Submit your post

Follow Us

नोटबंदी से हुए 5 बड़े फायदे, जो हर जागरुक नागरिक को जानने चाहिए!

8.77 K
शेयर्स

उस कयामत की रात को बीते हुए दो साल हो गए हैं. ट्रोल्स कहते हैं कि बच्चा पैदा होने में भी नौ महीने लेता है. थोड़ा वक्त दो. विकास होगा. 8 नवंबर 2016 की रात 8 बजे मोदी जी ने कहा था 50 दिन दो. सब सुधर जाएगा. लेकिन हुआ क्या? 99% नोट वापस आ गए. रिजर्व बैंक तक औकात में आ गया. अब लोग मुंह चिढ़ा रहे हैं कि क्या फायदा हुआ नोटबंदी से. वहीं बीजेपी नोटबंदी की कामयाबी का जश्न मना रही है. जश्न मनाना बनता भी है, जिस एग्जाम में पासिंग मार्क्स तक  डिसाइड नहीं थे उसके रिजल्ट पर जश्न होना ही चाहिए.

सरकार पर भरोसा रखने वालों से निवेदन है कि वो पैनिक न हों. चिदंबरम खुदंबरम की बकैती का बुरा मानने की जरूरत नहीं है. हम आपको नोटबंदी के वो फायदे बताते हैं जो सरकार या अरुण जेटली को भी नहीं पता हैं.

1. सरकारी कर्मचारियों को हनक के काम मिला

मेरी हालत देख रहे हो?
मेरी हालत देख रहे हो?

आपने अब तक सरकारी कर्मचारियों को सिर्फ मौज काटते देखा होगा. खास तौर से बैंक वालों को. उनका काम बस कस्टमर को दूसरे काउंटर पर भेजना और लंच करना रहता है. लेकिन नोटबंदी के दौरान वो कई कई दिनों तक घर नहीं गए. आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल तक को काम पर लगाए रखा. वो 9 महीने तक नोट गिनते रहे. आलस की ऐसी तैसी कर दी नोटबंदी ने.

2. नारीवाद को प्रोत्साहन मिला

कहने वाले अपनी अपनी कह गए मुझसे पूछो क्या सुना है, कुछ नहीं
कहने वाले अपनी अपनी कह गए
मुझसे पूछो क्या सुना है, कुछ नहीं

महिलाओं को न तो बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ से फायदा मिलेगा. न तो उनको पानी पुरी के ठेले पर आरक्षण दिलाने से. उनको सही पहचान तब मिलेगी जब देश क बड़े फैसलों में उन्हें शामिल किया जाए. नोटबंदी जैसा बड़ा फैसला. मोदी जी चाहते तो नोटबंदा भी कर सकते थे, लेकिन उन्होंने नोटबंदी की.

3. अर्थशास्त्र का लेवल बढ़ाया

तेरी गठरी में लागा चोर मुसाफिर जाग जरा
तेरी गठरी में लागा चोर मुसाफिर जाग जरा

चाणक्य से चिदंबरम तक बड़े अर्थशास्त्री हुए हैं. मनमोहन सिंह भी इकनामिक्स के छात्र और टीचर थे. लेकिन इन लोगों ने कभी नोटबंदी नहीं की. क्योंकि इनके पास कोई विजन ही नहीं था. नोटबंदी में 16 हजार करोड़ के नोट वापस आए जो कि बंद हुए टोटल नोटों का 99 परसेंट थे. नए नोटों की छपाई में लगे 21 हजार करोड़ रुपए. ये पांच हजार करोड़ का जो ‘फायदा’ हुआ है उसे समझने के लिए खोपड़ी में दिमाग चाहिए.

4. स्कूल/ऑफिस न आने के बहाने सिखाए

modi ji
अमीर नींद की गोली खाएगा, गरीब चैन की नींद सोएगा

स्कूल/ऑफिस न जाना हो तो झूठ पर झूठ बोलने पड़ता है. जैसे कहो कि पेट दर्द था. तो सवाल आएगा “कौन सा पेट दर्द? चिलकन, मरोड़, कोचन, ऐंठन आखिर कौन सा?” फिर आप दर्द का प्रकार बताकर आगे के सवालों का जवाब देंगे. लेकिन लोग अक्सर कहीं न कहीं पकड़ जाते थे. मोदी जी ने सिखाया कि एक के बाद एक बहाना कैसे पेश करना है कि कोई असल बात पकड़ न सके. नोटबंदी का कारण बताने में उन्होंने पिरामिड बना दिया.

काला धन

down_

नकली नोट

down_

कैशलेस इकॉनमी

down_

आतंक की कमर का ऑपरेशन

5. ठंड पार करने में मदद मिली

कोई हमसे जीत न पाए चले चलो
कोई हमसे जीत न पाए चले चलो

हर साल सर्दियों में तमाम मौतें होती हैं. उनका जिम्मेदार सर्दी को ही ठहराया जाता है. लेकिन इस बार सर्दियों की वजह से मौतें कम हुईं. क्योंकि पब्लिक एटीएम और बैंकों के सामने लाइनों में सटकर खड़ी थी. जिसकी वजह से सर्दी नहीं लगती थी. जो लोग मरे वो नोटबंदी की वजह से मरे, सर्दी की वजह से नहीं. तो ये एक तरह से फायदा ही हुआ.

जाते जाते नोटबंदी पर वरुण ग्रोवर की कॉमेडी देखिए. इस आदमी ने भविष्यवाणी कर दी थी.


ये भी पढ़ें:

नोटबंदी का सबसे बड़ा तर्क आज लुड़ुस हो गया

200 रुपए के नोटों का ये खास फीचर आपको कभी पैसों की कमी नहीं होने देगा!

‘नोटबंदी’ ने जितना बुरा इस औरत के साथ किया, ऐसा किसी के साथ न हो

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Satire: 5 benefits of demonetisation

पोस्टमॉर्टम हाउस

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E6- नौ साल लंबे सफर की मंज़िल कितना सेटिस्फाई करती है?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के चाहने वालों के लिए आगे ताउम्र की तन्हाई है!

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

जानिए ये बात आखिर शुरू कहां से हुई.

मूवी रिव्यू: दे दे प्यार दे

ट्रेलर देखा, फिल्म देखी, एक ही बात है.

क्या वाकई सलमान खान कन्हैया कुमार की बायोपिक में काम करने जा रहे हैं?

बताया जा रहा है कि सलमान इसके लिए वजन कम करेंगे और बिहारी हिंदी बोलना सीखेंगे.