Submit your post

Follow Us

ताज देखते वक्त अगर ये काम करते सीएम तो हो जाते ट्रोल!

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ आगरा पहुंच गए हैं. संगीत सोम के लाख समझाने के बावजूद वो वहां गए हैं. दुनिया में कहीं कोई मेहमान जाता है तो लोग वहां एक्स्ट्रा साफ सफाई करके रखते हैं. लेकिन आगरा वाले गजब हैं. ताज के साइड में एक पार्किंग थी. पार्किंग में कूड़ा था. योगी जी को वहां लिए गए. एक पल को मेरा दिमाग सटक गया कि ये कौन सी मेहमाननवाजी है. फिर समझ में आया कि ये उनके ताज दर्शन का पहला पड़ाव है. वो पहला यहां झाड़ू लगाकर फोटो खिंचाएंगे, फिर आगे जाएंगे. वो पड़ाव सफलतापूर्वक संपन्न हुआ.

झाड़ू लगाओ फोटो खिंचाओ योजना की एक तस्वीर: 2017
झाड़ू लगाओ फोटो खिंचाओ योजना की एक तस्वीर: 2017

कुछ लोगों को योगी जी के आगरा पहुंचते ही बरनोल की जरूरत होगी. उनको महंगे पेट्रोल की तरह जलने दो, हम काम की बात बताते हैं. योगी जी को ताज दर्शन के दौरान क्या करना है और क्या नहीं करना है. अगर निम्नलिखित कामों में से कोई भी काम कर लिया तो भद्द पिट जाएगी. हम उनके सच्चे हितैषी हैं. हमाए स्टेट के सीएम हैं इसके नाते बता दे रहे हैं.

1. कैमरे वालों के चक्कर में न पड़ें

न परिवार का झंझट न बीवी बच्चों की कांय कांय. अपना आराम से घूमेंगे. लेकिन एक रिक्वेस्ट है कि अपना स्मार्टफोन और सेल्फी स्टिक खुद लेकर जाएं. वहां जो दुपुन्नी भर के कैमरे लिए घूमते हैं. लूटते हैं साले. और अपनो फोन से भी फोटो खींचने के लिए सेल्फी स्टिक बहुत जरूरी है.

2. वो वाला पोज न दें

एक तो जब कैमरे वाले नहीं होंगे तो ताज के गुंबद को चुटकी में पकड़ने वाला पोज देने को कोई न कहेगा. लेकिन फिर भी लोगों को देखकर मन में इच्छा हो सकती है. लोगों को खाते देख भूख बढ़ती है न. तो वो वाले पोज में फोटू न खींचें. और खींचें भी तो फेसबुक पर न डालें.

2. आधार से लैस रहें, कैशलेस न रहें

आधार कार्ड लेकर जाएं. नहीं तो वहां बांग्लादेशी या पाकिस्तानी समझ के सिक्योरिटी घुसने नहीं देगी. और ढाई तीन सौ रुपए कुर्ते में डाल के जाएं को अच्छा रहेगा. वहां गेट पर पकड़ा देंगे तो जल्दी किसी सीक्रेट गली से अंदर करा देंगे.

3. मोजा छेद वाला न पहन के जाएं

वहां बस स्टेशन पर मिलने वाले 20 रुपए के छेद वाले मोजे पहन के न जाएं. वहां जूते उतारने पड़ते हैं. तब ये मोजे बड़े गंधइले लगते हैं.

4. कब्र के पास ज्यादा देर न रुकें

वहां सिक्योरिटी वाले कुछ काम तो करते नहीं. बस जो रुका है उसको आगे बढ़ाते रहिते हैं. तो आप भी वहां न रुकें. अपनी इज्जत अपने हाथ है भाई.

5. चिप्स के पैकेट न फेंकें

बहुत लोग घर से भूखे ही जाते हैं. वहां खाने पीने की चीजें मिलते ही टूट पड़ते हैं. कायदे से वो इतनी साफ जगह है कि योगी जी को अंदर झाड़ू लगाने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी. लेकिन अगर मन में कचरा करके झाड़ू लगाने के भाव उत्पन्न हो रहे हैं तो कंट्रोल करें. सिक्योरिटी वाले दुष्ट हैं. देखेंगे नहीं कि सामने कौन है, बेइज्जत कर देंगे.

