Submit your post

Follow Us

डायरेक्टर ने पूछा जामिया में हजारों फर्जी छात्र किसने सप्लाई किए, ऋचा चड्ढा बिफर पड़ीं

हमने आपको एक पोस्ट में बताया कि कैसे सीएए (नागरिकता संशोधन अधिनियम) और जामिया में हुई हिंसा पर पूरा बॉलीवुड उठ खड़ा हुआ है. लगभग सभी लोग अभिव्यक्ति की आज़ादी और अहिंसापूर्ण प्रोटेस्ट की बात कर रहे हैं. इस बीच अशोक पंडित का ट्वीट और उसपर ऋचा चड्ढा का रिप्लाई बहुत वायरल हो रहा है. चलिए जानते हैं पूरा मुद्दा क्या है.

# एक ट्वीट-

एक फिल्ममेकर हैं. विवेक रंजन अग्निहोत्री. उनकी डायरेक्ट की हुई रिसेंट फिल्म ‘दी ताशकंद फाइल्स’ को समीक्षकों और दर्शकों ने नकार दिया था. ये लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु और उससे जुड़े हॉक्स पर बेस्ड थी. विवेक ट्विटर पर भी काफी एक्टिव रहते हैं. उनके पिन्ड (सबसे ऊपर दिखने वाले) ट्वीट में इस बात की जानकारी दी गई है कि वो ‘दी कश्मीर फाइल्स’ नाम की मूवी में काम कर रहे हैं. ये अगले साल (2020), 15 अगस्त को रिलीज़ होनी तय हुई है.
अब इन्हीं फिल्ममेकर ने एक ट्वीट किया है. एक सवाल सरीखे इस ट्वीट में वो पूछ रहे हैं-

3000 छात्र. 30,000 प्रदर्शनकारी. 27,000 डमी स्टूडेंट्स किसने सप्लाई किए.

उनके ट्वीट को आसान भाषा में समझें तो वो कह रहे हैं कि जामिया में तो सिर्फ 3000 छात्र पढ़ते हैं. फिर वहां प्रदर्शन करने वाले लोगों की संख्या 30,000 कैसे हो गई. बाकी के 27,000 ‘डमी स्टूडेंट्स’ कहां से आए? इनको किसने सप्लाई किया.

# रीट्वीट-

अब इसको रीट्वीट करते हुए अशोक पंडित ने कुछ और फिल्ममेकर्स को टैग कर दिया. बोले-

मैं दिल्ली पुलिस का समर्थन करता हूं. अनुराग कश्यप, महेश भट्ट, अनुभव सिन्हा, राजकुमार राव, हुमा कुरैशी, स्वरा भास्कर, मनोज बाजपाई, ऋचा चड्ढा और ऐसे ही मेरे कई और दोस्त हैं जिन्होंने ‘डमी स्टूडेंट्स’ सप्लाई किए.

अशोक पंडित कौन हैं? जब भारत में नया-नया केबल टीवी आया था तब ज़ी टीवी वगैरह के लिए कुछ कॉमेडी शोज़ डायरेक्ट किए थे. ‘फ़िल्मी चक्कर’, ‘कोलगेट टॉप टेन’ टाइप. बीच में ऑलमोस्ट गायब रहे थे. हाल ही में दी एक्सीडेंटल प्राइमिनिस्टर’ को प्रोड्यूस किया था. फिलवक्त इंडियन फिल्म एंड टेलीविज़न डायरेक्टर्स एसोसिएशन के प्रेजिडेंट हैं.

# रीट्वीट का जवाब-

इसके बाद इन्होंने जितने फिल्ममेकर्स, एक्टर्स को टैग किया था उनमें से एक इनके सामने खड़ी हो गईं. ऋचा चड्ढा. इनके ट्वीट का जवाब दिया. जवाब लंबा था. एक ट्वीट में नहीं आ सकता था. इसलिए धड़ाधड़ ट्वीट पर ट्वीट करने लगीं. जो कुछ भी इन ट्विटस में कहा उसका कुल जमा सार ये है-

सर, आप अजीब आदमी हैं! जब आप एक पार्टी में मेरे पास दौड़े-दौड़े आए थे, और मैंने वादा किया था कि आपकी बकवास का जवाब प्यार से दूंगी, आप हंसने लगे! अब आप आरोप लगा रहे हैं? और फिर आपने मुझे अपनी बेटी की शादी में बुलाया है? आप ठीक तो हैं न? आप ऑनलाइन इस तरह का व्यवहार क्यों करते हैं! कोई आपको ऐसा करने के पैसे दे रहा है क्या?

