Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

क्या मोदी से पहले भारतीय प्रधानमंत्रियों की दुनिया में कोई औकात नहीं थी?

16.43 K
शेयर्स

नरेंद्र मोदी सोशल मीडिया पर खूब छाये रहते हैं. खुद तो वो हैं ही ऐक्टिव, उनको पसंद करने वाले उनसे भी आगे हैं. सुपर ऐक्टिव. सोशल मीडिया पर सैकड़ों ऐसी प्रोफाइल्स मिल जाएंगी. इन्हें बस मोदी जी से मुहब्बत जताने के लिए बनाया और चलाया जाता है. ऐसा नहीं कि इन प्रोफाइल्स पर शेयर होने वाली सारी चीजें फर्जी ही होती हों. कुछ सही भी होता है. मगर बहुत सारी चीजें झूठी होती हैं. निरा फर्जीवाड़ा. इन दिनों एक तस्वीर शेयर हो रही है. इसमें मनमोहन सिंह और नरेंद्र मोदी की तुलना की जा रही है. बतौर प्रधानमंत्री. ये करामात करने वाले मोदी समर्थक हैं. ऐसा मैं नहीं कह रही. तस्वीर पर छोड़ी गई उनकी छाप कह रही है. तस्वीर में ऊपर की ओर, कोने में लिखा है: मोदी फॉलोअर्स. ये एक तस्वीर असल में दो तस्वीरों का मेल है. एक में हैं मनमोहन. दूसरे में हैं मोदी. मनमोहन वाली फोटो को ‘पुराना भारत’ बताया है. मोदी वाली फोटो के कैप्शन में ‘नया भारत’ लिखा है. ओल्ड इंडिया बनाम न्यू इंडिया, यू सी. हम इसी तस्वीर का पोस्टमॉर्टम करने जा रहे हैं.

वैसे खुद बीजेपी भी मनमोहन सिंह का मजाक उड़ाने में पीछे नहीं रहती. खुद अमित शाह कह चुके हैं कि जब मनमोहन विदेश यात्राओं पर जाते थे, तब कोई ध्यान नहीं देता था. मगर अब मोदी की विदेश यात्राओं पर दुनिया की नजर होती है.
वैसे खुद बीजेपी भी मनमोहन सिंह का मजाक उड़ाने में पीछे नहीं रहती. खुद अमित शाह कह चुके हैं कि जब मनमोहन विदेश यात्राओं पर जाते थे, तब कोई ध्यान नहीं देता था. मगर अब मोदी की विदेश यात्राओं पर दुनिया की नजर होती है.

सोशल मीडिया पर खूब मजाक उड़ाया जाता है मनमोहन का
सोशल मीडिया पर जिन लोगों का सबसे ज्यादा मजाक उड़ाया जाता है, उसमें मनमोहन सिंह बहुत ऊपर हैं. मौनी बाबा. मौन मौहन. बहुत सारे नामकरण होते हैं उनके. ये वाली जो तस्वीर है, उसमें मनमोहन सिर झुकाकर खड़े हैं. उनके पास बराक ओबामा और एंजेला मर्केल जैसी बड़ी हस्तियां हैं. अलग-अलग देशों के सर्वेसर्वा. सब हंस-बोल रहे हैं आपस में. मनमोहन अलग एक किनारे सिर झुकाकर खड़े हैं. जो पोस्ट शेयर हो रहा है, उसके मुताबिक पहले भारत के प्रधानमंत्री की ये ‘औकात’ होती थी. उसको कोई नहीं पूछता था. दुनिया में कोई उसका नामलेवा नहीं था. अब इसके बाद चेपी गई है मोदी जी की एक फोटो. इसमें मोदी कुछ बोल रहे हैं. उनके पास शिंजो आबे और डॉनल्ड ट्रंप जैसे राष्ट्राध्यक्ष खड़े हैं. मोदी बोल रहे हैं और बाकी सब सुन रहे हैं. बड़े ध्यान से. पोस्ट के मुताबिक, ये नया भारत है. मोदी का भारत. जिसे पूरी दुनिया सिर-आंखों पर बिठाती है. उसे तवज्जो देती है.

