Submit your post

Follow Us

'जग्गा जासूस' दो साल पहले रिलीज हो जाती अगर ये सात टंटे न होते!

घोषणा से रिलीज तक जहां इस फिल्म को दो साल से ज्यादा नहीं लगना था, करीब चार साल लग लिए. ‘जग्गा जासूस’ कहानी है एक टीनएजर बेटे की जो अपने बचपन में खो गए पिता को ढूंढ़ने के एडवेंचर पर निकला है. फिल्म को बनने में देरी क्यों हुई इसकी खोज करें तो हम भी जग्गा की तरह ट्रिप पर निकल लिए होंगे. रणबीर कपूर और डायरेक्टर अनुराग बसु जब भी साथ काम करते हैं, वे खाते, पीते, ऊंघते हुए फिल्म बनाते हैं. ‘बर्फी’ के टाइम भी यही हुआ था कि फिल्म एक-डेढ़ साल की देरी से रिलीज हुई. ‘जग्गा..’ में दोनों फिर साथ काम कर रहे हैं और पहली बार साथ मिलकर इसे अपनी नई कंपनी ‘पिक्चर शुरू’ के तहत को-प्रोड्यूस भी कर रहे हैं और फिर देरी हुई. मई-जून 2013 में घोषणा की गई कि डिज़्नी इसे फिल्म फ्रैंचाइज़ की तरह बनाएगी. इसमें कई सीक्वल बनेंगे. इसे टिनटिन या ऐस वेंचुरा जैसे किसी इंडियन डिटेक्टिव वाली सीरीज में पनपाया जाएगा.

धीरे-धीरे कास्टिंग शुरू हुई. इसमें दो फीमेल लीड को लिया जाना था और उसके लिए प्रियंका चोपड़ा और आलिया भट्‌ट का नाम उभरा. उन्हें स्क्रिप्ट सुनाने की बातें सुनाई दीं. जग्गा के पापा के रोल में गोविंदा को ले लिया गया. रणबीर कपूर ने खुशी जताई कि वे उनके जैसे एक्टिंग और डांस वाले टैलेंट के साथ वे काम कर रहे हैं. मई 2014 को साउथ अफ्रीका के केपटाउन में फिल्म की शूटिंग शुरू हो गई. तब से अगले साल रिलीज होने तक इसे तीन साल हो जाएंगे. इसकी रिलीज डेट इस दौरान बहुत बार खिसकी है. कभी आधिकारिक घोषणा हुई, कभी खबरें आती रहीं कि रिलीज कब प्लान की जा रही है. जैसे इसकी पहली रिलीज डेट मई 2015 में रखी गई थी. लेकिन फिर अगस्त, नवंबर के कयास लगे. फिर 2016 में जून, जुलाई, अगस्त, दिसंबर महीनों में रिलीज के समाचार बने. अब 2017 में अप्रैल महीना फाइनल बताया जा रहा है. ट्रेलर भी आ गया है.

Read: जब पगला डिटेक्टिव ऐस वेंचुरा और टिनटिन मिलते हैं तो बनता है जग्गा जासूस!

जानते हैं कि वो कौन सी वजहें रहीं कि इस फिल्म की रिलीज में दो साल की देरी हुई.

