Submit your post

Follow Us

जयललिता की एक और बायोपिक, जिसमें कंगना तो नहीं लेकिन उनके साथ गज़ब का संयोग जुड़ा है

5
शेयर्स

अभी कुछ ही दिन पहले कंगना रनौत की अगली फिल्म ‘थलैवी’ का टीज़र आया था. ये फिल्म एक्ट्रेस और 6 बार तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रह चुकीं जयललिता की लाइफ पर बेस्ड है. जयललिता की एक और बायोपिक आ रही है. और संयोग देखिए कि इसका नाम है ‘क्वीन’. कंगना के करियर की सबसे बड़ी फिल्म. लेकिन नई वाली ‘क्वीन’ फिल्म नहीं, वेब सीरीज़ है. इस सीरीज़ का पहला टीज़र बीते संडे को आया था. इसे लेकर बातें हो रही हैं. वजहें हैं, सब्जेक्ट का टकराव, फैमिली परमिशन विवाद, कहानी का फिक्शनल होना, जैसी तमाम बातें. सीरीज़ के टीज़र समेत ये सारी बातें हम नीचे जानेंगे.

1) ‘क्वीन’ के 26 सेकंड लंबे टीज़र में कहीं लीड कैरेक्टर की शक्ल नहीं दिखाई जाती है. न बचपन में न जवानी में और न ही बुढ़ापा में. पिछली लाइन में हम ये बताना चाहते थे कि इस टीज़र में जयललिता के लाइफ के तीनों फेज़ दिखाए गए हैं. बचपन में स्कूल टॉप करने वाली लड़की, जो 18 की उम्र में सुपरस्टार हीरोइन बनी और आगे चलकर एक सफल राजनीतिज्ञ. हालांकि मेकर्स ने एक इंटरव्यू में बताया है कि ये सीरीज़ पूरी तरह जयललिता पर बेस्ड नहीं है. इसमें उन्होंने कुछ फिक्शनल चीज़ें जोड़ी हैं.

सीरीज़ के एक सीन में जयललिता माफ करिएगा कलई के किरदार में राम्या कृष्णन.
सीरीज़ के एक सीन में जयललिता माफ करिएगा कलई के किरदार में राम्या कृष्णन.

2) ये सीरीज़ अनीता शिवकुमारन की किताब ‘क्वीन’ पर बनी है. और ‘क्वीन’ कलई नाम की एक लड़की की कहानी है, जिसकी लाइफ जर्नी जयललिता से काफी मिलती-जुलती है. कलई की कहानी ये है कि वो बचपन से डॉक्टर बनना चाहती थी. लेकिन उसकी मां उसे जबरदस्ती फिल्मों में ले आती है. कुछ ही टाइम में वो फिल्म इंडस्ट्री की सबसे सफल हीरोइन बन जाती है. फिल्मों के सुपरस्टार पीकेबी (PKB) के साथ उसका स्ट्रॉन्ग कनेक्शन है. उनके साथ वो पॉलिटिक्स में एंट्री लेती है. और पीकेबी की डेथ के बाद 6 बार तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनती है. क्वीन का टीज़र आप यहां देख सकते हैं:

3) इसे किताब को सीरीज़ की कहानी में तब्दील किया है रेशमा घटाला ने. इसे डायरेक्ट कर रहे हैं गौतम वासुदेव मेनन और प्रशांत मुरुगेसन. गौतम वही डायरेक्टर हैं, जिन्होंने ‘रहना है तेरे दिल में’ डायरेक्ट की थी. वो तमिल और तेलुगू भाषा में फिल्में बनाते हैं. उन्हीं की तमिल फिल्म ‘मिन्नले’ का रीमेक थी RHTDM. 2008 में आई इनकी फिल्म ‘वाराणम अयिराम’ को बेस्ट तमिल फिल्म का नेशनल अवॉर्ड मिल चुका है. उनके साथ इस सीरीज़ को ‘किड्डारी’ फेम प्रशांत मुरुगेसन डायरेक्ट कर रहे हैं. अब जब बात छिड़ ही गई है, तो RHTDM का एक सीन देख ही लीजिए:

4) इस सीरीज़ में जयललिता\ कलई का रोल कर रही हैं राम्या कृष्णन. ‘बाहुबली’ की राजमाता शिवगामी देवी. लेकिन राम्या कलई की जवानी और उसके आगे वाले हिस्से में नज़र आएंगी. स्कूल गर्ल वाले पोर्शन में दिखेंगी अनिका सुरेंद्रन. अनिका इससे पहले मलयाली भाषा की फिल्म ‘5 सुंदरीकल’ और तमिल फिल्म ‘विस्वासम’ में काम कर चुकी हैं. एमजीआर पर बेस्ड कैरेक्टर पीकेबी का रोल करेंगे इंद्रजीत सुकुमारन. इंद्रजीत तमिल, तेलुगू और मलायलम तीनों भाषा की फिल्में करते हैं. वो ‘क्लासमेट्स’ (2006), ‘छोटा मुंबई’ (2007), ‘एंजेल्स’ (2014) और ‘लुसिफर’ (2019) जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं.

