Submit your post

Follow Us

नेटफ्लिक्स एंड चिल: 2021 में नेटफ्लिक्स पर आए कंटेंट में ये 26 फ़िल्में और शोज़ टॉप के हैं

दुनिया में भांति-भांति के लोग हैं. इन्हीं में से एक है ‘नेटफ्लिक्स एंड चिल प्रजाति’. जो बाहर भटकने से ज़्यादा काउच पर जमकर नेटफ्लिक्स पर फ़िल्में या शोज़ देखना पसंद करते हैं. ऐसे यारों के लिए हमने नेटफ्लिक्स पर 2021 में आए टॉप 26 शोज़ और फ़िल्में लाइनअप कर दी हैं. लिस्ट देखें, शोज़/फ़िल्में नोट करें और चिल करें.


1.स्क्विड गेम (कोरियाई सीरीज़)
कास्ट – ओ- यीओंग-सू, ली-जंग-जे, पार्क-हे-सू
डायरेक्टर – ह्वांग डोंग ह्युक

'स्क्विड गेम' खेलने निकले बंदे
‘स्क्विड गेम’ खेलने निकले बंदे

कहानी- एक जगह साढ़े चार सौ के करीब लोगों को इक्कठा किया जाता है. इन सभी से कहा जाता है कि बचपन में खेले जाने वाले कुछ आसान से खेलों को खेलकर वो अरबों रुपए जीत सकते हैं. सभी मान जाते हैं. लेकिन जल्द ही ये बच्चों के खेल खतरनाक रूप ले लेते हैं. कौन खिला रहा है ये खेल? क्या है इस पूरे खेल के पीछे का असली खेल? जानने के लिए नेटफ्लिक्स पर स्ट्रीम करें ‘स्क्विड गेम’.

ख़ास बात- यूं तो कोरियन शोज़ पहले से पसंद किए जाते रहे हैं लेकिन ‘स्क्विड गेम’ के बाद इसमें बम्पर उछाल आया. भारतीय एक्टर अनुपम त्रिपाठी ने इस शो में एक अहम रोल किया था.


2. डोंट लुक अप (इंग्लिश फ़िल्म)
कास्ट – लियोनार्डो डीकैप्रियो, जेनिफर लॉरेंस, रॉब मॉर्गन
डायरेक्टर – एडम मैके

'डोंट लुक अप' में लियोनार्डो.
‘डोंट लुक अप’ में लियोनार्डो.

कहानी- दो एस्ट्रोनॉमर्स हैं. जो हर जगह-जगह जाकर बता रहे हैं कि धरती से एक कॉमेट टकराने वाला है, जो इस प्लेनेट को तबाह कर देगा. लेकिन दोनों लो लेवल के एस्ट्रोनॉमर हैं इसलिए कोई इनकी बात का यकीन नहीं कर रहा है.

ख़ास बात- फ़िल्म में एक से बढ़कर एक बेहतरीन हॉलीवुड एक्टर देखने को मिलेंगे.


3. मनी हाइस्ट (स्पेनिश सीरीज़)
कास्ट – अल्वारो मोर्टे, अर्सुला कॉर्बेरो
डायरेक्टर – एलेक्स पिना

प्रोफेसर एंड टीम.
प्रोफेसर एंड टीम.

कहानी- रॉयल बैंक ऑफ स्पेन में प्रोफेसर की तैयार की हुई टीम अब भी मौजूद है. वो वहां रखा सोना चुराने के प्लैन से गए थे. मगर इस प्रोसेस में उन्हें कई साथियों को खोना पड़ा. अब सोना छोड़िए जान बचाने के लाले पड़े हैं. स्पेन की पुलिस से लेकर आर्मी तक इन चोरों को बैंक से निकालने की कोशिश में लगी हुई है. मगर उन्हें कुछ खास सफलता मिल नहीं रही. न चोर हार मान रहे हैं, न कर्नल टोमायो.

ख़ास बात- इस सीरीज़ का पूरी दुनिया में मज़बूत फैन बेस है.


