Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

नरेंद्र मोदी के बारे में वो 6 झूठ, जो इतने फैलाए गए कि लोगों ने सच मान लिया!

35.70 K
शेयर्स

कभी ये हाल था कि समूची कांग्रेस इंदिरा गांधी के इर्द-गिर्द घूमा करती थी. कांग्रेस क्या, करीब पूरा मुल्क ही. यही हाल आज-कल भाजपा और नरेंद्र मोदी के केस में  है. भाजपा का सारा ढांचा नरेंद्र मोदी के करिश्माई व्यक्तित्व के आस-पास खड़ा है. यहां तक कि विपक्ष भी (जितना भी बचा है) मोदी के ही नाम से चल रहा है. मीडिया में भी सबसे ज़्यादा बार मोदी का ही नाम लिया जाता है. मोदी की ख़बरें, मोदी की प्रशंसा, मोदी की आलोचना और मोदी के बारे में अफवाहें.

आज ऐसी ही कुछ अफवाहों पर बातें करेंगे.


1.  मोदी के साथ ब्रीफकेस में परमाणु बम का बटन!

ये अफवाह सबसे ज़्यादा थ्रिल पैदा कर गई. ख़ास तौर से उन लोगों में, जो पाकिस्तान को नेस्तोनाबूद करना चाहते हैं. नरेंद्र मोदी के सुरक्षाकर्मियों के हाथ में हमेशा काले ब्रीफकेस दिखते हैं. इसके बारे में ये अफवाह थी कि इसमें न्यूक्लियर बम का बटन है. ये ब्रीफकेस नरेंद्र मोदी के काफिले के साथ हमेशा रहता है. किसी भी इमरजेंसी में वो तत्काल न्यूक्लियर बम एक्टिवेट कर सकते हैं.

nuclear-briefcase_300417-072946

हकीकत कुछ और थी. पता करने पर सामने आया कि ये न्यूक्लियर ब्रीफकेस नहीं, बल्कि पोर्टेबल बुलेटप्रूफ शील्ड है. ये पूरी तरह खुल जाता है और रक्षा कवच का काम करता है. ये उनकी पर्सनल प्रोटेक्शन के लिए है. मान लीजिए प्रधानमंत्री पर कोई आतंकी हमला होता है. ऐसे में जिस सुरक्षा कमांडो के पास ये ब्रीफकेस है, वो फ़ौरन इसे खोल कर पीएम को कवर कर लेगा.

main-qimg-2fdcbf0647cbcccdb46026b8e0c76173-c-1_300417-073217-600x319


 2. मोदी पर चला जूता

जूते वाली बात अभी कुछ दिन पहले सोशल साइट्स पर खूब उछली. मोदी विरोधियों ने इस ख़बर को चटखारे लेते हुए शेयर किया. हकीकतन ऐसा कुछ हुआ ही नहीं था.

मई महीने की शुरुआत में सोशल मीडिया पर ये खुसुर-फुसुर होने लगी. लोग कहने लगे कि एक मीटिंग के दौरान किसी औरत ने प्रधानमंत्री मोदी की तरफ जूता उछाल दिया. वाकये की तारीख बताई गई 28 अप्रैल. इस क्लेम के सबूत के तौर पर एक क्लिप भी शेयर की गई. कई सारी वेबसाइट्स ने इस ख़बर को छाप भी दिया. हालांकि छपी हुई ख़बरें अधूरी थीं. न तो औरत का नाम बताया गया, न घटना की जगह. साथ लगाई गई क्लिप में भी ‘ऐसा’ कुछ नहीं था.

ऐसी ख़बरें खूब शेयर हुईं.
ऐसी ख़बरें खूब शेयर हुईं.

दरअसल ये घटना 8 मार्च की थी. गांधीनगर में मोदी एक कार्यक्रम में शरीक हुए थे. वहां पर एक महिला शालिनी नारे लगाते हुए मंच की ओर बढ़ने लगीं. उन्हें रोक कर ऑडिटोरियम के बाहर कर दिया गया. ‘एबीपी अस्मिता’ ने इसकी फुटेज जारी की थी, जिसे ही ‘मोदी पर जूता फेंके जाने  की घटना’ कहकर चलाया गया, जबकि फुटेज में ऐसा कुछ नहीं है.

घटना की असली फुटेज:


 3. दस करोड़ का पानी पीने वाले मोदी

ये ख़बर भी खूब चली. RTI के हवाले से बताया गया कि दस दिनों में मोदी दस करोड़ का पानी और जूस पी गए. यानी रोज़ाना लगभग एक करोड़ का खर्चा. जिस तरह ये सुनने में ही असंभव लगता है, ये था भी गलत. ऐसा कुछ नहीं हुआ था.

18300951_289925998122401_497117308813422576_n_110517-081340

असल में ये एक व्यंग्य था जिसे कि सोशल मीडिया के अक्लमंद सच मान कर ले उड़े. एक वेबसाइट के मिलते-जुलते नाम वाली एक पैरोडी वेबसाइट है, जो कि ख़बरों का मज़ाकिया वर्जन लगाती है. उसने आम आदमी पार्टी और केजरीवाल का मज़ाक उड़ाते हुए ख़बर लगाई, ‘मोदी जी नवरात्रों में दस करोड़ का पानी पी गए.’ ख़बर में मज़ाकिया लहज़े में ये भी कहा गया कि ये सूचना एक RTI के जवाब में मिली है. ख़बर में RTI लिखा होना काफी था फेसबुक के अधीर वीरों के लिए. उन्होंने ख़बर जम के शेयर की.


