Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

उस गैंगस्टर पर फिल्म आ रही है, जिसने यूपी के मुख्यमंत्री को मारने सुपारी ली थी

3.43 K
शेयर्स

ये तब की बात है, जब ‘गोरखपुर में रहना है, तो योगी योगी कहना है’ वाला डायलॉग इतना आम नहीं था. उस समय यूपी में भौकाल था गोरखपुर से ही आने वाले एक जाबड़ गैंगस्टर का. नाम था श्रीप्रकाश शुक्ला. एक 25 साल का लौंडा जिससे पूरा स्टेट कांपता था. उसने 25 साल की उम्र में यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की सुपारी ले ली थी. 6 करोड़ रुपए में. उसी गैंगस्टर पर फिल्म आ रही है. फिल्म का नाम है ‘रंगबाज’. फिल्म में साकिब सलीम गैंगस्टर शिव प्रकाश शुक्ला का रोल कर रहे हैं, जो रियल लाइफ गैंगस्टर श्रीप्रकाश शुक्ला की लाइफ पर बेस्ड है. फिल्म में उनके साथ होंगे तिगमांशु धूलिया, रणवीर शौरी, अहाना कुमरा और रवि किशन. इस फिल्म को डायरेक्ट किया है भाव धुलिया ने. इसे वहीं रिलीज़ किया जाएगा, जहां इमरान हाशमी स्टारर ‘टाइगर्स’ रिलीज़ की गई थी. ZEE 5 पर. इस फिल्म को आप 22 दिसंबर से देख पाएंगे. आइए जानते है श्रीप्रकाश शुक्ला की वो जर्नी, जिसने उसे 25 साल की उम्र में मोस्ट वॉन्टेड क्रिमिनल बना दिया.

20 साल की उम्र में पहला मर्डर कर पुलिस रिकॉर्ड में आया

गोरखपुर में एक गांव है मामखोर. यहां के एक टीचर के घर बच्चा पैदा हुआ, जिसका नाम पड़ा श्रीप्रकाश. पिताजी नाम के आगे शुक्ला लिखते थे, तो लड़का का नाम हो गया श्रीप्रकाश शुक्ला. कंपटीशन वाली भावना और मारधाड़ की ओर दिलचस्पी थी, इसलिए गांव में ही पहलवानी करने लगा. उसका आपराधिक करियर शुरू हुआ उसके गांव से ही. राकेश तिवारी नाम के एक लड़के ने उसकी बहन को देखकर सीटी मार दी. बदला लेने के लिए श्रीप्रकाश शुक्ला ने उसे गोली मार दी. तब उसकी उम्र कोई 19-20 साल थी. जब पुलिस पीछे पड़ी, तो बचने के लिए बैंकॉक भाग गया. जब लौटा, तो उसके दिमाग में ‘मिर्ज़ापुर’ वाला डायलॉग कौंधा ‘शुरुआत मजबूरी में किए थे, अब मज़ा आ रहा है’. लौटन के बाद वो बिहार के विवादित नेता सुरजभान सिंह के साथ जुड़ गया. धीरे-धीरे वो राजनीतिक गलियारों में भी हलचल पैदा करने लगा. कई तरह के गैरकानूनी धंधे करने लगा. पैसे आने लगे. ठाट बढ़ने लगी.

 फिल्म 'रंगबाज़' के एक सीन में गैंगस्टर शिव प्रकाश शुक्ला के रोल में साकिब सलीम.
फिल्म ‘रंगबाज़’ के एक सीन में गैंगस्टर शिव प्रकाश शुक्ला के रोल में साकिब सलीम.

जब यूपी अंडवर्ल्ड का हिस्सा रहे नेता को श्रीप्रकाश ने ठोक दिया

पुलिस की सिरदर्दी श्रीप्रकाश शुक्ला ने 1997 में बहुत बढ़ा दी, जब उसने नेता और यूपी अंडवर्ल्ड का हिस्सा रहे वीरेंद्र शाही को ठोक दिया. हर ओर हंगामा मच गया, क्योंकि वीरेंद्र शाही को तब बड़ा नाम हुआ करता था. नेताओं से उसकी अच्छी सांठ-गांठ थी. क्योंकि उसका इस्तेमाल नेता भी अपने फायदे के लिए करते थे. इन्हीं चक्करों में उसका पॉलिटिकल एंबिशन जाग गया. अब उसकी हिट लिस्ट में अगला नाम था यूपी के कैबिनेट मंत्री हरिशंकर तिवारी का, जो गोरखपुर के चिल्लूपार सीट से विधायक थे. अब श्रीप्रकाश को वो विधानसभा सीट चाहिए थी. 23-24 साल की उम्र का ये लड़का, उस विधायक का कत्ल करना चाहता था, जिसे 15 साल में चिल्लूपार सीट से कोई हिला नहीं पाया था.