1. म्यूजिक

इसे एक म्यूजिकल रखा गया था. कि इसमें 20 से भी ज्यादा गाने होंगे. संवाद भी गानों में ही बोले जाएंगे. क्योंकि रणबीर का पात्र हकलाता है. जब भी वो उत्साहित होता है तो गाने लगता है और ठीक से बोल पाता है. लेकिन शूटिंग को कुछ महीने होते-होते नवंबर 2014 में चर्चा होने लगी कि डायरेक्टर अनुराग बसु स्क्रिप्ट बदल रहे हैं. कथित तौर पर गाने कम करने को लेकर बात हो रही थी और उसमें जासूसी वाले तत्व बढ़ाने की. तब राइटर संजीव दत्ता (लाइफ इन अ मैट्रो, बर्फी, काइट्स, हीरोपंती) के साथ अनुराग यही करने में व्यक्त बताए जा रहे थे. हालांकि अब ट्रेलर में आधिकारिक रूप से राइटर का क्रेडिट सिर्फ बसु के लिए लिखा है. फिल्म में म्यूजिक बनाने का जिम्मा प्रीतम को दिया गया था जो अपनी मस्ती में काम करते हैं. पहले गानों की संख्या ज्यादा थी और इसके बैकग्राउंड स्कोर पर काफी काम होना था क्योंकि सारा खेल उसी का था. इस क्वालिटी का काम प्रीतम ने पहले ‘बर्फी’ के लिए किया था और उसमें भी समय लगा था. सितंबर 2015 में जब ‘जग्गा जासूस’ की रिलीज अगले साल के मध्य तक खिसक जाने की चर्चा हुई तो इसकी बड़ी वजह म्यूजिक को भी बताया गया. कि बसु प्रीतम के साथ एलबम में कई तब्दीलियां करवा रहे हैं. साथ ही साथ इसी दौरान प्रीतम शाहरुख खान और रोहित शेट्‌टी की फिल्म ‘दिलवाले’ का म्यूजिक भी कंपोज कर रहे थे और उसमें उन्हें काफी मशक्कत लग रही थी.

2. बॉम्बे वेलवेट, तमाशा, ऐ दिल है मुश्किल

रणबीर कपूर ने जून 2013 में ‘जग्गा जासूस’ बनाने की घोषणा की और जुलाई से उनके लीड रोल वाली ‘बॉम्बे वेलवेट’ बननी शुरू हो गई जिसे अनुराग कश्यप डायरेक्ट कर रहे थे. एक साल में ये शूटिंग पूरी हो जानी थी और मई 2014 से ‘जग्गा..’ शुरू होनी थी. पर ऐसा हुआ नहीं. ‘बॉम्बे..’ का शूट श्रीलंका में बार-बार टला. लगातार बारिश हुई. टाइम वेस्ट हुआ. शूटिंग और विजुअल इफेक्ट्स में देरी हुई. असर ये हुआ कि जब ‘जग्गा जासूस’ का शूट दौड़ना चाहिए था तब रेंग रहा था क्योंकि रणबीर ‘बॉम्बे..’ में लगे थे. ‘जग्गा..’ के डायरेक्टर बसु को रणबीर की डेट्स एक साथ मिल नहीं पा रही थी. ‘जग्गा..’ घर की फिल्म थी लेकिन ‘बॉम्बे..’ कश्यप के साथ-साथ रणबीर का भी पैशन प्रोजेक्ट था. बसु ने कहा भी था कि वे तो इस बीच जब रणबीर के जो दिन मिल जाते हैं उनमें शूट कर रहे हैं. अंत में हुआ ये कि मई 2015 में ‘जग्गा..’ रिलीज होनी थी लेकिन तब ‘बॉम्बे..’ रिलीज हो रही थी. इसी दौरान पूर्व-प्रेमिका दीपिका पादुकोण के साथ रणबीर ‘तमाशा’ की शूटिंग के लिए भी भारत और कॉर्सिका शेड्यूल्स में बिजी रहे. दिसंबर 2015 में वे करण जौहर की ‘ऐ दिल है मुश्किल’ के लिए लंदन चले गए. वहां से यूरोप के दूसरे शहरों में क्रू जाता रहा. शूटिंग ही नहीं रिलीज के टाइम भी ‘ऐ दिल..’ की अड़ंगी रही. क्योंकि जुलाई 2016 में ‘जग्गा..’ की शूटिंग पूरी हो चुकी थी और इसे पोस्ट-प्रोडक्शन और डबिंग के बाद अक्टूबर-नवंबर या दिसंबर में रिलीज किया जा सकता था लेकिन अक्टूबर में दीपावली पर ‘ऐ दिल..’ की डेट बुक थी. बैक टू बैक रणबीर की ही फिल्म का चांस नहीं था. रिलीज कैलेंडर के कारण ‘जग्गा..’ के लिए फिर 2017 का साल बांधा गया.

