Submit your post

Follow Us

'घोस्ट स्टोरीज़' ट्रेलर: हॉरर के नाम पर सेक्स देखकर थक गए हैं, तो ये फिल्म आपकी बैंड बजाने वाली है

इंडिया में क्वॉलिटी हॉरर फिल्में काफी कम बनती हैं. एक समय था, जब राम गोपाल वर्मा जैसा माना हुआ डायरेक्टर इस जॉनर की फिल्में बनाता था. हालांकि हॉरर कॉमेडी फिल्में पिछले कुछ दिनों से ट्रेंड में हैं. लेकिन खालिस हॉरर के नाम पर हमारे पर एकता कपूर की ‘रागिनी एमएमएस’ सीरीज़ ही बची है, जिसमें हॉरर के नाम पर सेक्स परोसा जाता है. लेकिन अब इंडिया के कुछ दिग्गज फिल्ममेकर्स ने हॉरर को सीरियसली ले लिया है. इसी का नतीजा है नेटफ्लिक्स पर आने वाली ‘घोस्ट स्टोरीज़’. ‘बॉम्बे टॉकीज़’ (2013) और ‘लस्ट स्टोरीज़’ (2018) वाली एंथोलॉजी फिल्म सीरीज़ की तीसरी कड़ी. कुछ दिन पहले फिल्म का टीज़र आया था. अब ट्रेलर आया है. 13 दिसंबर की खास तारीख पर. इस सीरीज़ में हमें क्या-क्या और कौन-कौन देखने को मिलेगा? इस फिल्म को किन लोगों ने बनाई है? और ‘घोस्ट स्टोरीज़’ की ट्रेलर रिलीज़ की तारीख क्यों खास है?

1) ‘घोस्ट स्टोरीज़’ का ट्रेलर 13 दिसंबर यानी शुक्रवार को रिलीज़ किया गया है. जैसे हमारे यहां होता है कि गुरुवार को चिकन नहीं खा सकते और मंगलवार को बाल-दाढ़ी नहीं कटा सकते है, वैसे ही अंधविश्वास विदेशों में भी हैं. वेस्ट में जिस भी महीने की 13 तारीख को शुक्रवार होता है, उसे अशुभ माना जाता है. इसे अंग्रेज़ी में ‘Friday the 13th’ कहते हैं. आम तौर पर साल में एक बार तो ऐसा होता ही जब किसी महीने की 13 तारीख शुक्रवार को पड़ती है. लेकिन सालभर में तीन बार तक ऐसा हो सकता है. 2019 में ये दूसरी दफा है, जब शुक्रवार 13 तारीख को पड़ रहा है. इससे पहले सितंबर में भी ऐसा हो चुका है. सिंपल भाषा में बस ये समझ लीजिए कि जिस भी महीने का पहला दिन रविवार होगा, उस महीने 13 तारीख को शुक्रवार होगा.

2) घोस्ट स्टोरीज़ में चार शॉर्ट फिल्म्स होंगी. इन चारों फिल्मों को चार अलग-अलग फिल्ममेकर्स ने डायरेक्ट किया है. ये चार फिल्ममेकर्स हैं अनुराग कश्यप (गैंग्स ऑफ वासेपुर), दिबाकर बैनर्जी (शैतान), ज़ोया अख्तर (गली बॉय) और करण जौहर (कुछ कुछ होता है). ये चारों लोग तीसरी बार इस तरह की फिल्म पर एक साथ काम कर रहे हैं. इससे पहले ऊपर बताई गई फिल्में ‘बॉम्बे टॉकीज़’ और ‘लस्ट स्टोरीज़’ पर भी ये कोलैबरेट कर चुके हैं. इन चारों कहानियों की झलक हमें फिल्म के ट्रेलर में मिलती हैं.

