Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

कल रात जब आप सो रहे थे, दिवाली का अखबार लीक हो गया

817
शेयर्स

तो दिवाली आ रही है, तमाम तैयारियां चालू हैं. लोग हैप्पी हैं. बालक पटाखों को धूप में सुखा रहे हैं. झालरें लटका दी गई हैं. दिए पानी में भिगोए जाने हैं. जब सब लोग हैप्पी होते हैं उसी टाइम अखबार वाले भी हैप्पी होते हैं. उनके में खास ये होता है कि वो हर साल सेम लेवल पर हैप्पी होते हैं.

दीपावली पर आपको अखबार में क्या-क्या खबरें पढने को मिलेंगी. हम पहले ही आपको बता देते हैं. लेकिन दो बात, ये किसी त्यौहार की या त्यौहार की भावना की खिल्ली नहीं उड़ाई जा रही. जस्ट चिल धोंधूं. हम हेडलाइंस की बात कर रहे हैं.

मैं ऐसे शहर से आता हूं, जहां हेडलाइंस तक ढंग की नहीं आती

दूसरे अखबार वालों को प्रणाम. आप अपना काम करते हैं. पर कई चीजें बस नॉर्मल होते हुए भी फनी हो जाती हैं. हमें अपने शहर अच्छे लगते हैं. और ऐसी हेडलाइन्स मजेदार.


 

दीवाली के पहले रोशन होने लगा शहर, जगमग रोशनी से बढ़ने लगी ख़ूबसूरती

इसके बाद हो कसता है सिरमौर चौराहे की झालर सजी एक फोटो लगा दी जाए. 

बच्चों ने दीप सजाओ प्रतियोगिता में की सहभागिता

धनतेरस पर बाजारों में रौनक, दुकानदारों ने लगाई ऑफ़र की झड़ी

दिवाली पर नकली सोना तो नहीं खरीद रहे आप?

फिर हॉलमार्क देखकर सोना खरीदने वाला ज्ञान 😉

दीपावली पास आते ही सोने की बढ़ी मांग, सोने के मार्केट की तो चांदी ही चांदी

दिवाली से पहले पुलिस मुस्तैद, नामी दुकानों से 19 सौ किलो नकली मावा पकड़ाया

और अगर आपने मावा की फोटो देख ली तो खाना भी न गुटकाएगा 

महंगाई की मार, इस दिवाली रहेगी गरीबों की फीकी रसोई

इसी क्रम में होमगार्ड वालों की दुर्दशा की खबर भी कवर कर ली जाती है 

ये हैं दीपावली के शुभ मुहूर्त, जानिए कब करें मां लक्ष्मी का पूजन

इस वाले का एक कीवर्ड हमको बड़ा सही लगता है. चौघड़िया.

दीपोत्सव पर कब क्या करें, ये रहे पांचों दिन के मुहूर्त

ये वाला पार्ट किन्हीं स्पेशल पंडित जी से पूछकर लिखवाते हैं, जिनके नाम में कहीं न कहीं शास्त्री जरूर लगा होता है.

पुलिस द्वारा ढाए गए जुल्म के विरोध में 24 गांव के लोग नहीं मनाएंगे दिवाली

टीआरएस कॉलेज के पटाखा मार्केट में नहीं हैं सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम 

इसके नीचे लिखा होगा कैसे वाटर टैंकर नहीं खडा है और रेत की बाल्टी गायब है 

दिवाली की दस्तक से सक्रिय हुई पुलिस, जगह-जगह छापेमारी

जुआं की फड़ पर चौकी पुलिस का छापा, 5 जुआड़ी समेत नगदी बरामद

ऐसे मनाएं सुरक्षित दीवाली 

दीवाली के ठीक पहले हिंदू और मुस्लिम कमेटी ने मिलकर लगाई सद्भावना दौड़ 

हर वर्ग में हर्षोल्लास से मनाई गई दीपावली, प्रशासन की रोक के बाद भी रात भर चले पटाखे 

जब आतिशबाजी से दहल उठे चिड़ियाघर के जानवर 

यूथ ****  ने दीपावली पर गरीबों में बांटे फल और दिए 

दिवाली के दिन खिल उठे अनाथालय के बच्चों के चेहरे 

पटाखे छोड़ते तीन युवक झुलसे, चार झुग्गियों में लगी आग 

दीवाली की रात आग से डेढ़ दर्जन दुकाने खाक 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
obvious and funny headlines from local news papers during diwali

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: पीहू

अगर आप इस फिल्म को देखने के बाद किसी निष्कर्ष पर पहुंचना चाहते हैं, तो आप किसी गलत ऑडिटोरियम में घुस गए हैं.

फिल्म रिव्यू: ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान

आप कभी बाज़ार में घूमते हुए मुंह के स्वाद के लिए कुछ खा लेते हैं. लेकिन वो खाना आप रोज नहीं खा सकते क्योंकि उससे हाजमा खराब होने का डर बना रहता है. 'ठग्स...' वही है.

इस नए वायरल वीडियो में मोदी एक विकलांग बुजुर्ग का अपमान करते क्यूं लगते हैं?

जिनका अपमान होने की बात कही जा रही है, वो बुजुर्ग गुजरात में मुख्यमंत्री से ज़्यादा बड़ी हैसियत रखते हैं!

2.0 का ट्रेलर आ गया, जिसे देखकर मोबाइल फ़ोन रखने वाले हर आदमी को डर लगेगा

साथ ही पढ़िए इस फिल्म की मेकिंग से जुड़ी 9 दिलचस्प बातें.

'डोंबिवली फास्ट': जब एक अकेला आदमी सिस्टम सुधारने निकल पड़ा

और फिर पूरे सिस्टम ने उसे मिटा डालने के लिए कमर कस ली.

फिल्म रिव्यू: काशी इन सर्च ऑफ गंगा

ऐसी फ़िल्में देखकर हर फिल्म क्रिटिक को अपने प्रोफेशन पर गर्व होता है!

फिल्म रिव्यू: बाज़ार

हाल-फिलहाल में जितने भी स्टारकिड्स ने डेब्यू किया है, उनमें से किसी को रोहन जैसा पोटासभरा कैरेक्टर प्ले करने का मौका नहीं मिला है.

फ़िल्म रिव्यू: नमस्ते इंग्लैंड

ये ऐसी फ़िल्म है जिसका कोई स्पॉइलर नहीं हो सकता!

फिल्म रिव्यू: बधाई हो

मां की प्रेग्नेंसी जैसे असहज करने वाले सब्जेक्ट पर बनी सपरिवार देखने लायक फिल्म.

जब हेमा के पापा ने धर्मेंद्र को जीतेंद्र के सामने धक्का देकर घर से निकाल दिया

घरवाले हेमा-धर्मेंद्र की शादी के सख्त खिलाफ थे.