Submit your post

Follow Us

फिल्म रिव्यू- मुंबई सागा

आज थिएटर्स में जॉन अब्राहम और इमरान हाशमी स्टारर फिल्म ‘मुंबई सागा’ रिलीज़ हुई. फिल्म में क्या है? कैसा है? हम उसी पर चर्चा करने के लिए आ गए हैं, जिसे शास्त्रों में फिल्म रिव्यू जैसा कुछ गया है. तो आइए शुरू करते हैं.

सबसे पहले कहानी

अमर्त्य राव नाम का एक आदमी है, जिसकी फैमिली सब्जी बेचने का काम करती है. इन सब्जी वालों को गायतोंडे नाम के एक गुंडे को प्रोटेक्शन मनी बोले तो हफ्ता देना पड़ता है. मगर एक हादसे के बाद अमर्त्य गायतोंडे के गुंडों को पीट देता है. फिल्म के शुरुआती 20-25 मिनट में अलग-अलग लोकेशंस पर अमर्त्य सिर्फ गायतोंडे के गुंडों को पीटता रहता है. इसके बाद कहानी आगे बढ़ती है. कहानी में भाऊ की एंट्री होती है, जो कि छत्रपति सेना के सर्वेसर्वा हैं. बाल ठाकरे से प्रेरित ये किरदार अमर्त्य को मुंबई का किंग बनाने की बात कहता है. इसके लिए शर्त ये है कि अमर्त्य को गायतोंडे को रास्ते से हटाना होगा. इंटरवल से ठीक पहले गायतोंडे और अमर्त्य की लड़ाई में एक नई एंट्री होती है. एक पुलिसवाला जिसका नाम विजय सावरकर है. विजय, अमर्त्य को मारने आया है. इसके बाद ये फिल्म चूहे-बिल्ली का खेल बनकर रह जाती है. विजय अमर्त्य को मारने की कोशिश करता है और अमर्त्य उससे बचने की. मगर ये सब होता है फुल स्वैग और स्लो मोशन में.

ढेर सारे किरदारों से भरा फिल्म 'मुंबई सागा' का पोस्टर.
ढेर सारे किरदारों से भरा फिल्म ‘मुंबई सागा’ का पोस्टर.

एक्टर्स का काम

‘मुंबई सागा’ में जॉन अब्राहम ने अमर्त्य और इमरान हाशमी ने विजय का रोल किया है. गायतोंडे का किरदार निभाया है अमोल गुप्ते और भाऊ के कैरेक्टर में दिखे हैं महेश मांजरेकर. अच्छी बात ये है कि इन सभी कैरेक्टर्स को फिल्म ने ठीक-ठाक समय दिया. जिसमें इन एक्टर्स ने मिलकर फिल्म को देखने लायक बना दिया है. जॉन अब्राहम चीखते-चिल्लाते गुंडों को पीट रहे हैं. ये चीज़ उन पर सूट करती है. इमरान ने एक ऐसे पुलिसवाले का रोल किया है, जिसे देखकर लगता है कि वो हिंदी फिल्में बहुत देखता है. इमरान ने इस कैरेक्टर में एक वीयर्ड ह्यूमर के साथ जो स्वैग ऐड किया है, वो फिल्म को देखने का मज़ा बढ़ा देती है. महेश मांजरेकर भी भाऊ के रोल में बढ़िया लगे हैं. मगर मेरी राय में इस ‘मुंबई सागा’ में सबसे मज़ेदार काम है अमोल गुप्ते का. गायतोंडे का किरदार एक खतरनाक गैंगस्टर का है, जो थोड़ा सा क्रेज़ी. अमोल को देखकर लगता है कि ये आदमी स्क्रीन पर जो कर रहा है, उसे फुल ऑन एंजॉय कर रहा है. फिल्म में काजल अग्रवाल, प्रतीक बब्बर और अंजना सुखानी भी नज़र आई हैं. प्रतीक ने अमर्त्य के छोटे भाई अर्जुन का रोल किया है. पूरी कहानी अर्जुन के किरदार के इर्द-गिर्द घूमती है. मगर वो हीरो नहीं है. काजल और अंजना के करने के लिए इस फिल्म में कुछ नहीं था.

फिल्म के एक सीन में गायतोंडे को गुंडों को पीटता अमर्त्य राव.
फिल्म के एक सीन में गायतोंडे को गुंडों को पीटता अमर्त्य राव.

अच्छी बातें

‘मुंबई सागा’ संजय गुप्ता की पिछली फिल्मों से कुछ खास अलग नहीं है. मगर उनकी पिछली फिल्में खूब देखी गई हैं. ‘कांटे’ और ‘शूटआउट एट लोखंडवाला’ को तो कल्ट स्टेटस प्राप्त है. ‘मुंबई सागा’ को ये कहकर प्रचारित किया गया था कि ये बॉम्बे से मुंबई बनने की कहानी है. मगर इस कहानी में ऐसी कोई खास बात नहीं है, जो आपको अपनी ओर आकर्षित करे. खास है वो चीज़ कि इस कहानी को कैसे दिखाया गया है. संजय गुप्ता के कैमरा एंगल्स कई मौकों पर बहुत आउटरेजियस होते हुए भी ठीक लगते हैं. मतलब वो फिल्म में आपका इंट्रेस्ट बनाए रखते हैं. स्लो मोशन में चलता अपना हीरो. मगर फिल्म का हीरो कौन है, इसका चुनाव आप पर छोड़ दिया जाता है. जिसे कि जाहिर तौर पर एक पॉज़िटिव चीज़ के रूप में देखा जाना चाहिए. संजय गुप्ता की फिल्मों के गैंगस्टर्स बहुत स्वैग कैरी करते हैं. आम तौर पर ये चीज़ दूसरी दिशा में चली जाती है. मगर आश्चर्यजनक रूप से ये फिल्म गैंगस्टर्स को ग्लोरिफाई नहीं करती. पहले उन्हें बड़ा बनाती है और फिर घुटनों पर लाकर खड़ा कर देती है.

