Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

नोटबंदी से हुए 5 बड़े फायदे, जो हर जागरुक नागरिक को जानने चाहिए!

8.78 K
शेयर्स

उस कयामत की रात को बीते हुए दो साल हो गए हैं. ट्रोल्स कहते हैं कि बच्चा पैदा होने में भी नौ महीने लेता है. थोड़ा वक्त दो. विकास होगा. 8 नवंबर 2016 की रात 8 बजे मोदी जी ने कहा था 50 दिन दो. सब सुधर जाएगा. लेकिन हुआ क्या? 99% नोट वापस आ गए. रिजर्व बैंक तक औकात में आ गया. अब लोग मुंह चिढ़ा रहे हैं कि क्या फायदा हुआ नोटबंदी से. वहीं बीजेपी नोटबंदी की कामयाबी का जश्न मना रही है. जश्न मनाना बनता भी है, जिस एग्जाम में पासिंग मार्क्स तक  डिसाइड नहीं थे उसके रिजल्ट पर जश्न होना ही चाहिए.

सरकार पर भरोसा रखने वालों से निवेदन है कि वो पैनिक न हों. चिदंबरम खुदंबरम की बकैती का बुरा मानने की जरूरत नहीं है. हम आपको नोटबंदी के वो फायदे बताते हैं जो सरकार या अरुण जेटली को भी नहीं पता हैं.

1. सरकारी कर्मचारियों को हनक के काम मिला

मेरी हालत देख रहे हो?
मेरी हालत देख रहे हो?

आपने अब तक सरकारी कर्मचारियों को सिर्फ मौज काटते देखा होगा. खास तौर से बैंक वालों को. उनका काम बस कस्टमर को दूसरे काउंटर पर भेजना और लंच करना रहता है. लेकिन नोटबंदी के दौरान वो कई कई दिनों तक घर नहीं गए. आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल तक को काम पर लगाए रखा. वो 9 महीने तक नोट गिनते रहे. आलस की ऐसी तैसी कर दी नोटबंदी ने.

2. नारीवाद को प्रोत्साहन मिला

कहने वाले अपनी अपनी कह गए मुझसे पूछो क्या सुना है, कुछ नहीं
कहने वाले अपनी अपनी कह गए
मुझसे पूछो क्या सुना है, कुछ नहीं

महिलाओं को न तो बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ से फायदा मिलेगा. न तो उनको पानी पुरी के ठेले पर आरक्षण दिलाने से. उनको सही पहचान तब मिलेगी जब देश क बड़े फैसलों में उन्हें शामिल किया जाए. नोटबंदी जैसा बड़ा फैसला. मोदी जी चाहते तो नोटबंदा भी कर सकते थे, लेकिन उन्होंने नोटबंदी की.

3. अर्थशास्त्र का लेवल बढ़ाया

तेरी गठरी में लागा चोर मुसाफिर जाग जरा
तेरी गठरी में लागा चोर मुसाफिर जाग जरा

चाणक्य से चिदंबरम तक बड़े अर्थशास्त्री हुए हैं. मनमोहन सिंह भी इकनामिक्स के छात्र और टीचर थे. लेकिन इन लोगों ने कभी नोटबंदी नहीं की. क्योंकि इनके पास कोई विजन ही नहीं था. नोटबंदी में 16 हजार करोड़ के नोट वापस आए जो कि बंद हुए टोटल नोटों का 99 परसेंट थे. नए नोटों की छपाई में लगे 21 हजार करोड़ रुपए. ये पांच हजार करोड़ का जो ‘फायदा’ हुआ है उसे समझने के लिए खोपड़ी में दिमाग चाहिए.

4. स्कूल/ऑफिस न आने के बहाने सिखाए

modi ji
अमीर नींद की गोली खाएगा, गरीब चैन की नींद सोएगा

स्कूल/ऑफिस न जाना हो तो झूठ पर झूठ बोलने पड़ता है. जैसे कहो कि पेट दर्द था. तो सवाल आएगा “कौन सा पेट दर्द? चिलकन, मरोड़, कोचन, ऐंठन आखिर कौन सा?” फिर आप दर्द का प्रकार बताकर आगे के सवालों का जवाब देंगे. लेकिन लोग अक्सर कहीं न कहीं पकड़ जाते थे. मोदी जी ने सिखाया कि एक के बाद एक बहाना कैसे पेश करना है कि कोई असल बात पकड़ न सके. नोटबंदी का कारण बताने में उन्होंने पिरामिड बना दिया.

