Submit your post

Follow Us

तस्वीरें: देखें कैसे हिंसा की भेंट चढ़ा किसानों का आंदोलन

गणतंत्र दिवस देश का संविधान लागू होने का जश्न होता है. हर साल की तरह इस साल भी यह जश्न यादगार तरीके से मनाया गया. लेकिन इस साल का गणतंत्र दिवस गलत वजहों के कारण भी याद किया जाएगा. मंगलवार को किसान संगठनों द्वारा दिल्ली में आयोजित किसान रैली हुई हिंसा ने इस राष्ट्रीय पर्व की खुशी को कम करने का काम किया. किसानों ने नए कृषि कानूनों के विरोध में ट्रैक्टर रैली निकाली, जो कई जगह हिंसक हो गई. पुलिस ने उपद्रवियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े. वहीं, दूसरी तरफ से आक्रामक किसानों ने बैरिकेड तोड़ डाले.

इस पूरे हंगामे के दौरान पुलिस और किसानों के बीच कई जगह झड़प होने की खबर आई. दिल्ली पुलिस के मुताबिक, एक किसान ट्रैक्टर से बैरिकेड तोड़ते हुए ट्रैक्टर के नीचे आ गया, जिससे उसकी मौत हो गई. पुलिस का कहना है कि हिंसा में बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. मीडिया रिपोर्टों में कई किसानों के भी घायल होने की जानकारी आ रही है. हालात तब और ज्यादा बिगड़ गए जब रैली में शामिल उग्र लोगों का एक जत्था अपने रूट से अलग होकर लाल किला पहुंच गया. वहां उन्होंने निशान साहिब फहरा दिया. हालांकि दिल्ली पुलिस ने इसे जल्दी ही लाल किले से उतार दिया. आइए तस्वीरों में देखते हैं कि कैसे किसान आंदोलन के लिए यादगार माना गया यह दिन देखते ही देखते एक बुरी याद बनकर रह गया.

#1

Farmer Protest Republic Day 2021

दिल्ली पुलिस का एक जवान किसानों पर आंसू गैस के गोले छोड़ता हुआ. (तस्वीर: एपी | अल्ताफ़ क़ादरी)

#2

Farmer Protest On Republic Day 2021

नए कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन करता हुआ एक निहंग सिख पुलिसकर्मी के सामने तलवार लहराता हुआ.  (तस्वीर: एपी | अल्ताफ़ क़ादरी)

#3

Farmer Protest Republic Day

बैरिकेड्स को तोड़ने की कोशिश में किसान और आंसू गैस के गोले छोड़कर प्रदर्शनकारी किसानों को रोकने की कोशिश करती हुई दिल्ली पुलिस. (तस्वीर: एपी | अल्ताफ़ क़ादरी)

#4

Farmer Protest On Republic Day

सिख धार्मिक झंडे निशान साहिब को ऐतिहासिक लाल किले के एक गुंबद पर फहराते हुए प्रदर्शनकारी. (तस्वीर: एपी | दिनेश जोशी)

#5

Farmer Protest Republic Day 2021 Delhi

लाल किले पर सिख धार्मिक झंडे निशान साहिब को फहराता हुआ प्रदर्शनकारी. पुलिसकर्मियों ने जल्द ही निशान साहिब को लाल किले से उतार दिया था. (तस्वीर: एपी | सुप्रीत सपकल)

#6

Farmers Tractor Rally Red Fort

नए कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन करते हुए हिंसक किसानों ने लाल किले के सुरक्षा उपकरणों के साथ तोड़फोड़ की. (तस्वीर: एपी | मनीष स्वरूप)

#7

Farmer Tractor Rally On Republic Day

मेट्रो स्टेशन की सुरक्षा में जवान. 26 जनवरी को हिंसक होते हुए किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए कई मेट्रो स्टेशन घंटों बंद रहे थे. (तस्वीर: पीटीआई | कमल किशोर)

#8

Farmer Tractor Rally On Republic Day Delhi

ट्रैक्टर रैली के दौरान हिंसक प्रदर्शनकारियों ने कई जगह पुलिस कर्मियों को पीटा. दिल्ली पुलिस के मुताबिक, कुल 83 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. इस तस्वीर में देख सकते हैं कि पुलिस के जवान प्रदर्शकारियों से मिन्नत करते नजर आ रहे हैं. (तस्वीर: पीटीआई | अरुण शर्मा)