4. नरेंद्र मोदी की तस्वीर

एक तस्वीर और खूब शेयर हुई. इसमें जवानी के दिनों के नरेंद्र मोदी एक सजी-धजी लड़की के साथ हंसते-मुस्कुराते दिखाई दे रहे हैं. कहा गया कि ये लड़की जसोदा बेन है. इस तस्वीर के सहारे ये कहा जाने लगा कि नरेंद्र मोदी ने शादी के बाद काफी अरसा जसोदा बेन के साथ गुज़ारा था. मोदी के कभी शादीशुदा ज़िंदगी नहीं जीने के दावे को झूठा कहा जाने लगा.

ये थी वो तस्वीर.

ज़ाहिर सी बात है कि इस तस्वीर की भी पड़ताल हुई. सामने आया कि ये लड़की भाजपा के पूर्व नेता कांशीराम राणा की बेटी है. ये राणा की बेटी की शादी के वक़्त ली गई फोटो है. कांशीराम राणा की 2012 में मौत हो चुकी है.

पूरी तस्वीर ये है:

CyWo398UkAUu3hQ


 5. मोदी ने भेजी मुसलमानों के बच्चों को ख़त्म करने वाली सुई

हालांकि ये अफवाह देश के एक ख़ास इलाके में ही फैली, लेकिन इसकी दहशत ज़बरदस्त थी. सरकारी स्कूलों में टीकाकरण चल रहा था. राजस्थान के मुस्लिम बहुल इलाके मेवात में किसी ने ख़बर उड़ा दी कि टीकाकरण के लिए इस्तेमाल हो रही सुइयां मोदी ने भिजवाई हैं. इनका मकसद मुसलमान लड़के-लड़कियों की संतान पैदा करने की क्षमता को ख़त्म करना है.

इस अफवाह से इतनी दहशत फैली कि इसकी पड़ताल करने गए न्यूज़ चैनल वाले लोगों से भी लोग डर गए. जब एक स्कूल में ये लोग पहुंचे तो वहां भगदड़ मच गई. क्लास में बैठे बच्चे दीवार फांद कर भाग गए. लोगों को समझाने के लिए अलवर जिले के डिप्टी सीएमओ डॉ. छबील कुमार को एक बयान देकर मामला साफ़ करना पड़ा.

modi-muslim.jp__070317-123726


 6. चीन से ऐसे जंग जीतने वाले थे हम

एक बाकायदा छपा हुआ पैम्पलेट घूमने लगा था दीवाली के आस-पास. जिसमें लिखा था कि दीवाली पर अपने घरों में रोशनी, सजावट या मिठाई सब भारत में बनी ही इस्तेमाल करें. प्रधानमंत्री के नाम से भावुक अपील की गई थी कि देश की तरक्की के लिए स्वदेशी सामान इस्तेमाल करें. चाइनीज़ सामान को ‘नो थैंक्स’ बोल दें.

ban-chinese_051016-041229-310x400

हालांकि वॉट्सऐप यूनिवर्सिटी की इस अपील को किसी ने माना नहीं. प्रधानमंत्री ऑफिस ने बाकायदा ट्वीट कर के कहा कि हमने ऐसी कोई अपील नहीं की है.

pmo-tweet_051016-062702-306x400


ये भी पढ़ें:

क्या मोदी अपने साथ ब्रीफकेस में न्यूक्लियर बम लेकर चलते हैं?

औरत ने भरी सभा में पीएम मोदी पर फेंका जूता, क्या है सच?

अफवाह: मोदी ने मुसलमानों के बच्चों के बच्चों को खत्म करने वाली सुई भेजी है

क्या है नवरात्र में पीएम मोदी के दस करोड़ का पानी पीने का सच

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
rumors about Narenda Modi went viral on social media like nuclear briefcase, shoe hurling

पोस्टमॉर्टम हाउस

फ़िल्म रिव्यू: नमस्ते इंग्लैंड

ये ऐसी फ़िल्म है जिसका कोई स्पॉइलर नहीं हो सकता!

फिल्म रिव्यू: बधाई हो

मां की प्रेग्नेंसी जैसे असहज करने वाले सब्जेक्ट पर बनी सपरिवार देखने लायक फिल्म.

जब हेमा के पापा ने धर्मेंद्र को जीतेंद्र के सामने धक्का देकर घर से निकाल दिया

घरवाले हेमा-धर्मेंद्र की शादी के सख्त खिलाफ थे.

क्या आपको पता है हेमा को 'ड्रीम गर्ल' कहना भी एक स्ट्रैटजी थी?

आज अपना 70वां जन्मदिन मना रही हैं हेमा मालिनी.

म्यूज़िक रिव्यू - जलेबी

इस म्यूज़िक एलबम के किसी गीत में उंगली रखकर आप ये नहीं कह सकते कि ये वाला गीत बेस्ट है.

मूवी रिव्यू: हेलीकॉप्टर ईला

जब आप ऊपर वाले के हाथ की कठपुतली नहीं होते, तब अपनी मां के हाथ की कठपुतली होते हैं.

फिल्म रिव्यू: तुम्बाड

ये फिल्म पहले कंफ्यूज़ करती है और फिर एक-एक कर धागे खोलने शुरू करती है. अंत में इसी खुले धागे में आपको बांधकर चली जाती है.

फिल्म रिव्यू: लवयात्रि

लवयात्रि एक ऐसी फिल्म है, जिसमें थोड़ा-बहुत फील गुड है. बढ़िया गाने हैं. गुजरात का छौंका है और एक घिसी-पिटी सी प्रेम कहानी है.

फिल्म रिव्यू: अंधाधुन

बड़े-बड़े लोग इसे साल की सबसे अच्छी फिल्म बता रहे हैं.

क्या हुआ जब एक किसान के दो बैल खो गए!

और मामले पर मीडिया की नज़र पड़ गई.