आगे की तस्वीरें देखिए, मुगालते दूर हो जाएंगे
गजब के कलाकार हैं सोशल मीडिया के ये शेर. कहीं की ईंट, कहीं का रोड़ा. ले आते हैं और भानुमति का पिटारा बना लेते हैं. फोटो क्या होता है? एक पल का रेकॉर्ड. एक सेकंड का लेखा-जोखा. उसके पहले का नहीं, उसके बाद का नहीं. बस उस एक पल का सारांश. कई बार तस्वीर में जो नजर आता है, वो पूरा सच नहीं होता. मसलन, मुझे आपके गाल पर एक कीड़ा रेंगता दिखा. मैंने उसे हटाने के लिए हाथ बढ़ाया. किसी ने ठीक उसी पल तस्वीर ले ली. देखने वाले को लगेगा कि मैं थप्पड़ मारने को हाथ बढ़ा रही हूं. मगर ये तो सच नहीं है. तो यहां इस वायरल पोस्ट में एक पल की ही करामात है. मनमोहन का एक पल. मोदी का एक पल. मनमोहन 10 साल प्रधानमंत्री रहे. कई विदेश यात्राओं पर गए. उन सारे दौरों का सच बस ये एक तस्वीर नहीं है. न ही, मोदी की अभी तक की विदेश यात्राओं का सार उनकी ये वाली तस्वीर है. तस्वीरों से ही फैसला करना है, तो कुछ और तस्वीरें भी देख लीजिए. मुगालता दूर हो जाएगा.

ये भी एक तस्वीर है. मनमोहन सिंह बोल रहे हैं और ओबामा उन्हें सुन रहे हैं. ओबामा ने एक बार कहा था. कि जब मनमोहन बोलते हैं, तो दुनिया सुनती है.
ये भी एक तस्वीर है. मनमोहन सिंह बोल रहे हैं और ओबामा उन्हें सुन रहे हैं. ओबामा ने एक बार कहा था. कि जब मनमोहन बोलते हैं, तो दुनिया सुनती है.

 

ये भी एक तस्वीर है. मनमोहन बोल रहे हैं, बाकी सब सुन रहे हैं.
ये भी एक तस्वीर है. मनमोहन बोल रहे हैं, बाकी सब सुन रहे हैं.

 

इससे ज्यादा बराबरी और क्या होगी. क्या इसमें मनमोहन सिंह को देखकर कहीं भी 'कमजोर भारत' की झलक मिलती है?
इससे ज्यादा बराबरी और क्या होगी. क्या इसमें मनमोहन सिंह को देखकर कहीं भी ‘कमजोर भारत’ की झलक मिलती है?

 

बराक ओबामा तो मनमोहन सिंह को बहुत ज्यादा पसंद करते थे. उनकी बहुत इज्जत भी करते थे. एकबार जब मनमोहन ओबामा से मुलाकात के लिए वाइट हाउस गए, तो मुलाकात खत्म होने के बाद खुद ओबामा बाहर उन्हें विदा करने आए. अमेरिकी राष्ट्रपति अमूमन ऐसा नहीं करते हैं.
बराक ओबामा तो मनमोहन सिंह को बहुत ज्यादा पसंद करते थे. एकबार जब मनमोहन ओबामा से मुलाकात के लिए वाइट हाउस गए, तो मुलाकात खत्म होने के बाद खुद ओबामा बाहर उन्हें विदा करने आए. अमेरिकी राष्ट्रपति अमूमन ऐसा नहीं करते हैं.

 

मनमोहन को निशाने बनाने वाले भले ही मुगालते में रहें, लेकिन सच ये है कि विदेशों में मनमोहन सिंह की बहुत इज्जत थी. अब भी है.
मनमोहन को निशाने बनाने वाले भले ही मुगालते में रहें, लेकिन सच ये है कि विदेशों में मनमोहन सिंह की बहुत इज्जत थी. अब भी है.

 

अगर मोदी और मनमोहन की तुलना की ही बात है, तो उसका एक नमूना ये भी है. सच्चाई ये है कि ये तस्वीरें एक पल का हाल बताती हैं. कई बार तस्वीरें गुमराह भी करती हैं. उनमें दिख रहा सच पूरा नहीं होता.
अगर मोदी और मनमोहन की तुलना की ही बात है, तो उसका एक नमूना ये भी है. सच्चाई ये है कि ये तस्वीरें एक पल का हाल बताती हैं. कई बार तस्वीरें गुमराह भी करती हैं. उनमें दिख रहा सच पूरा नहीं होता.