4. मीनाक्षी सुंदरेश्वर (हिंदी फ़िल्म)
कास्ट – अभिमन्यु दासानी, सान्या मल्होत्रा
डायरेक्टर –विवेक सोनी

Meenakshisundareshwarreview 1200
मीनाक्षी एंड सुंदरेश्वर

कहानी- मीनाक्षी और सुंदरेश्वर. दोनों एक दूसरे के बिल्कुल विपरीत. दो अपोज़िट पसंद वाले लोग साथ आते हैं. दोनों की अरेंज मैरिज होती है. एक दूसरे को जानने-समझने का मौका तलाश ही रहे होते हैं कि पेच फंस जाता है. सुंदर की नौकरी लग जाती है. और उसे मीनाक्षी को मदुरई छोड़कर बेंगलुरू जाना पड़ता है.

ख़ास बात- फिल्म की राइटिंग, सिनेमैटोग्राफी और एक्टिंग सब अप्रतिम है.


5. पगलैट (हिंदी फ़िल्म)
कास्ट – सान्या मल्होत्रा, आशुतोष राणा
डायरेक्टर –उमेश बिस्ट

'पगलैट' पोस्टर.
‘पगलैट’ पोस्टर.

कहानी- संध्या की शादी के कुछ वक्त बाद ही उसके पति की डेथ हो जाती है. मरने के बाद कि क्रियाओं के लिए घर में सभी रिश्तेदार आ जाते हैं. वहीं दूसरी ओर संध्या एकदम नॉर्मल बिहेव कर रही है. जिसे देख सब लोग तरह-तरह की बातें बना रहे हैं.

ख़ास बात-बिना चीखे-चिल्लाए पैट्रियार्की पर बेहद प्रभावी ढंग से टिप्पणी की गई.


6. मिन्नल मुरली (मलयालम फ़िल्म)
कास्ट – टोविनो थॉमस, गुरु सोमसुन्दरम
डायरेक्टर – बासिल जोसफ

011221125938 61a72462e19bfminnal Murali
सुपरहीरो मिन्नल मुरली.

कहानी- जेसन. केरला के एक छोटे से गांव में इनकी टेलरिंग की शॉप है. एक रात जेसन की दुनिया बदल जाती है. बिजली का ऐसा झटका लगता है कि सुपरपावर्स आ जाती हैं. पावर्स आने के बाद उसके साथ क्या कुछ होता है. ये पूरी फिल्म की कहानी है.

ख़ास बात- ‘मिन्नल मुरली’ सिर्फ साइंस-फिक्शन फिल्म नहीं है, इसमें भारतीय सिनेमा के तमाम एक्स फैक्टर भी मिलेंगे आपको.


7. हैलबाउंड (कोरियाई सीरीज़)
कास्ट – यू-आह-इन, पार्क- सैंग-हूं
डायरेक्टर – येओन सांग हो

'हैलबाउंड' का सीन.
‘हैलबाउंड’ का सीन.

कहानी- धरती के लोगों को नर्क में घसीटा जाने लगता है. ऐसे में वो एक दूसरे से नफरत करने लगते हैं. एक दूसरे को खत्म करने लगते हैं, ताकि भगवान का रहम पा सकें.

ख़ास बात- ये सीरीज हम से पूछती है कि हम पाप को कैसे परिभाषित करते हैं और हम इंसान भगवान से क्या डिज़र्व करते हैं?


8. द पॉवर ऑफ़ द डॉग (इंग्लिश फ़िल्म)
कास्ट – बेनडिक्ट कम्बरबेच, किर्स्टन डस्ट
डायरेक्टर – जेन कैंपियन

'द पॉवर ऑफ़ द डॉग' में बेनेडिक्ट.
‘द पॉवर ऑफ़ द डॉग’ में बेनेडिक्ट.

कहानी- जॉर्ज और फिल. दो भाई. दोनों एकदम अपोज़िट. फिल ऐसा इंसान है, जिसे अपने इमोशन पब्लिकली दिखाना पसंद नहीं. आर्ट एंड क्राफ्ट टाइप चीज़ों को गर्ली समझता है. दूसरी तरफ जॉर्ज हमेशा रॉ ढंग से रहने को मर्द होना नहीं मानता. जॉर्ज और फिल पैट्रीयार्की से उपजी कंडिशनिंग के दो पहलू हैं. फिल्म पुरुषप्रधान सोच में रची गई कहानी बताती है.