3) फिल्म की कहानी क्या है यानी किस फिल्ममेकर की कहानी किस बारे में है, वो आप यहां जानेंगे-

# करण जौहर– ये फिल्म एक नए-नवेले शादीशुदा कपल के बारे में है. जैसे ही शादी के बाद इनकी सुहागरात शुरू होती है, कमरे में कुछ आवाज़ होती है. लड़का पीछे मुड़कर अपनी दादी से माफी मांगने लगता है. लेकिन दिक्कत ये है कि दादी लड़के की पत्नी को नज़र नहीं आ रही है. क्योंकि वो मर चुकी हैं. इन परिस्थितियों का उस लड़की के दिमाग और उसकी शादी पर क्या असर पड़ता है और कैसे वो इस मुश्किल से बाहर निकलती है, यही फिल्म की कहानी है.

फिल्म के करण जौहर वाले सेग्मेंट का एक सीन, जिसमें लड़का-लड़की की शादी हो रही है. सारा किस्सा इसी शादी के बाद शुरू होता है.
फिल्म के करण जौहर वाले सेग्मेंट का एक सीन, जिसमें लड़का-लड़की की शादी हो रही है. सारा किस्सा इसी शादी के बाद शुरू होता है.

# अनुराग कश्यप– एक प्रेग्नेंट औरत है. वो अपने भतीजे के साथ रहती है. लेकिन भतीजे को ये लगता है कि जब उसकी मौसी का बेबी हो जाएगा, फिर वो उससे प्यार करना बंद देगी. लेकिन बच्चे के होने से पहले वो महिला क्रेज़ी हो जाती है. गुड्डे-गुड़ियों को खाना खिलाने लगती है. अजीबोगरीब हरकतें करने लगती है. और एक सीन में ये देखने को मिलता है कि उसके नवजात बच्चे को एक आदमी टॉयलेट में डालकर फ्लश कर देता है. अब ये चीज़ वाकई में हो रही है या सिर्फ उस महिला के दिमाग की उपज है, इस सेग्मेंट की कहानी इसी मसले के इर्द-गिर्द है.

अनुराग कश्यप वाली कहानी में एक गुड़िया को खाना खिलाती प्रेग्नेंट महिला.
अनुराग कश्यप वाली कहानी में एक गुड़िया को खाना खिलाती प्रेग्नेंट महिला. अनुराग का सेग्मेंट पूरी तरह से ब्लैक-एंड वाइट है.

# दिबाकर बैनर्जी– शहर से एक आदमी किसी गांव में घूमने गया हुआ है. वहां वो एक बच्चे से मिलता है, जिसके पिता को किसी क्रीचर ने खा लिया है. वो इस क्रीचर से बचकर ज़िंदा रहने के लिए कुछ जुगाड़ निकालते हैं. उनका उपाय ये है कि पूरे गांव को अंधेरा कर दो और कोई भी क्रीचर दिखने पर हिलना-डुलना या भागना बंद कर दो. क्योंकि तुम उस जीव से ज़्यादा तेज भाग नहीं पाओगे और मारे जाओगे.

दिबाकर बैनर्जी की कहानी में गांव घूमने गया वो बंदा, जो किसी क्रीचर को देखने के बाद भयानक तरीके से डर गया है.
दिबाकर बैनर्जी की कहानी में गांव घूमने गया वो बंदा, जो किसी क्रीचर को देखने के बाद भयानक तरीके से डर गया है.

# ज़ोया अख्तर– एक बिस्तर पर पड़ी हुई बीमार बूढ़ी औरत है. उसकी देखभाल के लिए एक नर्स थी. उसकी जगह बूढ़ी महिला को एक नई नर्स जॉइन करती है. लेकिन उसे लगता है कि इस घर में उन दोनों के अलावा कोई और भी है. दरवाज़े पर दस्तक होने से पहले ही बूढ़ी औरत बता देती है कि बाहर कोई खड़ा है. दिन पर दिन दरवाज़े को खटखटाए जाने की फ्रीक्वेंसी बढ़ती जाती है लेकिन दिखाई कुछ नहीं देता है. ये चीज़ उस नर्स को मानसिक रूप से परेशान कर देती है और डरा देती है.

ज़ोया अख्तर के डायरेक्शन वाली शॉर्ट फिल्म में वो नर्स समीरा, जिसने बूढ़ी महिला को अटेंड करना बस अभी-अभी शुरू किया है.
ज़ोया अख्तर के डायरेक्शन वाली शॉर्ट फिल्म में वो नर्स समीरा, जिसने बूढ़ी महिला को अटेंड करना बस अभी-अभी शुरू किया है.