ये ऋचा का पहला ट्वीट था. इसके बाद के उनके ट्वीट हम आपको आगे पढ़ाएंगे. लेकिन बता दें कि इस वाले ट्वीट पर अशोक पंडित का भी जवाब आया था. पहले वो पढ़ लें-

मैं बिल्कुल ठीक हूं ऋचा जी. अगर आपको अपनी राय रखने का अधिकार है तो मुझे भी है. इसका मतलब ये नहीं है कि मैं आपका अनादर कर रहा हूं. वैसे, ये पैसे लेकर देश को तोड़ने का काम कम्युनिस्टों और अर्बन नक्सलियों का है, हमारा नहीं. ये जो साजिश फिज़ाओं में गूंज रही है, हमारी लड़ाई इसी के खिलाफ है. (हैश टैग- मैं कैब/CAB का समर्थन करता हूं, मैं दिल्ली पुलिस का सपोर्ट करता हूं.)

अब वापस आते हैं ऋचा के ट्वीट पर. उन्होंने आगे लिखा-

विचारों में मतभेद स्वागत योग्य है? आपके साथ ट्विटर पर सवाल जवाब खेलने (थ्रेड) की इजाज़त चाहूंगी. जिस तरह से बुजुर्गों के लिए आप चैरेटी का काम करते हैं, मुझे लगता था कि आप में अब भी कुछ मानवता बाकी है. लेकिन फिर मेरा आपके इस ट्विटर वाले आभासी चेहरे से साक्षात्कार हुआ. आप हमेशा उन लोगों के साथ दुर्व्यवहार करते हैं जो आपसे असहमत होते हैं.

राना, आरफ़ा और मुझ जैसी लड़कियां ‘रिसीविंग एंड’ में हैं. जब मैंने आपसे, आपके द्वारा शुरू किए गए दुर्व्यवहार की निंदा करने के लिए कहा तो आपको ऐसा करने में 12 दिन लग गए! क्यूं? जब आप अपने से आधी उम्र की महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार करते हैं तो नैतिकता के जिस ऊंचे घोड़े पर आप बैठे हैं वो आपको नीचे गिरा देता है.

आपने अपने मित्रों को खो दिया है. क्योंकि वे लोग टीवी डिबेट पर पागलपन की हद तक चलने वाले घृणा के व्यापर को नहीं जानते. वे लोग ट्विटर पर गाली गलौज करने लोगों को नहीं जानते. ताकि बाद में आप उन्हें शादी का निमंत्रण भेजें. क्या मैं कुछ भूल रही हूं? क्या आपकी नफरत दिखावे के लिए है या ये आपकी छुपी प्रतिभा है? आपका कुछ भी कहा ये सब जस्टीफाई नहीं कर सकेगा.

…आपने जो ज़हर उगला. मैं आपसे नाराज़ नहीं हूं. सच में, मैं आपकी सलामती के बारे में चिंतित हूं. अपनी जांच करवाओ सर. अपने ढलते दिनों में इस तरह का व्यवहार करना बड़ा भौंडा लगता है! आपको शोभा नहीं देता. इस उम्र में अपना नाम खराब क्यों कर रहे हैं? किसलिए? ट्विटर फॉलोअर्स के लिए? च्च च्च!!