ख़ास बात- ये फिल्म आपको अपने दोस्तों के बीच बात करने के लिए कंटेंट नहीं देगी, बल्कि आपको खुद से बात करने पर मजबूर करेगी.


9. टिक टिक बूम (इंग्लिश फ़िल्म)
कास्ट – एंड्रयू गारफील्ड, अलेग्जेंड्रा शिप.
डायरेक्टर – लिन-मनुएल- मिरेंडा

Jjbjbujbububububjubbuuououo
एंड्रयू गारफील्ड एंड अलेक्सेंडरा शिप.

कहानी- ये स्टोरी है जॉन की. जॉन कम्पोज़र है. म्यूजिक फील्ड में नाम करना चाहता है. लेकिन उसे हर पल ऐसा लगता है कि वो कुछ नहीं कर पाएगा और असफ़ल हो जाएगा. दूसरी तरफ़ उसका फ्रेंड सर्कल भी टूटता जा रहा है.

ख़ास बात- फ़िल्म में एंड्रयू गारफील्ड ने कमाल की परफॉरमेंस दी है.


 10. द डिग (इंग्लिश फ़िल्म)
कास्ट – करे मुलिगन, राल्फ फेनेस
डायरेक्टर – साइमन स्टोन

=s586znyt2iw34rwd 7swcb
‘द डिग’ का खूबसूरत सीन.

कहानी- स्टोरी 1930 में स्थापित है. एडिथ प्रिटी नाम की महिला अपनी ज़मीन पर बासिल ब्राउन नाम के आर्कियोलॉजिस्ट को हायर करती हैं. बासिल और उसकी टीम को कुछ दिन की खुदाई के बाद एक शिप गड़ा मिलता है, जो सदियों पहले यहां दफ़न हुआ था.

ख़ास बात- ये फ़िल्म जॉन प्रेस्टन के 2007 में रिलीज़ हुए नॉवेल ‘द डिग’ पर बेस्ड है.


11. मंडेला (तमिल फ़िल्म)
कास्ट – योगी बाबू, शीला राजकुमार
डायरेक्टर – मैडोन आश्विन

bomz
बहुत ही कमाल का सटायर है फिल्म में.

कहानी- एक छोटे से गांव में दो पॉलिटिकल पार्टियां किसी भी कीमत पर लोकल इलेक्शन जीतना चाहती हैं. रिजल्ट वाले दिन दोनों पार्टियां बराबर बैठती हैं. और अंत में डिसाइडिंग वोट एक बार्बर के हाथ में आ जाता है.

ख़ास बात- ये फ़िल्म लोकल पॉलिटिक्स पर बहुत अच्छा सटायर है.


12. द वाइट टाइगर (इंग्लिश फिल्म)
कास्ट –आदर्श गौरव, राजकुमार राव, प्रियंका चोपड़ा
डायरेक्टर –रामिन बहरानी

आदर्श गौरव.
आदर्श गौरव.

कहानी- गांव लक्ष्मणगढ़. जहां बलराम अपने परिवार के साथ रहता है. बलराम अपनी फैमिली में सबसे अलग है. स्कूल जाता है. पढ़ने का शौक है. एक दिन इंस्पेक्शन पर आए ऑफिसर को अपनी रीडिंग से इंप्रेस कर देता है. जो कहते हैं कि बेटा, तुम व्हाइट टाइगर हो. पीढ़ियों में एक बार पैदा होने वाला. बलराम गांव के जमींदार के यहां शहर पहुंच जाता है. उसके छोटे बेटे अशोक का ड्राइवर बन जाता है. लेकिन एक दिन कुछ ऐसा घटता है जो उसकी लाइफ़ को 360 डिग्री पलट देता है.

ख़ास बात- ये फिल्म उस सिस्टम की कहानी है, जो जन्म से एक को मालिक और दूसरे को उसका नौकर बनाता है.