श्रीप्रकाश शुक्ला के माथे पर 20 कत्ल का इल्जाम था.
श्रीप्रकाश शुक्ला के माथे पर 20 कत्ल का इल्जाम था.

जब इलाज कराने पहुंचे बिहार के बाहुबली मंत्री को सरेबाज़ार भून दिया

साल 1998 में श्रीप्रकाश शुक्ला का उपद्रव बहुत बढ़ गया था. मई मे उसने लखनऊ के एक बिजनेसमैन के बेटे को किडनैप कर लिया फिरौती मांगी पांच करोड़ रुपए. बेटे को बचाने आए बिजनेसमैन का श्रीप्रकाश शुक्ला ने कत्ल कर दिया. शुक्ला का खौफ इतना बढ़ गया था कि बड़े से छोटे सभी लोग आंख मिलाने से भी बचते थे. मई में हुई किडनैपिंग कांड के ठीक एक महीने बाद एक और बड़ा कांड हुआ. बिहार के बाहुबली मंत्री थे बृज बिहारी प्रसाद. यूपी के आखिरी छोर तक उनका सिक्का चलता था. 13 जून 1998 को वो इलाज के लिए पटना के इंदिरा गांधी हॉस्पिटल पहुंचे थे. हॉस्पिटल के सामने वो अपनी लाल बत्ती वाली गाड़ी से उतरे ही थे कि एके-47 से लैस 4 बदमाश उन्हें गोलियों से भून दिया.

श्रीप्रकाश शुक्ला के ऊपर बनी फिल्म 'रंगबाज़' में किरदारों के नाम में हल्का-फुल्का बदलाव किया गया है.
श्रीप्रकाश शुक्ला के ऊपर बनी फिल्म ‘रंगबाज़’ में किरदारों के असल नाम में हल्का-फुल्का बदलाव किया गया है.

जब साक्षी महाराज ने बताई सीएम की सुपारी लिए जाने की बात

1998 में साक्षी महाराज यूपी के फर्रुखाबाद से एमपी थे. साक्षी ने बिना सोर्स बताए ये खबर ब्रेक किया कि श्रीप्रकाश शुक्ला ने यूपी के (तत्कालीन) सीएम कल्याण सिंह को मारने की फिरौती ली है. पूरे छह करोड़ रुपए में. ये सुनकर यूपी का पुलिस महकमा बेहाल हो गया. अप्रैल 1998 में यूपी पुलिस ने 43 मोस्ट वॉन्टेड क्रिमिनल्स को मारने या पकड़ने के लिए 43 लोगों की स्पेशल टास्क फोर्स बनाई. इस 43 क्रिमिनल्स में एक नाम श्रीप्रकाश शुक्ला का भी था. लेकिन मुख्यमंत्री के नाम की फिरौती लेने के श्रप्रकाश शुक्ला पुलिस की प्रायॉरिटी लिस्ट में आ गया था.

फिल्म 'रंगबाज' के एक दृश्य में तिगमांशु धूलिया. घूलिया का किरदार फिल्म में राम शंकर तिवारी नाम के नेता का रोल कर रहे हैं.
फिल्म ‘रंगबाज’ के एक दृश्य में तिगमांशु धूलिया. घूलिया का किरदार फिल्म में राम शंकर तिवारी नाम के नेता का रोल कर रहे हैं.

ज़िंदा रहते टीवी के मशहूर क्राइम शो में दिखाई गई थी शुक्ला की कहानी

शुक्ला का आतंक इतना बढ़ गया था कि टीवी पर आने वाले मशहूर क्राइम शो इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड में उसके ऊपर बेस्ड दो एपीसोड दिखाए गए. इस शो को होस्ट करते थे सुहैब इलयासी. एपिसोड के ऑन एयर जाने के बाद सुहैब को शुक्ला से धमकी भरे फोन आने शुरू हो गए. लेकिन इसी बीच एक अंजान नंबर से आए कॉल में सुहैब को ये बताया गया कि शुक्ला नीली सिएलो कार में दिल्ली एम्स के आसपास देखा गया है. इसके 10 दिन बाद एक और फोन कॉल आया, जिसमें बताया गया कि शुक्ला अपने साथियों समेत गाज़ियाबाद में देखा गया. ये सारी जानकारियां दिल्ली और यूपी पुलिस के सुपुर्द कर दी गईं.