टीज़र का ये इकलौता हिस्सा है, जहां थोड़ी सी राम्या की शक्ल दिखती है.
टीज़र का ये इकलौता हिस्सा है, जहां राम्या की थोड़ी सी शक्ल दिखती है.

5) जयललिता पर बनी रही फिल्में और सीरीज़ से उनके भतीजे दीपक को दिक्कत थी. वो जयललिता की लाइफ पर फिल्में बना रहे प्रोड्यूसर्स के खिलाफ कोर्ट चले गए. उनका ये कहना था कि अगर जयललिता की पॉलिटिकल लाइफ पर फिल्म या सीरीज़ बना रहे हैं, तो कोई दिक्कत की बात नहीं है. लेकिन अगर आप उसमें जयललिता की पर्सनल लाइफ भी दिखाने जा रहे हैं, तो परमिशन लेना चाहिए न. उनके इस एक्शन के बाद ‘थलैवी’ की टीम ने दीपक से एनओसी (No Objection Certificate) लिया. और तभी ‘क्वीन’ की टीम ने इस बात का ऐलान किया कि उनकी सीरीज़ एक फिक्शनल स्टोरी पर बेस्ड है. ‘थलैवी’ का टीज़र आप यहां देख सकते हैं:

6) ‘क्वीन’ के पहले सीज़न में 11 एपिसोड्स होंगे. इसे एमएक्स प्लेयर नाम के स्ट्रीमिंग प्लैटफॉर्म की वेबसाइट या ऐप पर देखा जा सकता है. कब से? ये अभी बताया नहीं गया. बताया बस ये गया है कि ‘क्वीन’ का ट्रेलर 5 दिसंबर को लॉन्च किया जाएगा. इसे तमिल, तेलुगू, हिंदी और बंगाली भाषाओं में देखा जा सकता है.


वीडियो देखें: तान्हाजी- द अनसंग वॉरियर: जानिए अजय देवगन स्टारर मूवी से जुड़ी सब ज़रूरी बातें

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: कमांडो 3

इस फिल्म में विद्युत का एक्शन देखकर आप टाइगर श्रॉफ पर 'किड्स' वाला जोक मारने के लिए मजबूर हो जाएंगे.

होटल मुंबई: मूवी रिव्यू

‘होटल मुंबई’ एक बेहतरीन मूवी है. लेकिन इसे 'बेहतरीन' कहते हुए आप गिल्ट तले दब जाते हो.

रामगोपाल वर्मा की मूवी में पीएम मोदी, अमित शाह और चंद्रबाबू नायडू ही नहीं, और भी कई राजनेता हैं

पिक्चर तो रामू ने बना दी. अब रिलीज़ कैसे करेंगे?

पागलपंती: मूवी रिव्यू

फिल्म के ट्रेलर में ही अनिल कपूर कह देते है,'और हां तुम लोग दिमाग मत लगाना'.

फ्रोज़न 2: मूवी रिव्यू

...जब मेरे बचपन के दिन थे चांद में परियां रहती थीं.

तानाजी ट्रेलर के दो डायलॉग जिन्हें सुनकर मन बहुत खराब हो गया है!

अजय देवगन स्टारर इस हिस्टोरिकल ड्रामा की ये गलती इसका पीछा नहीं छोड़ेगी.

हाउस अरेस्ट: मूवी रिव्यू

पूरी दुनिया के लिए उम्दा कॉन्टेंट बनाने वाला नेटफ्लिक्स हम भारतीयों के साथ सौतेला व्यवहार क्यूं कर रहा है, समझ से बाहर है.

मरजावां: मूवी रिव्यू

‘परिंदा’, ‘ग़ुलाम’, ’देवदास’, ‘अग्निपथ’, ‘कयामत से कयामत तक’, ‘गजनी’, ‘काबिल’, ‘लावारिस’ और ‘केजीएफ’ जैसी ढेरों मूवीज़ की याद दिलाती है मरजावां.

फिल्म रिव्यू: मोतीचूर चकनाचूर

आप पैसे खर्च करके सिर्फ हंसने नहीं जा सकते, साथ में कुछ चाहिए होता है, जो ये फिल्म नहीं देती.

बाला: मूवी रिव्यू

'आज खुशी का दिन है आया बिल्कुल लल्लनटॉप. सोडा, पानी, नींबू के साथ क्या पिएंगे आप?'