 

ये एक तस्वीर है. सच्ची तस्वीर. इसमें मनमोहन की मुद्रा देखिए. सामने हाथ जोड़े जो नजर आ रहे हैं, वो हैं मुकेश अंबानी. तो क्या ये मान लिया जाए कि मनमोहन के सामने अंबानी दंडवत हो गए थे?
ये एक तस्वीर है. सच्ची तस्वीर. इसमें मनमोहन की मुद्रा देखिए. सामने हाथ जोड़े जो नजर आ रहे हैं, वो हैं मुकेश अंबानी. तो क्या ये मान लिया जाए कि मनमोहन के सामने अंबानी दंडवत हो गए थे?

 

जिस तर्क से मोदी और मनमोहन की वो तुलना वाली ओल्ड बनाम न्यू इंडिया शेयर की जा रही है, उसके मुताबिक इस तस्वीर पर क्या प्रतिक्रिया होनी चाहिए? जो अंबानी मनमोहन के आगे इतने विनम्र थे, वो PM मोदी के कंधे पर हाथ रखकर खड़े हैं.
जिस तर्क से मोदी और मनमोहन की वो तुलना वाली फोटो शेयर हो रही है, उसके मुताबिक इस तस्वीर पर क्या प्रतिक्रिया होनी चाहिए? जो अंबानी मनमोहन के आगे इतने विनम्र थे, वो PM मोदी के कंधे पर हाथ रखकर खड़े हैं. क्या ये PM का अपमान है?

 

अच्छा, और ये तस्वीर क्या कहती है फिर? मनमोहन बोल रहे हैं और मोदी उनकी ओर देखकर सुन रहे हैं. क्या ये दोनों में से किसी एक को कमजोर और दूसरे को ताकतवर साबित करता है?
अच्छा, और ये तस्वीर क्या कहती है फिर? मनमोहन बोल रहे हैं और मोदी उनकी ओर देखकर सुन रहे हैं. क्या ये दोनों में से किसी एक को कमजोर और दूसरे को ताकतवर साबित करता है?

आलोचना में भी फर्जीवाड़ा, ऐसे कैसे चलेगा भाइयों-बहनों?
तस्वीरें आखिरी सच नहीं होतीं. एक पल का हाल देखकर किसी की उपलब्धियां कैसे तय की जा सकती हैं? मनमोहन सिंह का भी बहुत सम्मान था दुनिया में. वैसे भी, जब भारत का कोई राष्ट्रपति या प्रधानमंत्री कहीं किसी देश में जाता है, तो वो बस एक इंसान नहीं रह जाता. पूरे देश की नुमाइंदगी करता है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश की अहमियत और ताकत का घटना-बढ़ना अलग बात है. मगर जो ये तस्वीर है, वो पूरा फर्जीवाड़ा है. आलोचना में भी चिंदीचोरी, ये तो हद ही है.


ये भी पढ़ें: 

इन 5 चीजों के लिए देश मनमोहन सिंह को थैंक्यू बोलेगा

PM मोदी ने एक भी दिन छुट्टी नहीं ली, जान लो कि मनमोहन सिंह ने कितने दिन ली

वसुंधरा के मंत्री मनमोहन को ‘साला’ कह गए, फिर बोले सॉरी

जब नरसिम्हा राव ने मनमोहन से कहा, गड़बड़ हुई तो तुम पर थोप दूंगा

कोल स्कैम: मनमोहन सिंह को नोटिस भेजने की अपील स्पेशल कोर्ट ने की खारिज

9 साल पहले बाल-बाल बचे थे भारत के प्रधानमंत्री

क्या गुरमीत सिंह को उसी हेलिकॉप्टर से ले जाया गया, जिससे पीएम मोदी घूमते थे

पीएम नरेंद्र मोदी की इन दो वायरल तस्वीरों का सच क्या है?

जब ‘टेक्निकल वजह’ से पीएम मोदी का धनुष नहीं चल पाया


हिमाचल चुनाव: धर्मशाला में गणित बिगाड़ने के लिए हो रहा निर्दलीय प्रत्याशियों का इस्तेमाल 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

चतुराई से whatsapp चलाने के 10 लल्लनटॉप तरीके

इन ट्रिक्स से आप चतुराई से Whatsapp यूज कर सकते हैं और उसकी खामियों से भी बच सकते हैं. कान इधर लाइए और सुनिए ये गुप्त रहस्य.

