Submit your post

Follow Us

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

1991 में संजय दत्त, पूजा भट्ट और सदाशिव अमरापुरकर को लीड रोल्स में लेकर एक फिल्म बनी थी. महेश भट्ट डायरेक्टेड इस फिल्म का नाम था ‘सड़क’. इस फिल्म की रिलीज़ के 29 साल बाद इसका सीक्वल आया है. ‘सड़क 2’ को किसी फिल्म के सीक्वल की बजाय स्टैंड अलोन फिल्म के तौर पर देखा जाना चाहिए. क्योंकि फिल्म में संजय दत्त के अलावा कोई पुराना कैरेक्टर नज़र नहीं आता. ना ही पिछली फिल्म का कोई हिस्सा या थॉट आपको इस फिल्म में देखने को मिलता है. मगर कहने को ये फिल्म अपनी 29 साल पुरानी कहानी को ही आगे बढ़ा रही है.

इस फिल्म की कहानी शुरू होती है रवि के सुसाइडल रवैए के साथ. अपनी पत्नी पूजा की मौत के बाद उसका जीवन से मन उठ गया है. वो मरकर पूजा के पास पहुंचना चाहता है. ठीक इसी समय में उसकी लाइफ और गैरेज में एंट्री मारती है आर्या. आर्या फर्जी बाबाओं के खिलाफ काम कर रही है. इसलिए एक बाबा उसकी जान के पीछे पड़ा है. आर्या ने तीन महीने पहले कैलाश जाने के लिए रवि की टैक्सी अडवांस में बुक की थी. अब जब कैलाश जाने का समय आया, तो रवि अपनी टैक्सी सर्विस बंद कर चुका है. जैसे-तैसे रवि, आर्या और उसके बॉयफ्रेंड विशाल को कैलाश ले जाने को तैयार हो जाता है. मगर बाबा के लोग रास्ते में कई बार आर्या पर अटैक करते हैं. ये सब देखकर रवि के भीतर का पिता जाग जाता है और वो आर्या को इन सब लोगों से बचाकर सुरक्षित कैलाश पहुंचाना चाहता है. लेकिन ये कहानी सिर्फ इतनी ही नहीं है. इस फिल्म के रास्ते में भी कई टर्न एंड ट्विस्ट आते हैं, मगर वो इसे कहीं पहुंचने नहीं देते.

फर्जी बाबा की बड़ी सी होर्डिंग जलाकर उनके भक्तों के सामने अपने इरादे साफ करती आर्या.
फर्जी बाबा की बड़ी सी होर्डिंग जलाकर उनके भक्तों के सामने अपने इरादे साफ करती आर्या.

‘सड़क 2’ बड़ी विचित्र फिल्म है. इसमें संजय दत्त ने रवि, आलिया ने आर्या, आदित्य रॉय कपूर ने विशाल और मकरंद देशपांडे ने फर्जी बाबा का रोल किया है. साथ में जिशू सेनगुप्ता और गुलशन ग्रोवर जैसे एक्टर्स भी हैं. अगर आदित्य को छोड़ दें, तो जिसे भी मौका मिला है, सभी एक्टर्स ने बढ़िया काम किया है. खासकर जिशू सेनगुप्ता ने. लेकिन दिक्कत ये है कि फिल्म में कोई भी कैरेक्टर ढंग से गढ़ा हुआ नहीं है. मुख्य किरदारों को बैकस्टोरी के तौर पर मानसिक विकार दे दिया गया है. किसी की फैमिली उसे पागल साबित करना चाहती है, तो कोई अपनी गुज़र चुकी प्रेमिका से बात करता है. कोई भी, कभी भी, कहीं से भी आ रहा है और कहानी का हिस्सा बनने की कोशिश करने लग रहा है. इससे पहले कि आप उस किरदार को गंभीरता से लें वो गायब हो चुका होता है या पीछे छूट चुका होता है. थोड़े समय में इतने सारे कैरेक्टर्स आ जाते हैं कि आप फिल्म में इंट्रेस्ट खो देते हैं. क्योंकि ये धागे जुड़कर भी कहानी को बांध नहीं पाते. भयानक तरीके का बिखराव और अनमनापन है.

संजय दत्त की उन चुनिंदा फिल्मों से जिनमें उन्होंने परफॉर्म किया है. काफी बैलेंस्ड परफॉरमेंस, फिल्म का लेखन जिस पर पानी फेरने का काम करता है.
संजय दत्त की उन चुनिंदा फिल्मों से जिनमें उन्होंने परफॉर्म किया है. काफी बैलेंस्ड परफॉरमेंस, फिल्म का लेखन जिस पर पानी फेरने का काम करता है.

फिल्म की सबसे बड़ी समस्या है इसका टाइम मैनेजमेंट. जब रवि, आर्या और विशाल की कैलाश यात्रा शुरू होती है, तब तक फिल्म के 48 मिनट निकल चुके होते हैं. और आप अब भी प्रॉपर तरीके से फिल्म के शुरू होने का इंतज़ार ही कर रहे हैं. इसलिए फिल्म में आगे जो भी घटता है, वो फास्ट फॉरवर्ड मोड में होता है और उसे कोई कनेक्शन नहीं बन पाता. इस झोल में फिल्म की बुरी एडिटिंग का सबसे बड़ा हाथा लगता है. अगर आप ये समझने की कोशिश करें कि फिल्म क्या कहना चाहती है? तो आपको दो चीज़ें मिलती हैं. पहली, फर्जी बाबा लोग पब्लिक के लिए खतरनाक होते हैं. दूसरी, फादरहुड यानी पितृत्व. मगर दोनों में से कोई भी चीज़ इतनी मजबूती से आपके सामने नहीं रखी जाती कि आप कुछ महसूस कर पाएं. कोई मैसेज क्लीयर तरीके से जनता तक पहुंचाने में ये फिल्म सफल नहीं हो पाती.

