Submit your post

Follow Us

Realme LED Smart Bulb रिव्यू: फ़ोन से कंट्रोल होने वाले इस बल्ब की आपको कितनी ज़रूरत है?

रियलमी अब सिर्फ एक स्मार्टफ़ोन कंपनी नहीं है. ये TV, इयरफ़ोन, स्पीकर, स्मार्टवॉच और सिक्योरिटी कैमरा से लेकर बैग, टी-शर्ट और टूथब्रश तक बनाती है. हाल ही में इन्होंने स्मार्ट लाइट लॉन्च की थी और अब इनकी वेबसाइट पर आपको स्मार्ट LED बल्ब भी मिलेगा.

इस स्मार्ट बल्ब को कंपनी ने रियलमी 8 के लॉन्च इवेंट पर दिखाया था. रियलमी ने हमारे पास इस बल्ब का 12W वाला मॉडल कुछ वक़्त पहले भेजा था. हम इसे तब से ही इस्तेमाल कर रहे हैं. इसकी कीमत 999 रुपए है. हम यहां पर इसे इस्तेमाल करने का अपना एक्सपीरियंस बताएंगे. और साथ ही ये भी कि आपको इसे लेना चाहिए या नहीं.

रियलमी के पास इसी बल्ब का एक सस्ता मॉडल भी है, जो 9W का है और 799 रुपए में मिलता है. मगर चूंकि स्मार्ट बल्ब से बहुत लोग रूबरू नहीं है, इसलिए हम अपना एक्सपीरियंस बताने से पहले ये बता देते हैं कि स्मार्ट बल्ब होता क्या है.

Realme Bulb 9w 12w
रियलमी स्मार्ट बल्ब दो मॉडल में आता है.

Smart Bulb कौन सी टेढ़ी खीर है?

स्मार्ट बल्ब वो बला है जिसे आप बिजली के खटके के साथ-साथ अपने स्मार्टफ़ोन से कंट्रोल कर सकते हैं. बस बिजली वाला बटन ऑन करके छोड़ दीजिए, फिर ये फोन से ही बंद भी हो जाएगा और चालू भी. बिल्कुल वैसे ही जैसे TV का रिमोट TV को चालू और बंद करता है. हां बस बल्ब को फोन से कंट्रोल करने के लिए आपको इसके सामने नहीं होना होता, बस आपके फोन को और बल्ब को एक ही Wi-Fi नेटवर्क से जुड़े होना होता है. आवश्यकता अगर आविष्कार की जननी है, तो इस फीचर की जननी काहिली (आलस्य) है.

Realme LED Smart Bulb review

स्मार्ट बल्ब की डिजाइन और फीचर की बात करने से पहले हम आपको बता दें कि ये पहला मौका था जब हमने एक स्मार्ट बल्ब इस्तेमाल किया है. जो हाल एक बच्चे का नया खिलौना मिलने पर होता है, कुछ वैसा ही हाल हमारा हुआ. इसको हमने इस्तेमाल कम किया है मगर इससे खेला ज़्यादा है. ये बल्ब जो कुछ भी कर सकता है, उसके बारे में हमने अपने दोस्त को बता-बता कर उसके कान पका डाले. कुछ ऐसा ही एक्सपीरियंस आपको भी यहां पढ़ने को मिल सकता है. इस वैधानिक चेतावनी के बाद ये रिव्यू शुरू होता है.

डिजाइन

Realme Bulb Review 2
ये बल्ब काफी प्रीमियम फ़ील होता है.

इस बल्ब की डिजाइन बड़ी सिम्पल सी है मगर बढ़िया लग रही है. ये एक दम ही कोन जैसे शेप का है और हाथ में पकड़ने पर काफी महंगा मालूम पड़ता है. सबसे बढ़िया बात इस बल्ब की ये है कि इसका कनेक्टर एक नॉर्मल बल्ब की तरह पिन वाला ही है. शाओमी के बल्ब की तरह इसमें स्क्रू वाला सिस्टम नहीं है.

पहला कनेक्शन

बल्ब को अपने फोन से कनेक्ट करने के लिए इन दोनों डिवाइस का एक ही Wi-Fi नेटवर्क पर कनेक्ट होना ज़रूरी है. इसके लिए ज़्यादा जद्दो-जहद करने की जरूरत नहीं है. बस बिजली के स्विच पर माथा पटकना होगा. खैर ये तो हमने ज़्यादा ही बढ़ा-चढ़ाकर लिख दिया है. असल में सबसे पहले आपको अपने फोन में Realme Link ऐप इंस्टॉल करके इसमें अकाउंट बनाना होगा. और फिर आपको पहले बल्ब को कनेक्शन के लिए तैयार करना होगा. इसके लिए बल्ब को होल्डर में लगाइए और होल्डर के पावर बटन को चालू करिए. अब 2 सेकंड रुकिए और इसे बंद कर दीजिए. 2 सेकंड बाद ही इसे फिर से चालू कर दीजिए और फ़िर से इसे 2 सेकंड रुकिए.