13. द विचर (इंग्लिश सीरीज़)
कास्ट – हेनरी केविल, फरेया एलेन
डायरेक्टर – लौरेन स्किमिट हिसरिच

हेनरी केविल.
हेनरी केविल.

कहानी- ये कहानी है एक मॉन्स्टर हंटर की, जो पैसे लेकर मॉन्स्टर्स को पकड़ता है. साथ ही साथ वो इस दुनिया में जगह बनाने की कोशिश कर रहा है, जहां उसे दैत्यों और राक्षसों से ज्यादा कपटी लोग मिलते हैं.

ख़ास बात- ये शो एंद्रेज़ सैप्कोवस्की की किताब ‘द विचर’ पर आधारित है.


14. आरकेन (एनिमेटेड फ़िल्म)
वॉइस – हैली स्टेनफील्ड, एला परनेल

'आरकेन'.
‘आरकेन’.

कहानी- यूटोपियन सिटी और स्क्वालिड सिटी के बीच जंग छिड़ गई है. सिस्टर VI और जिंक्स जो बचपन में बिछड़ गए थे, अब ना चाहते हुए भी युद्ध में एक दूसरे के सामने आकर खड़े हो जाते हैं.

ख़ास बात- ये सीरीज़ पॉपुलर गेम ‘लीग ऑफ लेजेंड्स’ पर बेस्ड है.


15. ल्यूपिन 1 (फ्रेंच सीरीज़)
कास्ट – ओमार साय, ल्युडिवाइन सैग्नियर
डायरेक्टर – जॉर्ज के, फ्रांसिस उज़ेन

 ओमार साय.
ओमार साय.

कहानी- एस्सैन डियोप एक म्यूजियम में सफाई करने का काम करता है. जहां दुनिया भर की बेशकीमती चीज़ों की नुमाइश की जाती है. एस्सेन यहां चोरी कर अपने पिता के साथ हुए अन्याय का बदला लेना चाहता है. जिन्हें एक अमीर परिवार ने झूठे चोरी के आरोप में फंसा दिया था.

ख़ास बात- पहले ही एपिसोड से ये सीरीज़ आपको बांध लेगी.


16. द मिचेल्स vs द मशीन (एनिमेटेड फ़िल्म)
वॉइस – एब्बी जैकबसन, डैनी मैकब्राइड
डायरेक्टर – माइक रियेंडा

210430 The Mitchells Vs The Machines Ew 125p
‘द मिचेल्स vs द मशीन’.

कहानी- केटी का फ़िल्म स्कूल में एडमिशन हुआ है. वो पढ़ाई करने दूसरे शहर जा रही है. फ्लाइट से. लेकिन उसके पापा अपनी बेटी के साथ ज़्यादा वक़्त गुज़ारने के लिए फ्लाइट टिकट कैंसिल कर देते हैं और रोड ट्रिप प्लान करते हैं. केटी अपने मम्मी-पापा और छोटे भाई के साथ स्कूल के लिए निकल पड़ती है. लेकिन इनके इस फन रोड ट्रिप में खलल तब पड़ जाता है. जब दो रोबोट्स दुनिया के सभी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में जान फूंक देते हैं. अब सभी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस दुनिया को खत्म करने पर आमादा हैं . ऐसे में मिचेल फैमिली इन मशीनों से प्लैनेट को बचाने की कोशिश में लगी है.

ख़ास बात- ये एक जबरदस्त एनिमेटेड फ़िल्म है. इस फ़िल्म को सिर्फ़ बच्चों की फिल्म समझने की गलती मत कीजिएगा.


 17. नयट्टू (मलयालम फ़िल्म)
कास्ट – कुंचको बोबन, जोजू जॉर्ज
डायरेक्टर – मार्टिन प्रक्कट

Nayattu
वो फ़िल्म जहां शिकारी खुद शिकार बन जाता है.

कहानी-अपराधियों को पकड़ने वाले तीन पुलिस अफसरों को कुछ करप्ट नेता मिलकर क्रिमिनल मामले में फंसा देते हैं. जिसके बाद इन तीनों को अपनी जान बचाने के लिए भागना पड़ता है.