आदित्या रॉय कपूर, इस कमज़ोर फिल्म की सबसे कमज़ोर कड़ी. इनकी एक छिछली सी बैकस्टोरी है, जो फिल्म में कुछ भी नहीं जोड़ती.
आदित्य रॉय कपूर, इस कमज़ोर फिल्म की सबसे कमज़ोर कड़ी. इनकी एक छिछली सी बैकस्टोरी है, जो फिल्म में कुछ भी नहीं जोड़ती.

जब आप इस फिल्म को समझने की कोशिश कर रहे होते हैं, तब फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर आपका ध्यान भटकाने के काम आता है. वो म्यूज़िक इतना लाउड है कि फिल्म देखने के अनुभव में खलल पैदा करता है. क्योंकि वो उस सिचुएशन को मैच नहीं कर रहा है, जिसके लिए उसका इस्तेमाल हो रहा है. यही चीज़ फिल्म के गानों के साथ भी होती है. भट्ट कैंप की फिल्में अपने गानों के बूते पहचान बनाने के लिए जानी जाती रही हैं. यहां भी आपको ‘तुम से ही’ और ‘इश्क कमाल’ जैसे सुंदर गाने सुनने को मिलते हैं लेकिन फिल्म के साथ उन गानों का कोई तालमेल नहीं है.

‘सड़क 2’ को देखने का ओवरऑल एक्सपीरियंस काफी निराश करने वाला है. एक कल्ट फिल्म की सीक्वल, जो कभी अपनी ओरिजिनल फिल्म के आसपास भी नहीं पहुंच पाती है. बासी कॉन्सेप्ट, ढीला स्क्रीनप्ले और घीसे-पिटे डायलॉग्स इस फिल्म रूपी ताबूत में आखिरी कील साबित होते हैं. एक्टर्स को जाया करती है. थ्रिलर बनने के चक्कर में ‘सड़क 2’ एक औसत एक्शन-ड्रामा भी नहीं बन पाती. पिछले कुछ समय में आई सबसे कम प्रभावित करने वाली फिल्म, जिसे भूल जाना ज़्यादा मुश्किल नहीं होगा.


वीडियो देखें: सड़क 2 रिव्यू 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

गूगल के इन नए फीचर्स से 'क्रोमवीरों' का दिल गार्डन-गार्डन हो जाएगा

दुनिया के नंबर-1 इंटरनेट ब्राउज़र ने कई नए फ़ीचर जोड़े हैं, जो बहुत काम के हैं, आइए जानें

आप बस ऑनलाइन क्लास पर फोकस कीजिए, टीचर के लेक्चर से नोट्स ये सॉफ्टवेयर लिख देंगे

बड़े काम के हैं ये जुगाड़, कोई भी बोलता रहे, ये लिखते रहेंगे

देश-दुनिया के वो पांच रोपवे जिनपर चढ़ने में सांस अटक जाएगी!

असम में देश का सबसे लंबा रिवर रोपवे शुरू हुआ है.

पहली बार धरती पर किसी ने कमाए 200 बिलियन डॉलर, इसमें कितने बोरी आलू आएंगे, हम बताते हैं

जेफ बेजोस पहले इंसान बने, जिन्होंने 15 लाख करोड़ रुपये जितनी दौलत कमा ली है.

शोले के 'रहीम चाचा' जो बुढ़ापे में फिल्मों में आए और 50 साल काम करते रहे

ताउम्र मामूली रोल करके भी महान हो गए हंगल सा'ब को 8 साल हुए गुज़रे हुए.

'इतना सन्नाटा क्यों है भाई' कहने वाले 'शोले' के रहीम चाचा अपनी जवानी में दिखते कैसे थे?

जिस आदमी को सिनेमा के परदे पर हमेशा बूढा देखा वो अपनी जवानी के दौर में राज कपूर से ज्यादा खूबसूरत हुआ करता था.

एक ऐसा हवाई जहाज़, जो उड़ने के 35 साल बाद क्रैश-लैंड हुआ और सनसनी फ़ैल गई

अभय देओल की वेब सीरीज़ का ट्रेलर आया है.

इस धांसू साइंस-फिक्शन फिल्म को देखकर पता चलेगा कि लोग मरने के बाद कहां जाते हैं

'कार्गो' टीज़र- एक स्पेसशिप है, जो मर चुके लोगों को रोज सुबह लेने आता है. लेकिन लेकर कहां जाता है?

ईशान-अनन्या की नई फिल्म, जो डिसलाइक्स के मामले में 'सड़क 2' का भी रिकॉर्ड तोड़ सकती है

'खाली-पीली' का टीज़र आपको कोरोना काल में बहुत राहत देने वाला है.

वो राज्य, जहां राज्यपाल और मुख्यमंत्री एकदूसरे से खार खाए बैठे हैं

साथ में, राज्यपाल की 'दादागिरी' का एक किस्सा भी.