Submit your post

Follow Us

Realme 8 review: रंगों से भरा ये फ़ोन किसके लिए है?

साल 2021 को अभी तीन महीने ही पूरे हुए हैं और रियलमी ने अब तक 6 स्मार्टफ़ोन लॉन्च कर दिए हैं. कॉम्पिटिशन में आगे रहने के लिए कंपनी जल्दी-जल्दी अपने फ़ोन के नए वर्ज़न निकालती जा रही है. इसकी ताज़ा-तरीन पेशकश रियलमी 8 सीरीज़ है. इस लाइनअप में दो फ़ोन हैं– Realme 8 और Realme 8 Pro. दोनों ही फ़ोन एकदम हल्के हैं. बिलकुल पत्ते की तरह. प्रो मॉडल का रिव्यू हम आपको पहले ही दे चुके हैं, जिसे आप यहां पर क्लिक कर के पढ़ सकते हैं. आज हम इस सीरीज़ के दूसरे फ़ोन, Realme 8 का रिव्यू करेंगे.

Realme 8 review

क़ीमत:

  • 14,999 रुपए (4GB/128GB)
  • 15,999 रुपए (6GB/128GB)
  • 16,999 रुपए (8GB/128GB)

स्पेसिफिकेशन (फोन में क्या-क्या मिलेगा)

  • 6.4-inch Super AMOLED डिस्प्ले
  • मीडियाटेक हीलियो G95 प्रोसेसर
  • 64MP + 8MP + 2MP + 2MP बैक कैमरा सेटअप
  • 16MP सेल्फ़ी कैमरा
  • 5000mAh बैटरी
  • 30W फ़ास्ट चार्जिंग

नया क्या है?

नया वाला रियलमी 8 स्मार्टफ़ोन कंपनी के पिछले साल के रियलमी 7 स्मार्टफ़ोन से बहुत सारे मिलान रखता है. दोनों फ़ोन में एक ही प्रोसेसर है, एक जैसी बैटरी है, एक जैसी चार्जिंग स्पीड है और तो और एक जैसे कैमरा भी हैं. मगर ऐसा भी नहीं है कि नए वाले फ़ोन में कुछ भी नया नहीं है. पुराने फ़ोन में जहां LCD डिस्प्ले थी, नए वाले फ़ोन में AMOLED डिस्प्ले है. LCD के मुकाबले AMOLED हर हाल में अच्छी होती है. ऐसा इसलिए क्योंकि AMOLED पैनल में हर पिक्सल की खुद की लाइट होती है, जो बंद होकर खूब डार्क काला रंग बनाते हैं. इसकी वजह से स्क्रीन में कॉन्ट्रास्ट बहुत बढ़िया होता है और रंग उभरकर आते हैं.

रियालमी 8 की 6.4-इंच फुल HD+ Super AMOLED स्क्रीन भी सही निकली. इसके कलर और ब्राइट्नेस वग़ैरह अच्छे हैं और साइड से देखने पर भी स्क्रीन के कलर नहीं छितराते.

Realme 8 Review (1)
फोन की बैक पर चार कैमरे हैं. (फ़ोटो: Mohammad Faisal/ The Lallantop)

बस दिक्कत ये है कि रियलमी 8 ने AMOLED स्क्रीन तो दी, मगर रिफ्रेश रेट को घटा कर 90Hz से 60Hz कर दिया. एक सेकंड में फ़ोन की स्क्रीन जितनी बार बदलती है उसे रिफ्रेश रेट कहते हैं. ये जितना ज़्यादा होता है, फ़ोन चलाने पर उतना ही स्मूद लगता है.

बहरहाल अगर 90Hz वाली LCD और 60Hz वाली AMOLED के बीच में चुनाव करना हो तो ज़्यादातर लोग AMOLED की ही तरफ़ भागते हैं. मगर इस चक्कर से ये इम्प्रूव्मेंट की जगह ट्रेड-ऑफ लग रहा है, मतलब कि फीचर की अदला-बदली.

