Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

योगी-स्मृति और प्रियंका-सिंधिया में रिश्ता जोड़ने वाले किस पार्टी के लीचड़ हैं?

259
शेयर्स

कहते हैं कि अपने देश में सिर्फ तीन चीजों पर दिल खोलकर बात होती है. पॉलिटिक्स, क्रिकेट और बॉलीवुड. पॉलिटिक्स हमेशा नंबर वन पर रहा. जब से सोशल मीडिया आया तब से तो इसने बचे हुए दोनों को और नीचे खिसका दिया है. तो भैया हाल ये है कि अब यहां जो नई पीढ़ी की पौध है वो हाथ में मोबाइल आते ही पॉलिटिकल एनालिस्ट हो जाती है. इसमें कोई बुराई भी नहीं. बल्कि जनता जितनी जागरुक हो, लोकतंत्र की उतनी बड़ी सफलता है. अब लोकतंत्र जैसा भारी शब्द हम मार दिए हैं तो सीरियस न हो जाइएगा. सीरियस वो है जो आगे आप देखने वाले हैं. वो सीरियस नहीं, घिनौना है. दो तस्वीरें दिखाते हैं. एक पोस्ट में योगी आदित्यनाथ और स्मृति इरानी हैं. दोनों के बीच में गुलाब के फूलों का गुलदस्ता है. कैप्शन लिखा है तू इश्क है किसी और कि तुझे चाहता कोई और है.

adityanath smriti irani

एक तो गाने की लिरिक्स सही नहीं लिखी हैं. बाकी बातें इससे भी वाहियात हैं. इसका मतलब चाहे जो भी हो, मंशा मखौल उड़ाना ही है. अब अगली तस्वीर देखिए. ये ‘वी सपोर्ट नरेंद्र मोदी’ ग्रुप की है. इसमें कैप्शन लिखा है कि प्रियंका वाड्रा और ज्योतिरादित्य सिंधिया अब एक ही कमरे में मिलकर विकास पैदा करेंगे.

priyanka jyotiraditya

इनको देखकर दो बातें समझ में आती हैं. ऐसी पोस्ट करने वालों को राजनैतिक समझ की जरूरत बाद में, नैतिक समझ की जरूरत पहले है. दूसरी ये कि जो हम तीन चीजें पहले बता चुके हैं, जिन पर दिल खोलकर बात करके हैं. पॉलिटिक्स, क्रिकेट और बॉलीवुड. इनके अलावा भी एक चीज है जिस पर खुलकर बात नहीं होती, अंदर कुंठा पलती रहती है. फिर ऐसी गंदी पोस्ट्स के रूप में निकलती है. वो चीज है सेक्स. वो शरीर और दिमाग की जरूरत तो है, लेकिन अपनी फ्रस्टेशन निकालने के लिए किसी की तस्वीरों पर उल्टी सीधी बातें लिखना एक तो वाहियातपने की हद है, और क्राइम भी है. कोर्ट कचहरी के चक्कर भी लगाना पड़ सकता है.

मजे की बात ये है कि ऐसा करने वाले किसी एक पार्टी के समर्थक नहीं हैं. जिस भी पार्टी के कट्टर वाले भक्तों को देखोगे वो बहस में हारने लगें तो इसी गहराई में उतर जाते हैं. कुछ दिन पहले प्रियंका गांधी सक्रिय राजनीति में आईं तो बीजेपी के समर्थकों ने सारी हदें पार कर दीं. जितनी तरह से हो सकता था उतनी तरह से पर्सनल अटैक किया. अब ये मान भी लो कि ऐसा करके आप किसी को रोक नहीं सकते. न चुनाव लड़ने से, न जीतने या हारने से. बस अपनी फ्रस्टेशन को जरूर जगजाहिर कर देते हो. इंसान पहले कायदे के बन जाओ, पार्टी भक्त तो बाद में भी बन जाओगे. करीने से बात रखोगे तो सुनने की गुंजाइश भी रहेगी.


लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
People posting absurd comments on social media about Yogi Adityanath, Smriti Irani, Priyanka Gandhi

10 नंबरी

इन 5 बड़ी वजहों से फाइनल में न्यूजीलैंड से हार गई टीम इंडिया

दिनेश कार्तिक निदाहस ट्रॉफी का फाइनल दोहराने वाले थे, मगर...

आज एक-दो नहीं, कुल 45 फिल्में रिलीज़ हुई हैं

शायद ऐसा भारत में पहले कभी नहीं हुआ.

उड़ी फिल्म में ‘हाउ इज़ द जोश’ कहां से आया, असली कहानी जानिए

फिल्म के डायरेक्टर ने अपनी मुंह से सुनाया है इस डायलॉग का किस्सा...

UP Budget: योगी सरकार के बजट की 13 बातें, जो बताती हैं कि इलेक्शन 2019 में ही है

एक्सप्रेस-वे, एयरपोर्ट पर खूब खर्च की तैयारी है.

PUBG के साथ इन गेम्स में दिलचस्पी क्यों ले रही है दिल्ली सरकार?

दिल्ली के कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स ने चेताया, बचा के रखें बच्चों को.

ट्विटर पर 90's की ऐसी-ऐसी चीज़ें शेयर हो रही हैं कि कोई मुस्कुरा रहा है, किसी की आंखें नम हैं

बचपन की यादों का ऐसा तूफ़ान आ गया है कि लोग मार इमोशनल हुए जा रहे हैं!

केंदी पों और जस्ट चेंऊं चेंऊं सुनने वाले देश 'जलाने' लगे हैं

'सुन सुना, हाथी का अंडा ला' और 'मेरी लचके कमर' क्यों सुनाई देता है?

विजय माल्या के बारे में वो दस फनी बातें, जो आपको गूगल पर भी नहीं मिलेंगी

माल्या को जब इंडिया लाया जाएगा तो आप उससे पॉइंट 8 और 9 के बारे में पूछ लेना.

जानिए फिल्म '83 में रणवीर सिंह के साथ कौन-कौन से एक्टर्स कर रहे हैं काम

देश के अलग-अलग हिस्सों के एक्टर्स क्रिकेट की ट्रेनिंग ले रहे हैं.