3. रणबीर कपूर

अक्टूबर 2014 में उनकी टॉन्सिल सर्जरी हुई. लिक्विड डायट पर थे और डॉक्टर ने आराम के लिए बोला. ऐसे कई निजी कारणों से उनकी डेट्स और प्लान बदलते रहे. ‘जग्गा..’ की प्लानिंग के दौरान उन्होंने कोई प्लानिंग नहीं की थी. इसी के साथ-साथ उन्होंने तीन और बड़ी फिल्में टोकरी में डाल रखी थीं. इससे हुआ ये कि ज्यादातर वक्त इन तीन फिल्मों ने ही ले लिया. ‘ऐ दिल..’ के लिए लंदन गए थे तो शूट से इतर क्रिसमस और नए साल की छूटि्टयां भी कटरीना के साथ मना आए. लौटे तो ब्रेकअप हो रहा था. इससे पहले भी कटरीना से उनके रिलेशन ने फिल्म का नसीब बहुत बार खाया. पहले वे साथ लिव-इन में जाने वाले थे तो कपूर परिवार के बड़ों से रणबीर की बिगड़ी. पिता ऋषि कपूर से बातचीत बंद हो गई. फिर नया अपार्टमेंट ढूंढ़ने में समय लगाया. मिला तो गृहस्थी बसाई. बहुत सारी पार्टियां देते रहे. ‘बॉम्बे वेलवेट’ फ्लॉप हो गई तो जोरदार शॉक लगा. पहली बार उन्हें जीवन में इतनी घोर आलोचनाएं आकर टकराईं. कई हफ्ते इसी में खराब हुए. कटरीना से अलगाव और टूटन का फेज़ कई महीने चला.

4. डायरेक्टर

बताया जाता है कि शूटिंग के दौरान अनुराग बसु कटरीना को सरेआम डांटते थे क्योंकि वे उनकी एक्टिंग या शायद किसी अन्य बात से खुश नहीं थे. इस दौरान रणबीर भी कुछ नहीं कर पाते थे और मूकदर्शक बने रहते थे. ‘बर्फी’ की मेकिंग के वीडियो में भी दिखा है कि बसु अपनी फिल्म को बनाते ‌वक्त स्टार वगैरह नहीं गिनते. वे सिर्फ एक्टर की एक्टिंग देखते हैं. फिल्म की क्रिएटिव चीजों को लेकर उनके रणबीर से भी मतभेद रहे लेकिन हुआ वही जो उनको करना था. रणबीर भी मानते हैं कि अनुराग अपने हिसाब से ही चलते हैं. ‘जग्गा..’ की देरी की एक वजह बसु भी रहे. उन्होंने 2015 में ज्यादा शूटिंग ही नहीं की. वे खुद कहते हैं कि उन्होंने पूरे साल में करीब सिर्फ दस दिन ही ‘जग्गा..’ शूट की. इस दौरान टीवी शोज़ और अन्य उपक्रम करके वे रोकड़ा जमा कर रहे थे. हालांकि अब भी वे यह नहीं मानते कि फिल्म में उतनी देरी नहीं हुई जितनी बोली जा रही है. वे बोलते हैं कि ज्यादा से ज्यादा छह महीने की देरी हुई है. अब क्या कहें, मई 2015 से अप्रैल 2017 के बीच बस छह महीने ही तो नहीं हैं! उन्होंने ये भी कहा है कि ‘बॉम्बे वेलवेट’, ‘ऐ दिल है मुश्किल’ और ‘तमाशा’ जैसी फिल्मों को भी ‘जग्गा..’ की देरी के लिए जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते क्योंकि रणबीर ने उन फिल्मों के लिए अपना वक्त पहले ही दे दिया था.