नया रियलमी 8 डब्बे से निकलते ही एंड्रॉयड 11 पर बने हुए realme UI 2.0 पर चलता है. ये स्किन बहुत सारे नए फीचर से लैस है और सॉफ्टवेयर का अनुभव काफ़ी अच्छा है. ये इतने सारे फंक्शन के होते हुए भी थकाऊ या भारी नहीं लगता बल्कि काफ़ी फ़ास्ट काम करता है. इसके साथ ही नए रियलमी 8 में साइड की जगह फिंगरप्रिन्ट सेन्सर स्क्रीन के अंदर लगा हुआ है.

जो सबसे बड़ा फ़र्क है पिछले और नए फ़ोन में वो इनकी मोटाई और वज़न का है. नया वाला रियलमी 8 बहुत हल्का है. पिछला फ़ोन जहां 197 ग्राम के आस-पास था, ये वाला बस 177 ग्राम का है. पिछले फ़ोन की मोटाई 9.4 मिलीमीटर थी मगर ये वाला बस 8 मिलीमीटर का है. रियलमी इसे 7.99 मिलीमीटर लिखता है.

कैमरा कैसा है?

फोन का मेन वाला कैमरा 64MP का है, ये दिन में अच्छी पिक्चर क्लिक करता है. कलर और डीटेल अच्छे आते हैं, मगर परछाईं वाले हिस्से में इतनी क्लैरिटी नहीं आती. HDR मोड में एक्सपोज़र सही आते हैं, मतलब कि अगर सीन में पीछे ज्यादा रोशनी है तब भी बैकग्राउंड सफेद नहीं चमकेगा. लोगों की फ़ोटो क्लिक करने पर स्किन के रंग भी अच्छे आते हैं. सेल्फ़ी कैमरा भी अच्छी पिक्चर क्लिक करता है.

Main Camera 1x
मेन कैमरे से खींची हुई फ़ोटो: डीटेल साफ दिख रही हैं.
Main Camera 2x
मेन कैमरे से खींची हुई फ़ोटो: बैकग्राउंड में सफ़ेदी की जगह चीजें साफ दिख रही हैं.
Main Camera 3x
मेन कैमरे से खींची हुई फ़ोटो: रंगों को सही पकड़ा है.

प्रो मॉडल के उलट, इस फोन में मैक्रो लेंस सही परफॉरमेंस दे रहा है. मैक्रो लेंस वो होता है जो छोटी-छोटी चीजों के बहुत करीब जाकर उनकी बढ़िया डीटेल निकालता है.

Macro 1x
मैक्रो लेंस से खींची हुई फ़ोटो: डीटेल सही आई हैं.
Macro 2x
मैक्रो लेंस से खींची हुई फ़ोटो: रंग भी अच्छे आए हैं.

अल्ट्रावाइड कैमरा की परफॉरमेंस अच्छी नहीं है. रंग तो सही आ रहे हैं, मगर डीटेल बिल्कुल ही गायब हैं. अल्ट्रावाइड लेंस वो होता है जो फ़ोटो में ज्यादा सीन भर कर देता है.

Ultrawide 1x
ये रियलमी 8 के अल्ट्रावाइड लेंस से खींची हुई फ़ोटो है.

कम लाइट में कैमरा हाथ खड़े कर देता है. मगर एक फोन जिसकी शुरुआत 14,999 रुपए से होती है, उससे कम लाइट में अच्छी पिक्चर की उम्मीद करना उसके साथ ज़्यादती करने जैसा हो जाएगा. बहरहाल अपनी कीमत के हिसाब से रियलमी 8 का कैमरा ठीक ठाक है.

अच्छा क्या है?