इन कहानियों के अलावा ट्रेलर में कुछ मॉनस्टर टाइप क्रीचर भी दिखाई देते हैं. लेकिन वो असल में हैं या इन किरदारों के दिमाग में, इस बात पर संशय बना हुआ है.

4) अनुराग कश्यप के सेग्मेंट में काम कर रही हैं ‘रमन राघन 2.0’ फेम शोभिता धुलिपाला और ‘कलंक’ में काम कर चुके पवैल गुलाटी. पवैल आने वाले दिनों में तापसी पन्नू के साथ अनुभव सिन्हा डायरेक्टेड ‘थप्पड़’ में दिखने वाले हैं. करण जौहर वाले हिस्से में नज़र आएंगी ‘लव सोनिया’ और ‘सुपर 30’ जैसी फिल्मों में दिख चुकीं मृणाल ठाकुर और ‘लैला मजनू’ के ‘क़ैस’ यानी अविनाश तिवारी. दिबाकर बैनर्जी वाली कहानी बच्चों के इर्द-गिर्द घूमती है लेकिन उसमें हमें सुकांत गोयल दिखते हैं. खबरें ये भी हैं कि इसमें गुलशन देवैय्या ने भी काम किया है. ज़ोया अख्तर की फिल्म में काम किया है ‘धड़क’ फेम जाह्नवी कपूर और ‘बधाई हो’ से चर्चा में आईं वेटरन एक्टर सुरेखा सिकरी.

5) ‘घोस्ट स्टोरीज़’ को 31 दिसंबर की रात 12 बजे से नेटफ्लिक्स पर स्ट्रीम किया जा सकेगा. ये नए साल में रिलीज़ होने वाली पहली फिल्म होगी.


वीडियो देखें: नरगिस फाकरी: बॉलीवुड, कास्टिंग काउच और पॉर्नोग्राफी से जुड़े कई राज़ खोले

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर की रगों में क्या है?

एक लघु टिप्पणी दोनों के बीच विवाद पर. जिसमें नसीर ने अनुपम को क्लाउन यानी विदूषक कहा था.

पंगा: मूवी रिव्यू

मूवी देखकर कंगना रनौत को इस दौर की सबसे अच्छी एक्ट्रेस कहने का मन करता है.

फिल्म रिव्यू- स्ट्रीट डांसर 3डी

अगर 'स्ट्रीट डांसर' से डांस निकाल दिया जाए, तो फिल्म स्ट्रीट पर आ जाएगी.

कोड एम: वेब सीरीज़ रिव्यू

सच्ची घटनाओं से प्रेरित ये सीरीज़ इंडियन आर्मी के किस अंदरूनी राज़ को खोलती है?

जामताड़ा: वेब सीरीज़ रिव्यू

फोन करके आपके अकाउंट से पैसे उड़ाने वालों के ऊपर बनी ये सीरीज़ इस फ्रॉड के कितने डीप में घुसने का साहस करती है?

तान्हाजी: मूवी रिव्यू

क्या अपने ट्रेलर की तरह ही ग्रैंड है अजय देवगन और काजोल की ये मूवी?

फिल्म रिव्यू- छपाक

'छपाक' एक ऐसी फिल्म है, जिसके बारे में हम ये चाहेंगे कि इसकी प्रासंगिकता जल्द से जल्द खत्म हो जाए.

हॉस्टल डेज़: वेब सीरीज़ रिव्यू

हॉस्टल में रह चुके लोगों को अपने वो दिन खूब याद आएंगे.

घोस्ट स्टोरीज़ : मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

करण जौहर, अनुराग कश्यप, ज़ोया अख्तर और दिबाकर बनर्जी की जुगलबंदी ने तीसरी बार क्या गुल खिलाया है?

गुड न्यूज़: मूवी रिव्यू

साल की सबसे बेहतरीन कॉमेडी मूवी साल खत्म होते-होते आई है!