Connecting Bulb Instructions (1)
इस बल्ब को पहली बार जोड़ना थोड़ा लंबा काम है.

यही प्रक्रिया 5 बार दोहरानी होगी जिसके बाद बल्ब परेशान होकर लंबी-लंबी सांसे भरने लगेगा. मतलब कि लाइट तेज़ होकर धीमे-धीमे कम हो जाएगी और फ़िर धीमे से तेज़ हो जाएगी. इसका मतलब कि अब बल्ब कनेक्शन के लिए तैयार है. अब Realme Link ऐप में Smart Bulb चुन लीजिए और अपने Wi-Fi का पासवर्ड डाल दीजिए. फिर एक आध स्टेप के बाद बल्ब कनेक्ट हो जाएगा. तरीका लंबा है मगर बस ज़िंदगी में एक ही बार करना है. आप अगर बाहर से भी वापस घर आएंगे, तो जैसे ही आप अपने Wi-Fi से जुड़ेंगे, बल्ब अपने आप आपके कंट्रोल में आ जाएगा.

एंड्रॉयड फोन वाले चाहें तो इस बल्ब को गूगल असिस्टेंट से जोड़ सकते हैं. और फिर काहिली की नई गाथा रचते हुए बस अपने फोन से कह दें– “हे गूगल, ज़रा लाइट धीमी कर दो.” और काम हो जाएगा. इसे गूगल असिस्टेंट से कैसे जोड़ना है इसके बारे में आप खुद गूगल असिस्टेंट से पूछ सकते हैं.

बल्ब का कंट्रोल और फीचर

Realme Link की मदद से इस स्मार्ट बल्ब को कंट्रोल करना TV का रिमोट चलाने से भी आसान है. ऐप खोलते ही आपको सामने ही बल्ब को चालू और बंद करने का स्विच मिल जाएगा. बाईं तरफ टाइमर का बटन है जिसमें आप ये सेट कर सकते हैं कि बल्ब 10 मिनट बाद, 20 मिनट बाद, आधे घंटे बाद या फिर आपकी पसंद के टाइम के बाद अपने आप बंद हो जाए. इस फीचर के भी अपने फायदे हैं. दाईं तरफ़ Light Wave वाला बटन है जो आपके कमरे में झय्यम-झक्कड़ DJ वाला सीन बना देता है. बस इस बटन को दबाइए और अपने फोन में कोई गाना बजा दीजिए. गाने की ताल पर ही बल्ब की लाइट कम-ज़्यादा होगी और रंग भी बदलेगी.

Realme Link App
Realme Link ऐप की मदद से ये स्मार्ट बल्ब कंट्रोल होता है.

अब आते हैं टैब पर. ऐप में ऊपर की तीन टैब हैं– White, Colour और Scenario. व्हाइट वाले हिस्से में सामने एक गोला बनकर आता है जिसकी मदद से आप स्मार्ट बल्ब की सफेद लाइट को अपने हिसाब से पीले की तरफ़ ले जा सकते हैं. नीचे की तरफ़ एक स्लाइडर लगा हुआ है जिसे आप दाएं-बाएं करके रोशनी को ज़्यादा-कम कर सकते हैं. ये फीचर सस्ते से सस्ते स्मार्ट बल्ब में भी होता है.

कलर वाले टैब में आप अपने मन के हिसाब से रंग चुन सकते हैं. रियलमी कहता है कि ये बल्ब 1 करोड़ 6 लाख रंग पैदा कर सकता है. इसकी गिनती करना तो असंभव है, मगर रंग सच में इतने हैं कि गिरगिट भी शर्मा जाए. ये चीज महंगे वाले स्मार्ट बल्ब में होती है. रियलमी का बल्ब 1700K-6500K तक कलर टेम्प्रेचर सपोर्ट करता है. यहां K का मतलब केल्विन है. 3000K के आसपास आपको वॉर्म यानी पीले रंग जैसी लाइट मिलेगी, 4000K के आस पास आपको नैचरल सफेद लाइट मिलती है और 6000K के आस पास कूल यानी थोड़े नीले रंग जैसी लाइट मिलती है. केल्विन के कंट्रोल से आप दिन में सूरज से मिलने वाले लाइट के कलर को अपने कमरे में मैच कर सकते हैं.

