Submit your post

Follow Us

संजय दत्त की अगली फिल्म, जो उन्हें सुपरस्टार वाला खोया रुतबा वापस दिला सकती है

222
शेयर्स

‘प्रस्थानम’ का ट्रेलर आ गया है. टीज़र में लग रहा था कि इस फ़िल्म से संजय दत्त का ज़बरदस्त कमबैक होने वाली है. और ट्रेलर बता रहा है कि फ़िल्म वाकई जानदार होगी.

ट्रेलर की शुरुआत में एक ऐसा सवाल है जो पूरा ट्रेलर देखते हुए आपके ज़ेहन में गूंजता रहता है. एक बच्ची अपने दादा से पूछती है कि राम ने रावण को क्यों मारा?

‘क्योंकि रावण बुरा था’ ये जवाब मिलते ही बच्ची इस फ़िल्म का वो सिरा आपके हाथ में देती है जो ट्रेलर ख़त्म होने तक आपको वापस उसी सवाल पर लौटा लाती है.

बच्ची का जवाब है ‘लेकिन मारना भी तो बुरा है न?’

संजय दत्त इस फ़िल्म से एक बार फिर अपने पुराने अवतार में वापस लौटेंगे क्या
संजय दत्त इस फ़िल्म से एक बार फिर अपने पुराने अवतार में वापस लौटेंगे क्या

# और फिर शुरू होती है बुराई

बच्ची जब ये जवाब दे रही होती है तो ट्रेलर के अगले सीन में दिखाई देते हैं बंदूक हाथ में लिए संजय दत्त. किसी सवाल में उलझा हुआ बलदेव प्रताप सिंह यानि संजय दत्त.

सत्ता के सिंहासन तक पहुंचता बलदेव
सत्ता के सिंहासन तक पहुंचता बलदेव

बलदेव बड़ा नेता है, लेकिन वो बड़ा कैसे बना ये ट्रेलर के शुरुआत में ही सिर्फ़ पांच सेकेण्ड के अंदर दिखा दिया जाता है. और फिर अपने बंगले की बाल्कनी से जनता को नमस्कार करता बलदेव.

और फिर बलदेव का शानदार डायलॉग ‘पॉलिटिक्स शेर की सवारी है, अगर उतर गए तो जान भी जा सकती है.’ लेकिन इस शेर की सवारी का अगला दावेदार है बलदेव का बेटा आयुष. आयुष की दावेदारी ख़ुद बलदेव पक्की करा रहा है. आयुष का रोल किया है अली फ़ज़ल ने. अली के कैरेक्टर की लाइफ़ में है एक लड़की. और इसी सब से कनेक्टेड दिख रहे हैं जैकी श्रॉफ.

जैकी भी संजय से कहीं कम नहीं दिखाई दे रहे हैं
जैकी भी संजय से कहीं कम नहीं दिखाई दे रहे हैं

बलदेव का एक ख़ास आदमी है जो बलदेव से अपनी वफ़ादारी निभाने की बात कर रहा है. लेकिन बलदेव की कुर्सी का एक और दावेदार बलदेव के घर में ही है जो बलदेव की ताक़त के नशे में दिख रहा है. और फिर खत्री के रोल में दिखाई देते हैं चंकी पांडे. जो फल न मिले तो पेड़ और पेड़ न मिले जो जड़ काट देते हैं. खत्री की टशन है बलदेव से. पॉलिटिकल बैकड्रॉप पर बेस्ड ये ड्रामा फ़िल्म ऐक्शन, डायलॉग, ऐक्टिंग का फुल मसाला दिखाई दे रही है.

# प्रस्थानम किस फ़िल्म की रीमेक है?

2010 में आई सुपरहिट तेलुगु फ़िल्म ‘प्रस्थानम’ की रीमेक है संजय दत्त वाली प्रस्थानम. फर्क बस ये होगा कि हिंदी वाली फिल्म एक नए गांव में सेट होगी और किरदारों के नाम अलग होंगे.