5. गोविंदा

उन्होंने जब ये रोल साइन किया तो खुशनुमा चर्चाएं शुरू हुई कि बॉलीवुड में पिता के रोल्स में गोविंदा का डेब्यू होने जा रहा है. न सिर्फ वे रणबीर के किरदार के बल्कि विकास बहल की फिल्म ‘शानदार’ में आलिया भट्‌ट के पिता के रोल में चुने गए थे. सलमान खान ने भी उन्हें अपने बैनर की फिल्म ऑफर की थी जिसे महेश मांजरेकर डायरेक्ट करने वाले थे. लेकिन बाद की दोनों फिल्में गोविंदा ने ठुकरा दीं. सलमान इसे लेकर नाराज भी हुए. आलिया के पिता के रोल में फिर पंकज कपूर को ले लिया गया. इधर गोविंदा ने ‘जग्गा..’ की शूटिंग शुरू की. लेकिन वहां का शेड्यूल खत्म होते-होते सितंबर 2014 तक खबर आने लगी कि वे फिल्म से हटाए जा सकते हैं क्योंकि वे स्क्रिप्ट में काफी दखल दे रहे थे. कथित तौर पर उनके और भी नखरे रहे. उन्होंने दो दिन सिर्फ इसलिए शूटिंग नहीं की क्योंकि उनका हाथ दुख रहा था. बाद में शेड्यूल खत्म होते-होते स्क्रिप्ट में उनके दखल ने निर्देशक और लीड एक्टर को खिझा दिया. अगला शेड्यूल मुंबई में शुरू होना था और तब कथित तौर पर जैकी श्रॉफ से बात की गई कि वे जग्गा के पिता का रोल करें. यही रोल फिर इरफान खान को भी ऑफर किया गया था. अनिल कपूर के नाम की भी चर्चा थी क्योंकि उन्होंने ‘दिल धड़कने दो’ में प्रियंका चोपड़ा और रणवीर सिंह के पिता का रोल किया था और उसमें सराहे गए थे. गोविंदा के जितने भी दृश्य फिल्माए गए थे उन्हें बाद में शाश्वत चैटर्जी के साथ री-शूट करना पड़ा.

6. सलमान खान

2016 के शुरू में ऐसी रिपोर्ट रहीं कि ‘जग्गा जासूस’ में सलमान खान की वजह से देरी हो रही है. इसमें भी हवाला निर्देशक अनुराग बसु का दिया गया. दरअसल तब रणबीर और कटरीना का कथित ब्रेकअप हो चुका था और कहा गया कि संबल के लिए कटरीना सलमान से जाकर मिलने लगी थीं. इस कारण जनवरी में फिल्म का शेड्यूल टला. लेकिन बसु ने ट्वीट किया कि ये सरासर गलत है. कि उन्होंने कब सलमान को दोषी ठहरा दिया ‘जग्गा..’ में देरी के लिए और जिसने भी ये बात लिखी है उसे फिक्शन राइटर बन जाना चाहिए.

7. ब्रेकअप

जमाने भर की अफवाहों के बीच आने वाले दिनों में स्पष्ट हो ही गया कि रणबीर-कटरीना का ब्रेकअप हो चुका है और वे अलग-अलग रहने लगे हैं. इसका सीधा असर शूटिंग पर पड़ा. ‘जग्गा..’ ठंडी पड़ गई. फरवरी-मार्च से मोरक्को में शेड्यूल होना था लेकिन लव बर्ड्स को एक-दूसरे की शक्ल भी नहीं देखनी थी शायद इसलिए ये शेड्यूल रद्द कर दिया गया. तब कटरीना आदित्य रॉय कपूर के साथ ‘फितूर’ शूट कर रही थीं और रणबीर अकेले रात में अपने शॉट फिल्माया करते थे. ब्रेकअप के बाद दोनों पहली बार मार्च में साथ शूटिंग करने लगे. वो भी तब जब अजीज़ दोस्त और डायरेक्टर अयान मुखर्जी सेट पर मौजूद रहे ताकि दोनों सितारों के बीच सेतु का काम कर सकें और फिल्म की शूटिंग न रोकनी पड़े. मोरक्को का सेट मुंबई में ही बनाया गया. डायरेक्टर और क्रू की ऊर्जा बहुत बर्बाद हुई क्योंकि इस फेज़ में ज्यादातर वक्त दोनों पूर्व-प्रेमी अपने शॉट अलग-अलग दे रहे थे. सेट पर मौजूद सूत्रों के हवाले से लगातार खबरें आती रहीं कि दोनों के बीच बोलचाल नहीं होती थी. कोई बहुत ही जरूरी सीन साथ में होता तभी ये साथ आते. लेकिन मुंबई पर मोरक्को के सेट से वो बात नहीं आ रही थी इसलिए तय हुआ कि मोरक्को ही जाया जाएगा. दोनों सितारे भी मई में मोरक्को पहुंचे लेकिन अलग-अलग फ्लाइट में. वहां जाते ही रणबीर और अनुराग बसु लोकल फूड का मजा लेते दिखाई दिए और कटरीना उनके साथ नहीं थीं. ये दूरी पूरे शेड्यूल में कायम रही लेकिन आज अगर बसु से पूछें तो वो यही कहते हैं कि ये दोनों ही पेशेवर इंसानों की तरह बहुत जिम्मेदारी से पेश आए और शूटिंग में भरपूर सहयोग दिया.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- धाकड़

