Submit your post

Follow Us

कौन थे वेंडल रॉड्रिक्स, जिन्होंने दीपिका को रातों-रात मॉडल और फिर स्टार बना दिया?

इंडिया के आइकॉनिक फैशन डिज़ाइनर वेंडल रॉड्रिक्स नहीं रहे. उन्हें सिर्फ फैशन डिज़ाइनर कहना गलत होगा. क्योंकि उन्होंने अपने करियर की शुरुआत होटल मैनेजमेंट से की थी. उसके बाद फैशन की पढ़ाई की. अपने होम स्टेट गोवा के लिए काम किया. पर्यावरणविद (Environmentalist) रहे. किताबें लिखीं. एलजीबीटीक्यू (Lesbian, gay, bisexual, and transgender) कम्युनिटी की बेहतरी में बड़ा योगदान दिया. कुछ-एक फिल्मों में भी दिखाई दिए. 12 फरवरी, 2020 की शाम 5:45 बजे उनकी डेथ हो गई. वो 60 साल के थे. जब उनकी मौत हुई, तब वेंडल अपने गोवा वाले घर में ही थे. उनकी मौत की वजह हार्ट अटैक बताई जा रही है. हालांकि इस मामले में और क्लैरिटी के लिए हमें इंतज़ार करना चाहिए.

इस दुख और हड़बड़ी वाले माहौल में हम आपको वेंडल की लाइफ से जुड़ी कुछ चुनिंदा और दिलचस्प बातें बता रहे हैं:

1) वेंडल का जन्म 28 मई, 1960 को मुंबई में गोवा की कैथलिक फैमिली में हुआ था. पढ़ाई-लिखाई मुंबई से ही हुई. कहा, होटल मैनेजमेंट करना है. लेकिन उसमें डिप्लोमा करने के बाद भी वो संतुष्ट नहीं थे. जब 22 साल के थे, तब उनकी नौकरी मस्कट में लग गई. वहां वो रॉयल ओमान पुलिस ऑफिसर्स क्लब के केटरिंग डिपार्टमेंट में असिस्टेंट डायरेक्टर थे. अब वेंडल फैशन पढ़ना चाहते थे. अपने पार्टनर के कहने पर वो सैलरी से पैसे बचाने लगे. इन्हीं बचाए पैसों से उन्होंने 1986 से 88 तक पेरिस और लॉस एंजेलिस जैसी जगहों पर फैशन डिज़ाइनिंग की पढ़ाई की.

अपने करियर के शुरुआती दिनों में वेंडल रॉड्रिक्स.
अपने करियर के शुरुआती दिनों में वेंडल रॉड्रिक्स.

2) फैशन डिज़ाइनिंग पढ़ने के बाद वेंडल इंडिया लौट आए. यहां आते ही मार्केट में तूफान मचाना शुरू कर दिया. कुछ ही दिनों में इंडिया के लीडिंग फैशन डिज़ाइनरों में गिने जाने लगे. इको-फ्रेंड्ली कपड़ों का चलन इंडियन मार्केट में यही लेकर आए. नई सदी में बहुत सारी नई चीज़ें हो रही थीं. ऐसी ही एक चीज़ थी लैक्मे फैशन वीक. इंडिया में होने वाले इस इवेंट की शुरुआत को फैशन इंडस्ट्री के लिए शुभ संकेत मानते हुए, वो हर कदम पर इससे जुड़े रहे. प्लानिंग से लेकर इसके हो जाने तक.

2017 लक्मे फैशन वीक के दौरान अपने उत्तराधिकार शुलेन फर्रानडिस और देविका भोजवानी के साथ वेंडेल रॉड्रिक्स.
2017 लैक्मे फैशन वीक के दौरान अपने उत्तराधिकारी शुलेन फर्नांडिस और देविका भोजवानी के साथ वेंडल रॉड्रिक्स. (बाएं से दाएं)

3) सिर्फ इंडिया ही नहीं वेंडल की ख्याति दुनियाभर में फैल रही थी. उनके फैशन स्टाइल और पर्यावरण को ध्यान में रखकर बनाए गए कपड़ों की वजह से. वो पहले इंडियन फैशन डिज़ाइनर थे, जिन्हें दुनिया के सबसे मशहूर क्लोदिंग इवेंट्स में बुलाया गया. जर्मनी में होने वाले सबसे बड़े कपड़ा-फैशन मेले (IGEDO, 1995) से लेकर मलेशियन फैशन वीक, दुबई फैशन वीक और न्यूरेमबर्ग में हुआ ऑर्गैनिक कपड़ों का सबसे बड़ा मेला तक इसमें शामिल है.

