Submit your post

Follow Us

मूवी रिव्यू: लोगन एक्स-मेन सीरीज की सबसे महान फिल्म है

सावधान: आगे स्पॉइलर हैं.

साल 2029 चल रहा है. आपने अब तक जो कुछ भी देखा वो भूल जाइए. लोगन अब वैसा नहीं है जैसा वो कभी था. म्यूटेंट बीते ज़माने की बातें हो गए हैं. दुनिया बदल चुकी है, बहुत ज्यादा. सालों से कोई नया म्यूटेंट पैदा नहीं हुआ है. आपने जो नाम सुने हों अब वो कोई नहीं हैं. ट्रेलर देखकर अगर आप डेडपूल के होने का अंदाज़ा लगा रहे हैं तो आप गलत हैं. कोई नहीं है, न मैग्नेटो, न स्टॉर्म, न साइक्लोप्स, न मिस्टीक और ना ही रोग या आइसमैन. सब मर चुके हैं. आप जिन्हें जानते हैं उनमें बस वोल्वरिन और प्रोफ़ेसर जेवियर बचे हैं. ये ब्रदरहुड ऑफ़ म्यूटेन्ट्स का दौर नहीं है, जेवियर के भरे-पूरे स्कूल का समय भी नहीं है. दुनिया कोलाहल भरी उदासी में जीती है. ये फिल्म देखना, घर तबाह होने के सालों बाद घर लौटने जैसा है. जहां आप अपना देखा, अपना जाना कुछ नहीं पाएंगे.

logan-2017-hugh-jackman-movie-wolverine-wallpaper

वो लोगन जो फीनिक्स से भिड़ गया था, वो लोगन जो स्ट्राइकर की लाख कोशिशों के बाद नहीं मरा. वो लोगन जिस पर परमाणु धमाके का असर नहीं होता, जो वियतनाम से लेकर जापान तक लड़ आया है. उसके संघर्ष अब इतने बड़े नहीं हैं. वो जूझता है कि टेक्सास में उसे जितनी चाहिए उतनी दवाइयां मिल जाए. वो ड्राइवरी करता है. सड़क पर उठाईगिरों से पिटता है. इसकी हीलिंग पावर कम होती जा रही है. आंखों से धुंधला दिखता है, वो लड़ना भी नहीं चाहता, उसमें लड़ने की ताकत नहीं बची. वो जीना भी नहीं चाहता, उसमें जीने की इच्छा भी नहीं बची. आप उस वोल्वरिन को देखते हैं, जो कमजोर है, इतना कमजोर कि जो एडमेंटियम उसे अपराजेय बनाता है. उसी से बनी गोली मारकर खुद को ख़त्म कर लेना चाहता है. ये ब्रायन सिंगर वाला नहीं, जेम्स मैनगोल्ड का वोल्वरिन है.

63de8401f735502f964ee3f2c6ba0659c967d2b2

प्रोफेसर जेवियर, लोगन और उनका एक और दोस्त कैलिबन एक ऐसी कबाड़ सी जगह में रहते हैं, जहां कभी धातु अलग की जाती थी. आपके सामने स्क्रीन पर जब एडमेंटियम से भरा एक बूढ़ा खड़ा हो, जिसकी एक-एक हरकत पर आपने पिछले 17 बरस से नज़र रखी हो तो ये खुद में बहुत सिम्बॉलिक हो जाता है. मैनगोल्ड ने अपनी कहानी में आपको धरातल पर ला पटका है. वैसे ही जैसे लोगन कहता है, असल ज़िंदगी में लोग मरते हैं. लोग मरते हैं, लोगन घाव खाता है. डेढ़ सदी से भरते घाव अब भरने की रफ़्तार धीमी कर चुके हैं. उन उंगलियों के पास जहां से त्रिनखे निकलते हैं, अब घाव के कारण पस निकलता है. आपका हीरो बूढ़ा हो गया है. लड़ने की ताकत नहीं बची, आप अब भी उससे प्यार करेंगे? ये हताशा के बाद की फिल्म है. एक ऐसा समय जब आपका खुद के अस्तित्व से विश्वास उठ जाए. अपने होने की वजह ही समझ न आये. ये विश्वास उठना तब और खतरनाक होता है, जब आपका इतिहास इतना खूनी रहा हो. हर वो चीज दांव पर लग जाती है, जिसके लिए आप कभी खड़े हुए थे.