ख़ास बात- ये फ़िल्म पॉलिटिकल सर्कस की कई भीतरी पोलें खोलती है.


18. कोटा फैक्ट्री 2 (हिंदी सीरीज़)
कास्ट – जितेंद्र कुमार, मयूर मोरे, अहसास चन्ना
डायरेक्टर – राघव सुब्बू

जीतू भैया के विद्यार्थी.
जीतू भैया के विद्यार्थी.

कहानी- साल भर की मेहनत के बाद वैभव अपने दोस्तों और जीतू भैया से दूर कोटा की नंबर वन कोचिंग क्लास महेश्वरी क्लासेज़ में पहुंच गया है. जीतू भैया अब खुद की कोचिंग खोल रहे हैं. जीतू भैया के इस स्टार्टअप में भी बहुत से अड़ंगे आ रहे हैं. इधर वैभव पहुंच तो गया है महेश्वरी क्लासेज़ में लेकिन जीतू भैया के सिंपल फंडों से पढ़ने वाले वैभव को महेश्वरी क्लासेज़ के मशीनी ढर्रे में कुछ समझ नहीं आ रहा.

ख़ास बात- मिडिल क्लास इंडिया की IIT जाने की भूख और इस भूख को कैश करने वाली शिक्षा मंडी को दिखाती है ये सीरीज़.


19. द हार्डर दे फॉल (इंग्लिश फ़िल्म)
कास्ट – जोनाथन मेजर्स, इदरिस अल्बा
डायरेक्टर – जेम्स सैम्युएल

The Harder They Fall Embed
इड्रिस एल्बा.

कहानी- ये एक वेस्टर्न फ़िल्म है. कहानी है एक आउटलॉ की, जिसे सालों बाद मालूम पड़ता है कि उसका जानी दुश्मन जेल से छूट रहा है. उसे मारने के लिए वो अपनी गैंग को इकट्ठा करता है. लेकिन एक बड़ा पंगा हो जाता है. क्या है वो पंगा? फ़िल्म में देखें.

ख़ास बात- इस फ़िल्म के सभी मेन कैरेक्टर्स ब्लैक एक्टर्स ने प्ले किए हैं.


 20. द हैंड ऑफ़ गॉड(इटालियन फ़िल्म)
कास्ट – फिलिपो स्कोटी, टोनी सर्विलो
डायरेक्टर – पाओलो सोरेंटीनो

'द हैंड ऑफ़ गॉड'.
‘द हैंड ऑफ़ गॉड’.

कहानी- ये कहानी है फैबीएटो की. अपने माता-पिता के साथ रहता है. उसके ज़्यादा दोस्त नहीं हैं. वो बस फिलॉसफी की पढ़ाई करता है. म्यूजिक सुनता है और दिन भर डिएगो माराडोना के फुटबॉल मैच देखता है. एक दिन उसके परिवार के साथ एक हादसा हो जाता है, जिसमें सब खत्म हो जाते हैं. सिवाय फैबीएटो के.

ख़ास बात- फ़िल्म के डायरेक्टर पाओलो सोरेंटीनो के ही ज़िंदगी के अंश हैं इस फ़िल्म में.


 21. द हाउस ऑफ़ सीक्रेट्स (डाक्यूमेंट्री सीरीज़)
डायरेक्टर – लीना यादव, अनुभव चोपड़ा

भाटिया परिवार.
भाटिया परिवार.

कहानी- साल 2018. महीना, जुलाई. जगह दिल्ली का बुराड़ी इलाका. एक ही परिवार के 11 लोगों के शव मिले. एक साथ पूरे परिवार के फांसी लगाने की खबर ने देश में हड़कंप मचा दिया था. मरने वालों में सात महिलाएं, चार पुरुष थे. जिनमें से दो नाबालिग थे. ये भाटिया परिवार राजस्थान के चित्तौड़गढ़ का रहने वाला था. उनकी इस रहस्यमयी मौत और उससे जुड़ी घटनाओं पर ही ये डॉक्यूमेंट्री सीरीज़ है.

ख़ास बात- ये डॉक्यूमेंट्री आपको हिलाकर रख देगी. रात में अकेले मत देखिएगा.


