Submit your post

Follow Us

अगर पूजा-पाठ का सच जानना है, तो भारत के इस प्रेसिडेंट की बात जरूर पढ़ें

5
शेयर्स

भारतरत्न सर्वपल्ली डॉ. राधाकृष्णन. उम्दा फिलॉसफर और महान शिक्षक.  जिनके जन्मदिन को हम ‘टीचर्स डे’ के तौर पर मनाते हैं. इनका दर्शन अद्वैत वेदांत पर आधारित है. अद्वैत वेदांत में आत्मन यानी अपने अंदर के सत्य को सबसे ऊपर माना जाता है. 05 सितंबर को इनका जन्मदिन होता है, जिसे शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है.

राधाकृष्णन दार्शनिक होने के साथ-साथ कूटनीति की भी बारीक समझ रखते थे. 1957 की बात है. राधाकृष्णन तब भारत के उपराष्ट्रपति थे. वो चीन के दौरे पर गए थे. उस वक्त माओ चीन के बड़े नेता थे. माओ ने राधाकृष्णन अपने घर पर खाने पर बुलाया था. राधाकृष्णन जब वहां पहुंचे तो माओ उनकी अगवानी के लिए आए. दोनों नेताओं ने हाथ मिलाया. इसके बाद राधाकृष्णन ने माओ के गाल थपथपा दिए. माओ कुछ बोलने ही वाले थे कि राधाकृष्णन ने ऐसी बात कह दी कि शायद वो चाहकर भी कुछ नहीं बोल पाए. उन्होंने माओ से कहा, ‘प्रेसिडेंट साहब, आप परेशान मत होइए. मैंने यही स्टालिन और पोप के साथ भी किया है.’ ये एक उदाहरण ही काफी है उनके डिप्लोमैटिक अंदाज को समझने के लिए.

अब यहां पढ़िए उनके कुछ विचार, जो हर उम्र, वर्ग के लोगों के लिए जरूरी है:

#1

RK 1

#2

RK 2

#3

RK 5

#4

RK 3

#5

RK 7

#6

RK4

#7

RK6

#8

RK9

#9

RK8

#10

RK10


 

ये भी पढ़ें:

104 सैटेलाइट भेज इसरो ने नाम ऊंचा किया, गर्व करना है तो इनकी कहानी पर करो

राजेंद्र प्रसाद को इस मजेदार सी बात का सबसे ज्यादा मलाल रहता था

नेता, जिसने प्रधानमंत्री बनने से इनकार कर दिया

भारत में ओबामा जैसा कूल लीडर सिर्फ एक है, और वो मोदी नहीं केजरीवाल है

गोलमाल फिल्म का वो एक्टर, जो नक्सल समर्थक था!


वीडियो देखें: महामहिम- सर्वपल्ली राधाकृष्णन

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

गुड न्यूज़: मूवी रिव्यू

साल की सबसे बेहतरीन कॉमेडी मूवी साल खत्म होते-होते आई है!

जब एक पत्रकार ने तीखे सवाल पूछे तो नेताजी ने उसको उठवा लिया

एक रात की कहानी, जो पत्रकार पर भारी गुज़री. #चला_चित्रपट_बघूया.

दबंग 3: मूवी रिव्यू

'दबंग 3’ के क्लाइमेक्स में इंस्पेक्टर चुलबुल पांडे को किस चीज़ का अफ़सोस रह जाता है?

फिल्म रिव्यू: मर्दानी 2

ये फिल्म आपके दिमाग में बहुत कुछ सोचने-समझने के लिए छोड़ती है और अपने हालातों पर रोती हुई खत्म हो जाती है.

क्या किया उस बच्ची ने, जिसकी मां की जान मछली में थी और बच्ची को उसे बचाना ही था?

अगर मछली मर जाती, तो मां भी नहीं बचती. #चला_चित्रपट_बघूया.

इनसाइड एज 2 रिव्यू: नेताओं की सत्ता, एक्टर्स की साख पे बट्टा और क्रिकेट का सट्टा

खेल की पॉलिटिक्स और पॉलिटिक्स का खेल. जानिए क्या होता है जब पार्टनर्स, राइवल्स हो जाते हैं?

अमिताभ के रहस्यमय लुक वाली फिल्म, जिसे रिलीज़ करने के लिए वो न जाने किस-किस से हाथ जोड़ रहे हैं

'पिंक', 'विकी डोनर' और 'पीकू' जैसी फिल्मों को बनाने वाले शूजीत सरकार की बतौर डायरेक्टर ये दूसरी फिल्म थी.

फिल्म रिव्यू- पानीपत

सवाल ये है कि आशुतोष गोवारिकर की मैग्नम ओपस 'पानीपत' अपना पानी बचा पाती है या इनकी भैंस भी पानी में चली जाती है?

पति पत्नी और वो: मूवी रिव्यू

ट्रेलर देखकर कितनों को लग रहा था कि ये एक बेहद फूहड़ मूवी है? उस सबके लिए एक सरप्राइज़ है.

फिल्म रिव्यू: कमांडो 3

इस फिल्म में विद्युत का एक्शन देखकर आप टाइगर श्रॉफ पर 'किड्स' वाला जोक मारने के लिए मजबूर हो जाएंगे.