इन 6 तस्वीरों में दुनिया की 6 सबसे दमदार कहानियां छिपी हैं

इन्हीं में से कोई एक फोटो 2018 की वर्ल्ड प्रेस फोटो बनेगी.

प्लेन में की हुई टट्टी आखिर जाती कहां है?

क्या हवा में उड़ जाती है? या 'नीली बर्फ' बन कर बरसती है? क्या है सच और क्या है अफवाह.

इन 5 सवालों से जानिए विंटर ओलंपिक्स के बारे में सबकुछ

साउथ कोरिया के शहर प्योंगछांग में चल रहे हैं ये गेम्स.

सूर्यग्रहण से डरने की जरूरत प्रेगनेंट महिलाओं को नहीं, किसी और को है!

ग्रहण पड़ते ही आपको क्या नहीं करना है, जान लीजिए.

वरुण धवन की अगली फ़िल्म अक्टूबर की 9 मज़ेदार बातें

जिन्होंने मद्रास कैफ़े और पिंक जैसी फ़िल्में बनाईं, वही शूजीत सरकार इसे भी बना रहे हैं.

गोलियों और गालियों से भरी इस नई पॉलिटिकल थ्रिलर के बारे में 7 मज़ेदार बातें

सुधीर मिश्रा की फ़िल्म में अनुराग कश्यप भी हैं.

चोरी हुई साइकल ने बना दिया अली को सदी का सबसे महान बॉक्सर

वो मुक्केबाज जिसके मुक्के पर ताला जड़ दिया, लेकिन वो फिर लौटा नायक बनकर.

बॉलीवुड के 5 गाने, जिन्हें गाने पर आपको जेल हो सकती है!

अगर कभी इन्हें गाया है तो सारे सबूत मिटा दो.

खुशनसीब थे ग़ालिब जो फेसबुक युग में पैदा न हुए

मिर्जा गालिब 220 साल पहले आ गए. ये उनकी गलती नहीं है लेकिन 2017 में पैदा होते तो क्या होता.

पोस्टमॉर्टम हाउस

हट जा ताऊ: इस सदी का सबसे क्रांतिकारी गाना है

‘हट जा ताऊ’ गाने ने मेरी जिंदगी बदल दी. इसे किसी देश का राष्ट्रगान नहीं, बल्कि विश्वगान बना देना चाहिए.

फ़िल्म रिव्यू : अय्यारी

नीरज पांडे कृत, मनोज बाजपई, सिद्धार्थ मल्होत्रा अभिनीत फ़िल्म.

पैडमैन फ़िल्म रिव्यू

सैनिटरी नैपकिन पर बनी फ़िल्म जिसमें अक्षय कुमार, राधिका आप्टे और सोनम कपूर हैं.

बिल गेट्स के पास कितना पइसा है?

कहते हैं बिल गेट्स कोई देश होते तो दुनिया के 37वें सबसे अमीर देश होते, सच में इत्ता पइसा है उनके पास?

बाबा रामदेव की पतंजलि ब्यूटी क्रीम का सबसे बड़ा झोल

क्रीम से जुड़ी ऐसी चीज पढ़ ली कि मन घिना गया.

न कॉल, न मैसेज, फिर भी क्यों लगता है कि फोन बज रहा है?

बार बार चेक करते हैं फोन? स्क्रॉल कर के रख देते हैं? बीच बीच में वाइब्रेशन महसूस होता है?

वैलंटाइंस डे: फेसबुक पर नए प्रोफाइल फ्रेम की 4 अच्छी बातें

पड़ाका नहीं पटाखा होता है, संस्कृती नहीं संस्कृति होता है

आजकल क्या कर रहा है 'शक्तिमान', क‍िससे हैं नाराज?

मुकेश खन्ना ने अपना कार्यकाल खत्म होने से पहले ही इस्तीफा दे दिया है. वजह बताई गई है क‍ि वह बच्चों के ल‍िए काम नहीं कर पा रहे हैं.

हमने 2018-19 के इनकम टैक्स की सारी बातें दो के पहाड़े सी आसान कर दी हैं

अब ज़रूरत नहीं किसी से पूछने की, बल्कि औरों को सिखाने लगोगे.

मेरे जिंदा रहने से यदि लोग क्रिकेट नहीं देख पा रहे तो मुझे मर जाना चाहिए: उपयोगितावाद

जब ऐसी ढेर सारी सिचुएशन्स में से कोई एक आपके सामने हों तो आप क्या करेंगे?