Colour Temperature
Colour Temperature का चार्ट देख लीजिए.

मगर सबसे बढ़िया आखिरी वाली टैब है. यहां आप मूड और जरूरत के हिसाब से लाइट को सेट कर सकते हैं. मौजूद ऑप्शन्स में शामिल हैं– Good Night, Gentle, Reading, Relaxing, Working, Colourful, Brilliant, Dazzle. वर्किंग वाले मोड में लाइट थोड़ी पीली हुई और हमें काफी आराम पता चला. खास-तौर पर हमारी आंखों को, जो दिनभर लैपटॉप की स्क्रीन ताक-ताक कर हमसे रहम की भीख मांगा करती हैं. अब पता नहीं ऐसा सच में था या फिर बस माइन्ड-गेम था. मतलब कि ऐसा भी हो सकता है कि हमें ऐसा इसलिए फ़ील हुआ क्योंकि इस मोड का नाम वर्किंग था. रही बात रिसर्च की तो एक स्टडी बताती है कि नीली लाइट आंखों के लिए अच्छी नहीं है, पीली लाइट बढ़िया है. मगर दूसरी स्टडी बताती है कि ऐसा नहीं है, बल्कि पीली लाइट से हमारे दिमाग को लगता है कि सच में सूरज निकला हुआ है और इस चक्कर में हमारी नींद आगे खिसक जाती है. बहरहाल हमको सही लगा, बस इत्ता ही मैटर करता है.

अच्छा क्या लगा और कमी क्या लगी?

अच्छा लगने को तो हमें सारे फीचर बढ़िया लगे. मगर एक बल्ब के नाते Realme LED Smart Bulb की लाइट हमें थोड़ी शांत लगी. मतलब कि बाकी LED बल्ब हल्के-हल्के झिलमिल होते हुए से पता चलते हैं, खासतौर पर तब जब वोल्टेज थोड़ा कम हो. मगर इस स्मार्ट बल्ब की लाइट एक ही जैसी फ़ील हुई. बिना झिलमिल के और आंखों पर नर्म. रियलमी इस चीज को अपने फीचर के तौर पर गिनाता भी है. इसके साथ ही बल्ब पर 2 साल की वॉरन्टी भी है.

इस बल्ब में हमें बस एक दिक्कत लगी. उजाला थोड़ा कम है. रियलमी का कहना है कि इनका 12W वाला बल्ब 1000 लुमेन का है. लुमेन एक बल्ब की लाइट की तीव्रता होती है. मतलब की बल्ब कितनी तेज़ जलेगा ये चीज लुमेन बताती है. महंगे वाले स्मार्ट बल्ब में भी आपको मुश्किल से ही 800 लुमेन की तीव्रता मिलती है. रियलमी के बल्ब में 1000 लुमेन लाइट है मगर फिर भी ये हमारे कमरे के हिसाब से कम रही.

Bulb Lights
बल्ब में आप लाइट को अपनी मर्जी से बदल सकते हैं.

हमारा कमरा 12x10x10 फ़ीट का है. Alconlighting के कैलक्यूलेटर के हिसाब से हमें इस कमरे में 2000 लुमेन लाइट की जरूरत है. हम जो नॉर्मल LED बल्ब इस्तेमाल कर रहे हैं वो 18W का है और इसका लुमेन काउन्ट 1800 है. तो इस कमरे में 1000 लुमेन को कम लगना ही था. अगर हम रियलमी के स्मार्ट बल्ब पर स्विच करना चाहें, तो हमें ऐसे दो बल्ब लेने पड़ेंगे तब हमारी जरूरत पूरी होगी. मतलब कि 2000 रुपए का खर्च. वहीं नॉर्मल वाला अकेला LED बल्ब 250 रुपए का है.