IMG_2989

ऐसे में लोगन की ज़िंदगी में लौरा आती है. न चाहते हुए भी उसके पास एक मकसद होता है लौरा को बचाने का. रीवर्स से. रीवर्स इस कहानी के विलेन नहीं हैं. न वो कंपनी जहां से लौरा छूट कर भागी है. न वो काइयां डोनाल्ड पियर्स जो मशीनी हाथों के साथ ट्रेलर में दिखता है. फिल्म का विलेन आदमी का लालच है. जो अपने फायदे के लिए एक खतरे को ख़त्म कर, खुद की ही आदमजात के लिए नया ख़तरा खड़ा करने में लग जाती है. ये भविष्य की झलक भी है और जिस ओर हम जा रहे हैं उसका अगला चरण भी दिखाती है. आदमी खुद का हाथ किसी के खून से नहीं रंगना चाहता. शांति के नाम पर वो सामने वाले को चुप कराना चाहता है लेकिन उसके लिए वो खुद नाकाफी है. ऐसे में वो हथियार बनाता है, जो उसके खिलाफ उठने वाली आवाजें बंद करें. लेकिन वही हथियार पलटकर उसके सामने खड़े हो जाएं तो?

X_23_3

फिल्म में एक अच्छा खासा सीक्वेंस है, साल 1953 की एक फिल्म ‘शेन’ का. डायरेक्टर जॉर्ज स्टीवेंस की इस फिल्म का लोगन की फिल्म पर खासा असर दिखता है. फिल्म के आख़िरी दृश्यों में उस पुरानी फिल्म के एक दृश्य का जो इस्तेमाल किया गया है. वो आपको एक अलग ही लेवल पर ले जाकर छोड़ता है. यहां जेवियर्स, लौरा और बाकी किरदारों के बारे में ज्यादा जानबूझकर नहीं लिखा जा रहा है, वर्ना आपका फिल्म देखने का मजा खराब हो जाएगा. ये पढ़ने नहीं देखने वाली फिल्म है. वादा है कि अगर आप फिल्म देखकर लौटते हैं तो इस दृश्य के प्रभाव में हफ्ते भर रहेंगे.

लोगन आज तक बनी एक्स-मेन फिल्मों में सबसे महान फिल्म है. इस फिल्म ने ह्यू जैकमैन का लेवल कहीं और ऊपर पहुंचा दिया है. इस फिल्म ने इस पूरी सीरीज को एक मीनिंग दे दी है. ये एक आम सुपरहीरो फिल्म नहीं है. ये महानायक के अति मानवीय पहलू को दिखाती है, जिसे वो अपनी ढेर सी कमियों के बाद भी नकार नहीं पाता. ये फिल्म लोगन की लेगेसी का अंतिम दस्तावेज भी नहीं है. ये उसे वहां छोड़कर आती है. जिसकी कल्पना रसेल क्रो के जरिए वोल्वरिन के रोल को पाने वाले ह्यू ने भी 17 साल पहले नहीं की थी. ये फिल्म आपका पीछा नहीं छोड़ेगी. इस फिल्म के आपको सपने आएंगे. आपको खुद को ये यकीन दिलाना होगा कि अब आप कभी पर्दे पर वोल्वरिन को कुछ नया करते नहीं देख पाएंगे.


ये भी पढ़ें 

पॉलिटिक्स में भी हैं, एक्स-मेन फिल्मों की तरह सुपरहीरो

लास्ट वुल्वरीन फिल्म का ट्रेलर आ गया है और ये अब तक की बेस्ट फिल्म है!

ह्यू जैकमैन को देखता हूं, तो मरा हुआ भाई याद आ जाता है

एक्स-मेन के बड़े पापा वोल्वरिन कितने साल के हैं?

एक्स मेन का मतलब वोल्वरीन ही होता है!