 22. रे (हिंदी सीरीज़)
कास्ट – मनोज बाजपेयी, केके मेनन, अली फज़ल, हर्षवर्धन कपूर
डायरेक्टर –श्रीजीत मुखर्जी, वासन बाला, अभिषेक चौबे

'रे' में अली फ़ज़ल.
‘रे’ में अली फ़ज़ल.

कहानी- ये चार एपिसोड्स की सीरीज़ है. हर एपिसोड एक से डेढ़ घंटे की शॉर्ट फ़िल्म है. इन चार फ़िल्मों को तीन डायरेक्टर्स ने मिलकर बनाया है. चारों फ़िल्में या कहें एपिसोड्स महान फ़िल्मकार सत्यजीत रे की कहानियों से इंस्पायर्ड हैं. इसीलिए इस सीरीज़ का नाम भी ‘रे’ है. सीरीज में आपको प्यार, धोखा, लस्ट, ईगो, जलन जैसे भावों को भड़कीले रूप में दर्शाते किरदार दिखेंगे.

ख़ास बात- इस शो का तीसरा एपिसोड ‘हंगामा क्यों है बरपा’ भूले से भी मिस ना करें.


 23. आरण्यक ( हिंदी सीरीज़)
कास्ट – रवीना टंडन, आशुतोष राणा
डायरेक्टर –विनय वैकुल

रवीना टंडन की कमबैक सीरीज़ है 'आरण्यक'.
रवीना टंडन की कमबैक सीरीज़ है ‘आरण्यक’.

कहानी- हिमाचल प्रदेश का गांव सिरोना. यहां एक जंगल है, जहां से एमी नाम की फ्रेंच लड़की की लाश मिली है. इलाके के लोगों को लगता है कि ये हरकत नर-तेंदुआ नाम के एक सुपरनैचुरल किलर की है. नर-तेंदुआ बेसिकली इंसान और तेंदुए का मिक्स्चर है. क्या वाकई में हत्यारा नर-तेंदुआ है, या कोई और है जो इन वारदातों को अंजाम दे रहा है.

ख़ास बात- थ्रिलर सीरीज़ का शौक है, तो फ़ौरन देखें.


24. बॉम्बे बेगम्स ( हिंदी सीरीज़)
कास्ट – पूजा भट्ट, अमृता सुभाष
डायरेक्टर – अलंकृता श्रीवास्तव, बोर्निला चैटर्जी

पूजा भट्ट.
पूजा भट्ट.

कहानी- पांच औरतें. पांच अलग दुनिया. कुछ औरतें राज़ करने के लिए बनी हैं. ऐसी ही है रानी. एकदम क्वीन. इसी ब्रैकेट में फिट होती हैं फातिमा और आएशा. इन तीनों से अलग है लिली.एक बार डांसर. कैसे ये औरतें इस पेट्रियार्कल सोसायटी से लड़ते हुए पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में अपना मार्क छोड़ पाती हैं, यही सीरीज़ की कहानी है.

ख़ास बात- इस शो की असल नायक औरतें हैं.


25. पासिंग(इंग्लिश फ़िल्म)
कास्ट – टेसा थॉम्पसन, रूथ नेगा
डायरेक्टर – रेबेका हॉल

टेस्सा थोम्पसन.
टेस्सा थोम्पसन.

कहानी- स्टोरी 1920 के न्यूयॉर्क शहर की है. इरेन एक ब्लैक महिला है. अपने हस्बैंड के साथ एक होटल में आकर रुकी हुई है. यहां उसकी मुलाकात होती है अपनी बचपन की दोस्त क्लेयर से. जो है तो नीग्रो बैकग्राउंड की लेकिन समाज में व्हाइट बन कर रह रही है. क्लेयर ने एक अमीर बिज़नेसमैन से शादी की है, जो क्लेयर की सच्चाई से अनजान है.

ख़ास बात- फ़िल्म बहुत ही सेंसिटिव तरीके से उस वक़्त सोसाइटी में फैले रेसिज्म और उससे ज़िंदगी पर पड़ने वाले असर को दिखाती है.