फिल्म रिव्यू- धाकड़

'धाकड़' एक ऐसी फिल्म है, जिसका एक्शन अच्छा है. मगर वो एक अच्छी एक्शन फिल्म नहीं बन पाती.

मूवी रिव्यू: भूल भुलैया 2

मूवी रिव्यू: भूल भुलैया 2

कायदे से ये फिल्म ‘भूल भुलैया’ का सीक्वल होने की जगह एक अलग हॉरर-कॉमेडी हो सकती थी.

वेब सीरीज़ रिव्यू: पंचायत सीज़न 2

वेब सीरीज़ रिव्यू: पंचायत सीज़न 2

सीरीज़ के आखिरी पाँच-दस मिनट में सिनेमा अपने उच्चतम स्तर पर होता है. गारंटी है आप रो पड़ेंगे. आंसू न आएं तो पैसा वापस.

जेम्स कैमरन की 'अवतार' वाली प्लानिंग जानकर कहेंगे, 'इतनी दूर की कौन सोचता है भई'!

जेम्स कैमरन की 'अवतार' वाली प्लानिंग जानकर कहेंगे, 'इतनी दूर की कौन सोचता है भई'!

जेम्स कैमरन ने अगले 6 सालों का प्लान अभी से बना रखा है.

फ़िल्म रिव्यू: धुइन

फ़िल्म रिव्यू: धुइन

ऐसी कहानियां जहां हम खुद को खोते हैं, फिर से पाने के लिए, ऐसी कहानियां देखी जानी चाहिए

फिल्म रिव्यू- सरकारु वारी पाटा

फिल्म रिव्यू- सरकारु वारी पाटा

विवादों की वजह से चर्चा में रहे महेश बाबू की नई फिल्म कैसी है?

मूवी रिव्यू: जयेशभाई जोरदार

मूवी रिव्यू: जयेशभाई जोरदार

सोशल मैसेज वाली फिल्मों में एक चीज़ बड़ी कॉमन रहती है, कि वहां मैसेज ह्यूमर की आड़ में दिया जाता है. ‘जयेशभाई जोरदार’ भी उस लिहाज़ से कुछ अलग नहीं.

वेब सीरीज़ रिव्यू: मॉडर्न लव मुंबई

वेब सीरीज़ रिव्यू: मॉडर्न लव मुंबई

अगर आपको 'मॉडर्न लव' का पूरा आनंद लेना है तो इसके नज़दीक जाना पड़ेगा. पास जाइए और ठहरकर इसे महसूस कीजिए.

अवतार 2: क्यों अचंभे में डाल देगी 2022 की ये सबसे बड़ी फ़िल्म!

अवतार 2: क्यों अचंभे में डाल देगी 2022 की ये सबसे बड़ी फ़िल्म!

डायरेक्टर जेम्स कैमरून ने फ़िल्म के लिए नई टेक्नोलॉजी बना दी.

कौन थे ब्लैक टॉरनेडो के वो वीर योद्धा, जिन पर एक जबरदस्त फ़िल्म 'मेजर' आ रही है?

कौन थे ब्लैक टॉरनेडो के वो वीर योद्धा, जिन पर एक जबरदस्त फ़िल्म 'मेजर' आ रही है?

इस तरह के ट्रीटमेंट वाली वॉर मूवी भारत में शायद नहीं देखी होगी.