Submit your post

Follow Us

इस अप्रैल फ़ूल पर फूल बनाने के चार धांसू तरीके सीख लीजिए

फूल में फूल, अप्रैल फूल. पिछले साल यही दिन था, सब ऐसे भकुआए हुए थे कि समझ नहीं आ रहा था कि हम अप्रैल के मजे ले रहे हैं या अप्रैल हमारे मजे ले रहा है. लॉकडाउन के बीच कब मार्च गुजरा और कब सितंबर आ गया, किसी को याद नहीं. लेकिन जैसा अल्ताफ़ राजा कह गए हैं,

वो साल दूसरा था, ये साल दूसरा है.

और वादों की टॉर्च लेकर प्रियतमा मार्च में ही खड़ी रह गई हैं. बाकी रह गए हैं हम और आप. चूंकि हम दोनों में से कोई परदेसी नहीं है, इसलिए साथ निभाना हमारी ज़िम्मेदारी है. जो वादा किया हेडलाइन में, वो आपसे निभायेंगे. और आपको अप्रैल फूल वाले दिन फूल बनाने के जाबड़ तरीके सिखायेंगे.

(1)

सबसे पहला.

पेन्सिल से पन्ने पर.

कोई सी भी पेन्सिल उठाइये. सादा कागज़ लीजिए. हौले हौले डिजाइन बनाइये. एक चक्कर. चक्कर के आस पास पंखुड़ी. फिर टहनी. फिर पत्ती. एकदम वैसे ही जैसे बचपन में पहाड़ के ऊपर सूरज और नीचे नदी बनाते थे. धुर टैलेंटेड लोग झोंपड़ी भी बना आते थे. फिर आते थे उनसे भी महान लोग. जो सर पर गगरी लेकर जाती महिला भी बनाते थे नदी किनारे. अगर आप उन महान लोगों में से हैं, तो आप फूल क्या गुलदस्ता बना लीजिए महाराज. टॉपर लोग वीकेंड क्लास लेने आते हैं तो बाई गॉड बहुत खिसियाहट होती है. हम साधारण लोगों के लिए ये साधारण सा ट्यूटोरियल ठीक है. देख लीजिए:

(2)

दो एक्कम दो.

स्टेंसिल.

वो क्या है न कि हर कोई पेन्सिल या स्केच पेन को लेकर कॉन्फिडेंट नहीं होता. ये वही लोग हैं जिनको खाली पन्ने के जिस्ते में मार्जिन छोड़े बिना लिखने नहीं दिया जाता था. काहे कि लिखते लिखते कब पेन बेंच पर चलने लग जाए, कोई भरोसा नहीं. तो एक सीधी लाइन न खींच सकने वाले लोगों के लिए भी फूल बनाने का फूलप्रूफ उपाय मौजूद है. स्टेंसिल मने खांचा. सब ऑलरेडी कटा-कटाया मिलेगा. आपको बस उसमें रंग भरना है या कटी हुई लाइंस पर स्केच पेन चलाना है. बन गया फूल. देखिए:

(3)

एक तिया तीन

पीएम मोदी जी ने देश से कहा, डिजिटल बनो. जब पैसा-लत्ता फोन से इधर उधर हो जाता है. लैपटॉप पर बैठे बैठे ऑफिस का काम हो सकता है. तो फूल बनाना कौन सी बड़ी बात. डिजिटल फूल बनाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, वो काहे कि माउस का कर्सर इधर उधर भागता बहुत है. लेकिन अपने कम्प्यूटर पर भी आप डिजिटल फूल बना सकते हैं. कैसे? वीडियो देखिए महाराज:

(4)

दो दूनी चार

बिना कला, बिना रंग, बिना स्केच पेन के भी फूल बन सकता है. चाहिए क्या? बस कागज़. एक जापानी आर्ट होती है ऑरिगैमी. यानि कागज़ को मोड़ मोड़ कर कई तरह की आकृतियां बनाना. बिल्डिंग से लेकर जानवर तक. सब कुछ इस आर्ट फॉर्म में बनाया जाता है. अलग- अलग तरह के फूल भी. कागज़ मोड़कर फूल कैसे बनाते हैं, ये आप इस वीडियो में देख सकते हैं:

तो जैसा हमने आपसे वादा किया था, फूल बनाने के चार बेहतरीन तरीके हमने आपको सिखा दिए हैं. अब आप चाहें तो खुद बनायें, या औरों को भेजकर उनसे बनवाएं, ये आपकी स्किल्स पर निर्भर करता है. आप कोशिश करिए और कमेन्ट सेक्शन में उसे साझा भी करिए.  मई आने तक का वेट मत कीजिए.  तब तक ज़माना जलने लगता है.

चलते-चलते एक बात और. ये वाली सीरियस जानकारी. अल्ताफ राजा के मशहूर गाने ‘तुम तो ठहरे परदेसी’ के बोल लिखने वाले ज़हीर आलम हैं. हमें पहले न पता था. सोचा बता दें.

बाक़ी हैपी फूल्स डे.


वीडियो: मोदी सरकार ने छोटी बचत पर क्या बवाली फैसला लिया कि कुछ ही घंटों में वापस लेना पड़ गया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- सरदार उधम

फिल्म रिव्यू- सरदार उधम

सरदार उधम सिंह ने कहा था- 'टेल पीपल आई वॉज़ अ रिवॉल्यूशनरी'. शूजीत ने उस बात को बिना किसी लाग-लपेट के लोगों को तक पहुंचा दिया है.

फ़िल्म रिव्यू: सनक

फ़िल्म रिव्यू: सनक

ये फिल्म है या वीडियो गेम?

मूवी रिव्यू: रश्मि रॉकेट

मूवी रिव्यू: रश्मि रॉकेट

ये रॉकेट फुस्स हुआ या ऊंचा उड़ा?

वेब सीरीज़ रिव्यू: स्क्विड गेम, ऐसा क्या है इस शो में जो दुनिया इसकी दीवानी हुई जा रही है?

वेब सीरीज़ रिव्यू: स्क्विड गेम, ऐसा क्या है इस शो में जो दुनिया इसकी दीवानी हुई जा रही है?

लंबे अरसे के बाद एक शानदार सर्वाइवल ड्रामा आया है दोस्तो...

फिल्म रिव्यू- शिद्दत

फिल्म रिव्यू- शिद्दत

'शिद्दत' एक ऐसी फिल्म है, जो कहती कुछ है और करती कुछ.

फिल्म रिव्यू- नो टाइम टु डाय

फिल्म रिव्यू- नो टाइम टु डाय

ये फिल्म इसलिए खास है क्योंकि डेनियल क्रेग इसमें आखिरी बार जेम्स बॉन्ड के तौर पर नज़र आएंगे.

ट्रेलर रिव्यू: हौसला रख, शहनाज़ गिल का पहला लीड रोल कितना दमदार है?

ट्रेलर रिव्यू: हौसला रख, शहनाज़ गिल का पहला लीड रोल कितना दमदार है?

दिलजीत दोसांझ और शहनाज़ गिल की फ़िल्म का ट्रेलर कैसा लग रहा है?

नेटफ्लिक्स पर आ रही हैं ये आठ धांसू फ़िल्में और सीरीज़, अपना कैलेंडर मार्क कर लीजिए

नेटफ्लिक्स पर आ रही हैं ये आठ धांसू फ़िल्में और सीरीज़, अपना कैलेंडर मार्क कर लीजिए

सस्पेंस, थ्रिल, एक्शन, लव सब मिलेगा इनमें.

वेब सीरीज़ रिव्यू: कोटा फैक्ट्री

वेब सीरीज़ रिव्यू: कोटा फैक्ट्री

कैसा है TVF की कोटा फैक्ट्री का सेकंड सीज़न? क्या इसकी कोचिंग ठीक से हुई है?

फिल्म रिव्यू- सनी

फिल्म रिव्यू- सनी

इट्स नॉट ऑलवेज़ सनी इन फिलाडेल्फिया!