यहां पर अपनी बात (ट्विटर थ्रेड) ख़त्म करके वो फिर अशोक पंडित के पुराने ट्वीट में गईं और वहां कहा-

जो लोग आपसे असहमत होते हैं आप उन्हें फर्ज़ी बुलाते हैं. कितनी बड़ी हेकड़ी है ये! आप मनमाने, लेबल्स का यूज़ करते हैं. ये अर्बन नक्सल क्या है? आपको पता भी है कि जब आप इसका इस्तेमाल करते हैं तो आप कितने मूर्ख लगते हैं? हम भी आपको ससम्मान कुछ भी कह सकते हैं. ‘नवीन नाज़ी’ (#NaveenNazi), ‘मॉडर्न फासिस्ट’ (#ModernFascist) या ‘फर्जी राष्ट्रवादी’(#FarziNationalist) कैसा रहेगा?

तो ये था पूरा ‘थ्रेड’ जिसकी बात ऋचा ने अपने एक ट्वीट में की थी. उनके अलावा भी कई लोग, कई सेलिब्रिटीज़ ट्विटर से लेकर फेसबुक तक, वर्चुअल से लेकर रियल तक अपनी ‘अभिव्यक्ति की स्वंत्रता’ के अधिकार का उपयोग कर रहे हैं. CAA और जामिया वाले प्रोटेस्ट को लेकर. और हम लगभग हर इश्यू को कवर करने का प्रयास कर रहे हैं. लल्लनटॉप के होम पेज में जाकर आप लाइन से ये सारी स्टोरीज़ पढ़ सकते हैं.


वीडियो देखें- प्रधानमंत्री मोदी ने की शांति की अपील, रेणुका शहाणे का जवाब वायरल हो गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

फिल्म '83' से क्रिकेटर्स के रोल में इन 15 एक्टर्स का लुक देखकर माथा ठीक हो जाएगा

रणवीर सिंह से लेकर हार्डी संधू और एमी विर्क समेत इन 15 एक्टर्स को आप पहचान ही नहीं पाएंगे.

शाहरुख खान से कार्तिक आर्यन तक इन सुपरस्टार्स के स्ट्रगल के किस्से हैरान कर देंगे

किसी ने भूखे पेट दिन गुजारे तो किसी ने मक्खी वाली लस्सी तक पी.

जब रमेश सिप्पी की 'शक्ति' देखकर कहा गया,'दिलीप कुमार अमिताभ बच्चन को नाश्ते में खा गए'

जानिए जावेद अख्तर ने क्यों कहा, 'शक्ति में अगर अमिताभ की जगह कोई और हीरो होता, तो फिल्म ज़्यादा पैसे कमाती?'

जब देव आनंद के भाई अपना चोगा उतारकर फ्लश में बहाते हुए बोले,'ओशो फ्रॉड हैं'

गाइड के डायरेक्टर के 3 किस्से, जिनकी मौत पर देव आनंद बोले- रोऊंगा नहीं.

2020 में एमेज़ॉन प्राइम लाएगा ये 14 धाकड़ वेब सीरीज़, जो मस्ट वॉच हैं

इन सीरीज़ों में सैफ अली खान से लेकर अभिषेक बच्चन और मनोज बाजपेयी काम कर रहे हैं.

क्यों अमिताभ बच्चन की इस फिल्म को लेकर आपको भयानक एक्साइटेड होना चाहिए?

ये फिल्म वो आदमी डायरेक्ट कर रहा है जिसकी फिल्में दर्शकों की हालत खराब कर देती हैं.

सआदत हसन मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

जानिए मंटो को कैसे जाना जाए.

नेटफ्लिक्स ने इस साल इंडियन दर्शकों के लिए कुछ भयानक प्लान किया है

1 साल, 18 एक्टर्स और 4 धांसू फिल्में.

'एवेंजर्स' बनाने वालों के साथ काम करेंगी प्रियंका, साथ में 'द फैमिली मैन' के डायरेक्टर भी गए

एक ही प्रोजेक्ट पर काम करने के बावजूद राज एंड डीके के साथ काम नहीं कर पाएंगी प्रियंका चोपड़ा.

पेप्सी को टैगलाइन देने वाले शहीद विक्रम बत्रा की बायोपिक की 9 शानदार बातें

सिद्धार्थ मल्होत्रा अपने करियर में डबल रोल और बायोपिक दोनों पहली बार कर रहे हैं.