4) 1983 में वेंडल जब ओमान में थे, तब उनके एक दोस्त ने उन्हें जेरोम मैरेल नाम के एक शख्स से मिलवाया. जेरोम, ओमान में बिज़नेस की पढ़ाई कर रहे थे. बाद में इन्हीं जेरोम से वेंडल ने शादी की. गे होने की वजह से उन्हें अपने परिवार की काफी नारज़गी झेलनी पड़ी. इसीलिए उन्होंने LGBTQ के बारे में बात करनी शुरू की. लोगों को इस बारे में जागरूक करने लगे. उन्हीं जेरोम के कहने और हिम्मत देने के बाद वेंडल फैशन डिज़ाइनिंग की पढ़ाई करने फ्रांस और अमेरिका जैसी जगहों पर जा पाए. लंबे समय तक कोर्टशिप के बाद दोनों ने पेरिस में शादी (2002 ) कर ली.

 अपने पार्टनर जेरोम मैरेल के साथ वेंडेल.
अपने पार्टनर जेरोम मैरेल के साथ वेंडल.

5) 2014 में वेंडल को भारत सरकार ने चौथे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्मश्री से सम्मानित किया. रितु कुमार के बाद पद्मश्री पाने वाले वेंडल मात्र दूसरे फैशन डिज़ाइनर हैं. अपने एक इंटरव्यू में वेंडल बताते हैं कि जब उन्हें ये सम्मान मिलने की घोषणा हुई, तब उन्हें इस बारे में पता भी नहीं चल पाया था. न्यूज़ीलैंड में नए साल का जश्न मनाने के बाद उन्होंने अपना फोन ऑफ कर दिया था. अगली बार जब उन्होंने अपना सेलफोन ऑन किया, तब उन्हें सबसे पहला मैसेज गोवा के राज्यपाल का आया. मैसेज तो बधाई वाला था लेकिन पद्मश्री मिलने की खुशी में वो वहीं बैठकर रोने लगे.

तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से पद्मश्री सम्मान पाते वेंडेल.
तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से पद्मश्री सम्मान पाते वेंडल.

6) दीपिका पादुकोण के मॉडलिंग और एक्टिंग करियर का श्रेय भी काफी हद तक वेंडल को ही जाता है. वेंडल ने टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में बताया था कि उन्होंने दीपिका को पहली बार एक मॉल में देखा था. देखते ही उन्होंने दीपिका को सलाह दी कि उन्हें मॉडल बनना चाहिए. वेंडल की इस बात पर दीपिका की मां नाराज़ हो गईं. लेकिन बाद में दीपिका ने मॉडलिंग फील्ड को चुना और वेंडल के साथ काफी काम किया. एक दिन अचानक फिल्ममेकर फराह खान ने मलाइका अरोड़ा से कहा कि उन्हें शाहरुख खान के अपोज़िट कास्ट करने के लिए एक मॉडल चाहिए. मलाइका, वेंडल की अच्छी दोस्त थीं. उन्होंने ये बात उन्हें बताई. उन दिनों वेंडल एक फैशन शो कर रहे थे, यहां मलाइका भी थीं. उन्होंने मलाइका से कहा, जो पहली लड़की स्टेज पर दिखेगी, वही उनकी रेकमेंडेशन हैं शाहरुख की फिल्म के लिए. उस फैशन शो को दीपिका ने ओपन किया था. और इस तरह से सिर्फ दो साल मॉडलिंग करने वाली दीपिका को शाहरुख खान के साथ अपना फिल्म डेब्यू करने का मौका मिल गया. सिर्फ दीपिका ही नहीं अनुष्का शर्मा को भी वेंडल की ही खोज माना जाता है.

एक फैशन शो के दौरान वेंडेल रॉड्रिक्स के साथ दीपिका पादुकोण.
एक फैशन शो के दौरान वेंडल रॉड्रिक्स के साथ दीपिका पादुकोण.