जब श्रीप्रकाश शुक्ला मरा, तब उसकी उम्र सिर्फ 25 साल थी.
जब श्रीप्रकाश शुक्ला मरा, तब उसकी उम्र सिर्फ 25 साल थी.

गर्लफ्रेंड के चक्कर में मारा गया

श्रीप्रकाश शुक्ला को मोबाइल फोन्स का बहुत चाव था. गलत धंधे में होने के कारण वो अलग-अलग सिम कार्ड्स का इस्तेमाल करता था. लेकिन किस्मत खराब थी, उसने एक ही सिम लगातार एक हफ्ते तक इस्तेमाल किया. इससे श्रीप्रकाश शुक्ला को ट्रेस करना पुलिस के लिए आसान हो गया. पुलिस ने दिल्ली में उसके वसंत कुंज वाले इलाके का पता लगा लिया था. लेकिन शुक्ला पकड़ में अब भी नहीं आया था. 22 सितंबर 1998 को वो अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने गाज़ियाबाद स्थित उसके फ्लैट पर पहुंचा जहां पुलिस ने उसकी गोली मारकर हत्या कर दी.

जाते-जाते श्रीप्रकाश शुक्ला के ऊपर बनी फिल्म ‘रंगबाज’ का ट्रेलर देखते जाइए:


वीडियो देखें: सिंबा में रणवीर सिंह एक करप्ट पुलिसवाले बने हैं

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Rangbaaz: a film on UP based gangster Sree Prakash Shukla who was planning to assasinate the them UP CM Kalyan Singh

पोस्टमॉर्टम हाउस

नरेंद्र मोदी को दी गई टी-शर्ट में लिखे 'मोदी 420' का क्या किस्सा है?

और हां! हम भारतवासियों के लिए एक बहुत बड़ी खुशखबरी भी है, बेशक उसके लिए 4 साल का इंतज़ार करना पड़ेगा.

श्वास, नैशनल अवॉर्ड विजेता वो फिल्म जिसने मराठी सिनेमा को ऑस्कर एंट्री तक पहुंचाया

क्या गुज़रती है जब पता चलता है आपके किसी अज़ीज़ के आंखों की रोशनी हमेशा के लिए जाने वाली है!

फिल्म रिव्यू: 2.0

चिट्टी के रोल में रजनीकांत इंट्रेस्टिंग लगते हैं, वहीं अक्षय कुमार जितना तूफान मचा सकते थे उन्होंने मचाया है.

फिल्म रिव्यू: भैयाजी सुपरहिट

फिल्म में जितनी मेहनत डायलॉग में की गई है, उसका आधा भी अगर कहानी में किया गया होता, तो 'भैयाजी सुपरहिट' एक कायदे की फिल्म बन सकती थी, जो ये बनते-बनते रह गई.

फ़िल्म रिव्यू: टाइगर्स

बहुत सताए लगते हो बेटा, तभी मुर्गी के गू में भी उम्मीद तलाश रहे हो!

फिल्म रिव्यू: 'नाळ'

क्या हुआ जब एक बच्चे को पता चला उसकी मां सौतेली है?

फिल्म रिव्यू: पीहू

अगर आप इस फिल्म को देखने के बाद किसी निष्कर्ष पर पहुंचना चाहते हैं, तो आप किसी गलत ऑडिटोरियम में घुस गए हैं.

फिल्म रिव्यू: ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान

आप कभी बाज़ार में घूमते हुए मुंह के स्वाद के लिए कुछ खा लेते हैं. लेकिन वो खाना आप रोज नहीं खा सकते क्योंकि उससे हाजमा खराब होने का डर बना रहता है. 'ठग्स...' वही है.

इस नए वायरल वीडियो में मोदी एक विकलांग बुजुर्ग का अपमान करते क्यूं लगते हैं?

जिनका अपमान होने की बात कही जा रही है, वो बुजुर्ग गुजरात में मुख्यमंत्री से ज़्यादा बड़ी हैसियत रखते हैं!

2.0 का ट्रेलर आ गया, जिसे देखकर मोबाइल फ़ोन रखने वाले हर आदमी को डर लगेगा

साथ ही पढ़िए इस फिल्म की मेकिंग से जुड़ी 9 दिलचस्प बातें.