रियलमी 8 बहुत पतला और बहुत हल्का है. इसे चलाने के बाद हमें अपना 186 ग्राम वज़न वाला पर्सनल फोन भी चलाते खल रहा है. फोन आराम से हाथ में आ जाता है और एक हाथ से चलाते भी बनता है. फोन का फ्रेम और बैक प्लास्टिक की है. हम इसे पूरे कॉन्फिडेंस के साथ बिना बैक कवर के इस्तेमाल कर रहे थे. हमने इसे गिराया तो नहीं है मगर इसकी बिल्ड, हल्का वज़न और प्लास्टिक बैक देखते हुए लग रहा है कि गिरने पर ये इतनी आसानी से नहीं टूटेगा.

हमारे पास रियलमी ने Cyber Silver कलर वाला फ़ोन भेजा था. इसका डिजाइन पहली नज़र में अजीब सा लगा था. काफ़ी मिक्स्ड फीलिंग थीं. कभी सही लग रहा था, तो कभी मन करता था कि बैक कवर या स्किन चढ़ा लें. लेकिन लगातार इस्तेमाल करने के बाद अब ये सही लगने लगा है. इस डिजाइन का मकसद ही शो-ऑफ करना है. आप ये फ़ोन जेब से निकालें और आपके पड़ोस में मौजूद शख्स इसकी तरफ़ देखे न, ऐसा हो ही नहीं सकता. रियलमी 8 प्रो में DARE TO LEAP वाली ब्रांडिंग बड़ी ही अटपटी लग रही थी, मगर रियलमी 8 की बोल्ड डिजाइन के चलते ये यहां पर सही लग रही है. लाइट पड़ने पर ब्रांडिंग वाला हिस्सा और बैक कैमरे के नीचे का हिस्सा रेनबो वाले कलर फेंकता है, एक दम ही प्रिज़्म की तरह. प्रिज़्म वो चीज होती है जिसपर आप एक तरफ से सफेद लाइट मारते हैं तो दूसरी तरफ से रेनबो के 7 रंग निकलते हैं.

Realme 8 Review (3)
रियलमी 8 काफी हल्का और पतला है. (फ़ोटो: Mohammad Faisal/ The Lallantop)

Realme 8 में मीडियाटेक हीलियो G95 प्रोसेसर है. ये रोज़-मर्रा वाले सारे काम बड़े आराम से निपटा लेता है. हमारे पास रिव्यू के लिए जो फोन आया उसमें 8GB रैम थी और ये कभी भी हैंग नहीं हुआ. रही बात गेमिंग की, तो ये चिपसेट कॉल ऑफ ड्यूटी मोबाइल जैसे ग्राफिक हेवी गेम भी संभाल लेता है.

बैटरी और चार्जिंग के मामले में भी ये फोन सही है. 5000mAh बैटरी बड़े आराम से डेढ़ दिन चल जाती है. अगर फोन का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं, तब भी फोन सुबह से शाम तक आराम से चल जाएगा. फोन 30W चार्जिंग सपोर्ट करता है और फास्ट चार्जर डब्बे में ही आता है. इसकी मदद से फोन करीब 70-75 मिनट में फ़ुल चार्ज हो जाता है. 50% बैटरी आपको बस आधे घंटे के चार्ज पर ही मिल जाती है.

सुधार कहां मुमकिन था?

बैक बहुत ज़्यादा ग्लॉसी है. ये थोड़ा फिसलन भरा भी है इस पर उंगलियों के निशान भी बड़ी ही आराम से छप जाते हैं. बार-बार मन इसको साफ करने में ही लगा रहता है. बैक पर एक ही साइज़ के चार बड़े-बड़े कैमरा सेन्सर थोड़े अजीब लगते हैं. रियलमी को ये सिस्टम बनाने की जगह रियालमी 7 की ही तरह कैमरा सेन्सर सेट करने चाहिए थे.