ये हैं विजय सावरकर. ये जिस अमर्त्य को मारने आए हैं, उसकी टैक्सी में बैठकर भी उसे पहचान नहीं पाए.
ये हैं विजय सावरकर. ये जिस अमर्त्य को मारने आए हैं, उसकी टैक्सी में बैठकर भी उसे पहचान नहीं पाए.

बुरी बातें

इस फिल्म को देखते हुए एक चीज़ बार-बार खलती है. वो है इसका कलर पैलेट. एक्चुअली ये एक पीरियड फिल्म है. इसे उस रंग में ढ़ालने के लिए पूरी फिल्म के ऊपर मानो पीली पन्नी बिछा दी गई है. जो बहु इरिटेटिंग लगती है. बेसिकली उस रंग का काम ये है कि वो आपको अहसास दिलाए कि कुछ पुरानी बात हो रही है. मगर यहां ये चीज़ कुछ ज़्यादा एक्सट्रीम में चली गई है. फिल्म के जिन सीन्स में जॉन अब्राहम और इमरान हाशमी आमने-सामने आते हैं, वो बिल्कुल थिएटर्स में सीटी और तालियों के हिसाब से लिखे गए हैं. इन सीन्स को देखने में बहुत मज़ा आता है. मगर बहुत कम मौकों पर ये एक्टर्स एक-दूसरे के सामने पड़ते हैं. वहां पर थोड़ा सा लेट डाउन फील होता है. मगर चलेगा. दूसरी दिक्कत वाली बात ये है कि फिल्म में हनी सिंह के उस गाने की बिल्कुल कोई ज़रूरत नहीं थी. क्योंकि कहीं से वो फिल्म में कुछ जोड़ नहीं रहा था. फिल्म के डायलॉग्स कम वर्ड प्ले ज़्यादा हैं. शब्दों के हेर-फेर के साथ ऐसी लाइनें बनाई गई हैं, जिससे एक समय के बाद मन उबने लगता है.

ये हैं गायतोंडे. फिल्म का सबसे करारा किरदार, जिसे देखकर दिल गार्डन गार्डन हो जाता है. क्विक ट्रिविया, इन्हीं अमोल गुप्ते ने आमिर खान के साथ मिलकर 'तारे ज़मीन पर' डायरेक्ट की थी.
ये हैं गायतोंडे. फिल्म का सबसे करारा किरदार, जिसे देखकर दिल गार्डन गार्डन हो जाता है. क्विक ट्रिविया, इन्हीं अमोल गुप्ते ने आमिर खान के साथ मिलकर ‘तारे ज़मीन पर’ डायरेक्ट की थी.

ओवरऑल एक्सपीरियंस

‘मुंबई सागा’ बहुत एक्सट्रा-ऑर्डिनरी फिल्म नहीं है. मगर इसका थिएटर एक्सपीरियंस कमाल का है. अगर आप मार-काट और बंदूकों से लैस एक्शन फिल्म देखने के शौकीन हैं, तो जाइए सिनेमा देखिए. अगर लंबे समय से किसी ढंग की फिल्म का इंतज़ार कर रहे हैं, तो हम सिर्फ इतना कहेंगे कि आपका ये इंतज़ार इस फिल्म पर खत्म नहीं होता.


 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

क्रिकेट के वो अजीब नियम जिन्हें बनाने वाले ही बोलते होंगे, ये क्या बना दिया!

सॉफ्ट सिग्नल के आगे-पीछे भी बहुत से नियम हैं.

EMS नंबूदिरीपाद, वो शख्स जिसने दुनिया में लेफ्ट की पहली चुनी हुई सरकार बनाई

10 पॉइंट्स में जानिए नंबूदिरीपाद की कहानी.

हनी सिंह के वो 6 गाने, जिनमें शराब या लड़की नहीं है और जो बहुत कम लोगों ने सुने होंगे

यकीन ही नहीं होगा कि ये हनी सिंह के गाने हैं.

बुमराह से पहले ये क्रिकेटर भी टीवी प्रेज़ेंटर्स पर दिल हार चुके हैं

इनमें सबसे ज़्यादा किस देश के हैं?

आउट होने का वो तरीका जिस पर पाकिस्तानियों का नाम छपा है!

विकेट मिलता है, लेकिन एक बार को फील्डर बौखला जाता है.

जब एक लड़की के चक्कर में आमिर ने बाल मुंडा लिए

उसी हालत में ही मिल गई पहली फिल्म.

आमिर ख़ान की वो पांच वाहियात फ़िल्में, जिनको वो दुनिया से गायब कर देना चाहेंगे

यकीन नहीं होता आज परफेक्शनिस्ट कहलाने वाले आमिर ने कभी ऐसी फ़िल्में भी की थीं!

वो क्रिकेटर्स जिनके करियर से दिलचस्प उनके नामकरण का किस्सा है!

एक का नाम तो पप्पा ने कंफ्यूज़न में रख दिया.

फ्लिपकार्ट स्मार्टफ़ोन कार्निवल सेल: Poco C3 से लेकर iPhone SE तक सबसे बड़ी फ़ोन डील्स

7 सबसे बढ़िया स्मार्टफ़ोन ऑफर!

महिला दिवस: स्त्री विमर्श से जुड़ी वे 10 किताबें, जिन्हें इस साल हर हाल में पढ़ जाइए

ये किताबें स्त्री विमर्श और स्त्री सत्ता की संरचना को समझने में हमारी मदद करती हैं.