26. 7 प्रिज़नर्स (ब्राज़ीलियन फ़िल्म)
कास्ट – क्रिस्चियन, रोड्रिगो
डायरेक्टर – अलेक्सांड्रा मोरैटो

'7 प्रिज़नर्स' का सीन
‘7 प्रिज़नर्स’ का सीन

कहानी- अपने परिवार को बेहतर ज़िंदगी देने के मकसद से 18 साल का मे मैटियस दूसरे शहर में काम करने लगता है. लूका नाम के बॉस के लिए उसके जंकयार्ड में. लेकिन बाद में उसे पता चलता है कि असल में उसे और उसके साथ काम कर रहे बाकी लोगों को बेच दिया गया है. जिसके बाद वो मिलकर भागने का प्लान बनाते हैं.

ख़ास बात- इस फ़िल्म को ‘सिटी ऑफ गॉड्स’ जैसी कल्ट फ़िल्म के डायरेक्टर ने बनाया है. फ़िल्म ह्यूमन ट्रैफिकिंग के गंभीर मुद्दे पर बेस्ड है.

****

ये था नेटफ्लिक्स का 2021 में रिलीज़ हुआ टॉप कॉन्टेंट. आपने पहले से कितने शोज़/फ़िल्में देख रखी थीं और कितनी नई मालूम चलीं, बताते चलें.


वीडियो: नागा चैतन्य के साथ तलाक को लेकर समांथा को भद्दी बात बोली, मिला करारा जवाब

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- मॉर्बियस

फिल्म रिव्यू- मॉर्बियस

अगर आपने मार्वल की कोई फिल्म नहीं देखी, तब भी 'मॉर्बियस' को देख सकते हैं. क्योंकि इसका मार्वल की पिछली फिल्मो से कोई लेना-देना नहीं है.

मूवी रिव्यू: कौन प्रवीण तांबे

मूवी रिव्यू: कौन प्रवीण तांबे

ये एक आम इंसान के हीरो बनने की कहानी है. उसके खुद को लगातार रीक्रिएट करने की कहानी है.

मूवी रिव्यू: अटैक

मूवी रिव्यू: अटैक

फिल्म ठीक उस बच्चे की तरह है जो परीक्षा से एक रात पहले पूरा सिलेबस कवर करना चाहता है. नहीं समझे? तो रिव्यू पढिए.

मूवी रिव्यू: शर्माजी नमकीन

मूवी रिव्यू: शर्माजी नमकीन

कैसी है ऋषि कपूर की आखिरी फिल्म?

फिल्म रिव्यू- RRR

फिल्म रिव्यू- RRR

ये फिल्म देखकर समझ आता है कि जब किसी फिल्ममेकर का विज़न क्लीयर हो और उसे अपना क्राफ्टबोध हो, तो एक साधारण कहानी पर भी अद्भुत फिल्म बनाई जा सकती है.

फिल्म रिव्यू- बच्चन पांडे

फिल्म रिव्यू- बच्चन पांडे

हमारे यहां के फिल्ममेकर्स को ये समझना है कि किसी फिल्म को लोकल ऑडियंस की सेंसिब्लिटीज़ के हिसाब से ढालने का मतलब उन्हें डंब समझना नहीं है.

मूवी रिव्यू: जलसा

मूवी रिव्यू: जलसा

विज़िबल और इनविज़िबल रूप से कन्फ्लिक्ट या कहें तो डिवाइड पूरी फिल्म में दिखता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: ब्लडी ब्रदर्स

वेब सीरीज़ रिव्यू: ब्लडी ब्रदर्स

शो की कास्ट में काबिल एक्टर्स के नाम होने के बावजूद ये शो राइटिंग के टर्म्स में पिछड़ जाता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: अपहरण 2

वेब सीरीज़ रिव्यू: अपहरण 2

इस बार भी मेकर्स ने वही गलती की है.

मूवी रिव्यू: द कश्मीर फाइल्स

मूवी रिव्यू: द कश्मीर फाइल्स

ये फ़िल्म ग्रे में जाकर चीजों को टटोलने की कोशिश नहीं करती. यहां सबकुछ या तो ब्लैक है या वाइट.