7) वेंडल ने अपने करियर में तीन किताबें लिखीं. पहली फैशन के ऊपर- ‘मोडा गोवा’ (2012). दूसरी, अपनी आत्मकथा- ‘द ग्रीन रूम’ (2012). और तीसरी किताब गोवा के ऊपर- ‘पोस्केम’ (2017). सिर्फ किताबें ही नहीं, वो फिल्मों में ठीक-ठाक एक्टिव थे. वेंडल ने भी अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत कटरीना कैफ के साथ ही की थी. 2003 में आई फिल्म ‘बूम’ में. इसमें जैकी श्रॉफ, अमिताभ बच्चन और गुलशन ग्रोवर जैसे एक्टर्स ने काम किया था. इसमें वेंडल का कैमियो था. इसके बाद वो अमेरिकन टीवी शो ‘ट्रू वेस्ट’ में दिखाई दिए. उनकी आखिरी फिल्म 2008 में आई मधुर भंडारकर की कंगना-प्रियंका स्टारर ‘फैशन’ थी. इसमें उन्होंने अपने ही यानी वेंडल रोड्रिक्स के रोल में ही गेस्ट अपीयरेंस किया था. मलाइका की वजह से उनकी खान परिवार से भी काफी करीबियत थी. वो अरबाज़ और मलाइका के बेटे अरहान खान के गॉडफादर थे.

अपनी किताब 'पोस्केम' के लॉन्च के मौके पर वेंडेल रॉड्रिक्स.
अपनी किताब ‘पोस्केम’ के लॉन्च के मौके पर वेंडल रॉड्रिक्स.

8) वेंडल अपने पार्टनर जेरोम के साथ गोवा में ही रहते थे. वो जिस घर में रहते थे, वो 450 साल पुराना गोवा का पारंपरिक विला था. कोलवेल में बसा ये विला उन्होंने कुछ साल पहले छोड़ दिया. वो उस विला में इंडिया का पहला कॉस्ट्यूम म्यूज़ियम खोलने पर काम कर रहे थे. इसके लिए वो पिछले 17 सालों से गोवा में पहने जाने वाले परिधानों को इकट्ठा कर रहे थे. इस म्यूज़ियम का नाम होना था- ‘मोडा गोवा म्यूज़ियम एंड रिसर्च सेंटर’. उनकी आखिरी सोशल मीडिया पोस्ट भी इस म्यूज़ियम में चल रहे काम के बारे में ही थी. उन्होंने 2016 में ही अपने स्टूडियो और फैशन लेबल से रिटायरमेंट ले लिया था. इन चीज़ों की ज़िम्मेदारी उन्होंने शुलेन फर्नांडिस नाम की अपनी एक साथी के हाथों में सौंप दी. शुलेन ने वेंडल को 1999 में बतौर इंटर्न जॉइन किया था. लेकिन आखिर तक उनके साथ रहीं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

शी- नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

किसी महिला को संबोधित करने के लिए जिस सर्वनाम का इस्तेमाल किया जाता है, उसी के ऊपर इस सीरीज़ का नाम रखा गया है 'शी'.

असुर: वेब सीरीज़ रिव्यू

वो गुमनाम-सी वेब सीरीज़, जो अब इंडिया की सबसे बेहतरीन वेब सीरीज़ कही जा रही है.

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी.

गिल्टी: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

#MeToo पर करण जौहर की इस डेयरिंग की तारीफ़ करनी पड़ेगी.

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.

देवी: शॉर्ट मूवी रिव्यू (यू ट्यूब)

एक ऐसा सस्पेंस जो जब खुलता है तो न सिर्फ आपके रोंगटे खड़े कर देता है, बल्कि आपको परेशान भी छोड़ जाता है.

ये बैले: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

'ये धार्मिक दंगे भाड़ में जाएं. सब जगह ऐसा ही है. इज़राइल में भी. एक मात्र एस्केप है- डांस.'

फिल्म रिव्यू- थप्पड़

'थप्पड़' का मकसद आपको थप्पड़ मारना नहीं, इस कॉन्सेप्ट में भरोसा दिलाना, याद करवाना है कि 'इट्स जस्ट अ स्लैप. पर नहीं मार सकता है'.

फिल्म रिव्यू: शुभ मंगल ज़्यादा सावधान

ये एक गे लव स्टोरी है, जो बनाई इस मक़सद से गई है कि इसे सिर्फ लव स्टोरी कहा जाए.