकुर भानु प्रताप होते तो इस ‘व्यंग’ की परिभाषा देने वाले हीरे को जायदाद से बेदखल कर देते. साहित्यकार के बच्चे ने साहित्य के साथ ऐसा मजाक किया हो, हमारा देश अभी इतना अफेंड होने को तैयार नहीं हुआ है.

खैर, बच्चन साब की परिभाषा समझने से पहले हम इसकी वो परिभाषा जान लें जो शास्त्रों में लिखी है. अमा अपनी NCRT की किताबों में. वहां व्यंग्य के नाम से साहित्य की पूरी विधा है. तो अपना जो व्यंग्य है वो संस्कृत भाषा का शब्द है. हिंदी साहित्य कोष के मुताबिक व्यंग्य बना है वि+अंग से. जिसका मतलब होता है विकृत या विरूप अंग. व्यंग्य का काम यही है कि समाज में जो उल्टा पुल्टा है उस पर उंगली उठाए. उस तरफ ध्यान दिलाए. वो वाली नस इतने कर्रे तरीके से दबाए कि गलत ट्रैक पर चल रहा इंसान या संस्था बिलबिला जाए.

परसाई ने ये लुक बच्चन साब के ट्वीट के लिए दिया था
परसाई ने ये लुक बच्चन साब के ट्वीट के लिए दिया था

हरि नाम से हरिवंश राय बच्चन जी का ही नहीं, एक व्यंग्यकार का भी नाम शुरू होता है. हरिशंकर परसाई. वो नाम व्यंग्य की दुनिया में आज स्टेच्यू ऑफ यूनिटी से बहुत ऊंचा है. उनको पता चलेगा कि सदी के महानायक ने व्यंग्य की ये परिभाषा दी है तो वहां भी उनकी कलम एक जलता हुआ लेख फेंक के मारेगी. परसाई ने ‘सदाचार का तावीज’ में व्यंग्य की परिभाषा लिखी है.

“व्यंग्य जीवन से साक्षात्कार करता है, जीवन की आलोचना करता है, विसंगतियों, मिथ्याचारों और पाखंडों का पर्दाफाश करता है. अच्छा व्यंग्य सहानुभूति का सबसे उत्कृष्ट रूप होता है.”

और भी बहुत से लोगों ने व्यंग्य की अलग अलग परिभाषा, रूप बताए हैं. लेकिन डीटेल में जाएंगे तो यहां आर्टिकल की बजाय किताब लिख जाएगी. हमारे बचपन में हमने देखा कि गांव में कवि सम्मेलन होते थे. आज भी होते हैं लेकिन उनमें कविताएं कम होती हैं. तो उन कवि सम्मेलनों में इलाके के विधायक-सांसद जी, दरोगा जी या तहसीलदार जी बैठे होते थे. सामने खड़ा हास्य कवि उनकी छीछालेदर करता जाता था और वो हंसते थे, ताली बजाते थे. जिन लोगों पर व्यंग्य किया जाता था उन्हें भी महसूस होता था कि ‘गुरू बात तो सही कह रहा है. सिस्टम में कमी तो है हमारे.’

अमिताभ बच्चन ने जो बताई है वो परिभाषा ‘व्यंग’ की तो हो सकती है, व्यंग्य की नहीं. अगर व्यंग्य खतम हो गया तो ऐसा नहीं है कि व्यंग्यकारों, स्टैंडअप कॉमेडियन्स या हास्य कवियों का रोजगार खतम हो जाएगा. उससे भी होगा गुरूजी. लोग ताना मारने की बजाय सिर्फ गाली देना पसंद करेंगे. गाली देना भी कल को आपकी परिभाषा पर सही नहीं बैठेगा. तो जो असहमत हो वो सीधे ईंट मार दे माथे पर. ये आइडिया ठीक है? भई हमको तो लगता था कि व्यंग्यकार डॉक्टर जैसा होता है. जो आपको बीमारी के लक्षण बताता है. ताकि आप उसका समय रहते उपचार कर सके. लेकिन आप बता रहे हैं कि वो कमजोर आदमी होता है. खैर अब आप कह रहे हैं तो हमको मानना पड़ेगा. स्कूटर से लेकर बीमा पॉलिसी और मोबाइल ऐप तक देश आपके कहने पर लेता है. अब आपने व्यंग्य कहने, करने, लिखने वालों को उनकी औकात बता दी है तो अपन चुप ही रहेंगे.


