Submit your post

Follow Us

'मैं मरूं तो मेरी नाक पर सौ का नोट रखकर देखना, शायद उठ जाऊं'

ये अपनी साहित्यिक वसीयत में लिख गए थे हरिशंकर परसाई. हमको लोगों के लिखे की तारीफ करनी होती है तो कहते हैं अहा, कितना मधुर. कितना मीठा. अद्भुत. उनके लिखे को मीठा कहना मानो बेइज्जती का ड्रम उड़ेलना. उसको तीखा कहो. कड़वा, एकदम नीम जैसा. मुर्दे को पढ़कर सुना दो तो उठकर कत्थक करने लगे.

हमारे तुम्हारे पढ़ने लिखने के दिनों में एक चलन होता था. जिसे जानना बालबुद्धि के लिए संभव नहीं थी. कि हिंदी साहित्य के जो लेखक कोर्स में शामिल हो जाते थे, वो खुद को सीरियसली लेना शुरू कर देते थे. ऐसा नहीं है कि वो पहले सीरियस नहीं होते थे. वो चिर धीर गंभीर होते थे. लेकिन ऐसा वैसा कुछ भी लिख लेने वाले साहित्यकार फिर बहुत ध्यान से कलम चलाते थे. अपनी इमेज के चलते. हरिशंकर परसाई इसमें भी गेम खेल गए. जब से कोर्स की किताबों में आए, और तीखा लिखने लगे. आज हरिशंकर परसाई का जन्मदिन है. आज ही की तारीख, सन 1924 में जन्मे थे वो.

परसाई के बारे में कहा जाता था कि वो लिखते तो गुरू शानदार, धारदार हैं. लेकिन कठिन लिखते हैं. और उनकी तारीफ करने वाले भी टेंसन में रहते थे. कि कहीं हमारे ऊपर ही न व्यंग्य लिख दें. धार्मिक, सामाजिक, राजनैतिक माने जहां जहां कुरीति और करप्शन के पिस्सू मिले, वहां कलम की स्याही को साबुन वाला पानी बनाकर नहला दिया. वो व्यंग्य लेखक को डॉक्टर की जगह रखते थे. जैसे डॉक्टर पस को बाहर निकालने के लिए दबाता है. वैसे व्यंग्य लेखक समाज की गंदगी हटाने के लिए उस पर उंगली रखता है. उसमें वो कितने कामयाब हुई ये बताना नापने वालों का काम है. हमारा तुम्हारा काम है उनको और पढ़ना. अपने लिटरेचर में जो सबसे मारक लाइनें लिखकर गए हैं वो. यहां पढ़ो.

1.

1

2.

2

3.

3

4.

4

5.

5

6.

6

7.

8

8.

9

9.

10

10.

11

11.

12

12.

13

13.

14

14.

15

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर की रगों में क्या है?

एक लघु टिप्पणी दोनों के बीच विवाद पर. जिसमें नसीर ने अनुपम को क्लाउन यानी विदूषक कहा था.

पंगा: मूवी रिव्यू

मूवी देखकर कंगना रनौत को इस दौर की सबसे अच्छी एक्ट्रेस कहने का मन करता है.

फिल्म रिव्यू- स्ट्रीट डांसर 3डी

अगर 'स्ट्रीट डांसर' से डांस निकाल दिया जाए, तो फिल्म स्ट्रीट पर आ जाएगी.

कोड एम: वेब सीरीज़ रिव्यू

सच्ची घटनाओं से प्रेरित ये सीरीज़ इंडियन आर्मी के किस अंदरूनी राज़ को खोलती है?

जामताड़ा: वेब सीरीज़ रिव्यू

फोन करके आपके अकाउंट से पैसे उड़ाने वालों के ऊपर बनी ये सीरीज़ इस फ्रॉड के कितने डीप में घुसने का साहस करती है?

तान्हाजी: मूवी रिव्यू

क्या अपने ट्रेलर की तरह ही ग्रैंड है अजय देवगन और काजोल की ये मूवी?

फिल्म रिव्यू- छपाक

'छपाक' एक ऐसी फिल्म है, जिसके बारे में हम ये चाहेंगे कि इसकी प्रासंगिकता जल्द से जल्द खत्म हो जाए.

हॉस्टल डेज़: वेब सीरीज़ रिव्यू

हॉस्टल में रह चुके लोगों को अपने वो दिन खूब याद आएंगे.

घोस्ट स्टोरीज़ : मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

करण जौहर, अनुराग कश्यप, ज़ोया अख्तर और दिबाकर बनर्जी की जुगलबंदी ने तीसरी बार क्या गुल खिलाया है?

गुड न्यूज़: मूवी रिव्यू

साल की सबसे बेहतरीन कॉमेडी मूवी साल खत्म होते-होते आई है!