6. ऑटो वालों से बच के रहें

ये यार किसी भी नाला व्यू वाले होटल को ताज व्यू होटल बनाकर रुकवा देते हैं. क्योंकि आप पहली बार ताज देखने जा रहे हो तो तांगा कर लो. वहां सही रहता है.

7. फिरंगियों के साथ फोटो न खिंचाएं

ये बहुत चिरकुट काम लगता है कसम से. वहां जैसे ही भूरे बालों और नीली आंखों वाली विदेशी बालाएं दिखती हैं, यहां के युवा का मन ललचा उठता है. अगर लालच आए तो संभाल लेना. बस क्या कहें.

8. शिव चालीसा न बांचें

देखिए ये थोड़ा कंट्रोवर्सियल है लेकिन अभी साबित तो हुआ नहीं है. दीपक शर्मा जी पहुंच गए थे शिव चालीसा पढ़ने. कहिन कि तेजो महालय है. संगीत सोम ने भी बता रखा है कि बर्बर शाहजहां ने बनवाया है. तो आप इस कल के लौंडे दीपक की बात मानेंगे या अपनी पार्टी के विधायक की? सुप्रीम कोर्ट में जैसे ही साबित हो कि ये तेजोमहालय है, दन्न से भोलेनाथ की मूर्ति लगवा दें.

अब योगी जी का एक इंटरव्यू देख लो. जिसमें उन्होंने हॉलीवुड की फिल्मों के बारे में कुछ बताया है


ये भी पढ़ें:

फॉरेन इनवेस्टमेंट के लिए ना बन जाए ‘आह ताज’, इसलिए योगी सरकार कह रही ‘वाह ताज’

इस ‘सच्चे हिंदू’ ने एक घिनहा काम करके हिंदुत्व को बदनाम किया है

देश में ‘मेमे’ के नए चेहरे दीपक शर्मा का एक्सक्लूज़िव इंटरव्यू

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर की रगों में क्या है?

एक लघु टिप्पणी दोनों के बीच विवाद पर. जिसमें नसीर ने अनुपम को क्लाउन यानी विदूषक कहा था.

पंगा: मूवी रिव्यू

मूवी देखकर कंगना रनौत को इस दौर की सबसे अच्छी एक्ट्रेस कहने का मन करता है.

फिल्म रिव्यू- स्ट्रीट डांसर 3डी

अगर 'स्ट्रीट डांसर' से डांस निकाल दिया जाए, तो फिल्म स्ट्रीट पर आ जाएगी.

कोड एम: वेब सीरीज़ रिव्यू

सच्ची घटनाओं से प्रेरित ये सीरीज़ इंडियन आर्मी के किस अंदरूनी राज़ को खोलती है?

जामताड़ा: वेब सीरीज़ रिव्यू

फोन करके आपके अकाउंट से पैसे उड़ाने वालों के ऊपर बनी ये सीरीज़ इस फ्रॉड के कितने डीप में घुसने का साहस करती है?

तान्हाजी: मूवी रिव्यू

क्या अपने ट्रेलर की तरह ही ग्रैंड है अजय देवगन और काजोल की ये मूवी?

फिल्म रिव्यू- छपाक

'छपाक' एक ऐसी फिल्म है, जिसके बारे में हम ये चाहेंगे कि इसकी प्रासंगिकता जल्द से जल्द खत्म हो जाए.

हॉस्टल डेज़: वेब सीरीज़ रिव्यू

हॉस्टल में रह चुके लोगों को अपने वो दिन खूब याद आएंगे.

घोस्ट स्टोरीज़ : मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

करण जौहर, अनुराग कश्यप, ज़ोया अख्तर और दिबाकर बनर्जी की जुगलबंदी ने तीसरी बार क्या गुल खिलाया है?

गुड न्यूज़: मूवी रिव्यू

साल की सबसे बेहतरीन कॉमेडी मूवी साल खत्म होते-होते आई है!