Submit your post

Follow Us

इंटरनेट से गायब हुआ पीएम नरेंद्र मोदी का ट्रेलर वापस आ गया, इस बार मामला थोड़ा अलग है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ का ट्रेलर इंटरनेट से हटा दिया गया था. 21 मई यानी रिलीज़ से ठीक तीन दिन पहले फिल्म का एक और ट्रेलर सोशल मीडिया पर अपलोड किया है. लेकिन ये पिछले ट्रेलर से अलग है. किस मामले में अलग है? क्या दिख रहा है? कौन-कौन दिख रहा है? ये सब आप नीचे जानेंगे.

1) फिल्म के पिछले ट्रेलर में एक हंबल अप्रोच को फॉलो किया गया था. ज़्यादा ध्यान उस जर्नी को दिखाने पर था, जिससे जनता इंप्रेस हो सके. देखने वाले को ये लगे कि इस आदमी में वो सारी बातें हैं, जो देश के प्रधानमंत्री में होनी चाहिए. वो ट्रेलर एक साधारण बैकग्राउंड से आने वाले बच्चे के बारे में था, पहले चाय बेची, फिर हिमालय गया तप करने. और लौटने के बाद राजनीति जॉइन कर ली. फिर मुख्यमंत्री और आगे चलकर देश का प्रधानमंत्री बना. लेकिन चुनाव के बाद आए इस ट्रेलर को देखकर ऐसा लग रहा है जैसे एक प्रधानमंत्री की बायोपिक है. नरेंद्र मोदी के किरदार को एक प्रशासक के रूप में दिखाया गया है. एक ऐसा नेता, जो बिलकुल फिल्मी अंदाज में डायलॉग बोलता है. धमकी देता है. बेसिकली इसमें मोदी जी के सारे ‘अचीवमेंट्स’ को दिखाया गया है. हालांकि दूसरे कट में विवादित मसलों से दूरी बनाकर ही रखी गई है.

फिल्म के एक सीन में नरेंद्र मोदी के किरदार में विवेक ओबेरॉय.
फिल्म के एक सीन में नरेंद्र मोदी के किरदार में विवेक ओबेरॉय.

2) पिछले ट्रेलर में जहां नरेंद्र मोदी सिर्फ आरएसएस ऑफिस में घुसते दिखाई दिए थे, इसमें ट्रेनिंग वगैरह लेते हुए भी दिखाई देते हैं. पहली बार इस बात का भी ज़िक्र आया है कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह की पहली मुलाकात क्यों, कहां और कैसे हुई थी? इस क्लिप में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह से लेकर सोनिया और इंदिरा गांधी तक नज़र आती हैं, जिन्हें नरेंद्र मोदी कोसते हुए दिखाई देते हैं. ये वाला पोर्शन असलियत के काफी करीब लगता है;)

यही वो सीन है, जिसमें नरेंद्र मोदी और अमित शाह की पहली मुलाकात होती दिखाई गई है.
यही वो सीन है, जिसमें नरेंद्र मोदी और अमित शाह की पहली मुलाकात दिखाई गई है.

3) विवेक ओबेरॉय फिल्म में नरेंद्र मोदी के रोल में हैं, ये तो सबको पता है. लेकिन उनके करीबी लोगों की भी एक झलक इस ट्रेलर में देखने को मिलती है. फिल्म में ज़रीना वहाब नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन मोदी का रोल कर रही हैं. बरखा बिष्ट उनकी पत्नी जसोदाबेन बनी हैं. मनोज जोशी उनके विश्वासपात्र और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के किरदार में हैं. इसके अलावा ‘मैरीकॉम’ फेम दर्शन कुमार एक जर्नलिस्ट और बोमन ईरानी एक बिज़नेसमैन के रोल में हैं. बताया जा रहा है कि बोमन का किरदार रतन टाटा से प्रेरित है. इन सब लोगों के अलावा फिल्म में ‘मर्डर 2’ वाले प्रशांत नारायणन भी नज़र आने वाले हैं, जो फिल्म में विलेन बने हैं.

फिल्म के इस कट में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी और इंदिरा गांधी को भी दिखाया गया है.
फिल्म के इस ट्रेलर में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी और इंदिरा गांधी को भी दिखाया गया है.

4) ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ को ‘मैरीकॉम’ और ‘सरबजीत’ जैसी बायोपिक बना चुके ओमंग कुमार ने डायरेक्ट किया है. इस फिल्म को प्रोड्यूस किया है विवेक के पिता और एक्टर सुरेश ओबेरॉय ने. फिल्म को गुजरात, दिल्ली, मुंबई और उत्तराखंड जैसे शहरों में शूट किया गया है.

चाय बनाता नौजवान नरेंद्र मोदी.
चाय बनाता नौजवान नरेंद्र मोदी. ये हिमालय जाने से ठीक पहले या वहां से लौट आने के बाद की तस्वीर है. 

5) ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ पहले 11 अप्रैल को रिलीज़ होने वाली थी. इसी तारीख से देश में आम चुनाव शुरू हो रहे थे. चुनाव आयोग ने फिल्म पर रोक लगा दी. प्रोड्यूसर्स की अपील पर इलेक्शन कमीशन की सात सदस्यीय टीम ने इस फिल्म को देखा और इसे चुनाव के दौरान रिलीज़ न करने के फैसले के साथ खड़ी रही. इसलिए अब ये फिल्म चुनाव के नतीजे आ जाने के ठीक अगले दिन यानी 24 मई को थिएटर्स में लगेगी. लेकिन यहां उसकी राह आसान नहीं होने वाली क्योंकि अर्जुन कपूर की राजकुमार गुप्ता डायरेक्टेड ‘इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड’ भी इसी दिन रिलीज़ हो रही है. फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’  का नया वाला ट्रेलर यहां देखें:


वीडियो देखें: विवेक ओबेरॉय ने ऐश्वर्या राय सलमान खान का मज़ाक उड़ाने वाला मीम शेयर किया है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.

देवी: शॉर्ट मूवी रिव्यू (यू ट्यूब)

एक ऐसा सस्पेंस जो जब खुलता है तो न सिर्फ आपके रोंगटे खड़े कर देता है, बल्कि आपको परेशान भी छोड़ जाता है.

ये बैले: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

'ये धार्मिक दंगे भाड़ में जाएं. सब जगह ऐसा ही है. इज़राइल में भी. एक मात्र एस्केप है- डांस.'

फिल्म रिव्यू- थप्पड़

'थप्पड़' का मकसद आपको थप्पड़ मारना नहीं, इस कॉन्सेप्ट में भरोसा दिलाना, याद करवाना है कि 'इट्स जस्ट अ स्लैप. पर नहीं मार सकता है'.

फिल्म रिव्यू: शुभ मंगल ज़्यादा सावधान

ये एक गे लव स्टोरी है, जो बनाई इस मक़सद से गई है कि इसे सिर्फ लव स्टोरी कहा जाए.

फिल्म रिव्यू- भूत: द हॉन्टेड शिप

डराने की कोशिश करने वाली औसत कॉमेडी फिल्म.

फिल्म रिव्यू: लव आज कल

ये वाली 'लव आज कल' भी आज और बीते हुए कल में हुए लव की बात करती है.

शिकारा: मूवी रिव्यू

एक साहसी मूवी, जो कभी-कभी टिकट खिड़की से डरने लगती है.

फिल्म रिव्यू: मलंग

तमाम बातों के बीच में ये चीज़ भी स्वीकार करनी होगी कि बहुत अच्छी फिल्म बनने के चक्कर में 'मलंग' पूरी तरह खराब भी नहीं हुई है.