Realme smart LED Bulb रिव्यू का निचोड़

रियलमी स्मार्ट LED बल्ब 12W का है, बिना झिलमिल वाली लाइट फेंकता है, 1700K-6500K कलर टेम्प्रेचर सपोर्ट करता है, म्यूज़िक के साथ बदलने वाली पार्टी लाइट भी है, 1000 लुमेन की तेज़ी है और इसकी कीमत 999 रुपए है. मार्केट में मौजूद बाकी दूसरे स्मार्ट बल्ब के मुकाबले रियलमी का बल्ब स्पेक्स और कीमत का अच्छा बैलेन्स भी देता है. मगर बात आखिर में पैसा बनाम फीचर पर आ जाती है. रियलमी या किसी भी तरह का स्मार्ट बल्ब लेने से पहले आपको सोचना चाहिए कि क्या वाकई में आपको स्मार्ट बल्ब की जरूरत है? अगर आपका जवाब हां में है तब रियलमी स्मार्ट LED बल्ब आपके लिए अच्छा ऑप्शन है. वरना फिर हमारे जैसे ही 250 रुपए में 18W + 1800 लुमेन वाला बल्ब उठा लाइए.


वीडियो: Realme 8 रिव्यू: ये चमचमाता फ़ोन क्या Redmi Note 10 Pro से भिड़ पाएगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

अप्रैल-मई में ये 16 धुआंधार फिल्में और वेब सीरीज़ ऑनलाइन आ रही हैं

अप्रैल-मई में ये 16 धुआंधार फिल्में और वेब सीरीज़ ऑनलाइन आ रही हैं

बस कैलेंडर मार्क कर लीजिए.

10 साल बीते, अब कहां हैं अन्ना आंदोलन और इंडिया अगेंस्ट करप्शन की नींव रखने वाले चेहरे

10 साल बीते, अब कहां हैं अन्ना आंदोलन और इंडिया अगेंस्ट करप्शन की नींव रखने वाले चेहरे

कोई CM बन गया, कोई सब कुछ छोड़कर कॉर्पोरेट जॉब कर रहा.

मुख्तार अंसारी तो बांदा जेल पहुंच रहे हैं, लेकिन यूपी के बाकी चर्चित कैदी कहां हैं?

मुख्तार अंसारी तो बांदा जेल पहुंच रहे हैं, लेकिन यूपी के बाकी चर्चित कैदी कहां हैं?

आजम खान से लेकर अतीक अहमद तक, सबके बारे में जानिए.

मार्च में जो धुरंधर स्मार्टफ़ोन लॉन्च हुए, उनमें ये खूबियां और ये कमियां हैं

मार्च में जो धुरंधर स्मार्टफ़ोन लॉन्च हुए, उनमें ये खूबियां और ये कमियां हैं

कीमत, फीचर यहीं कंपेयर करके तय कर लीजिए ये फोन लेकर घाटे में तो नहीं रहेंगे.

अप्रैल में कौन-कौन से स्मार्टफ़ोन देश में लॉन्च होने वाले हैं?

अप्रैल में कौन-कौन से स्मार्टफ़ोन देश में लॉन्च होने वाले हैं?

सैमसंग से लेकर नोकिया, रियलमी से लेकर शाओमी भी लाइन में हैं.

IPL में कप्तान बदलने और ना बदलने वाली टीमों का कितना फायदा-नुकसान हुआ?

IPL में कप्तान बदलने और ना बदलने वाली टीमों का कितना फायदा-नुकसान हुआ?

कप्तान बदलकर जीतने का क्या चांस होता है, जान लो.

Gmail के ये 5 फीचर जान लेंगे तो आप ईमेल के खेल में अलग ऊंचाई पर पहुंच जाएंगे!

Gmail के ये 5 फीचर जान लेंगे तो आप ईमेल के खेल में अलग ऊंचाई पर पहुंच जाएंगे!

जीमेल के ये फीचर कम इस्तेमाल किए जाते हैं, मगर हैं बड़े काम के

रॉकेट्री ट्रेलर: उस साइंटिस्ट की कहानी, जिसे उसकी देशभक्ति की सज़ा मिली

रॉकेट्री ट्रेलर: उस साइंटिस्ट की कहानी, जिसे उसकी देशभक्ति की सज़ा मिली

हिंदी सिनेमा के 'मैडी' यानी आर माधवन की लिखी और डायरेक्ट की हुई पहली फिल्म का ट्रेलर कैसा है?

इस अप्रैल फ़ूल पर फूल बनाने के चार धांसू तरीके सीख लीजिए

इस अप्रैल फ़ूल पर फूल बनाने के चार धांसू तरीके सीख लीजिए

कसम से, फूल ही बनाना सिखा रहे हैं. This is not a drill.

'April Fool' के अलावा 1 अप्रैल को इन वजहों के लिए भी याद रखना

'April Fool' के अलावा 1 अप्रैल को इन वजहों के लिए भी याद रखना

इस दिन दुनिया को और भी बहुत कुछ मिला है.