एक्स मेन: एपोकैलिप्स एक मिस्टीक प्रधान फिल्म है

एक्स-मेन: एपोकैलिप्स, तुम्हारे रंग-ढंग पुराने हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

श्रीकांत और राजी तो ठीक, लेकिन 'द फैमिली मैन' के इन 5 किरदारों ने शो को इतना शानदार बनाया है

श्रीकांत और राजी तो ठीक, लेकिन 'द फैमिली मैन' के इन 5 किरदारों ने शो को इतना शानदार बनाया है

मनोज बाजपेयी के अपने बॉस को थप्पड़ लगाने वाले सीन के पीछे की कहानी तो कुछ और ही निकली.

Cannes 2021 में प्रीमियर होने वाली 10 कमाल की फिल्में, जिन्हें मिस करना समझदारी नहीं

Cannes 2021 में प्रीमियर होने वाली 10 कमाल की फिल्में, जिन्हें मिस करना समझदारी नहीं

वो फेस्ट, जहां अपनी फिल्म स्क्रीन करना हर डायरेक्टर का सपना होता है.

'फैमिली मैन 2' के 15 ज़बरदस्त डायलॉग्स, आपका फेवरेट कौन सा है?

'फैमिली मैन 2' के 15 ज़बरदस्त डायलॉग्स, आपका फेवरेट कौन सा है?

एक से एक दमदार डायलाग हैं.

चोरी हुई साइकल ने बना दिया अली को सदी का सबसे महान बॉक्सर

चोरी हुई साइकल ने बना दिया अली को सदी का सबसे महान बॉक्सर

वो मुक्केबाज जिसके मुक्के पर ताला जड़ दिया, लेकिन वो फिर लौटा नायक बनकर.

कहानी हॉलीवुड के फेमस MGM स्टूडियो की, जिसने वर्ल्ड सिनेमा को ये 10 शानदार फ़िल्में दी

कहानी हॉलीवुड के फेमस MGM स्टूडियो की, जिसने वर्ल्ड सिनेमा को ये 10 शानदार फ़िल्में दी

शेर के लोगो वाली इस कंपनी की कितनी फ़िल्में आपने देखी हैं? अब इस प्रॉडक्शन कंपनी को अमेज़न ने मोटा पैसा देकर खरीद लिया है.

इबारत : जवाहर लाल नेहरू की वो 15 बातें, जो देश को कभी नहीं भूलनी चाहिए

इबारत : जवाहर लाल नेहरू की वो 15 बातें, जो देश को कभी नहीं भूलनी चाहिए

'दीवारों से तस्वीरें बदलकर इतिहास नहीं बदला जा सकता'.

मई-जून में आने वाली इन 13 फिल्मों और वेब सीरीज़ पर नज़र रखिएगा!

मई-जून में आने वाली इन 13 फिल्मों और वेब सीरीज़ पर नज़र रखिएगा!

काफी डिले के बाद 'द फैमिली मैन' का दूसरा सीज़न भी रिलीज़ हो रहा है.

शरद जोशी की वो 10 बातें, जिनके बिना व्यंग्य अधूरा है

शरद जोशी की वो 10 बातें, जिनके बिना व्यंग्य अधूरा है

आज शरद जोशी का जन्मदिन है.

जूनियर एनटीआर की 10 जाबड़ फिल्में, जिन्होंने बॉक्स ऑफिस पर गदर मचा दिया

जूनियर एनटीआर की 10 जाबड़ फिल्में, जिन्होंने बॉक्स ऑफिस पर गदर मचा दिया

आज यानी 20 मई को जूनियर एनटीआर का 38वां जन्मदिन है.

अंतिम संस्कार जैसे सब्जेक्ट पर बनी ये 7 कमाल की फिल्में, जो आपको जरूर देखनी चाहिए

अंतिम संस्कार जैसे सब्जेक्ट पर बनी ये 7 कमाल की फिल्में, जो आपको जरूर देखनी चाहिए

सत्यजीत राय से लेकर मृणाल सेन जैसे दिग्गजों की फिल्में शामिल हैं.