Realme 8 Review (2)
लाइट पड़ने पर कुछ हिस्से 7 रंग रिफलेक्ट करते हैं. (फ़ोटो: Mohammad Faisal/ The Lallantop)

ये अच्छी बात है कि रियलमी ने इस फोन में AMOLED स्क्रीन दी है, मगर 90Hz रिफ्रेश रेट की कमी काफी खली. परफॉरमेंस के मामले में भी रियालमी 8 ने निराश नहीं किया, मगर अच्छा रहता कि प्रोसेसर थोड़ा और बेहतर होता. अभी रियालमी 7 और रियालमी 8 में स्क्रीन और डिजाइन के सिवा कोई फ़र्क ही नहीं है.

रियलमी 8 रिव्यू का निचोड़

14,999 रुपए की शुरुआती कीमत में रियलमी 8 स्मार्टफ़ोन एक हल्का और पतला फोन है, जिसकी स्क्रीन, परफॉरमेंस, मेन कैमरा, और बैटरी बढ़िया हैं. स्क्रीन का रिफ्रेश रेट अगर ज्यादा होता और अल्ट्रा-वाइड लेंस की परफॉरमेंस अच्छी होती, तो शायद ही कोई डिवाइस इसका मुकाबला कर पाता. फिलहाल रियलमी 8 शाओमी के रेडमी नोट 10 प्रो स्मार्टफ़ोन से भिड़ रहा है, जिसमें रियलमी 8 से बेहतर स्क्रीन और बेहतर प्रोसेसर है, मगर वो इससे महंगा भी है. अब ये लोगों पर है कि वो फीचर से लैस फोन लेंगे या फिर पैसे बचाने के लिए रियलमी 8 के साथ जाएंगे.


 

वीडियो: Realme 8 Pro review: क्या ये रेडमी नोट 10 प्रो मैक्स को टक्कर दे सकता है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इस अप्रैल फ़ूल पर फूल बनाने के चार धांसू तरीके सीख लीजिए

कसम से, फूल ही बनाना सिखा रहे हैं. This is not a drill.

'April Fool' के अलावा 1 अप्रैल को इन वजहों के लिए भी याद रखना

इस दिन दुनिया को और भी बहुत कुछ मिला है.

मीरा कुमार: मायावती को हराकर लोकसभा पहुंचने वालीं दलित नेता

बाद में लोकसभा अध्यक्ष बनने वाली पहली महिला बनीं.

अक्षय खन्ना की ये 20 बातें पता हैं क्या? जैसे, करीना कपूर को उन पर बड़ा वाला क्रश था!

आमिर ख़ान के वो कौन से फेमस रोल हैं जो पहले अक्षय खन्ना करने वाले थे?

रंगों की होली तो खेली होगी लेकिन लट्ठ, लड्डू और चिता की राख वाली होली के बारे में भी जान लीजिए

भारत में होली के कई रूप हैं. लट्ठमार से लेकर कुर्ताफाड़ तक.

वो 10 हिंदी फिल्में, जो कोरियन फिल्मों की नकल करके बनाई गईं

जियरा चकनाचूर हो जाएगा लिस्ट देख के. एकाध ने राइट्स ख़रीदे, बाकी सबने बेशर्मी से सब चुरा लिया.

बॉक्स ऑफिस पर गदर मचाने वाली 20 हिंदी फ़िल्में, जो साउथ इंडियन फिल्मों का रीमेक थीं

1981 से लेकर 2019 तक की फिल्में शामिल हैं लिस्ट में. आपने कितनी देखी हैं?

जनता कर्फ्यू के एक साल पूरे होने पर ये वीडियो नहीं देखे तो क्या देखा

वीडियो देखिए और याद करिए कि आप क्या कर रहे थे.

दीवार पर चिपका केला 85 लाख का, सेलेब्रिटी की इस्तेमाल की प्रेग्नेंसी किट साढ़े 3 लाख की

वो मौके, जब एकदम फालतू चीज़ें लाखों में बिक गईं.

गोविंदा की इन दस फिल्मों के साथ हैप्पी डे को और हैप्पी बनाएं

प्रॉब्लम है ? यहां सॉल्यूशन है.