Submit your post

Follow Us

नौशाद ने शकील बदायूंनी को कमरे में बंद कर लिया, तब जाकर 'टाइमलेस' गीत जन्मा

सुब्ह का अफ़साना कहकर शाम से

खेलता हूं गर्दिशे-आय्याम से,

उनकी याद उनकी तमन्ना, उनका ग़म

कट रही है ज़िन्दगी आराम से.

ये ग़ज़ल है शकील बदायूंनी की. ऐसी कई ग़ज़लें, शेर और बॉलीवुड गाने लिखने वाले फेमस साहित्यकार शकील बदायूंनी का जन्म हुआ था 3 अगस्त, 1916 को.

नन्हा मुन्ना राही हूं, जब प्यार किया तो डरना क्या, चौदहवीं का चांद हो, मन तड़पत हरि दर्शन को जैसे कई गीत बदायूंनी ने रचे हैं.

शकील बदायूंनी शुरुआत में सरकारी नौकरी कर रहे थे. सप्लाई विभाग में. उन दिनों वो मुशायरों के जाने-पहचाने चेहरे थे. 1942 से 1946 के बीच नौकरी करते हुए उन्होंने खूब शायरी की. और बहुत फेमस भी हो गए.

बदायूंनी फिल्मी दुनिया में भी वाया मुशायरा पहुंचे. हुआ ये कि 1946 में किसी मुशायरे में शामिल होने के लिए मुम्बई पहुंचे थे. उन दिनों फिल्म निर्माता भी मुशायरों में बहुत जाया करते थे. उस मुशायरे में फेमस डायरेक्टर और प्रॉड्यूसर ए. आर. कारदार भी आए थे. उन्होंने जब बदायूंनी को सुना तो अपनी फिल्म दर्द के गाने लिखने का ऑफर दे दिया. यह फिल्म आई थी 1947 में. इस फिल्म का एक बहुत ही फेमस गाना है. अफसाना लिख रही हूं दिले बेकरार का. जिसे गाया है टुनटुन(उमादेवी) ने.

मुगले-आज़म मूवी के फेमस गाने ‘प्यार किया तो डरना क्या’ के बनने का एक किस्सा है. ये गाना बनाने के लिए नौशाद ने बदायूंनी और खुद को शाम के 6 बजे कमरे में बंद कर लिया. बहुत देर तक माथा खपाने के बाद नौशाद के दिमाग में एक पूरबी लोकगीत की पंक्ति आ गई. ये थी प्रेम किया क्या चोट करी. नौशाद ये वाला लोकगीत बचपन से सुनते आ रहे थे. इसी से प्रेरित होकर बंदायूनी ने लिखी ये पंक्तियां

प्यार किया तो डरना क्या

प्यार किया कोई चोरी नहीं की

छुप-छुप आहें भरना क्या!

गाने का मुखड़ा मिल चुका था. और जब तक गाना पूरा हुआ, सुबह हो गई थी. इस गीत के लिए दोनों पूरी रात सोए नहीं.

शकील बदायूंनी ने बहुत सारे भजन भी लिखे है. उनका लिखा एक बहुत ही फेमस भजन है. 1952 में आई फिल्म बैजू बावरा  का मन तड़पत हरि दर्शन को. दिलचस्प बात ये है कि इस भजन को लिखा शकील बदायूंनी ने और गाया है मोहम्मद रफी ने. उनका एक और फेमस भजन है पत राखो गिरधारी.

बदायूंनी को बैडमिंटन और पतंग का खूब शौक था. 20 अप्रैल, 1970 को वो ये दुनिया छोड़ गए. बदायूंनी के मरने के बाद उनकी मेमोरी में एक ट्रस्ट बनाया गया“याद-ए-शकील” नाम का. इसे बनाया था उनके दोस्तों नौशाद, अहमद जकारिया और रंगूनवाला ने.

यहां पढ़िए उनके कुछ शेर-

1.10

 

2.9

 

3.8

 

4.7

 

5.6

 

6.5

 

7.4

 

8.3

 

9.2

 

10.1


ये आर्टिकल सुमेर रेतीला ने लिखा है.


 

ये भी पढ़ें:

पाकिस्तान की शायरा ने हिन्दुस्तान से क्या कहा!

माइकल मधुसूदन दत्त: वो कवि जिसने शादी से बचने के लिए धर्म बदल लिया

कबीर : न आस्तिक, न नास्तिक, भारत के बहुत बड़े सारकास्टिक

“मैं बगावत का अखिल दूत, मैं नरक का प्राचीन भूत”

हिन्दी के पहले और शायद आखिरी ‘टॉप सेलर’ लेखक प्रेमचंद को चिट्ठी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: द टुमॉरो वॉर

फिल्म रिव्यू: द टुमॉरो वॉर

'एवेंजर्स' वाले क्रिस प्रैट क्या इस बार दुनिया को बचा पाए?

फिल्म रिव्यू- कोल्ड केस

फिल्म रिव्यू- कोल्ड केस

हर फिल्म को देखने के बाद एक भाव आता है, जो आपके साथ रह जाता है. मगर 'कोल्ड केस' को देखने के बाद आप श्योर नहीं हो पाते कि वो भाव क्या है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: ग्रहण

वेब सीरीज़ रिव्यू: ग्रहण

1984 के सिख दंगों पर बनी ये सीरीज़ आज भी रेलवेंट है.

मूवी रिव्यू: जगमे थंदीरम

मूवी रिव्यू: जगमे थंदीरम

धनुष की जिस फिल्म को लेकर इतना हाईप था, वो आखिर है कैसी?

मूवी रिव्यू- शेरनी

मूवी रिव्यू- शेरनी

जानिए 'न्यूटन' फेम अमित मसुरकर और विद्या बालन ने साथ मिलकर क्या बनाया है!

मूवी रिव्यू: स्केटर गर्ल

मूवी रिव्यू: स्केटर गर्ल

फिल्म को देखकर दिमाग नहीं घूमेगा, बस बिज़ी लाइफ में ठहराव महसूस होगा.

वेब सीरीज़ रिव्यू- सनफ्लावर

वेब सीरीज़ रिव्यू- सनफ्लावर

अच्छे एक्टर्स की शानदार परफॉरमेंस से लैस ये सीरीज़ एक सुनहरा मौका गंवाती सी लगती है.

तापसी पन्नू की 'हसीन दिलरुबा' का ट्रेलर तो बहुत जबराट है

तापसी पन्नू की 'हसीन दिलरुबा' का ट्रेलर तो बहुत जबराट है

बड़े दिन बाद मार्केट में मर्डर मिस्ट्री आई है.

सत्यजीत रे की कहानियों पर आधारित सीरीज़ 'रे', जिसमें इंडस्ट्री के कमाल एक्टर्स की ज़बरदस्त भीड़ है

सत्यजीत रे की कहानियों पर आधारित सीरीज़ 'रे', जिसमें इंडस्ट्री के कमाल एक्टर्स की ज़बरदस्त भीड़ है

मनोज बाजपेयी, के के मेनन, गजराज राव, अली फ़ज़ल, क्या-क्या नाम गिनाएं!

वेब सीरीज़ रिव्यू: द फैमिली मैन सीज़न 2

वेब सीरीज़ रिव्यू: द फैमिली मैन सीज़न 2

काफी डिले के बाद आया शो का सीज़न 2 आखिर है कैसा?