Submit your post

Follow Us

'मैं मरूं तो मेरी नाक पर सौ का नोट रखकर देखना, शायद उठ जाऊं'

ये अपनी साहित्यिक वसीयत में लिख गए थे हरिशंकर परसाई. हमको लोगों के लिखे की तारीफ करनी होती है तो कहते हैं अहा, कितना मधुर. कितना मीठा. अद्भुत. उनके लिखे को मीठा कहना मानो बेइज्जती का ड्रम उड़ेलना. उसको तीखा कहो. कड़वा, एकदम नीम जैसा. मुर्दे को पढ़कर सुना दो तो उठकर कत्थक करने लगे.

हमारे तुम्हारे पढ़ने लिखने के दिनों में एक चलन होता था. जिसे जानना बालबुद्धि के लिए संभव नहीं थी. कि हिंदी साहित्य के जो लेखक कोर्स में शामिल हो जाते थे, वो खुद को सीरियसली लेना शुरू कर देते थे. ऐसा नहीं है कि वो पहले सीरियस नहीं होते थे. वो चिर धीर गंभीर होते थे. लेकिन ऐसा वैसा कुछ भी लिख लेने वाले साहित्यकार फिर बहुत ध्यान से कलम चलाते थे. अपनी इमेज के चलते. हरिशंकर परसाई इसमें भी गेम खेल गए. जब से कोर्स की किताबों में आए, और तीखा लिखने लगे. आज हरिशंकर परसाई का जन्मदिन है. आज ही की तारीख, सन 1924 में जन्मे थे वो.

परसाई के बारे में कहा जाता था कि वो लिखते तो गुरू शानदार, धारदार हैं. लेकिन कठिन लिखते हैं. और उनकी तारीफ करने वाले भी टेंसन में रहते थे. कि कहीं हमारे ऊपर ही न व्यंग्य लिख दें. धार्मिक, सामाजिक, राजनैतिक माने जहां जहां कुरीति और करप्शन के पिस्सू मिले, वहां कलम की स्याही को साबुन वाला पानी बनाकर नहला दिया. वो व्यंग्य लेखक को डॉक्टर की जगह रखते थे. जैसे डॉक्टर पस को बाहर निकालने के लिए दबाता है. वैसे व्यंग्य लेखक समाज की गंदगी हटाने के लिए उस पर उंगली रखता है. उसमें वो कितने कामयाब हुई ये बताना नापने वालों का काम है. हमारा तुम्हारा काम है उनको और पढ़ना. अपने लिटरेचर में जो सबसे मारक लाइनें लिखकर गए हैं वो. यहां पढ़ो.

1.

1

2.

2

3.

3

4.

4

5.

5

6.

6

7.

8

8.

9

9.

10

10.

11

11.

12

12.

13

13.

14

14.

15

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

एक खतरनाक मगर एंटरटेनिंग कॉप फिल्म.

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.

फिल्म रिव्यू: शकुंतला देवी

'शकुंतला देवी' को बहुत फिल्मी बता सकते हैं लेकिन ये नहीं कह सकते इसे देखकर एंटरटेन नहीं हुए.

फ़िल्म रिव्यूः रात अकेली है

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और राधिका आप्टे अभिनीत ये पुलिस इनवेस्टिगेशन ड्रामा आज स्ट्रीम हुई है.

फिल्म रिव्यू- यारा

'हासिल' और 'पान सिंह तोमर' वाले तिग्मांशु धूलिया की नई फिल्म 'यारा' ज़ी5 पर स्ट्रीम होनी शुरू हो चुकी है.

फिल्म रिव्यू- दिल बेचारा

सुशांत के लिए सबसे बड़ा ट्रिब्यूट ये होगा कि 'दिल बेचारा' को उनकी आखिरी फिल्म की तरह नहीं, एक आम फिल्म की तरह देखा जाए.

सैमसंग के नए-नवेले गैलेक्सी M01s और रियलमी नार्ज़ो 10A की टक्कर में कौन जीतेगा?

सैमसंग गैलेक्सी M01s 9,999 रुपए में लॉन्च हुआ है.