सिर्री बात अमिताभ के साथ, वीडियो देख लो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

आर्मी-एयर फोर्स पर आनेवाली वो 7 फिल्में, जो 2022 को देशभक्ति के रंग में रंग देंगी

आर्मी-एयर फोर्स पर आनेवाली वो 7 फिल्में, जो 2022 को देशभक्ति के रंग में रंग देंगी

कुछ हिस्ट्री की वो कहानियां दिखाएंगी, जो हर इंडियन को जाननी चाहिए.

कपिल शर्मा ने बताया, कैसे पीएम मोदी को किया ट्वीट उन्हें 9 लाख रुपए का फटका दे गया

कपिल शर्मा ने बताया, कैसे पीएम मोदी को किया ट्वीट उन्हें 9 लाख रुपए का फटका दे गया

कपिल शर्मा ने नेटफ्लिक्स स्पेशल I Am Not Done Yet के ट्रेलर में अपने ड्रंक ट्वीट्स पर बात की.

वो लेखक, जिसके नाटकों को अश्लील, संस्कृति के मुंह पर कालिख मलने वाला बोला गया

वो लेखक, जिसके नाटकों को अश्लील, संस्कृति के मुंह पर कालिख मलने वाला बोला गया

जब एक नाटक में गुंडों ने तोड़फोड़ की, तो बालासाहेब ठाकरे को राज़ी करके उसका मंचन करवाया गया.

'स्वदेस' के 16 डायलॉग्स, जिन्होंने सिखाया कि देशभक्ति सिर्फ चीखने से नहीं साबित होती

'स्वदेस' के 16 डायलॉग्स, जिन्होंने सिखाया कि देशभक्ति सिर्फ चीखने से नहीं साबित होती

के. पी. सक्सेना की कलम का जादू पढ़िए.

जब सिनेमा मैग्ज़ींस ने रवीना टंडन का नाम उनके भाई के साथ जोड़ दिया

जब सिनेमा मैग्ज़ींस ने रवीना टंडन का नाम उनके भाई के साथ जोड़ दिया

हालिया इंटरव्यू में रवीना टंडन ने बताया कि उन्होंने कई रातें रोते-रोते गुज़ारी हैं.

नेटफ्लिक्स एंड चिल: 2021 में नेटफ्लिक्स पर आए कंटेंट में ये 26 फ़िल्में और शोज़ टॉप के हैं

नेटफ्लिक्स एंड चिल: 2021 में नेटफ्लिक्स पर आए कंटेंट में ये 26 फ़िल्में और शोज़ टॉप के हैं

हिंदी, इंग्लिश, तमिल, फ्रेंच, स्पेनिश, इटालियन, ब्राज़ीलियन जैसी तमाम भाषाओं के शोज़ और फ़िल्में हैं इस लिस्ट में.

पीएम मोदी का नाम लिए बगैर कपिल शर्मा ने अक्षय कुमार की मौज ले ली

पीएम मोदी का नाम लिए बगैर कपिल शर्मा ने अक्षय कुमार की मौज ले ली

वायरल वीडियो में कपिल, अक्षय कुमार से आम खाने के तरीके पूछते देखे जा सकते हैं.

2021 की 17 दमदार नॉन-हिंदी फिल्में, जिन्हें देखकर लोगों ने हिंदी वालों से कहा- 'ऐसी फ़िल्में बनाओ'

2021 की 17 दमदार नॉन-हिंदी फिल्में, जिन्हें देखकर लोगों ने हिंदी वालों से कहा- 'ऐसी फ़िल्में बनाओ'

बेस्ट ऑफ नॉन-हिंदी सिनेमा.

भारतीय सिनेमा के वो 6 किरदार, जो 2021 में हमारे दिमाग में अटक गए

भारतीय सिनेमा के वो 6 किरदार, जो 2021 में हमारे दिमाग में अटक गए

कोई अपनी फन की वजह से याद रहा, तो कोई अपनी सनक की वजह से. कोई सिर्फ इसलिए याद रहा क्योंकि वो रेगुलर से अलग था.

साल भर चर्चा में रहे ये 10 यू-ट्यूबर्स, किसी को बॉलीवुड में काम मिला तो किसी के खिलाफ FIR हुई

साल भर चर्चा में रहे ये 10 यू-ट्यूबर्स, किसी को बॉलीवुड में काम मिला तो किसी के खिलाफ FIR हुई

इनमें से कितनों को आप फॉलो करते हैं?