तेलुगु वाली प्रस्थानम का बलदेव प्रताप सिंह है लोकी. वहां का नेता. जिसका पूरा नाम है लोकानाथम नायडू. उसके दो बेटे हैं. एक सौतेला बेटा है. नाम है मित्रा. उससे वो बहुत प्यार करता है. लोकी का दूसरा बेटा है चिन्ना, जो उसका सगा बेटा है. लेकिन वो अपने सगे बेटे से ज्यादा प्यार मित्रा से करता है. क्योंकि मित्रा बहुत समझदार है, वहीं चिन्ना गुस्सैल और बुरी आदतों वाला है. पिता का मित्रा से ये प्रेम चिन्ना को हमेशा खलता है. वही कुर्सी की लड़ाई.

हिंदी वाली प्रस्थानम की भी वही कहानी है. कौन किसको क्यों किसलिए कैसे ठिकाने लगाता है ये पता चलेगा 20 सितंबर को.

# लेकिन मामला उतना आसान भी नहीं होगा

जेल से बाहर आने के बाद संजय दत्त की जितनी भी फिल्में रिलीज़ हुई हैं, उनमें से कोई भी बॉक्स ऑफिस पर हिट नहीं हो पाई है. चाहे वो फिल्म ‘भूमि’ हो, ‘साहब बीवी और गैंग्सटर 3’ या फिर ‘कलंक’.

अब देखना ये है कि क्या प्रस्थानम से संजय दत्त उसी तरह की शानदार वापसी कर पाएंगे जैसा कि उनके फैन्स को उम्मीद है.

सारे सवालों का जवाब मिल जाएगा 20 सितंबर को जब फ़िल्म रिलीज़ होगी सिनेमाघरों में.


वीडियो देखें:

क्या वाकई में सलमान ने रानू मंडल को गिफ्ट किया है 55 लाख रुपए का घर?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो 15 गाने, जिनके बिना छठ पूजा अधूरी है

पुराने गानों के बिना व्रत ही पूरा नहीं होता.

राग दरबारी : वो किताब जिसने सिखाया कि व्यंग्य कितनी खतरनाक चीज़ है

पढ़िए इस किताब से कुछ हाहाकारी वन लाइनर्स.

वो 8 कंटेस्टेंट जो 'बिग बॉस' में आए और सलमान खान से दुश्मनी मोल ले ली

लड़ाईयां जो शुरू घर से हुईं लेकिन चलीं बाहर तक.

जॉन अब्राहम की फिल्म का ट्रेलर देखकर भूतों को भी डर लगने लगेगा

'पागलपंती' ट्रेलर की शुरुआत में जो बात कही गई है, उस पर सभी को अमल करना चाहिए.

मुंबई में भी वोट पड़े, हीरो-हिरोइन की इंक वाली फोटो को देखना तो बनता है बॉस!

देखिए, कितने लाइक्स बटोर चुकी हैं ये फ़ोटोज.

जब फिल्मों में रोल पाने के लिए नाग-नागिन तो क्या चिड़िया, बाघ और मक्खी तक बन गए ये सुपरस्टार्स

अर्जुन कपूर अगली फिल्म में मगरमच्छ के रोल में दिख सकते हैं.

जब शाहरुख की इस फिल्म की रिलीज़ से पहले डॉन ने फोन कर करण जौहर को जान से मारने की धमकी दी

शाहरुख करण को कमरे से खींचकर लाए और कहा- '' मैं भी पठान हूं, देखता हूं तुम्हें कौन गोली मारता है!''

इस अजीबोगरीब साइ-फाई फिल्म को देखकर पता चलेगा कि लोग मरने के बाद कहां जाते हैं

एक स्पेसशिप है, जो मर चुके लोगों को रोज सुबह लेने आता है. लेकिन लेकर कहां जाता है?

वो इंडियन डायरेक्टर जिसने अपनी फिल्म बनाने के लिए हैरी पॉटर सीरीज़ की फिल्म ठुकरा दी

आज अपना 62 वां बड्डे मना रही हैं मीरा नायर.

अगर रावण आज के टाइम में होता, तो सबसे बड़ी दिक्कत उसे ये होती

नम्बर सात पढ़ कर तो आप भी बोलेंगे, बात तो सही है बॉस.