#9

Farmers Tractor Rally

रैली के दौरान उग्र किसानों द्वारा घायल किए गए जवान को सुरक्षित स्थान पर ले जाते किसान प्रदर्शनकारी. (तस्वीर: पीटीआई | अरुण शर्मा)

#10

Farmers Tractor Rally Ito

आईटीओ चौराहे पर प्रदर्शनकारियों ने पुलिस ड्यूटी वाली एक बस के साथ तोड़-फोड़ की. आईटीओ पर पुलिस और किसानों के बीच काफ़ी देर तक झड़प होती रही. (तस्वीर: पीटीआई | मानवेंद्र वशिष्ठ)

#11

Red Fort Tractor Rally

लाल किले के परिसर के अंदर टिकट काउंटर के पास प्रदर्शनकारियों द्वारा तोड़-फोड़ देख लीजिए. (तस्वीर: पीटीआई | कमल सिंह)

#12

Red Fort Tractor March

लाल किले के सामने प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की गाड़ियों को तोड़ डाला. (तस्वीर: पीटीआई | कमल सिंह)

#13

Red Fort Tractor Protestors

पुलिसकर्मी को मारता प्रदर्शनकारी. तस्वीर में साफ देख सकते हैं कि पुलिसकर्मी प्रदर्शनकारियों के सामने हाथ जोड़े हुए हैं.
(तस्वीर: पीटीआई | अरुण शर्मा)

#14

Farmer Protest Republic Day Red Fort

27 जनवरी की सुबह लाल किले की सुरक्षा में पहरेदारी करते हुए भारतीय सुरक्षा बल. 26 जनवरी को लाल किले पर प्रदर्शनकारियों ने लाल किले पर निशान साहिब का झंडा फहरा दिया था. (तस्वीर: एपी | मनीष स्वरुप)


वीडियो- लाल किले पर झंडा फहराने वाले का खालिस्तान से संबंध है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

मूवी रिव्यू: दी व्हाइट टाइगर

कई पीढ़ियों में एक बार पैदा होता है व्हाइट टाइगर, इसलिए खास है. पर क्या फिल्म के बारे में भी ये कहा जा सकता है?

फिल्म रिव्यू- मैडम चीफ मिनिस्टर

मैडम चीफ मिनिस्टर जिस ताबड़तोड़ तरीके से शुरू होती है, वो खत्म होते-होते वापस उतनी ही दिलचस्प और मज़ेदार हो जाती है. मगर दिक्कत का सबब है वो सब, जो शुरुआत और अंत के बीच घटता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू- तांडव

'तांडव' बड़े प्रोडक्शन लेवल पर बनी एक छिछली पॉलिटिकल थ्रिलर है, जिसे लगता है कि वो बहुत डीप है.

मूवी रिव्यू: त्रिभंग

कैसा रहा काजोल का डिजिटल डेब्यू?

फिल्म रिव्यू - मास्टर

साल की पहली मेजर फिल्म कैसी है, जहां दो सुपरस्टार आमने-सामने हैं?

रिव्यू: गुल्लक सीज़न 2

मिडल क्लास फैमिली की शानदार कहानी.

मूवी रिव्यू: कागज़

पंकज त्रिपाठी की लोकप्रियता भुनाने का प्रयास कितना सफल?

काजोल के डिजिटल डेब्यू 'त्रिभंग' की ख़ास बातें, जिसे रेणुका शहाणे ने डायरेक्ट किया है

'त्रिभंग' का ट्रेलर रिलीज़ हुआ है, जो कमाल लग रहा है.

मूवी रिव्यू: AK vs AK

'AK vs Ak' की सबसे बड़ी ताकत इसका कॉन्सेप्ट ही है, जो काफी हद तक एंगेजिंग है.

फिल्म रिव्यू: कुली नंबर 1

ये रीमेक न होकर कोई ओरिजिनल फ़िल्म होती, तब भी इतना ही निराश करती.