काला धन

down_

नकली नोट

down_

कैशलेस इकॉनमी

down_

आतंक की कमर का ऑपरेशन

5. ठंड पार करने में मदद मिली

कोई हमसे जीत न पाए चले चलो
कोई हमसे जीत न पाए चले चलो

हर साल सर्दियों में तमाम मौतें होती हैं. उनका जिम्मेदार सर्दी को ही ठहराया जाता है. लेकिन इस बार सर्दियों की वजह से मौतें कम हुईं. क्योंकि पब्लिक एटीएम और बैंकों के सामने लाइनों में सटकर खड़ी थी. जिसकी वजह से सर्दी नहीं लगती थी. जो लोग मरे वो नोटबंदी की वजह से मरे, सर्दी की वजह से नहीं. तो ये एक तरह से फायदा ही हुआ.

जाते जाते नोटबंदी पर वरुण ग्रोवर की कॉमेडी देखिए. इस आदमी ने भविष्यवाणी कर दी थी.


ये भी पढ़ें:

नोटबंदी का सबसे बड़ा तर्क आज लुड़ुस हो गया

200 रुपए के नोटों का ये खास फीचर आपको कभी पैसों की कमी नहीं होने देगा!

‘नोटबंदी’ ने जितना बुरा इस औरत के साथ किया, ऐसा किसी के साथ न हो

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Satire: 5 benefits of demonetisation

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: 'नाळ'

क्या हुआ जब एक बच्चे को पता चला उसकी मां सौतेली है?

फिल्म रिव्यू: पीहू

अगर आप इस फिल्म को देखने के बाद किसी निष्कर्ष पर पहुंचना चाहते हैं, तो आप किसी गलत ऑडिटोरियम में घुस गए हैं.

फिल्म रिव्यू: ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान

आप कभी बाज़ार में घूमते हुए मुंह के स्वाद के लिए कुछ खा लेते हैं. लेकिन वो खाना आप रोज नहीं खा सकते क्योंकि उससे हाजमा खराब होने का डर बना रहता है. 'ठग्स...' वही है.

इस नए वायरल वीडियो में मोदी एक विकलांग बुजुर्ग का अपमान करते क्यूं लगते हैं?

जिनका अपमान होने की बात कही जा रही है, वो बुजुर्ग गुजरात में मुख्यमंत्री से ज़्यादा बड़ी हैसियत रखते हैं!

2.0 का ट्रेलर आ गया, जिसे देखकर मोबाइल फ़ोन रखने वाले हर आदमी को डर लगेगा

साथ ही पढ़िए इस फिल्म की मेकिंग से जुड़ी 9 दिलचस्प बातें.

'डोंबिवली फास्ट': जब एक अकेला आदमी सिस्टम सुधारने निकल पड़ा

और फिर पूरे सिस्टम ने उसे मिटा डालने के लिए कमर कस ली.

फिल्म रिव्यू: काशी इन सर्च ऑफ गंगा

ऐसी फ़िल्में देखकर हर फिल्म क्रिटिक को अपने प्रोफेशन पर गर्व होता है!

फिल्म रिव्यू: बाज़ार

हाल-फिलहाल में जितने भी स्टारकिड्स ने डेब्यू किया है, उनमें से किसी को रोहन जैसा पोटासभरा कैरेक्टर प्ले करने का मौका नहीं मिला है.

फ़िल्म रिव्यू: नमस्ते इंग्लैंड

ये ऐसी फ़िल्म है जिसका कोई स्पॉइलर नहीं हो सकता!

फिल्म रिव्यू: बधाई हो

मां की प्रेग्नेंसी जैसे असहज करने वाले सब्जेक्ट पर बनी सपरिवार देखने लायक फिल्म.